बड़े न्यूज चैनल को टक्कर देने के लिए राष्ट्रपति खोलेंगे चैनल, जताई इच्छा

सरकारी टीवी चैनल खोलने की इच्छा जताई है और वह भी अपने ट्विटर...

Last Modified:
Tuesday, 27 November, 2018
channel
समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मीडियासे नाराजगी जगजाहिर है और वे मीडिया के खिलाफ समय-समय पर अपनी भड़ास भी निकालते रहते हैं। उनकी नजरों में ‘सीएनएन’ (CNN) न्यूज चैनल हमेशा से अखरता रहा है और इसी वजह से शायद इस बार  उन्होंने ‘सीएनएन’ को चुनौती देने का मन बना लिया है। उन्होंने सरकारी टीवी चैनल खोलने की इच्छा जताई है और वह भी अपने ट्विटर अकाउंट पर। ट्रंप के मुताबिक‘सीएनएन’ दुनिया भर में अमेरिका की खराब छवि पेश कर रहा है।

‘सीएनएन’ पर निशाना साधते हुए ट्रंप ने ट्विटर पर लिखा, 'रेटिंग के आधार पर ‘सीएनएन’ अमेरिका में अच्छा नहीं कर रहा है। अमेरिका के बाहर उन्हें दूसरे चैनलों से चुनौती नहीं मिलती है। दुनिया भर में ‘सीएनएन’ अमेरिका की सही तस्वीर पेश नहीं कर रहा है वो झूठ का सहारा लेते हैं। हमें कुछ करना होगा। अमेरिका की असली छवि दिखाने के लिए खुद अपना नेटवर्क खड़ा करना होगा।'

‘सीएनएन’ को कड़ी चुनौती देने का मजबूत इरादा कर चुके ट्रंप शायद यहां ये भूल गए कि पहले से ही अमेरीका में सरकारी टीवी चैनल और रेडियो मौजूद है। 'द वाइस ऑफ अमेरिका' नाम से अमेरिका में रेडियो और टीवी चैनल मौजूद है।

गौरतलब है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कई मौकों पर ‘सीएनएन’ को नीचा दिखाने की कोशिश की है। राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बाद से ही वे ‘सीएनएन’ पर फर्जी खबरें चलाने का आरोप लगाते रहें हैं। हाल ही में ‘सीएनएन’ के रिपोर्टर से उनकी बहसबाजी हो गई थी, जिसके बाद व्हाइट हाउस के मैनेजमेंट ने उनका प्रेस पास रद्द कर दिया था, लेकिन बाद में कोर्ट ने व्हाइट हाउस के इस फैसले को गलत ठहराते प्रेस पास लौटाने को कहा था।

 


न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जिंदगी की जंग हार गईं युवा पत्रकार शिवानी वशिष्ठ

गंभीर बीमारी से जूझ रहीं शिवानी का देहरादून के अस्पताल में चल रहा था इलाज

Last Modified:
Tuesday, 21 May, 2019
shivani

गंभीर बीमारी से जूझ रहीं युवा महिला पत्रकार शिवानी वशिष्ठ जिंदगी की जंग हार गईं और मंगलवार को इस दुनिया को छोड़कर चली गईं। हरियाणा के पानीपत, नूरवाला शहर की रहने वाली पत्रकार शिवानी वशिष्ठ सिटिजन वायस चैनल में काम करती थीं। शिवानी को डॉक्टरों ने आंतों में इंफेक्शन बताया था। कई जगह इलाज करने के बाद भी शिवानी को कोई फायदा नहीं हुआ था।

हालत ज्यादा गंभीर होने पर उन्हें देहरादून के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इतनी सी कम उम्र में शिवानी के इस तरह चले जाने से परिजनों के साथ ही दोस्तों व सहयोगी पत्रकारों में शोक का माहौल है। सोशल मीडिया पर भी शिवानी को श्रद्धांजलि दी जा रही है।

आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो करने के लिए यहां क्लिक कीजिए

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार श्याम दुबे

सीने में दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में कराया गया था भर्ती

Last Modified:
Monday, 20 May, 2019
Shyam Dubey

वरिष्ठ पत्रकार श्याम दुबे अब हमारे बीच नहीं रहे। शुक्रवार की रात जयपुर में उनका निधन हो गया। कोटा के किशोरपुरा मुक्तिधाम में शनिवार दोपहर उनका अंतिम संस्कार किया गया। दुबे ने बनारस व कोटा से शिक्षा पूरी कर पत्रकारिता की शुरआत की थी। बाद में उन्होंने जयपुर से ‘तथ्य भारती’ पाक्षिक पत्रिका का प्रकाशन शुरू किया।

करीब 15 साल से वे जयपुर में ही पत्रकारिता कर रहे थे। शुक्रवार की शाम अचानक सीने में दर्द की शिकायत पर परिजन उन्हें फोर्टिस अस्पताल लेकर ग्ए, जहां देर रात उनका निधन हो गया। श्याम दुबे के निधन के बाद परिजनों व रिश्तेदारों के साथ ही पत्रकारों में भी शोक व्याप्त है। पत्रकार बिरादरी ने उन्हें श्रद्धाजंलि अर्पित की है।

आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो करने के लिए यहां क्लिक कीजिए

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'पत्रकारों की परीक्षा रोजाना होती है तथा उसका परिणाम भी रोजाना आता है'

विश्व संवाद केंद्र, गुजरात की ओर से आयोजित कार्यक्रम में पत्रकारों को किया गया सम्मानित

Last Modified:
Monday, 20 May, 2019
Narad Jayanti

विश्व संवाद केंद्र (बीएसके), गुजरात की ओर से नारद जयंती के अवसर पर रविवार को पत्रकार सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर छह पत्रकारों का सम्मान किया गया। जिन पत्रकारों को सम्मानित किया गया, उनमें जयवंत पंड्या, मनोज मेहता, विवेक कुमार भट्ट, मौलिन मुंशी, सुदर्शन उपाध्याय और हर्षद याज्ञिक शामिल रहे। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता पूर्व सूचना आयुक्त, गुजरात साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष व साहित्यकार भाग्येश झा थे। उनका कहना था कि पत्रकारों की परीक्षा रोजाना होती है तथा उसका परिणाम भी रोजाना आता है।

समाज में पत्रकारों की भूमिका के बारे में उन्होंने कहा कि हालांकि पत्रकार कभी भी इतिहास नहीं लिखता है, लेकिन ये भी सच है कि पत्रकारों के बिना इतिहास नहीं लिखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि आज के समय में क्रिएटिव राइटिंग बहुत बड़ी चुनौती है। रचनात्मकता के द्वारा पाठक संख्या बढ़ाई जा सकती है। एक पत्रकार को नारदजी की तरह बिना किसी भेदभाव के कार्य करना चाहिए और सकारात्मक बातों को बाहर निकालकर लाना चाहिए। इस तरह का काम करने वाले पत्रकार ही नारदजी के सच्चे अनुयायी हो सकते हैं। भाग्येश झा ने कहा कि कालिदास ने अपनी रचना ‘मेघदूत’ में बादलों के माध्यम से संदेश भेजने की बात कही है। आजकल कवि कालिदास का अध्ययन करके वैज्ञानिक क्लाउड कंप्यूटिंग कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पत्रकारों को तीन बातों ‘मैं ही पहला हूं’ (I am the first), ‘मैं ही यूनिक‘ ( I am unique) और ‘मैं ही भरोसेमंद’ ( I am reliable) से सावधानी रखने की जरूरत है। भाग्येश झा का यह भी कहना था कि समाज को जाग्रत और सतर्क रखने के लिए पत्रकार का जागृत और सतर्क रहना बहुत आवश्यक है। समाज के सतर्क रहने पर ही सरकार भी ढंग से कार्य करेगी और इसमें पत्रकार की बहुत बड़ी भूमिका होती है। भाग्येश झा ने यह भी बताया कि हॉवर्ड में हुए एक शोध में वर्डस्मिथ नामक एप तैयार किया गया। इस एप के द्वारा भूकंप सरीखे समाचार की रिपोर्ट रोबोट को देने पर वह 3000 शब्दों की रिपोर्ट तैयार कर देगा।

कार्यक्रम के अध्यक्ष व राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के पश्चिम क्षेत्र के संघचालक डॉ. जयन्तीभाई भाड़ेसिया ने कहा कि नैतिकता, देश प्रेम व आचार  पत्रकारिता की नींव होनी चाहिए। इस मौके पर गुजरात प्रान्त के संघचालक डॉ. भरत पटेल, प्रान्त संपर्क प्रमुख व वीएसके गुजरात के ट्रस्टी हरेश ठाकर, प्रान्त के पूर्व संघचालक अमृतभाई कड़ीवाला, प्रान्त प्रचार प्रमुख विजय ठाकर, प्रान्त सह प्रचार प्रमुख हितेन्द्र मोजिद्रा आदि मौजूद थे। कार्यक्रम में विजय ठाकर को वीएसके गुजरात के ट्रस्टी व मोजिद्रा को प्रबन्ध ट्रस्टी घोषित किया गया।

आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो करने के लिए यहां क्लिक कीजिए

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कवरेज के दौरान फोटो जर्नलिस्ट के साथ हुआ कुछ ऐसा, चली गई जान

चित्तूर में चल रहे गंगम्मा जात्रा उत्सव में कवरेज के लिए गए थे अनंत पद्मनाभम

Last Modified:
Thursday, 16 May, 2019
Photo Journalist

करंट लगने से फोटो जर्नलिस्ट की मौत का मामला सामने आया है। मामला आंध्रप्रदेश के नेल्लोर जिले का है। बताया जाता है कि अनंत पद्मनाभम उर्फ आनंद नामक फोटो जर्नलिस्ट चित्तूर में चल रहे गंगम्मा जात्रा उत्सव में कवरेज के लिए गए थे। तभी अचानक वे करंट की चपेट में आ गए। झुलसी हालत में अनंत पद्मनाभम को अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका।

सूचना मिलते ही जिले के वरिष्ठ अधिकारी अस्पताल पहुंचे और घटना की जानकारी ली। अनंत पद्मनाभम की मौत पर आंध्र प्रदेश फोटो जर्नलिस्ट एसोसिएशन ने शोक जताते हुए उनके परिजनों के साथ हमेशा खड़े रहने का आश्वासन दिया है।

आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो करने के लिए यहां क्लिक कीजिए

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इतनी कम उम्र में चले गए दैनिक जागरण के पत्रकार लोकेश प्रताप सिंह

कई पत्रकारों ने लोकेश प्रताप के निधन पर सोशल मीडिया पर अपनी शोक संवेदना व्यक्त कर उन्हें श्रद्धांजलि दी है

Last Modified:
Wednesday, 15 May, 2019
Lokesh Pratap

पत्रकार लोकेश प्रताप सिंह का आकस्मिक निधन हो गया है। वह इन दिनों कैंसर से जूझ रहे थे। लंबे समय से दैनिक जागरण से जुड़े लोकेश प्रताप इन दिनों मुख्य उप संपादक के तौर पर बरेली में प्रादेशिक (पीलीभीत, शाहजहांपुर व बदांयू) डेस्क का प्रभार संभाल रहे थे। उन्हें पिछले साल ही यह बड़ी जिम्मेदारी दी गई थी। इससे पहले वह पीलीभीत में ब्यूरो प्रमुख के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। इससे पहले कानपुर में भी वह प्रादेशिक प्रभारी की जिम्मेदारी निभा चुके थे। यही नहीं, बदायूं में ब्यूरो चीफ के रूप में भी उन्होंने अपनी कलम की धार से पत्रकारिता जगत में अपनी खास पहचान बना रखी थी।

करीब दो साल पूर्व केंद्रीय महिला कल्याण एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने लोकेश प्रताप सिंह को राष्ट्रीय जनसहयोग एवं बाल विकास संस्थान (निपसिड) का वाइस चेयरमैन नियुक्त किया था। लोकेश प्रताप इससे पहले भी अटल सरकार में स्वास्थ्य मंत्रालय की राजभाषा समिति में सलाहकार रह चुके थे। पत्रकारिता के साथ ही सामाजिक सरोकार से जुड़े विषयों पर उनका व्यापक और प्रभावी योगदान रहता था। लोकेश प्रताप सिंह ने अपनी लेखनी के दम पर राष्ट्रीय स्तर तक अपनी छवि बनाई हुई थी। उनके निधन से पत्रकार जगत में शोक की लहर है। कई पत्रकारों ने लोकेश प्रताप के निधन पर सोशल मीडिया पर अपनी शोक संवेदना व्यक्त कर उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

लोकेश प्रताप के निधन पर दैनिक जागरण के वरिष्ठ पत्रकार और मुंबई के ब्यूरो प्रमुख ओम प्रकाश तिवारी ने भी अपने फेसबुक पेज पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए लिखा है,’ लोकेश अपने आप में एक संस्था थे। श्रीराम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान अयोध्या में पहली बार मुलाकात हुई थी उनसे। 17-18 वर्ष का दुबला-छरहरा सा एक लड़का। लेकिन तेजतर्रार इतना कि उस दौरान अयोध्या में उस आंदोलन की एक महत्त्वपूर्ण कड़ी बन गया था। विश्व हिंदू परिषद के विश्व संवाद केंद्र में वह महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा रहे थे। याददाश्त इतनी गजब कि पूछिए मत।आज के 'जनपथ' की तरह उन दिनों 'राष्ट्रधर्म' पत्रिका में मेरा एक स्तंभ प्रकाशित होता था - 'मासिक चुटकियाँ'। उस स्तंभ की दर्जनों चुटकियां लोकेश आज 30 साल बाद भी धाराप्रवाह सुना सकते थे।

2014 में जब मुंबई में उत्तर प्रदेश डेवलपमेंट फोरम (UPDF) का पहला कार्यक्रम किया तो सांसद लल्लू सिंह को मुंबई लाने का पूरा श्रेय लोकेश को ही जाता है। लल्लू सिंह को वह आने के लिए राजी नहीं करते तो शायद वह कार्यक्रम ही नहीं होता और यूपीडीएफ के आगे के कार्यक्रम भी नहीं होते। गंगा के प्रति उनका समर्पण भी अद्भुत था।

दैनिक जागरण के पीलीभीत ब्यूरो प्रमुख रहते हुए उन्होंने जागरण के ही बैनर को आगे रखते हुए गंगा स्वच्छता के लिए जिस प्रकार के गंभीर प्रयास किए, यदि उसे मॉडल बनाकर गंगा किनारे के शहरों/कस्बों में कार्यरत पत्रकार सक्रिय हो जाएं तो गंगा मैया को साफ करने के लिए किसी और प्रयास की जरूरत ही नहीं रह जाएगी। ऐसे कर्मठ युवा के जाने की उम्र तो कतई नहीं थी अभी। लेकिन ईश्वर भी कर्मठों को ही जल्दी याद करता है। वह कैंसर से जीत न सके। उनके परिवार पर तो यह वज्रपात है ही, हम सबके लिए भी उनका असमय अवसान एक अपूरणीय क्षति है। ईश्वर उनके परिवार को यह दुख सहने की क्षमता प्रदान करें और लोकेश की आत्मा को अपने चरणों में स्थान दें। ऊँ शांति शांति शांति।’

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस हादसे ने छीन ली पत्रकार समेत चार लोगों की जिंदगी

इलाज के लिए रिश्तेदार को कार से मेडिकल कॉलेज ले जा रहे थे पत्रकार अरविंद उपाध्याय

Last Modified:
Tuesday, 14 May, 2019
Arvind Updahyay

सड़क हादसे में कार सवार पत्रकार समेत चार लोगों की मौत हो गई। उत्तर प्रदेश में अंबेडकरनगर के सम्मनपुर क्षेत्र में खपुरा के पास मंगलवार को हुए इस हादसे में जान गंवाने वालों में सेना के एक रिटायर्ड कैप्टन, उनकी पत्नी और कार का चालक भी शामिल है। हादसे में पत्रकार समेत चार लोगों की मौत के बाद परिजनों के साथ ही पत्रकार बिरादरी में शोक व्याप्त है।

बताया जाता है कि जलालपुर क्षेत्र के बड़ेपुर निवासी कैप्टन (रिटायर्ड) लक्ष्मीकांत (65) पुत्र केदारनाथ उपाध्याय की तबीयत खराब चल रही थी। लक्ष्मीकांत के रिश्तेदार व पड़ोसी जिला जौनपुर निवासी पत्रकार अरविंद उपाध्याय (45) बड़ेपुर आकर लक्ष्मीकांत को दिखाने के लिए कार से जिले के मेडिकल कॉलेज सद्दरपुर जा रहे थे। कार में उनके साथ लक्ष्मीकांत की पत्नी कांति उपाध्याय (62) भी थीं और कार बड़ेपुर निवासी चालक रामराज चला रहा था।

आजमगढ़ अकबरपुर मार्ग स्थित खपुरा के ईंट भट्ठे के पास बाइक सवार को बचाने के चक्कर में कार अनियंत्रित होकर डंपर से टकराकर पलट गई। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से चारों लोगों को बाहर निकाला, लेकिन चारों की मौत हो चुकी थी। इस हादसे में बाइक सवार अभिषेक (26) पुत्र श्यामलाल निवासी सुलेमपुर सम्मनपुर घायल हो गया। उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बताया जाता है कि हाइवे पर सड़क से सटा ईंट भट्ठा होने की वजह से यह हादसा हुआ। सीओ सदर धर्मेंद्र सचान ने बताया कि सड़क पर अतिक्रमण करने वाले ईंट भट्ठा मालिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आदेश पुलिस को दे दिया है। उन्होंने बताया कि हादसे के अन्य कारणों की भी छानबीन हो रही है। इस हादसे के लिए जो भी जिम्मेदार होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

लाखों रुपए ठगने के बाद पत्रकार को दे रहे थे धमकी, अब कसा आरोपियों पर शिकंजा

पत्रकार की ओर से कराई गई प्लाट की बाउंड्री को भी आरोपियों ने तुड़वा दिया

Last Modified:
Tuesday, 14 May, 2019
Sachin Mishra

प्लाट दिलाने के नाम पर पत्रकार से साढ़े दस लाख रुपए की ठगी और जान से मारने की धमकी देने के मामले में अब जाकर पुलिस की नींद खुली है। दैनिक जागरण, नोएडा  में वरिष्ठ उपसंपादक सचिन मिश्रा से जुड़े इस मामले में उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की विजयनगर पुलिस ने मंगलवार को चार आरोपियों गौरव राणा, प्रदीप राणा, साहिद व महेश यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। एफआईआर के मुताबिक, गौरव राणा, प्रदीप राणा और साहिद ने गाजियाबाद में रानी लक्ष्मीबाई नगर, सुदामापुरी, डूंडाहेड़ा में प्लाट के नाम पर सचिन मिश्रा से साढ़े दस लाख रुपये ले लिए। 21 फरवरी, 2019 को गौरव ने सचिन मिश्रा की पत्नी रोहिणी मिश्रा के नाम पचास गज के प्लाट की रजिस्ट्री भी कराई।

इसके बाद 23 फरवरी को जब सचिन प्लाट की नींव भरवा रहे थे, तभी अपने हथियारबंद साथियों के साथ मौके पर पहुंचे महेश यादव ने उस प्लाट को अपना बताते हुए काम रुकवा दिया। इस संबंध में सचिन ने जब विजयनगर थाना प्रभारी को अवगत कराया तो उस समय उन्होंने मामला दर्ज करने से इनकार कर दिया। इसके बाद सचिन ने आरोपियों से पैसे मांगे तो उन्होंने तवज्जो नहीं दी। सचिन का आरोप है कि ये लोग प्लाट या पैसे वापस करने का आश्वासन दे रहे हैं, मगर दे नहीं रहे हैं। सभी भूमाफिया व अपराधी हैं।

इस बीच, सचिन ने जिस प्लाट की बाउंड्री करवाई थी, उसे 16 मार्च को आरोपियों ने तुड़वा दिया। आरोप है कि गौरव, प्रदीप, साहिद व महेश ने सचिन के प्लाट सहित करीब तीन सौ गज जमीन किसी और शख्स को बेच दी है। अब सभी लोग मिलकर सचिन और उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। प्रताप विहार, गाजियाबाद निवासी सचिन मिश्रा पुत्र श्रवण कुमार मिश्रा ने अब प्लाट के पैसे वापस दिलवाने और अपने परिवार के जान-माल की सुरक्षा की मांग करते हुए विजयनगर थाने में चारों आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार गौरव पुष्कर की मेहनत को सलाम, पाई ये बड़ी उपलब्धि

झारखंड में गढ़वा जिले के गौरव पुष्कर ने काफी संघर्षों के बाद हासिल किया है ये मुकाम

Last Modified:
Monday, 13 May, 2019
Gaurav Pushkar

पत्रकार गौरव पुष्कर ने अपने करियर को नई दिशा देते हुए शानदार उपलब्धि हासिल की है। दरअसल, गौरव ने संघ लोकसेवा आयोग की परीक्षा पास कर ली है और भारतीय सूचना सेवा (IIS)  में उन्हें देशभर में 32वां रैंक मिला है। खास बात यह है कि गौरव पुष्कर को यह सफलता पहले ही प्रयास में मिली है। मूलरूप से झारखंड के गढ़वा जिले में रमना प्रखंड के सिलिदाग ग्राम निवासी स्व. कृष्णकांत सिंह के पुत्र गौरव पुष्कर ने काफी संघर्ष के बाद इस उपलब्धि को हासिल किया है।

2002 में मैट्रिक की शिक्षा उच्च विद्यालय चंदवा से प्राप्त करने के बाद 2004 में गढ़वा स्थित गोविंद इंटर कॉलेज से इंटर तथा श्री सद्गुरू जगजीत सिंह नामधारी महाविद्यालय से 2007 में ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने रांची विश्वविद्यालय, रांची से 2008 में बीजेएमसी किया। उन्होंने नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता में मास्टर्स की डिग्री भी ली है। वह आईनेक्स्ट (i Next) में रिपोर्टर के तौर पर काम कर चुके हैं और एचटी मीडिया लिमिटेड में सीनियर कंटेंट क्रिएटर के तौर पर काम कर रहे हैं। गौरव की इस सफलता पर बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस बीमारी ने छीन ली वरिष्ठ पत्रकार श्याम सुंदर आचार्य की जिंदगी

लंबे समय से पत्रकारिता में सक्रिय थे श्याम सुंदर आचार्य

Last Modified:
Monday, 13 May, 2019
Shyam Sunder

वरिष्ठ पत्रकार श्याम सुंदर आचार्य का जयपुर के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। करीब 80 वर्षीय श्याम सुंदर आचार्य कुछ समय से कैंसर से पीड़ित थे और साकेत अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था, जहां पर उन्होंने शनिवार को अंतिम सांस ली। रविवार को दुर्गापुरा महारानी फॉर्म स्थित मोक्षधाम में उनका अंतिम संस्कार किया गया। श्याम सुंदर आचार्य के बेटे शैलेष ने पार्थिव देह को मुखाग्नि दी। श्याम सुंदर आचार्य के निधन पर पत्रकारों समेत क्षेत्र के गणमान्य लोगों ने शोक जताया और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

सात जुलाई 1938 को जन्मे श्याम सुंदर आचार्य 50 साल से अधिक समय से पत्रकारिता में सक्रिय थे और कई हिंदी अखबारों में संपादक रह चुके थे। कुछ दिन पहले ही उनकी पुस्तक ‘अंतदृष्टि्’ का विमोचन साकेत अस्पताल में ही किया गया था। उन्हें पत्रकारिता एवं साहित्य के क्षेत्र में कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। पिंकसिटी प्रेस क्लब ने भी उन्हें लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया था।

श्याम सुंदर आचार्य ने हिंदुस्तान समाचार एजेंसी में जयपुर ब्यूरो चीफ से अपने पत्रकारीय करियर की शुरुआत की थी। इसके बाद वे नवभारत टाइम्स में जयपुर एडिशन के रेजिडेंट एडिटर बने। बाद में उन्होंने दिल्ली का रुख किया और जनसत्ता के समाचार संपादक के तौर पर पद ग्रहण किया। इसके बाद वे जनसत्ता के कोलकाता एडिशन के रेजिडेंट एडिटर बनाए गए। सेवानिवृत्ति के बाद भी श्याम सुंदर आचार्य कई समाचारपत्रों के लिए लिखते रहे थे।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार से जुड़े इस मामले में UC Web की बढ़ सकती है 'मुश्किल'

चीन के अलीबाबा समूह की अग्रणी मोबाइल इंटरनेट कंपनी UC Web का विवादों से पुराना नाता रहा है

Last Modified:
Wednesday, 08 May, 2019
UC Web

चीन के अलीबाबा समूह की अग्रणी मोबाइल इंटरनेट कंपनी UC Web (UC Broswer/UC News) के खिलाफ लगभग डेढ़ साल से चल रही लड़ाई अब रंग लाने लगी है। दरअसल, आपराधिक मानहानि के मामले में गाजियाबाद की अदालत ने कंपनी के इंडिया हेड और जनरल मैनेजर ‘Damon Xi’  व एक अन्य कर्मचारी ‘Steven Shi’ के खिलाफ दूसरा गैरजमानती गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। इससे पहले अप्रैल में भी उनके खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया जा चुका है। इसके बावजूद कोर्ट में पेश न होने पर अब ये दूसरा वारंट जारी किया गया है।

वरिष्ठ पत्रकार पुष्पेंद्र सिंह परमार द्वारा दर्ज कराए गए आपराधिक मानहानि के इस मामले में गुरुग्राम पुलिस के साथ ही यूपी की पुलिस भी दोनों को तलाश रही है। खास बात ये है कि चीन के बाहर इस ग्रुप के किसी चाइनीज कर्मचारी के खिलाफ इस तरह गैरजमानती वारंट जारी किया गया है। यही नहीं, अब तक दो वारंट जारी किए जा चुके हैं।  इससे पहले कोर्ट ने दोनों आरोपियों को 24 दिसंबर 2018 को गाजियाबाद की अदालत में पेश होने के आदेश दिए थे, लेकिन आदेश का पालन न होने पर अदालत ने उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था।

इस मामले में शिकायतकर्ता वरिष्ठ पत्रकार पुष्पेंद्र सिंह परमार के वकील नवांक शेखर मिश्रा का कहना है कि दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश करने के लिए वे इंटरपोल तक की मदद लेंगे। नवांक शेखर मिश्रा द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक कंपनी का विवादों से लगातार नाता रहा है। नवंबर 2017 में भारत सरकार ने एक सर्कुलर जारी कर इसे उन 40 से ज्यादा चाइनीज कंपनियों की लिस्ट में रखा था, जिन्हें सरकार ने खतरनाक माना था। सरकार ने देश के सभी सैनिकों से इस ऐप का इस्तेमाल न करने और मोबाइल को फॉर्मेट कर इसे डिलीट करने का ऑर्डर जारी किया था।

बताया जाता है कि इससे पहले अगस्त 2017 में भी भारत सरकार ने डाटा लीक मामले में इसकी जांच के आदेश दिए थे। एबीपी न्यूज ने भी मई 2018 में यूसी न्यूज के देश में गलत कामों का सबूतों के साथ खुलासा किया था। वर्ष 2015 में UC Web पर कैनेडियन कंपनी ने भी डाटा लीक करने का आरोप लगाया था। गूगल ने भी प्ले स्टोर से UC browser को कुछ दिनों के लिए हटा दिया था।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए