तेलुगु मीडिया के सभी आयामों से रूबरू कराएगा हिंदी मैगजीन का ये विशेषांक

जनसंचार के सरोकारों पर केंद्रित भोपाल से प्रकाशित त्रैमासिक पत्रिका

Last Modified:
Friday, 12 October, 2018
magazine

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

जनसंचार के सरोकारों पर केंद्रित भोपाल से प्रकाशित त्रैमासिक पत्रिका ‘मीडिया विमर्श’ के तेलुगु मीडिया विशेषांक का विमोचन पांडुचेरी की उप राज्यपाल डॉ. किरण बेदी ने किया। राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के तत्वावधान में पांडुचेरी केंद्रीय विश्वविद्यालय में पुस्तक प्रकाशन प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम के अवसर पर इस विशेषांक का विमोचन किया गया। पत्रिका के तेलुगु मीडिया विशेषांक के अतिथि संपादक पांडुचेरी विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ. सी. जय शंकर बाबु हैं।

इस अवसर पर पांडुचेरी विश्वविद्यालय के प्रो. गुरमीत सिंह, प्रभात प्रकाशन के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक प्रभात कुमार, राष्ट्रीय पुस्तक न्यास– भारत के प्रशिक्षण अधिकारी नरेंद्र कुमार,  विशेषांक के अतिथि संपादक डॉ. सी. जय शंकर बाबु उपस्थित थे ।

डेढ़ सौ पृष्ठों में तेलुगु मीडिया के सभी आयामों पर हिंदी में समग्र आकलन का यह पहला उल्लेखनीय प्रयास है। सितंबर, 2018 के इस अंक में तेलुगु मीडिया के लगभग सभी आयामों पर संदर्भ ग्रंथ सरीखी सामग्री शामिल है। तेलुगु पत्रकारिता के कई विशेषज्ञों द्वारा प्रस्तुत इतिहास, शोध आलेख, विश्लेषण-मूल्यांकन, साक्षात्कार आदि भी इसमें प्रकाशित हैं।

इतिहास-विकास स्तंभ के अंतर्गत तेलुगु पत्रकारिता के ऐतिहासिक विवेचन के साथ-साथ राष्ट्रीय आंदोलन में योगदान देनेवाले पत्रों, पत्रकारों का आकलन प्रस्तुत है ।  पत्रकारिता स्तंभ के अंतर्गत उन आरंभिक पत्रकारों के योगदान का आकलन प्रस्तुत है,  जिन्होंने तेलुगु पत्रकारिता के विकास में कई रूपों में योग दिया था । तेलुगु साहित्यिक पत्रकारिता के सभी आयामों पर विश्लेषण करनेवाले दो आलेख साहित्यिक-पत्रकारिता के स्तंभ में प्रकाशित हैं।

तेलुगु मीडिया के विविध आयामों के मूल्यांकन-विश्लेषण पर केंद्रित चार आलेख प्रकाशित हुए हैं। तेलुगु मीडिया के भाषा-विमर्श तीन आलेखों में और तेलुगु मीडिया के लिए योगदान देने वाले दिग्गजों के योगदान के संबंध में व्यक्तित्व स्तंभ के अंतर्गत आकलन आदि प्रस्तुत हैं। समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस हादसे ने छीन ली ‘द प्रिंट’ की संपादक रेणु अगाल की जिंदगी

BBC में लंबे समय तक कार्यरत रही थीं रेणु अगाल। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बुधवार की देर रात नोएडा के कैलाश अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली।

Last Modified:
Thursday, 22 April, 2021
Renu Agal

न्यूज वेबसाइट ‘द प्रिंट’ (The Print) के हिंदी संस्करण की संपादक रेणु अगाल (Renu Agal) का निधन हो गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बुधवार की देर रात नोएडा के कैलाश अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली।

बता दें कि 25 मार्च को उत्तरी दिल्ली में हुई एक सड़क दुर्घटना में रेणु अगाल के सिर में काफी चोटें आई थीं। गंभीर हालत में रेणु को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने बुधवार की देर रात दम तोड़ दिया।

रेणु अगाल बीबीसी में भी लंबे समय तक कार्यरत रही थीं। वह वर्ष 1996 में बीबीसी लंदन से बतौर प्रड्यूसर जुड़ी थीं। वह बीबीसी हिंदी रेडियो के लिए इंटरेक्टिव प्रोग्राम टॉकिंग प्वाइंट और वीकली विश्लेषण कार्यक्रम विवेचना और युवाओं पर आधारित साप्ताहिक शो बदलता भारत भी बनाती थीं।

उन्होंने बीबीसी के लंदन और दिल्ली स्थित दोनों दफ्तरों में अपनी जिम्मेदारी निभाई थी। बीबीसी को अलविदा कहने के बाद अगाल ने दो नामी-गिरामी प्रकाशन संस्थानों में बतौर संपादक काम किया। वह पहले पेंग्विन इंडिया से जुड़ी थीं और उसके बाद जगरनॉट से।

बीबीसी लंदन से पहले रेणु अंग्रेजी अखबार फाइनेंशियल एक्सप्रेस में बतौर रिपोर्टर काम किया करती थीं। उन्होंने दिल्ली के मिरांडा हाउस कॉलेज और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन से पढ़ाई की थी। रेणु अगाल के निधन पर तमाम वरिष्ठ पत्रकारों ने उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया को अलविदा कह गए वरिष्ठ पत्रकार के. अमरनाथ

कई तेलुगु पब्लिकेशंस और न्यूज चैनल्स में अपनी रिपोर्ट से अलग पहचान बना चुके वरिष्ठ पत्रकार के. अमरनाथ का मंगलवार को हैदराबाद में COVID-19 की वजह से निधन हो गया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 April, 2021
Last Modified:
Wednesday, 21 April, 2021
K-Amarnath454

कई तेलुगु पब्लिकेशंस और न्यूज चैनल्स में अपनी रिपोर्ट से अलग पहचान बना चुके वरिष्ठ पत्रकार के. अमरनाथ का मंगलवार को हैदराबाद में COVID-19 की वजह से निधन हो गया। वे 69 साल के थे। इस बीमारी के इलाज के लिए उन्हें 10 दिन पहले शहर के निजाम इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (NIMS) अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

पत्रकारिता में उन्हें 40 वर्षों का अनुभव था। इस दौरान, अमरनाथ ने तेलुगु दैनिक ‘आंध्रभूमि’ में लंबे समय तक काम किया। इसके अलावा अन्य तेलुगु व नेशनल पब्लिकेशंस में भी अपना योगदान दिया।

अपने करियर के दौरान, अमरनाथ ने यूनाइटेड आंध्र प्रदेश यूनियन फॉर वर्किंग जर्नलिस्ट्स (APUWJ) और इंडियन यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (UJI) में विभिन्न पदों पर काम किया। वे प्रेस क्लब ऑफ इंडिया (पीसीआई) के सदस्य भी थे।

वरिष्ठ पत्रकार की मृत्यु पर हैदराबाद प्रेस क्लब और अन्य जर्नलिस्ट एसोसिएशंस ने शोक व्यक्त किया। तेलंगाना के स्वास्थ्य मंत्री ईटेला राजेंद्र, आईटी मंत्री के.टी. रामा राव और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव सहित कई विधायकों ने अपनी संवेदना व्यक्त की।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार ने खुद वीडियो जारी कर बताया, अज्ञात लोगों ने उन्हें मारी गोली

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में अज्ञात बंदूकधारियों ने एक वरिष्ठ पत्रकार को उनके घर के बाहर गोली मार दी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 April, 2021
Last Modified:
Wednesday, 21 April, 2021
Abrar5465

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में अज्ञात बंदूकधारियों ने एक वरिष्ठ पत्रकार को उनके घर के बाहर गोली मार दी। पत्रकार का नाम अबसार आलम है और उन पर तब गोली चलाई गई, जब वे अपने घर के बाहर टहल रहे थे। आलम पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया अथॉरिटी (PEMRA) के चेयरमैन भी हैं। गोली पत्रकार के पसलियों में लगी, जिसके बाद से वे अस्पताल में भर्ती हैं और फिलहाल खतरे से बाहर हैं।  

अबसार आलम ने खुद वीडियो अपलोड कर इस हमले की जानकारी दी है। उन्होंने बताया, ‘मेरी पसलियों में गोली लगी है। हालांकि मैंने उम्मीद नहीं छोड़ी है। जिन लोगों ने यह किया है, मैं उनसे कहना चाहूंगा कि मैं इन हरकतों से डरने वाला नहीं हूं।’ अभी तक किसी ने भी इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।

वहीं, इस्लामाबाद पुलिस ने मामले की जांच के लिए विशेष टीम का गठन किया है। इस्लामाबाद पुलिस ने ट्वीट कर कहा, ‘टीम को सभी तरह के वैज्ञानिक व फोरेंसिक तरीके अपनाने को कहा गया है ताकि आरोपियों का पता लगाया जा सके।’

पाकिस्तान के सूचना-प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ने भी इस हमले की निंदा की है। उन्होंने कहा कि पुलिस मामले की गंभीरता से जांच कर रही है।

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दैनिक जागरण के युवा फोटो पत्रकार अमित भारद्वाज का निधन

दैनिक जागरण, आगरा के युवा फोटो पत्रकार अमित भारद्वाज का मंगलवार की सुबह निधन हो गया है।

Last Modified:
Tuesday, 20 April, 2021
Amit Bharadwaj

दैनिक जागरण, आगरा के युवा फोटो पत्रकार अमित भारद्वाज का निधन हो गया है। तबीयत खराब होने पर करीब दो दिन पहले ही अमित को आगरा में सिकंदरा स्थित रेनबो हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां मंगलवार की सुबह उन्होंने दम तोड़ दिया।

करीब 32 वर्षीय अमित लगभग पांच वर्षों से दैनिक जागरण में फोटो पत्रकार थे। बताया जाता है कि करीब एक हफ्ते पूर्व उन्हें बुखार और उल्टी की समस्या हुई थी। इस पर उन्होंने अपने फैमिली डॉक्टर से दवा ले ली। हालांकि, दवा लेने पर बुखार उतर गया था, लेकिन उल्टी आनी बंद नहीं हुई। इस बीच कराई गई कोविड की जांच में रिपोर्ट निगेटिव आई। करीब दो दिन पूर्व हालत बिगड़ने पर अमित को रेनबो अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने उनके लिवर में सूजन बताई। मंगलवार की सुबह रेनबो अस्पताल में ही अमित का निधन हो गया।

मूल रूप से आगरा के रहने वाले अमित की करीब डेढ़ साल पहले ही शादी हुई थी। उनके छह माह का बेटा है। अमित के निधन पर तमाम पत्रकारों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार पर जानलेवा हमला, पुलिस चौकी में घुसकर बचाई जान

पत्रकार की शिकायत पर पुलिस ने चार अज्ञात बदमाशों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Last Modified:
Tuesday, 20 April, 2021
Sanjay Kumar

हरियाणा के रेवाड़ी जिले में एक पत्रकार पर जानलेवा हमला करने का मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, रेवाड़ी जिला के डहीना बस स्टैंड पर सोमवार की सुबह पत्रकार संजय कुमार पर मोटरसाइकिल सवाल चार बदमाशों ने कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला कर उसे लहूलुहान कर दिया। संजय कुमार ने बस स्टैंड स्थित पुलिस चौकी में जाकर अपनी जान बचाई।

घटना सोमवार की सुबह करीब सवा चार बजे उस समय हुई, जब संजय कुमार बस स्टैंड स्थित एजेंसी जा रहे थे। पुलिस चौकी के जवानों ने लहूलुहान हालत में संजय कुमार को को प्राथमिक उपचार के लिए निजी अस्पताल में भर्ती कराया।

गंभीर हालत को देखते हुए संजय कुमार को रेवाड़ी के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। संजय कुमार की शिकायत पर पुलिस ने चार अज्ञात बदमाशों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोविड से जिंदगी की जंग हार गईं ‘द पॉयनियर’ की पॉलिटिकल एडिटर तविशी श्रीवास्तव

‘द पॉयनियर’ की पॉलिटिकल एडिटर तविशी श्रीवास्तव का रविवार को कोविड-19 की वजह से निधन हो गया।

Last Modified:
Monday, 19 April, 2021
Tavishi5

‘द पॉयनियर’ की पॉलिटिकल एडिटर तविशी श्रीवास्तव का रविवार को कोविड-19 की वजह से निधन हो गया। वे 73 साल की थीं। तविशी को सांस लेने में तकलीफ और बुखार होने के बाद रविवार सुबह लखनऊ के केजीएमयू अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी हालत बिगड़ने के बाद शाम को उन्हें आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया था। रात-रात होते-होते उनकी हालत इतनी बिगड़ गई, उनके सांसो की डोर टूट गई।

उन्होंने अपने करियर की शुरुआत पॉयनियर के साथ फ्रीलांसर के रूप में की थी और बाद में कठिन परिश्रम के जरिए सफलता की सीढ़ियां चढ़ते हुए यहां तक पहुंची थीं। रविवार एडिशन में उनका कॉलम ‘उल्टा प्रदेश’ काफी लोकप्रिय था। उनके निधन पर तमाम नेताओं, सामाजिक कार्यकर्ताओं और पत्रकारों ने पर शोक व्यक्त किया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

1971 में पाक सेना के सरेंडर करने की खबर ब्रेक वाले वरिष्ठ पत्रकार का निधन

न्यूज एजेंसी पीटीआई के पूर्व खेल संपादक के जगन्नाथ राव का रविवार को निधन हो गया

Last Modified:
Monday, 19 April, 2021
Journalist565

न्यूज एजेंसी पीटीआई के पूर्व खेल संपादक के जगन्नाथ राव का रविवार को निधन हो गया। वे 78 साल के थे और पिछले छह साल से कैंसर से जूझ रहे थे।

उनके परिवार में पत्नी के अलावा एक बेटी है। खेल संवाददाता होने के बावजूद राव ने 1971 में पाकिस्तानी सेना के भारतीय सेना के सामने सरेंडर करने की खबर ब्रेक की थी। इसके बाद बांग्लादेश का गठन हुआ था। राव 1964 से 2002 में सेवानिवृत्त होने तक पीटीआई के साथ रहे।

राव ने छह ओलंपिक और दो एशियाई खेलों के अलावा भारतीय क्रिकेट टीम का 1982-83 का पाकिस्तान का एतिहासिक दौरा कवर किया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे लेखक-संपादक जी वेंकटसुबैया, 107 वर्ष की उम्र में हुआ निधन

कन्नड़ के लेखक, संपादक और लेक्सियोग्राफर जी वेंकटसुब्बैया का बेंगलुरु में सोमवार की सुबह निधन हो गया।

Last Modified:
Monday, 19 April, 2021
g-venkatasubbiah

कन्नड़ के लेखक, संपादक और लेक्सियोग्राफर जी वेंकटसुब्बैया का बेंगलुरु में सोमवार की सुबह निधन हो गया। वे 107 साल के थे। कन्नड़ भाषा में उनके योगदान के लिए उन्हें पद्मश्री व साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी नवाजा गया है।

कन्नड़ साहित्यिक क्षेत्र में लोकप्रिय जी वेंकटसुबैया एक लेक्सियोग्राफर, व्याकरणिक और साहित्यिक आलोचक थे। उन्होंने 12 शब्दकोश संकलित किए हैं। उनकी रचनाओं में व्याकरण, कविता, अनुवाद और निबंध सहित कन्नड़ साहित्य के विभिन्न रूप शामिल हैं।

जी वेंकटसुब्बैया का जन्म 23 अगस्त 1913 में मांड्या जिले के गंजम गांव के श्रीरंगपटना में हुआ था। वे आठ भाई-बहनों में दूसरे स्थान पर थे। उनके पिता गंजम थिमनियाह एक प्रसिद्ध कन्नड़ और संस्कृत विद्वान थे। जी वेंकटसुब्बैया को अपने पिता से ही कन्नड़ के प्रति प्रेम की प्रेरणा मिली थी। जी वेंकटसुब्बैया की प्राथमिक स्कूली शिक्षा दक्षिण भारतीय राज्य कर्नाटक के बन्नूर और मधुगिरि के शहरों में हुई है। कन्नड़ में पोस्ट-ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद उन्होंने मांड्या में एक नगरपालिका स्कूल में बतौर शिक्षक के रूप में अपना करियर शुरू किया था। इसके बाद वे दावणगेरे के एक हाई स्कूल और मैसूरु में महाराजा कॉलेज में पढ़ाने चले गए। फिर वे  बेंगलुरु के विजया कॉलेज में शिफ्ट हो गए। 1973 में जी वेंकटसुब्बैया ने विजया कॉलेज से सेवानिवृत्त होने के बाद इसके मुख्य संपादक के रूप में कन्नड़-टू-कन्नड़ शब्दकोश पर काम करने की जिम्मेदारी ली। उन्होंने 2011 में बेंगलुरु में आयोजित 77वें अखिल भारतीय कन्नड़ साहित्य सम्मेलन की अध्यक्षता की थी।

जी वेंकटसुब्बैया को उनके स्मारकीय साहित्यिक कृतियों के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया जिनमें पद्मश्री, पम्पा पुरस्कार, साहित्य अकादमी द्वारा भाषा सम्मान, कर्नाटक राज्योत्सव पुरस्कार और कर्नाटक साहित्य अकादमी पुरस्कार शामिल हैं।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार बृजेन्द्र पटेल का कोरोना से निधन

पिछले कुछ वर्षों से हिंदुस्तान अखबार के आगरा एडिशन में कार्यरत थे बृजेन्द्र पटेल

Last Modified:
Saturday, 17 April, 2021
Brajendra Patel

कोरोनावायरस (कोविड-19) का कहर दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है। तमाम लोग इसकी चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके हैं और कई लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। कोरोना के संक्रमण के कारण जान गंवाने वालों में कई पत्रकार भी शामिल हैं। ऐसी ही एक दुखद खबर आगरा से आई है। खबर है कि हिन्दुस्तान के आगरा एडिशन में कार्यरत वरिष्ठ पत्रकार बृजेन्द्र पटेल का कोरोना से निधन हो गया है।

कुछ दिनों पूर्व तबीयत खराब होने पर बृजेन्द्र पटेल ने कोविड-19 की जांच कराई थी, जिसमें रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, इसके बाद उन्हें आगरा के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालत में थोड़ा सुधार होने पर एक-दो दिन पूर्व उन्हें एसएन अस्पताल, आगरा में भर्ती कराया गया था, जहां शनिवार की सुबह उन्होंने दम तोड़ दिया।

करीब 50 वर्षीय बृजेन्द्र पटेल कानपुर के मूल निवासी थे। लगभग 25 वर्षों से मीडिया में सक्रिय बृजेन्द्र अब तक दैनिक आज, अमर उजाला और सहारा समेत तमाम मीडिया संस्थानों में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके थे। करीब दो साल से वह हिंदुस्तान, आगरा में अपनी भूमिका निभा रहे थे।  

बृजेन्द्र पटेल के निधन पर डॉ. अनिल दीक्षित, विनोद भारद्वाज, पीपी सिंह, अवधेश माहेश्वरी, ताज प्रेस क्लब के महासचिव उपेंद्र शर्मा और राज कुमार दंडौतिया सहित तमाम पत्रकारों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

PTI के पूर्व पत्रकार जमालुद्दीन अहमद का निधन

प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) के पूर्व पत्रकार जमालुद्दीन अहमद का निधन हो गया।

Last Modified:
Saturday, 17 April, 2021
Death

प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) के पूर्व पत्रकार जमालुद्दीन अहमद का निधन हो गया। उनके पारिवारिक सदस्यों ने शुक्रवार को मीडिया को बताया कि जमालुद्दीन अहमद का निधन हाल में एक बीमारी की वजह से नई दिल्ली में हुआ।

जमालुद्दीन अहमद 2007-2008 के दौरान मध्यप्रदेश के भोपाल में पीटीआई के ब्यूरो प्रमुख रहे। उन्होंने साथ ही यहां कई समाचार पत्रों के लिए भी काम किया।

वहीं  आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अहमद के निधन पर दुख व्यक्त किया है और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना ईश्वर से की।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए