अंजना ओम कश्यप को लिखा डॉक्टर्स का ये खत हो रहा है वायरल

बिहार के मुजफ्फरपुर के हास्पिटल के आईसीयू में अंजना ओम कश्यप ने जिस तरह से रिपोर्टिंग की है

Last Modified:
Thursday, 20 June, 2019
anjana

बिहार के मुजफ्फरपुर के हास्पिटल के आईसीयू में अंजना ओम कश्यप ने जिस तरह से रिपोर्टिंग की है, उसे लेकर सोशल मीडिया पर लगातार बात हो रही है। कुछ उन्हें सही बता रहे है, तो कई ने उनकी रिपोर्टिंग स्टाइल को कठघरे में खड़ा किया है। 
ऐसे में अब मेडिकल फेटरनिटी द्वारा लिखित एक पत्र भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। फेसबुक पर बेहद सक्रिय डॉक्टर सुभाष शल्या ने ये पत्र शेयर किया है, जिसके बाद से लगातार लोग इस पर कमेंट कर रहे हैं। हम इस पत्र की सत्यता को प्रमाणित नहीं कर रहे हैं, बस इसमे उठे मुद्दों से आपको अवगत करा रहे हैं। 
आप ये पत्र नीचे पढ़ सकते हैं...
To
Anjana Om Kashyap
Aaj tak

Dt. 18.06.2019
Mrs. Kashyap 
You entered ICU with your shoes, camera, camera person, Mike, and all equipments did you care enough to change your clothes in protocol to ICU. 

Above it you shouted on doctor on duty for whom every life is precious. You must have came to Patna in flight , traveling to muzzafarpur via ac van but that doctor works day and night there with minimum standards. Did you care to ask questions to minister, MLA, MPs of that area.

No you won't ever bcz you all are filling your banks with their money. But that doctor reached at that point via merit and for him a life is life. We doc never ever kill patient intentionally. 
Do you know how much effort we put in to reach here? Cracking PMT among 15 lakhs candidate we qualify, reaching college we study day and night writing this letter i am sitting in library with my medicine book.

Then qualify pg entrance in which for 1.5 lakh 5000 gets qualified and you dare to ask our morality? Where are your morals when you journalist lick the foots of politicians?

We stand doing duty for continuously 24-36 hours on regular basis with a bare minimum salary of 50-60 k and you raisw questions about our character? 

You must thank your luck that on that day a doc like me wasn't on duty otherwise i would have made sure to throw you out of my ICU.

We are the backbone of medicine without facilities we treat we diagnose we bring people out of death so next time while questioning my morality look inside yours first. And if have problem ask govt to spend 10% of GDP on health, but no you can't do that bcz your media houses run bcz of government. 

If you want to debate come in open field we will have and make sure that day you leave aside the shield of journalism 

We were we are we will remain to be brightest brain bcz we know how to defeat death.
Singing off
On behalf of medical fraternity.
 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रोमाना ईसार खान पर रोहिणी सिंह ने किया 'वार', हुआ करारा 'पलटवार'

मीडिया हलकों मे चर्चा का विषय बन गया है दोनों पत्रकारों का इस तरह आपस में भिड़ना

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 19 September, 2019
Last Modified:
Thursday, 19 September, 2019
Romana-Rohini

ये तो सबको पता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मीडियाकर्मियों के बीच चीफ डिवाइडर का काम किया है, अधिकांश मीडिया दो खानों में बंट गई है। सो दोनों तरफ के लोग आपस में ट्विटर पर भिड़ते ही रहते हैं। एक-दूसरे पर भक्ति और एजेंडे का आरोप लगाते ही रहते हैं, ये कोई नई बात नहीं। लेकिन, एबीपी न्यूज की एंकर रोमाना आमतौर पर इन दोनों ही खानों में कभी सक्रिय नहीं दिखतीं, फिर भी वो एक मोदी विरोधी पत्रकार रोहिणी सिंह से जिस तरह से भिड़ गईं, वो मीडिया हलकों मे चर्चा का विषय बन गया है।

