कैंसर से जूझ रहे मरीजों के लिए RML अस्पताल ने शुरू की बड़ी पहल

इस पहल के तहत राममनोहर लोहिया अस्पताल प्रशासन ने स्वयंसेवी संस्था ‘आओ साथ चलें’ के साथ करार किया है

Last Modified:
Tuesday, 30 July, 2019
RML HOSPITAL

राममनोहर लोहिया अस्पताल ने कैंसर से जूझ रहे गरीब मरीजों के लिए नई पहल शुरू की है। इसके तहत ऐसे मरीजों को इलाज के दौरान टेस्ट और दवाई का कोई खर्च नही उठाना पड़ेगा। गरीब मरीजों की मदद के लिए आरएमएल ने एक स्वयंसेवी संस्था ‘आओ साथ चलें’ के साथ करार किया है। इसके तहत ऐसे मरीजों को चिन्हित किया जाएगा, जिनके पास इलाज और दवाई का पैसा नहीं है। संस्था कुछ मरीजों को गोद लेगी और इलाज के दौरान इनकी दवाई और टेस्ट का खर्च वहन किया जाएगा। राममनोहर लोहिया अस्पताल के सभागार में मंगलवार को यह अभियान शुरू हुआ।

सामाजिक संस्था ‘आओ साथ चलें’ के संयोजक विष्णु मित्तल ने बताया कि अस्पताल में 24 घंटे संस्था के वालिंटियर मौजूद रहेंगे। अस्पताल परिसर के ओपीडी और इमरजेंसी वार्ड में सेवाव्रती मौजूद रहेंगे। मरीजों के रजिस्ट्रेशन से लेकर डॉक्टर को दिखाने और दवा दिलाने आदि सुविधाओं में इनकी मदद ली जा सकती है। उन्होंने कहा कि कैंसर वार्ड में कई ऐसे मामले सामने आते हैं, जहां अगर मरीज लड़की है तो परिवार के लोग उसका इलाज कराना नहीं चाहते। ऐसी लड़कियों का इलाज संस्था की प्राथमिकता में होगा।

अस्पताल के अधीक्षक डॉक्टर वी.के तिवारी ने कहा अस्पताल को मैन पावर की जरूरत है। आर्थिक रूप से कमजोर लोगों की मदद बड़ी सेवा है, जिसका बीड़ा संस्था ने उठाया है। गरीब मरीजों की मदद के अभियान में अस्पताल के डॉक्टर्स की टीम संस्था को पूरा सहयोग करेगी। अस्पताल के डीन डॉक्टर सूद ने इसे बड़ी पहल बताते हुए कहा कि इस सुविधा का धीरे धीरे विस्तार किया जा सकता है। पर्यावरणविद प्रोफेसर शंकर लाल गर्ग ने इस अभियान को दिल्ली व देश के अन्य अस्पतालों में भी शुरू करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि इंदौर में भी इसी तरह की पहल जा सकती है।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि और आरएसएस के प्रांतीय कार्यवाह भारत भूषण ने कहा इस अभियान में सामर्थ्यवान लोगों को मदद करनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘यहां दो तरह की दिल्ली है। एक अमीरों और समर्थ लोगों की और दूसरी जिनके पास खाने और इलाज जैसी बुनियादी जरूरत के लिए पैसा नहीं है। ऐसे लोगों की मदद सबका कर्तव्य है।’

आरएसएस के दिल्ली प्रचार प्रमुख रितेश अग्रवाल ने अभियान की पृष्ठभूमि पर प्रकाश डाला। दीन दयाल शोध केंद्र के जनरल सेक्रेटरी अतुल जैन ने कहा कि देश के विभिन्न इलाकों से आने वाले गरीब मरीजों को रास्ता दिखाना, जिनके साथ कोई नहीं है, उनकी रजिस्ट्रेशन में मदद करना और मुफ्त दवा का इंतजाम ये संस्था की बड़ी पहल है।

कार्यक्रम के संचालक यूरोलॉजिस्ट डॉक्टर अनिल गोयल ने कहा इस अभियान में जनभागीदारी बढ़ाई जाएगी। इस मौके पर भाजपा की प्रदेश उपाध्यक्ष डॉक्टर मोनिका पंत, कई जाने माने उद्योगपति और समाजसेवी मौजूद थे। कियोस्क सेवा का उद्घाटन भी अस्पताल प्रशासन और आओ साथ चलें संस्था की ओर से साझा रूप से किया गया। गौरतलब है कि राम मनोहर लोहिया अस्पताल में मरीजों की सहायता के लिए अभियान पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर होगा। धीरे-धीरे इसका विस्तार ओपीडी और इमरजेंसी के अलावा अन्य विभागों में भी किया जाएगा।

अस्पताल प्रशासन और संस्था के बीच बनी सहमति के मुताबिक संस्था की ओर से मरीजों की मदद के लिए ओपीडी और इमरजेंसी में शुरू में 15 वालिंटियर उपलब्ध कराए जाएंगे। फिर ये संख्या बढ़कर 50 तक पहुंचेगी। हर वार्ड की जरूरत पर टीम रिसर्च कर रही है। जिन कैंसर मरीजों को मुफ्त दवा उपलब्ध कराई जानी है, उनकी लिस्ट अस्पताल प्रशासन उपलब्ध कराएगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार गुलाम नबी शैद

करीब 70 वर्षीय शैद पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 20 January, 2021
Last Modified:
Wednesday, 20 January, 2021
Ghulam Nabi

जम्मू-कश्मीर के जाने-माने पत्रकार और उर्दू अखबार ‘वादी की आवाज’ (Wadi ki Awaz) के मालिक और संपादक गुलाम नबी शैद (Ghulam Nabi Shaida) का निधन हो गया है। मंगलवार की रात उन्होंने श्रीनगर स्थित अपने आवास पर आखिरी सांस ली।  

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, करीब 70 वर्षीय शैद पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनके परिवार में एक बेटी है। शैद की पत्नी का वर्ष 2015 में निधन हो गया था।

शैद के निधन पर मीडिया के साथ ही तमाम सामाजिक व राजनीतिक संगठनों से जुड़े लोगों ने शोक जताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। ‘कश्मीर एडिटर्स गिल्ड’ (KEG) ने शैद के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि शैद को हमेशा उनमें काम और विनम्र स्वभाव के लिए जाना जाएगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फेक कंटेंट को पहचानें और इसे बेनकाब करें: प्रो. केजी सुरेश

एमसीयू और यूनिसेफ द्वारा आयोजित ‘जन-स्वास्थ्य और तथ्यपरक पत्रकारिता’ पर आधारित कार्यशाला में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केजी सुरेश ने विद्यार्थियों को बेहतर पत्रकारिता के गुर सिखाए।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 20 January, 2021
Last Modified:
Wednesday, 20 January, 2021
MCU WorkShop

‘माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय’ (एमसीयू) और यूनिसेफ द्वारा आयोजित ‘जन-स्वास्थ्य और तथ्यपरक पत्रकारिता’ पर आधारित कार्यशाला में  विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केजी सुरेश ने विद्यार्थियों को बेहतर पत्रकारिता के गुर सिखाए। इस मौके पर प्रो. केजी सुरेश का कहना था, ‘स्वास्थ्य पत्रकारिता न केवल सामाजिक दृष्टिकोण से जरूरी है, बल्कि पत्रकारिता का विद्यार्थी होने के नाते ये आपके करियर के लिए भी आवश्यक है। इसलिए आपका कर्त्तव्य बनता है कि आप फेक कंटेंट को बेनकाब करें।‘

कार्यशाला की अध्यक्षता कर रहे प्रो. सुरेश ने कहा कि आजकल कोरोना को लेकर बहुत फेक कंटेंट आ रहा है, जिससे सनसनी फैल रही है। इसलिए ऐसे मामलों में सरकारी पक्ष जानना बहुत जरूरी है। बिना तथ्यों को जांचे-परखे कभी भी खबरों को प्रकाशित/प्रसारित नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकारी पक्ष के साथ ही खबरों को प्रकाशित करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि नकारात्मक खबरें छापने का दूरगामी परिणाम होता है, इसलिए हमें सकारात्मक खबरें छापना चाहिए। कोरोनाकाल में अफवाहें, अटकलें फैलाईं जा रही हैं, जो तेजी से बढ़ती जा रही हैं, पत्रकारिता के विद्यार्थी होने के नाते आपको साक्ष्य आधारित पत्रकारिता करते हुए अपनी जिम्मेदारियों को निभाना चाहिए। वर्तमान परिप्रेक्ष्य में प्रिंट मीडिया की विश्वसनीयता की सराहना करते हुए प्रो. सुरेश ने कहा कि आजकल सूचना के लिए लोगों की भूख बढ़ गई है, अत: हमारा कर्तव्य बनता है कि हम पाठकों तक विश्वसनीय खबरों को पहुंचाएं। प्रो.सुरेश ने कहा कि पत्रकारिता का मूल कार्य सिर्फ सूचित करना, शिक्षित करना ही नहीं है, बल्कि लोगों को प्रेरित करना भी है। हेल्थ रिपोर्टिंग का महत्व बताते हुए प्रो. सुरेश ने कहा कि स्वास्थ्य पत्रकारिता को जिले स्तर तक ले जाने की आवश्यकता है। उन्होंने 29 जनवरी को पत्रकारों के लिए भी स्वास्थ्य पत्रकारिता पर कार्यशाला का आयोजन किए जाने की बात कही।

कार्यशाला में विषय विशेषज्ञ के रूप में वरिष्ठ पत्रकार संजय देव ने कहा कि कोरोनाकाल में खबरों की बाढ़ सी आ गई है लेकिन हमें तथ्यों की जांच-पड़ताल करके ही सही सूचनाओं को लोगों तक पहुंचाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आशंकाएं एवं समाधान हर जगह से अलग-अलग आ रही हैं, हमें गंभीरता से इन्हें समझते हुए पत्रकारिता करनी चाहिए। हमारा फर्ज बनता है कि हम अफवाहों, अटकलों एवं भ्रमों का निवारण करें और समाज में एक सकारात्मक माहौल का निर्माण करें। स्वास्थ्य पत्रकारिता में डर का वातावरण न बनाने की बात कहते हुए उन्होंने कहा कि हमें तथ्यों के दायरे में रहते हुए समाज में उपयोगी जानकारियों को पहुंचाना चाहिए।

वरिष्ठ पत्रकार प्रमोद जोशी ने विद्यार्थियों से कहा कि यदि आप स्वास्थ्य पत्रकारिता करना चाहते हैं इसमें विशेषज्ञता का होना बहुत आवश्यक है। आपको इससे संबंधित कुछ जरूरी जानकारियों का पता होना चाहिए। उन्होंने कहा कि जांच-परख, तथ्य, कौशल एक स्वास्थ्य पत्रकार के पास होना जरूरी है। स्वास्थ्य पत्रकारिता बिना सिद्धांतों के नहीं करने की बात करते हुए उन्होंने कहा कि इसमें वस्तुनिष्ठता, स्पष्टवादिता एवं परिशुद्धता का होना बहुत आवश्यक है। स्वास्थ्य पत्रकारिता को जिम्मेदारी की पत्रकारिता बताते हुए उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि वे समाज से हमदर्दी रखें, उनसे दूरी न बनाएं।

वरिष्ठ पत्रकार संजय अभिज्ञान ने कहा कि हेल्थ रिपोर्टिंग में खतरा बहुत है, क्योंकि फेक न्यूज से किसी के जीवन को बचाने की जगह उसे मौत के मुंह में भी पहुंचाया जा सकता है। अत: पत्रकारिता के विद्यार्थियों को इससे बचते हुए तथ्यपरक पत्रकारिता करनी चाहिए, पाठकों तक विश्वसनीय एवं सही सूचनाओं को पहुंचाना चाहिए। स्वास्थ्य पत्रकारिता का काम लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा करना है। उन्होंने विद्यार्थियों से समाज हित में कलम उठाकर स्वास्थ्य पत्रकारिता करने की बात कही।

कार्यशाला का समन्वय एवं संचालन वरिष्ठ सहायक प्राध्यापक लाल बहादुर ओझा ने किया। कार्यशाला में विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. (डॉ.) अविनाश वाजपेयी, यूनिवर्सिटी कैंपस मेंटर डॉ. मणिकंठन नायर, प्रोग्राम को-ऑर्डिनेटर अंकित पांडे, विश्वविद्यालय के जनसंचार, प्रबंधन एवं कंप्यूटर एवं अनुप्रयोग विभाग के साथ ही नोएडा, खंडवा एवं रीवा परिसर के विद्यार्थी भी ऑनलाइन उपस्थित थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

राजद्रोह और UAPA के तहत गिरफ्तार दो संपादकों को मिली जमानत, ये है मामला

मणिपुर पुलिस ने स्थानीय न्यूज पोर्टल के दो संपादकों को रविवार की सुबह हिरासत में लिया और सोमवार को उन्हें जमानत पर छोड़ दिया गया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 20 January, 2021
Last Modified:
Wednesday, 20 January, 2021
ManipurJournalist5

मणिपुर पुलिस ने स्थानीय न्यूज पोर्टल के दो संपादकों को रविवार की सुबह हिरासत में लिया और सोमवार को उन्हें जमानत पर छोड़ दिया गया। दरअसल पुलिस ने इन दोनों पत्रकारों को राज्य के विद्रोही आंदोलन से जुड़े एक लेख के प्रकाशन को लेकर गिरफ्तार किया था।

गिरफ्तार किए गए दोनों संपादकों की पहचान ‘द फ्रंटियर मणिपुर’ के कार्यकारी संपादक पोजेल चोबा और प्रधान संपादक धीरेन सदोकपम के रूप में की गई। दोनों को सोमवार की दोपहर करीब साढ़े तीन बजे जमानत पर छोड़ दिया गया। इस दौरान दोनों पत्रकारों ने पुलिस को लिखित में दिया है कि वे ऐसी गलती दोबारा नहीं करेंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स ऐसी खबर सामने आई कि इन दोनों पत्रकारों के खिलाफ IPC की धारा 124A (देशद्रोह), 120B (आपराधिक साजिश), 505B (राज्य के खिलाफ अपराध को प्रेरित करना), धारा 34 (सामान्य इरादे) और आतंकवादी संगठनों का समर्थन करने के खिलाफ 'अनलॉफुल एक्टिविटीज प्रिवेंशन एक्ट' यानी UAPA की धारा 39 लगाई गई, लेकिन अब पुलिस ने अपनी एफआईआर में ऐसी कोई भी धारा नहीं लगाने की बात कही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस मामले को देख रहे इम्फाल वेस्ट के पुलिस अधीक्षक के. मेघाचंद्र सिंह के मुताबिक, एक गलत लेख प्रकाशित करने के मामले में पुलिस ने दो पत्रकारों को हिरासत में लिया था, लेकिन अब दोनों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है। इन पत्रकारों का 'द फ्रंटियर मणिपुर' नाम से एक फेसबुक वेब पेज है, जो पंजीकृत नहीं है और न ही इसका यहां कोई ऑफिस है। इन लोगों ने किसी अज्ञात व्यक्ति से वॉट्सऐप पर प्राप्त एक आर्टिकल को अपने वेब पोर्टल पर योगदानकर्ता के किसी भी प्रमाणीकरण के बिना प्रकाशित कर दिया। उस लेख में मणिपुर के विद्रोही संगठन से जुड़ी कई सारी गलत जानकारियां थीं। लेख में ऐसा कहा गया कि मणिपुर में विद्रोही आंदोलन भयावह हो रहा है और इस तरहसे लोगों में एक गलत संदेश गया, क्योंकि ऐसे बहुत से विद्रोही हैं जो मुख्यधारा में लौटे हैं।

वहीं बाद में ऑल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के कई वरिष्ठ पत्रकारों ने इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह से भी मुलाक़ात की और उनसे इस मामले में कुछ सहानुभूति दिखाने की अपील की, चूंकि ऐसी गलती पहली दफा हुई है और सभी बातों पर दिए गए क्लेरिफिकेशन को ध्यान में रखते हुए उन्हें रिहा किया गया है।  

  

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

महिला पत्रकार ने फिल्म निर्माता-एक्टर पर लगाया ये आरोप, दर्ज कराई शिकायत

महिला पत्रकार ने इसे लेकर महिला थाने में शिकायत दर्ज कराई है। एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 19 January, 2021
Last Modified:
Tuesday, 19 January, 2021
FIR

असम में एक महिला पत्रकार ने एक फिल्म निर्माता और एक्टर के खिलाफ मारपीट करने और अपशब्द कहने का आरोप लगाया है और इस मामले में पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई है। एक स्थानीय दैनिक से जुड़ी पत्रकार ने रविवार को एक मीडिया एजेंसी को बताया कि फिल्म निर्माता उमाशंकर झा और एक्टर उत्तम सिंह ने अपनी हिंदी फिल्म ‘सेवन सिस्टर्स एंड वन ब्रदर’ की घोषणा के लिए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया, जिसमें वे हिस्सा लेने पहुंची हुईं थीं।

महिला ने दावा किया कि जब उन्होंने फिल्म से संबंधित कुछ सवाल पूछे, तो निर्माता ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया और उन्हें अपशब्द भी कहे। महिला ने कहा कि कुछ समय बाद जब वह और एक फोटो-पत्रकार उनके पास गए औऱ उनके इस व्यवहार पर सवाल उठाया, तो उन्होंने साथी पत्रकार का हाथ खींच लिया और उसके साथ मारपीट की।

महिला पत्रकार ने इसे लेकर महिला थाने में शिकायत दर्ज कराई है। एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

वहीं, गुवाहाटी प्रेस क्लब (जीपीसी) ने एक बयान में घटना की निंदा की और पुलिस से तत्काल कार्रवाई करने का आग्रह किया। जीपीसी के अध्यक्ष मनोज नाथ और महासचिव संजॉय रे ने कहा कि क्लब अपनी जांच में पुलिस को मदद देगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मुख्य अतिथि के तौर पर यूपी की राज्यपाल ने भरी हामी, कुछ ऐसा होगा बृज रत्न अवॉर्ड का लोगो

इंक्रेडिबल इंडिया फाउंडेशन द्वारा प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले बृज रत्न अवॉर्ड समारोह के चौथे व पांचवें संस्करण का संयुक्त रूप से आयोजन किया जाएगा

Last Modified:
Friday, 15 January, 2021
BrijRatnaAward554

इंक्रेडिबल इंडिया फाउंडेशन द्वारा प्रतिवर्ष आयोजित होने वाले बृज रत्न अवॉर्ड समारोह के चौथे व पांचवें संस्करण का संयुक्त रूप से आयोजन किया जाएगा, जिसकी मुख्य अतिथि महामहिम यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल होंगी।

राज्यपाल से आगरा प्रवास के दौरान सर्किट हाउस में शुक्रवार को इंक्रेडिबल इंडिया फाउंडेशन के चेयरमैन पूरन डावर, सचिव अजय शर्मा, संयोजक बृजेश शर्मा, डॉ. रामनरेश शर्मा ने मुलाकात की। इस दौरान राज्यपाल ने बृज रत्न अवॉर्ड के लोगो का अनावरण भी किया। साथ ही बृज रत्न अवॉर्ड में आगमन की अपनी स्वीकृति प्रदान की और तिथि शीघ्र निर्धारित करने की बात कही।

बृज रत्न अवॉर्ड कला, साहित्य, अध्यात्म, संगीत, अभिनय, खेल और चिकित्सा सहित विभिन्न 12 क्षेत्रों में प्रदान किया जाता है। विगत वर्ष कोरोना महामारी के चलते आयोजन स्थगित हो गया था। अब राज्यपाल के आगमन की स्वीकृति मिलने के बाद आयोजन की संभावित तिथि अगले माह के प्रथम सप्ताह में रहेगी।

कार्यक्रम को लेकर आयोजकों ने तेजी से तैयारियां शुरू कर दी हैं। शीघ्र चयनित अवॉर्ड विजेताओं के नामों की भी घोषणा होगी। विगत वर्ष रत्न अवॉर्ड समारोह की उद्घोषणा उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने की थी।

शुक्रवार को आगरा के सर्किट हाउस में इंक्रेडिबल इंडिया फाउंडेशन के चेयरमैन पूरन डावर से तकरीबन 30 मिनट चली वार्ता के दौरान महामहिम राज्यपाल ने बृज क्षेत्र के आध्यात्मिक, सांस्कृतिक और ऐतिहासिक बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा की।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सड़क हादसे ने छीन ली वीडियो पत्रकार प्रमोद कुमार की जिंदगी

उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में सड़क दुर्घटना में वीडियो पत्रकार प्रमोद कुमार का निधन हो गया, जिसके बाद गुरुवार देर शाम उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

Last Modified:
Friday, 15 January, 2021
Accident

उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में सड़क दुर्घटना में वीडियो पत्रकार प्रमोद कुमार का निधन हो गया, जिसके बाद गुरुवार देर शाम उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। वे करीब 38 साल के थे। राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री चौ. लक्ष्मीनारायण और श्रीकांत शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधियों ने प्रमोद कुमार के आकस्मिक निधन पर दुख जताया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रमोद कुमार के साथ काम कर चुके एक निजी पोर्टल के संचालक योगेश खत्री ने उनके छोटे भाई मनोज कुमार के हवाले से बताया, ‘बीती रात जब प्रमोद कुमार अपना काम समाप्त कर सौंख रोड स्थित अपने घर लौट रहे थे, तभी एक खंभे से उनका वाहन टकरा गया।’ हादसे में प्रमोद कुमार घायल हो गए और उन्हें तुरंत एक निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें ब्रेन हेमरेज होने की जानकारी दी और किसी बेहतर अस्पताल ले जाने की सलाह दी।

उन्होंने बताया कि प्रमोद को उसी समय जयपुर के एसएमएस अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। गुरुवार को प्रमोद कुमार का परिवार उनका पार्थिव शरीर मथुरा ले आया, जहां देर शाम उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार पर पहले दबंगों ने घर में घुसकर किया हमला, अब वाहनों में लगा दी आग

छह दिन पहले कुछ दबंगों ने एक पत्रकार के घर में घुसकर उसे और घरवालों को लाठी-डंडों से पीटकर गंभीर रूप से घायल कर दिया था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 14 January, 2021
Last Modified:
Thursday, 14 January, 2021
Fire

अमेठी में पत्रकार कितने असुरक्षित हैं, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि छह दिन पहले कुछ दबंगों ने एक पत्रकार के घर में घुसकर उसे और घरवालों को लाठी-डंडों से पीटकर गंभीर रूप से घायल कर दिया था। तब दबंगों ने अवैध असलहे से हवाई फायरिंग कर जान से मारने की धमकी भी दी थी। वहीं, अब एक बार फिर दबंगों ने बुधवार अलसुबह पत्रकार के घर के सामने खड़ी कार और बाइक को आग के हवाले कर दिया।

इस मामले की शिकायत किए जाने के 3 दिन बाद भी पुलिस ने इस पर कोई कार्यवाही नही की थी, लिहाजा दोबारा से यह मामला सामने में आया। पुलिस की लापरवाही के चलते मोहनगंज थाने के एसएचओ को हटा दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक, यह मामला मोहनगंज कोतवाली क्षेत्र के फत्तेपुर गांव का है, जहां पिछले हफ्ते शुक्रवार को शाम 6 बजे रास्ते के विवाद में दबंगों ने पत्रकार अग्रिवेश मिश्र के घर में घुसकर परिजनों से मारपीट की थी। आरोप है कि दबंग दुर्गा प्रसाद, काशी प्रसाद और अन्‍य लोगों ने कुल्हाड़ी, डंडा के साथ अवैध असलहा से लैस होकर पत्रकार के घर में घुसकर हमला कर दिया। इसमें पत्रकार के साथ उनके परिजन कमला देवी, देवेन्द्र कुमार और राजकुमारी को गंभीर चोटें आईं। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी को इलाज के लिए अस्‍पताल में भर्ती कराया।

इस मामले में पुलिस ने मुकदमा तो दर्ज कर लिया था, लेकिन कार्रवाई के नाम पर खानापूर्ति करती नजर आई। पुलिस के लापरवाह रवैये के चलते बुधवार अलसुबह दबंगों ने पत्रकार के घर के सामने खड़ी कार व बाइक को आग के हवाले कर दिया।

पत्रकार अग्रिवेश मिश्र ने बताया कि गांव के दुर्गा प्रसाद ने अन्‍य लोगों के साथ मिलकर हमारे घर पर हमला कर दिया था, जिसमें हमारी माता, भाई और बुआ को गंभीर चोटें आईं। दबंगों ने अवैध असलहे से हवाई फायरिंग भी की और हमारे परिवार वालों को जान से मारने की धमकी दी। इस मामले में एसपी दिनेश सिंह ने लापरवाही बरतने पर मोहनगंज थाने के एसएचओ विश्‍वनाथ यादव को हटा दिया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘हेल्थ रिपोर्टिंग करते समय सनसनी फैलाने से बचें’

माखनलाल विश्वविद्यालय और यूनिसेफ ने जनस्वास्थ्य और तथ्यपरक पत्रकारिता पर संयुक्त रूप से आयोजित की कार्यशाला

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 14 January, 2021
Last Modified:
Thursday, 14 January, 2021
Health workshop

हेल्थ से जुड़े मामलों की रिपोर्टिंग करते समय अनावश्यक रूप से सनसनी फैलाने की बढ़ती प्रवृत्ति पर पत्रकारिता जगत से जुड़े तमाम दिग्गजों ने चिंता जताई है। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केजी सुरेश का कहना है कि ऐसे मामलों पर संतुलित रिपोर्टिंग करनी चाहिए।

प्रो. केजी सुरेश ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय एवं यूनिसेफ द्वारा आयोजित द्वितीय फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत जनस्वास्थ्य और तथ्यपरक पत्रकारिता पर आधारित कार्यशाला में यह बात कही।

कार्यक्रम की अध्यक्ष करते हुए प्रो. सुरेश ने कहा कि स्वास्थ्य संचार बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है। विश्वविद्यालय के पत्रकारिता पाठ्यक्रम में इस विषय को जल्द ही शामिल करने के प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य पत्रकारिता चूंकि सीधे-सीधे जनस्वास्थ्य एवं जन सरोकार से जुड़ा विषय है, इसलिए इसमें लापरवाही नहीं बरती जा सकती। स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता की जिम्मेदारी सिर्फ पत्रकार की ही नहीं, बल्कि सरकार एवं एनजीओ की भी है। इसलिए सभी को अपनी जिम्मेदारी अच्छी तरह निभानी चाहिए।

यूनिसेफ के संचार विशेषज्ञ अनिल गुलाटी का कहना था कि आज के समय में साक्ष्यों पर आधारित पत्रकारिता बहुत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 में बिना डाटा के बहुत रिपोर्टिंग हुई है और बिना साक्ष्य के तथ्य सोशल मीडिया में भी पहुंचे हैं।

कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार संजय देव ने कहा कि स्वास्थ्य से जुड़े मामलों की रिपोर्टिंग करते समय पत्रकार को पूर्वाग्रहों से बाहर निकलकर पत्रकारिता करना चाहिए। उन्होंने कहा कि चूंकि स्वास्थ्य पत्रकारिता मानवीय संवेदनाओं से जुड़ा विषय है, इसलिए इसे समझने की जरूरत है। संजय देव ने कहा कि पत्रकारों को सजग रहते हुए रिपोर्टिंग करनी चाहिए। पत्रकार को पाठक के लिए काम की बात को आसान भाषा में पहुंचाना चाहिए।

इस मौके पर वरिष्ठ पत्रकार संजय अभिज्ञान ने कहा कि पत्रकारिता का उद्देश्य सच के लिए एवं जीवन के लिए लिखना है, यदि ऐसा नहीं किया गया तो लोग अमृत को विष समझ लेंगे। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य पत्रकारिता करते समय पाठकों को संशय में नहीं रहने देना चाहिए।

कार्यक्रम का समन्वय सहायक प्राध्यापक लाल बहादुर ओझा ने किया। आभार प्रदर्शन मेंटर डॉ. मणिकंठन नायर द्वारा किया गया। इस मौके पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो. (डॉ.) अविनाश वाजपेयी, जनसंचार, प्रबंधन, न्यू मीडिया टेक्नोलॉजी विभाग के साथ ही खंडवा, नोएडा एवं रीवा परिसर के सभी शिक्षक, प्रड्यूसर, ट्यूटर व प्रोडक्शन असिस्टेंट आदि मौजूद थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार पर लगा यह गंभीर आरोप, पुलिस ने दर्ज की FIR

यह मामला उत्तर प्रदेश के एटा जिले से सामने आया है। पुलिस ने पत्रकार की गाड़ी भी जब्त कर ली है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 13 January, 2021
Last Modified:
Wednesday, 13 January, 2021
FIR

महिला को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में पुलिस ने संतोष यादव नामक एक पत्रकार के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है। यह मामला उत्तर प्रदेश के एटा जिले से सामने आया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एटा जिले के थाना कोतवाली नगर क्षेत्र के कचहरी रोड स्थित पुलिस कार्यालय पर कुछ समय पूर्व थाना मिरहची क्षेत्र की महिला ने पुलिस कार्रवाई न होने का आरोप लगाते हुए अपने ऊपर मिट्टी का तेल छिड़ककर आत्महत्या करने का प्रयास किया था। हालांकि, पुलिस ने महिला के इस प्रयास को विफल कर दिया था।

आरोप है कि आत्‍महत्‍या का प्रयास करने वाली महिला और उसके समर्थक पत्रकार संतोष यादव की गाड़ी में ही आए थे। पुलिस ने वह गाड़ी जब्त कर ली है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार दीप जोशी का निधन, दिल्ली के अस्पताल में ली अंतिम सांस

बताया जाता है कि पिछले कुछ समय से उनका स्वास्थ्य काफी खराब चल रहा था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 12 January, 2021
Last Modified:
Tuesday, 12 January, 2021
Deep Joshi

अल्मोड़ा के वरिष्ठ पत्रकार दीप जोशी का निधन हो गया है। वह हिंदी दैनिक ‘अमर उजाला’ के अल्मोड़ा कार्यालय में चीफ सब एडिटर के पद पर कार्यरत थे। बताया जाता है कि पिछले कुछ समय से उनका स्वास्थ्य काफी खराब चल रहा था।

हल्द्वानी में निजी अस्पताल में चेकअप कराने के बाद उन्हे दिल्ली के नेशनल हार्ट इंस्टीट्यूट में भर्ती कराया गया था, जहां सोमवार की देर रात उन्होंने दम तोड़ दिया। दीप जोशी के परिवार में पत्नी व एक पुत्र है। दीप जोशी के निधन पर तमाम पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने गहरा दु:ख जताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए