विचार मंच न्यूज़

रात हो रही थी और लगभग थक सा गया था, लेकिन मन बार-बार सोशल मीडिया पर अटका हुआ था। एक बार फिर हिम्मत कर फेसबुक ओपन किया तो पहली खबर सुनील के न रहने की मिली।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


यह असाधारण नहीं, बल्कि भीषण और भयावह है। आजादी के बाद सबसे बड़ी आफत और आपदा।

राजेश बादल 6 months ago


वह तीन महीने पहले जनवरी की एक ठंडी रात थी। हम लोग आदिवासी इलाकों में कोरोना का दुष्प्रभाव और सामुदायिक भाव से उसके मुकाबले पर दो डॉक्युमेंट्री बनाने के लिए

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


कोरोना महामारी को लेकर आज जो भयावह स्थिति बनी हुई है, वह किसी के भी अनुमान को झुठला रही है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


आंबेडकर ने 65 वर्ष 7 महीने और 22 दिन की अपनी जिंदगी में करीब 36 वर्ष तक पत्रकारिता की।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


अरसे बाद प्रेस क्लब ऑफ इंडिया को एक खांटी पेशेवर पत्रकार अध्यक्ष के रूप में मिला है। भाई उमाकांत लखेड़ा मेरे बहुत पुराने मित्र और भाई जैसे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


बीते दिनों अखबारों के पन्नों, टेलिविजन और सोशल मीडिया के तमाम मंचों पर कवरेज में कोरोना का खौफ दिखाई देने लगा है।

राजेश बादल 6 months ago


यह जानने के बाद कि मैं जेएनयू के स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज में एमफिल कर रहा हूं तो उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर तमाम सवाल पूछे

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


वरिष्ठ पत्रकार पद्मश्री आलोक मेहता ने हिंदी पत्रकारिता के बड़े नाम राजेंद्र माथुर को उनकी पुण्यतिथि पर अपनी श्रद्धांजलि दी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


जर्नलिज्म और मास कम्युनिकेशन का क्रेज लोगों में 100 साल से भी ज्यादा समय से बना हुआ है और करियर के लिहाज से यह क्षेत्र कभी भी आउटडेटेड होने वाला नहीं है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


वह राजेंद्र माथुर का पहला तार था। छतरपुर जैसे छोटे से कस्बे में किसी नौजवान पत्रकार को ‘नईदुनिया’ के प्रधान संपादक का तार।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


हिंदी पत्रकारिता के शिखर पुरुषों में से एक, राजेंद्र माथुर (1935-1991) का निधन 9 अप्रैल को हुआ था। वह 1982 से लेकर 1991 तक नवभारत टाइम्स के प्रधान संपादक रहे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


दिन प्रतिदिन आ रहे आंकड़े बेहद खौफनाक और डराने वाले हैं। सालभर बाद कोरोना ज्यादा दैत्याकार और विकराल आकार लेता जा रहा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


यदि खबरें ठीक हैं तो निश्चय ही अच्छे दिन आने वाले हैं। सरकार की नीतियों और सोच को नमन। गड्डों को भरना, अच्छे बसअड्डे, रेलवे स्टेशन, रोड व्यवस्था और क्या चाहिये।

पूरन डावर 6 months ago


आज गणेश शंकर विद्यार्थी का बलिदान दिवस है। आज के दौर के पत्रकारों को वाकई में उनके जीवन से सीख लेनी चाहिए।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 months ago


पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि का बयान बेहद गंभीर बहस की मांग करता है। तीन दिन पहले अपने चार पन्ने के बयान में दिशा ने पत्रकारिता को जमकर कोसा है।

राजेश बादल 7 months ago


अदालतों की भाषा पर यह पहली टिप्पणी नहीं है। पहले भी न्यायालयीन निर्णयों में इस तरह के भाव झांकते रहे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 7 months ago


मेरे गुरू, मेरे अध्यापक प्रो. कमल दीक्षित के बिना मेरी और मेरे जैसे तमाम विद्यार्थियों और सहकर्मियों की दुनिया कितनी सूनी हो जाएगी यह सोचकर भी आंखें भर आती हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 7 months ago