रोहिणी सिंह कभी इकनॉमिक टाइम्स में हुआ करती थीं। कहा जाता है कि उनकी नौकरी अमित शाह और मोदी के खिलाफ चलाए किसी कैम्पेन के चलते ही गई थी। फिर वो 'द वायर' से जुड़ीं और फिर अमित शाह के बेटे के खिलाफ ‘चमत्कारिक कमाई’ की स्टोरी छाप दी।  इस मामले में मानहानि का केस हुआ, जिससे अभी उन्हें छुटकारा नहीं मिला है। पिछली बार सुप्रीम कोर्ट में केस रद्द करने की एप्लिकेशन वापस ली तो सुप्रीम कोर्ट के जज ने उन पर पीत पत्रकारिता करने जैसी टिप्पणी भी कर दी थी।

ऐसे में रोहिणी सिंह भी अभिसार और पुण्य प्रसून की तरह मोदी विरोध का चेहरा बन गई हैं। वो रोमाना से कभी सोशल मीडिया पर इंटरेक्शन करती नहीं दिखीं, लेकिन मोदी के जन्मदिन पर रोमाना ने मोदी से जुड़े एक सवाल पर अपने शो का  टीजर पोस्टर ट्विटर पर शेयर किया तो उसे शेयर करते हुए रोहिणी सिंह ने कुछ ऐसा लिख दिया, जिससे रोमाना भड़क उठीं और फिर हुए वार पर वार, जिसमें कई लोग कूद पड़े और वो ट्वटिर वॉर 48 घंटे बाद तक चल रही थी।

रोमाना एबीपी न्यूज पर जो शो करती हैं, उसका नाम है  'संविधान की शपथ', जो चार बजे प्रसारित होता है। मोदी के जन्मदिन पर 17 सितंबर पर उन्होंने एक सवाल अपने ट्विटर एकाउंट पर हमेशा की तरह दर्शकों से पूछा- ’क्या पीएम मोदी का जन्मदिन देश के लिए उत्सव होना चाहिए? अपने जवाब के समर्थन में कम से कम दो वजह ज़रूर गिनाएं। करेंगे चर्चा, शाम 4 बजे।’

इस ट्वीट को रिट्वीट करते हुए रोहिणी सिंह ने लिखा, ’बिलकुल होना चाहिए। आदेश पारित किया जाए कि सबको 17 सितंबर को, प्रधानमंत्री के जन्म दिवस पर, अपने घर पर दीये जलाने चाहिए और लाइटिंग करनी चाहिए। जो ऐसा नहीं करेगा उसको PSA में 2 साल के लिए बंद किया जाएगा।’

रोहिणी सिंह मोदी पर वार का मौका तलाशती हैं, इसलिए शायद पहली बार रोमाना की वॉल पर चली आईं, लेकिन रोमाना को ये अखर गया कि कोई अपने एजेंडे के लिए उनके ट्वीट उनके शो का इस्तेमाल कर रहा है। उन्होंने फिर रिप्लाई ट्वीट शेयर करते हुए लिखा और बेहद तीखे अंदाज में, ’What Crap @rohini_sgh Have you forgotten the basics of #Journalism ? Cant you differentiate between A Statement and A Question. Kindly dont make Judgements to suit Your #Propoganda’।

रोमाना के साथ मैदान में एबीपी के वरिष्ठ पत्रकार निखिल दुबे भी कूद गए, रोमाना के ट्वीट को शेयर करते हुए लिखा कि ’#सवालहैविचारनहीं सवाल और फैसले में फर्क भूल गए? किसी घटना पर देश के सवाल को क्या किसी का फैसला मान लेना चाहिए? कोई आयोजन जब प्रायोजित लगे,निजी खुशी सार्वजिनक उत्सव लगे तो सवाल उठते हैं? जवाब के लिए बहस होती है, पूर्वाग्रह से भरी सोच को ये समझ पाना मुश्किल है’।

उधर रोहिणी सिंह के समर्थन में एक और मोदी विरोधी एंकर सैटायरिस्ट आकाश बनर्जी कूद पड़े। रोमाना के ट्वीट को शेयर करते हुए उन्होंने लिखा, ‘Ok Ok! I have a question. NOT a statement or a judgement.... "Should India have a #BlackDay to remember & reflect how most of the media & senior anchors have sold themselves at the alter of power & money?" I hope this meets your high standards of journalism’’।

उन्होंने रोमाना को टैग किया तो वो भी भिड़ गईं। जवाब में लिखा, ‘’So @TheDeshBhakt @kapsology in the garb of Teaching & Preaching about Journalism are here to defend @rohini_sgh #MobDefence I must Say Carry on with your #Propaganda #Agenda’’।

इधर रोहिणी सिंह ने भी रोमाना की बात का जवाब दिया, ‘Ma’am, I haven’t forgotten journalism but you seem to have confused propaganda for journalism. And I was merely giving a suggestion which you were crowd sourcing! Now don’t have a meltdown before the show’। रोमाना ने भी जवाब दिया, वो भी अपने शो के उन पुराने सवालों वाले पोस्टर्स के साथ, जिनमें वो सरकार से सवाल कर रही हैं, ‘मैं तो रोज सवालों के जवाब तलाशती हूं इनपे टिप्पणी करने कभी नहीं आये। आज ही क्यों???’।

हालांकि रोहिणी ने फिर रिप्लाई ट्वीट किया, ‘आपके सवाल-मिसाल में ही मेरा जवाब और सवाल दोनों हैं। दुनिया की हर चीज के लिए 24x7 क्रेडिट और फोकस अगर एक ही व्यक्ति पर होता है तो सवाल भी उसी से पूछे जाते हैं। सुस्ती पर सवाल निर्मला से और बाकी समय वाह मोदीजी वाह। Propaganda और Journalism के बीच का अंतर समझिए’।

और ये चलता ही रहा, रोमाना कभी रोहिणी को कुछ लिखतीं, कभी रोहिणी रोमाना को, कभी आकाश बनर्जी बीच में कूदते तो रोमाना उन्हें निशाने पर लेतीं। बीच में निखिल दुबे आकाश बनर्जी का पूरा प्रोफाइल निकाल लाए कि कैसे वो रेडियो मिर्ची के रात के शो में निजी समस्याओं पर अश्लील शो करते थे। कुछ और भी लोग बीच में कूदे और खबर लिखे जाने तक भी इस ट्विटर वॉर में ट्वीट गिर ही रहे थे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

बाबा रामदेव के प्रवक्ता ने गडकरी से पूछा ये ‘रोचक’ सवाल

उन्होंने ट्विटर पर ऐसा विडियो शेयर किया है, जिसमें मोटरसाइकिल पर एक आदमी पलंग बांधकर ले जा रहा है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 18 September, 2019
Last Modified:
Wednesday, 18 September, 2019
Nitin Gadkari

बाबा रामदेव के प्रवक्ता और कंबाइन एडवर्टाइजिंग कंपनी के संचालक एस.के.तिजारेवाला ने बुधवार शाम को ट्विटर पर एक विडियो शेयर करते हुए केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से एक सवाल पूछा है। दरअसल, उन्होंने एक ऐसा विडियो शेयर किया, जिसमें मोटरसाइकिल पर एक आदमी पलंग बांधकर ले जा रहा है।

दो बेड के साथ एक पंखा भी उसने बाइक पर रखा हुआ है, साथ में बच्चे को भी बेड में बिठा रखा है। तिजारेवाला ने ये विडियो शेयर करते हुए सवाल किया है कि

कितना चालान होगा इस ठाठ का

मोटरसाइकिल पर बिछी दो खाट का!

हम दो और हमारे दो, कुल चार सवार हैं

इस दुपहिया पर बसा पूरा घर-संसार है!

इमरजेन्सी के लिए पंखा है

हैलमेट भी ध्यान से रखा है!

ये विडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। आप ये विडियो नीचे देख सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

CEO का खाता सीज होने पर ट्विटर ने इस सुविधा पर लगाया ‘ब्रेक’

ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी पिछले सप्ताह 'सिम स्वैप’ के शिकार हो गये थे। उस अकाउंट से कई आपत्तिजनक ट्वीट किए गए थे

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Saturday, 07 September, 2019
Last Modified:
Saturday, 07 September, 2019
Twitter

माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ‘ट्विटर’ (Twitter) ने फोन से संदेश (टेक्स्ट) भेजकर ट्वीट करने की सुविधा को फिलहाल बंद कर दिया है। दरअसल, ट्विटर ने अपने सीईओ जैक डोर्सी (Jack Dorsey) का खाता हैक हो जाने के बाद यह निर्णय लिया है। बता दें कि डोर्सी पिछले सप्ताह 'सिम स्वैप के शिकार हो गये थे। उस अकाउंट से कई आपत्तिजनक ट्वीट किए गए थे।

हैकर इस तरीके का इस्तेमाल कर उपभोक्ता का फोन अपने कंट्रोल में कर लेते हैं। इससे हैकर के पास यूजर के सोशल मीडिया खाता समेत बैंक खाता तथा अन्य संवेदीनशील जानकारियों का कंट्रोल पहुंच जाता है।

इस बारे में ट्विटर की ओर से एक ट्वीट भी किया गया है। इस ट्वीट में कहा गया है, ‘लोगों का ट्विटर खाता सुरक्षित रखने के लिये हम फिलहाल एसएमएस या टेक्स्ट के जरिये ट्वीट करने की सुविधा बंद कर रहे हैं। कंपनी इस समस्या के दीर्घकालिक समाधान पर काम कर रही है।’ ट्विटर ने भरोसा दिलाया है कि जल्दी ही इसे दोबारा शुरू कर दिया जाएगा।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

विकास भदौरिया की कौन सी रिकॉर्डिंग है रोहिणी सिंह के पास? मीडिया में हो रही है चर्चा

विकास ने अभी तक इस मामले में चुप्पी साध रखी है और ट्वीट का जवाब तक नहीं दिया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 29 August, 2019
Last Modified:
Thursday, 29 August, 2019
Rohini Singh

न्यूज पोर्टल ‘द वायर’ (The Wire) और अमित शाह के बेटे जय शाह की खबर को लेकर जो कोर्ट केस चल रहा है, उसमें अचानक तब एक बड़ा मोड़ आ गया, जब ‘द वायर’ की पत्रकार रोहिणी सिंह ने केस को खत्म करने की अपनी याचिका सुप्रीम कोर्ट में वापस ले ली। हाई कोर्ट ने पहले ही इसे खारिज कर दिया था। याचिका वापस लेने से जस्टिस अरुण मिश्रा ने इसे पीत पत्रकारिता बताते हुए कई तीखे कमेंट भी सुनवाई के दौरान किए। उन्होंने ये भी कहा कि जय शाह को जवाब देने के लिए न्यूज पोर्टल द्वारा चार-पांच घंटे का ही समय दिया गया।

अब इसको लेकर एबीपी न्यूज के रिपोर्टर विकास भदौरिया ने एक ट्वीट किया तो जय शाह के खिलाफ रिपोर्ट फाइल करने वालीं रोहिणी सिंह बिफर गईं और ट्वीट्स के जरिए जो लिखा, वो मीडिया जगत में चर्चा का विषय बन गया है। सवाल उठने लगे हैं कि आखिर रोहिणी सिंह के पास विकास भदौरिया की ऐसी कौन सी रिकॉर्डिंग्स हैं, जो अमित शाह के दरबार में उनकी वैल्यू कम कर सकती हैं।

जब से मोदी सरकार आई है, विकास भदौरिया धीरे-धीरे अपने ट्वीट्स के चलते राष्ट्रवादी खेमे में गिने जाने लगे थे, चुनावी कैम्पेन के दौरान मोदी ने अहमदाबाद में चलती गाड़ी में उनका हाल भी पूछा था। वो विडियो काफी चर्चा में रहा था। ऐसे में द वायर की याचिका वापसी औऱ सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणियों को लेकर विकास ने एक ट्वीट किया, ‘द वायर ने @AmitShah के बेटे जय शाह मानहानि मामले में सुप्रीम कोर्ट से याचिका वापस ली। कोर्ट ने बिना किसी को जवाब का मौका दिए उनके खिलाफ खबर छापने पर नाखुशी जताई। सुप्रीम कोर्ट ने निचली अदालत से मुकदमा तेजी से निपटाने के लिए कहा।’

हालांकि इस ट्वीट में कुछ भी ऑफेंसिव नहीं था, रोहिणी सिंह के खिलाफ कुछ नहीं था। लेकिन रोहिणी सिंह को ये नागवार गुजरा और उन्होंने विकास को एक ट्वीट रिप्लाई में किया।

इस ट्वीट में वो लिखती है, विकास जी सच तो आप जानते हैं, दो पूरे दिन का टाइम दिया था। उसके रिकॉर्ड भी है, ये बात तो आपको भी पता है। याद दिला दूं कि जिस दिन स्टोरी आई थी आपने फोन करके बधाई देने के बाद क्या बोला था...उसका भी रिकॉर्ड है। 

विकास भदौरिया ने बधाई दी तो दी, लेकिन विकास ने ‘और’ ऐसा क्या कहा, जिसके बारे में इशारा रोहिणी सिंह अपनी ट्वीट में कर रही हैं, जिसे उन्होंने रिकॉर्ड कर लिया था, इसकी चर्चा हो रही है। हालांकि विकास ने अभी तक इस मामले में चुप्पी साध रखी है, ट्वीट का जवाब तक नहीं दिया है। लेकिन इस मामले को थोड़ा और आगे बढ़ाया रोहिणी सिंह ने एक और व्यक्ति के ट्वीट के जवाब में।

रोहिणी ने सीधे विकास को निशान बनाते हुए लिखा, ‘कुछ लोग @AmitShah की पब्लिक में चापलूसी करते है और प्राइवेटली फोन करके क्या बोलते हैं, उसमे जमीन-आसमान का फर्क है। विकास जी ने तो मुझे मेरी जाति भी याद दिलवा दी थी।’

जाहिर है रोहिणी सिंह ने खुलकर विकास के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है, उन्हें अमित शाह का चापलूस बताया है, इतना ही नहीं जातिवादी घेरेबंदी करने का भी आरोप लगाया है। वो लिख रही हैं कि जय शाह की स्टोरी से विकास खुश थे और विकास ने इस मौके पर उनकी जाति भी याद दिलवा दी थी। दरअसल, दोनों ही ठाकुर हैं। ऐसे में मीडिया में पहले ही जातिवादी घेरेबंदी के आरोप लगते रहे हैं  तो कोई भी इसे सच मान सकता है।

लेकिन ये प्राइवेट फोन करके विकास ने रोहिणी को क्या बोला और क्या रिकॉर्डिंग्स हैं विकास की रोहिणी के पास, इसको लेकर मीडिया में चर्चा चल रही हैं। ये माना जा रहा है कि इन रिकॉर्डिंग्स में विकास ने पक्के तौर पर अमित शाह और बीजेपी के खिलाफ ही कुछ बोला है, तभी रोहिणी सिंह ने इसे संभाल कर रखा है। अब विकास खामोश हैं, पर इंतजार है कि रोहिणी सिंह कब इस रिकॉर्डिंग को सार्वजनिक करेंगी?

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानें, मधु किश्वर ने ऐसा क्या लिख दिया कि थाने पहुंच गया मामला

बेवाकी और बड़बोलेपन के बीच एक महीन रेखा होती है, जिसे अक्सर लोग नजरअंदाज कर जाते हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 28 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 28 August, 2019
Madhu Kishwar

बेवाकी और बड़बोलेपन के बीच एक महीन रेखा होती है, जिसे अक्सर लोग नजरअंदाज कर जाते हैं। नतीजतन, उन्हें आलोचना और परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसा ही लेखिका मधु किश्वर के साथ हो रहा है। वैसे तो किश्वर अपनी बेवाक बयानबाजी के लिए जानी जाती हैं, लेकिन इस बार उन्होंने कुछ ऐसा कह दिया, जिस पर न केवल बवाल मचा, बल्कि मामला पुलिस स्टेशन तक पहुंच गया है। किश्वर के खिलाफ एक्टिविस्ट एवं पत्रकार साकेत गोखले ने लिखित शिकायत दर्ज कराई है। उनकी मांग है कि किश्वर पर आईपीसी की धारा 153(ए) के तहत कार्रवाई होनी चाहिए।

इस पूरे मामले की शुरुआत ‘न्यूज 24’ के एक डिबेट शो से हुई। दरअसल, इस शो में पत्रकार रिफत जावेद ने भी शिरकत की थी। इसके बाद रिफत ने इस संबंध में एक ट्वीट किया। उन्होंने लिखा, ‘जब भाजपा सांसद राकेश सिन्हा तर्क के साथ मेरी बातों का जवाब नहीं दे सके तो उन्होंने मुझे पाकिस्तानी समर्थक करार दे डाला। लिहाजा, मुझे उन्हें यह याद दिलाना पड़ा कि मुसलमानों को उनके देशभक्ति के प्रमाणपत्र की आवश्यता नहीं है।’

रिफत के इस ट्वीट पर कई लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की और मधु किश्वर भी खुद को नहीं रोक सकीं। उन्होंने लिखा, ‘हां, मुसलमानों को अपने क्रेडेंशियल साबित करने की जरूरत है और 1947 के बाद के भारत में उनके ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए उन्हें प्रमाणपत्र दिया जाना चाहिए, न कि इससे पहले के आधार पर।’  

इसके कुछ ही देर में सोशल मीडिया पर किश्वर की आलोचना शुरू हो गई। बात केवल आलोचना तक ही सीमित नहीं रही, बल्कि एक्टिविस्ट एवं पत्रकार साकेत गोखले ने पहले दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को अपने ट्वीट में टैग करते हुए मधु किश्वर के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। इसके बाद उन्होंने साइबर सेल में किश्वर के खिलाफ लिखित शिकायत भी दर्ज करवाई।

अपने ट्विटर हैंडल पर शिकायत की कॉपी शेयर करते हुए गोखले ने लिखा है, ‘मैंने दिल्ली पुलिस में मधु किश्वर के विरुद्ध लिखित शिकायत दर्ज कराई है। नफरत फैलाने के लिए उन पर कार्रवाई होनी चाहिए।’ वहीं किश्वर ने भी ट्विटर पर अपना पक्ष रखते हुए खुद को सही करार दिया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वाह! स्मिता प्रकाश, क्या खूब जवाब दिया आपने पाक मंत्री को :)

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किये जाने के बाद इस मामले में अंतरराष्ट्रीय मंच पर मिली हार के बाद पाकिस्तान की बौखलाहट और बढ़ गई है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 28 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 28 August, 2019
Smita Prakash

न्यूज एजेंसी ‘एएनआई’ (ANI) की संपादक स्मिता प्रकाश ने पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख राशिद अहमद के उस बयान का जमकर मजाक उड़ाया है, जिसमें उन्होंने भारत-पाकिस्तान के बीच अक्टूबर/नवंबर में युद्ध की संभावना जताई है।

स्मिता प्रकाश ने अपने ट्विटर हैंडल पर राशिद के इस ट्वीट का मजाक उड़ाते कहा है, ‘देखो पहले पितृपक्ष हैं, फिर नवरात्रि है, फिर दिवाली की ताश पार्टीज शुरू होती हैं। फिर वो करवाचौथ है, फिर दिवाली है... थोड़ा फ्री टाइम है नवंबर में, फिर वो कार्तिक पूर्णिमा, गुरुपर्व, क्रिसमस वगैरह आ जाते हैं। टाइम देख के ओके?’

बता दें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किये जाने के बाद से भारत-पाकिस्तान के बीच रिश्ते तल्ख होते जा रहे हैं। इस मामले में अंतरराष्ट्रीय मंच पर मिली हार के बाद पाकिस्तान की बौखलाहट और बढ़ गई है और वहां के नेता अनाप-शनाप बयान जारी कर रहे हैं। बता दें कि रेल मंत्री शेख राशिद का यह बयान पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के उस बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने भारत के साथ परमाणु युद्ध की गीदड़ भभकी दी थी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मैगसायसाय अवार्ड विजेता का इंटरव्यू लेना पत्रकार को पड़ा 'भारी'

मैगसायसाय पुरस्कार विजेता संदीप पांडेय की प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान हुए इस वाकये को पत्रकार ने अपने फेसबुक पेज पर बयां किया है

Last Modified:
Monday, 19 August, 2019
Shah Alam

कश्मीर पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने अयोध्या पहुंचे मैगसायसाय पुरस्कार विजेता संदीप पांडेय को पुलिस ने हिरासत में लिया है। कुछ दिनों पहले ही उन्हें घर पर भी नजरबंद रखा गया था। यही नहीं, संदीप का इंटरव्यू करने पहुंचे पत्रकार शाह आलम को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

अयोद्य़ा निवासी और प्रेस क्लब के सदस्य शाह आलम ने इस बात की जानकारी अपने फेसबुक पेज के जरिए दी है। उन्होंने फेसबुक पर लिखा, ‘संदीप पाण्डेय के इंटरव्यू के दौरान उन्हें पुलिस ने पकड़ लिया।’

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पाकिस्तान के पत्रकार की ये खरी-खरी जरूर एक बार सुनिए

कश्मीर की अनुच्छेद 370 से आजादी के बाद से पाकिस्तान बौखला गया है। कभी वो भारत से रिश्ते तोड़ने की बात करता है तो कभी गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी देता है

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Monday, 19 August, 2019
Last Modified:
Monday, 19 August, 2019
Journalist

कल्पना कीजिये कि आप किसी के सामने शेखी बघार रहे हैं, अपनी पीठ थपथपा रहे हैं, अपने साहस और पराक्रम की कहानियां गढ़ रहे हैं और आपका कोई अपना ही आपकी असलियत बयां कर दे? पाकिस्तान भी फिलहाल ऐसी ही स्थिति से गुजर रहा है।

फर्क बस इतना है कि इस वाकये के बाद आप शायद मुंह नीचे कर, शर्मिंदगी का भाव लेकर वहां से चले जाएं, लेकिन पाकिस्तान अब भी बेशर्मों सा खड़ा है। वैसे इसे बेशर्मी के सटीक उदाहरण के तौर पर भी देखा जा सकता है। कश्मीर की अनुच्छेद 370 से आजादी के बाद से पाकिस्तान बौखला गया है। कभी वो भारत से रिश्ते तोड़ने की बात करता है तो कभी गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी देता है।

हालांकि, वह खुद भी जानता है कि इससे कुछ होने वाला नहीं है। लेकिन फिर भी उसके नेता और मीडिया का एक वर्ग शेखी बघार रहा है। पाकिस्तान की नई-नवेली टीवी एंकर भी हमें डराने में लगी हैं। ये बात अलग है कि उनकी एंकरिंग देखकर डर से ज्यादा हंसी आती है और शायद अकेले में वह खुद भी हंसती होंगी।

इस शेखी बघार गैंग के बीच एक शख्स ऐसा भी है जो पाकिस्तान को उसी स्थिति में पहुंचा रहा है, जहां आप होते यदि आप कल्पना करते। उस शख्स का नाम है वरिष्ठ पत्रकार और पॉलिटिकल एनालिस्ट हसन निसार। वैसे, निसार पहले भी पाक को शर्मिंदगी वाली स्थिति में धकेल चुके हैं, लेकिन पाक तो बेशर्म ठहरा, बाज कहां आता है।

इन दिनों निसार का एक विडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें वह ‘कश्मीर पर अड़ी’ पाकिस्तानी हुकूमत को आईना दिखा रहे हैं। गायक अदनान सामी ने इस विडियो को अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है, जिसे देखने और अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करने वालों की तादाद लगातार बढ़ रही है।

दरअसल, एक टीवी शो में पाकिस्तानी एंकर ने हसन निसार से पूछा था...तो क्या कश्मीर छोड़ दें? इसका निसार ने जो जवाब दिया, उसने शेखी बघार रहे पाक नेताओं को मुंह छिपाने पर मजबूर कर दिया, लेकिन केवल चंद सेकंड के लिए, क्योंकि पाकिस्तान तो बेशर्म ठहरा।

उन्होंने कहा, ‘बेहद दिलचस्प बात है। ईस्ट पाकिस्तान आपके पास था, कश्मीर तो लेना है। किस से लेना है, कैसे लेना है, बस हवा में तलवारें चला रहे हो और जो था हम उसे नहीं संभाल सके। बांग्लादेश भी आपसे बेहतर है, उनकी करेंसी डॉलर के मुकाबले रुपए से बेहतर है, आबादी उन्होंने कंट्रोल कर ली। आपसे जान छुड़ाकर वो आपसे ज्यादा बेहतर हैं, आप वो नहीं संभाल सके, किस मुंह से बात करते हो? कश्मीर लेना है, क्या करना है लेकर? आपसे कराची नहीं संभाला जा रहा, आपसे बलूचिस्तान नहीं संभल रहा, होश करें ये लोग। जो है उसे तो संभाल लो।’

इस दौरान एंकर साहिबा ने कश्मीर पर अपनी पाकिस्तानी इच्छा प्रकट करने का कई बार प्रयास किया, लेकिन सफल नहीं हो सकीं। आप भी पूरा विडियो यहां देख सकते हैं:

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

और डूब गई पत्रकारिता

वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी ने एक विडियो शेयर करते हुए ऐसा लिखा है। ये विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 14 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 14 August, 2019
journalism1

न्यूज चैनल के रिपोर्टर लगातार रिपोर्टिंग को लेकर नए नए तरीके के प्रयोग करते रहते हैं। ऐसा ही एक प्रयोग बैंगलुरु के कन्नड़ न्यूज चैनल BTVNEWS की एक महिला रिपोर्टर ने किया है। बाढ़ की कवरेज के दौरान रिपोर्टर किस तरह डूबते हुए दिखाया गया है ये पत्रकारिता की अतिशयोक्ति है। वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी ने ये विडियो शेयर करते हुए लिखा है-और डूब गई पत्रकारिता। ये विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

देखें विडियो-

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अपनी तारीफ सुनने के बाद मणिशंकर अय्यर का ऐसा 'रिएक्शन' हुआ वायरल

ईटीवी भारत के संपादक राकेश त्रिपाठी ने कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर का एक इंटरव्यू लिया है, जिसका एक हिस्सा सोशल मीडिया पर वायरल हो या है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 14 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 14 August, 2019
manishankar aiyar

कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर एक बार फिर निशाने पर आ गए हैं। हालिया मामला ईटीवी भारत के साथ उनके एक इंटरव्यू का है। इस इंटरव्यू में जब पत्रकार राकेश त्रिपाठी ने उनसे एक सवाल किया, तो मणिशंकर अय्यर उखड़ गए। इसके बाद जब पत्रकार ने उनकी तारीफ करते हुए उन्हें मनीषी बताया तो उसके बाद उन्होंने जिस तरह की प्रतिक्रिया दी, वे अजीब-ओ-गरीब थी। उनकी ये प्रतिक्रिया सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। मीडिया जानकार प्रसून शुक्ला समेत कई पत्रकारोें ने ये विडियो सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए मणिशंकर अय्यर पर निशान साधा है। 

देखें वो विडियो जो वायरल हुआ है...

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए