महिला पत्रकारों का संगठन 'IWPC': अब इनके हाथ आई कमान

महिला पत्रकारों के संगठन ‘इंडियन वुमेंस प्रेस कॉर्प्स’...

Last Modified:
Tuesday, 17 April, 2018
iwpc

समाचार4मीडिया ब्यूरो।

महिला पत्रकारों के संगठन ‘इंडियन वुमेंस प्रेस कॉर्प्स’ (Indian Women’s Press Corps) के वर्ष 2018-19 के लिए हुए चुनाव के नतीजे आ गए हैं। बता दें कि 14 अप्रैल दिन शनिवार को दोपहर 12 बजे से शाम 7 बजे तक चुनाव के लिए वोट पड़े थे। इस बार भी इसमें दो पैनलों ने ही हिस्सा लिया था। दोनों के बीच बहुत ही कांटे की मुकाबला रहा। 

आईडब्लयूपीसी की नई अध्यक्ष के लिए चुनाव लड़ी टी.के. राजलक्ष्मी ने अपनी प्रतिद्वंदी को सुषमा रामचंद्रन को हरा दिया है। सुषमा को 158 वोट मिले, जबकि राजलक्ष्मी को 167 वोट मिले है। महासचिव पद पर दोनों पैनल के प्रत्याशियों को एक बराबर वोट मिले हैं। अदिति टंडन और रवींद्र बावा, दोनों को ही 159 वोट मिले। वहीं उपाध्यक्ष को दो पदों पर ज्योती और शोभना विजय हुई है। उन्हें 164 और 159 वोट मिले, जबकि इसी पद पर चुनाव लड़ी नीलम को 144 और विनीता 130 वोट ही बटोर पाईं। जॉइंट सेकेट्ररी के पद पर शालिनी ने 162 वोट पाकर विजय हासिल की, जबकि गौर को 150 वोट ही मिले। कोषाध्यक्ष के पद के लिए चुनाव लड़ीं प्रीति ने 167 वोट पाए, जबकि निशी भाट को 150 वोट मिले।

इसके अलावा संगठन के लिए 21 सदस्यों का भी चुनाव किया गया है। इनमें वरिष्ठ पत्रकार मृणाल पांडे, सुहासिनी, कुमी कपूर, मंजरी चतुर्वेदी, हुमा, अन्नापूर्णा, सर्वेश, अदिति के, पारुल, विजयलक्ष्मी समेत 21 सदस्यों का निर्वाचन हुआ है। कुल मिलाकर 27 सदस्यों की पूरी कार्यकारिणी है।

सदस्य के तौर पर चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों को निम्न वोट मिले हैं...

MC

 AditiB  - 145

 AditiN - 140

 AditiK - 153

 Amiti - 149

 Amrita M - 104

 AnamikaR - 126

 AnjuG - 140

 Anapurna - 160

 ArunaS - 137

 Bishakha - 147

 CoomiK - 188

 Deepshikha - 131

 Huma - 166

 Kadambini - 145

 Madhavi sally - 147

 MahuaV - 117

 Manjari C - 179

 Manisha Bhalla - 117

 MayaM - 162

 MrinalB - 102

 MrinalP - 195

 Neelima  - 107

 Neeraja vakil - 119

 Namita Tiwari - 105

 ParulS - 151

 PragyaK - 134

 Preeti prakash- 123

 Pooja Mahrotra - 128

 Purnima s - 119

 Renu agal - 149

 Richa Anirudh - 122

 Saroj Dhulia - 140

 Sarvesh - 154

 Suhasini - 191

 Surekha - 115

 Sunita vakil - 129

 Sushma Verma - 112

 Tejaswi Chandok - 136

 Tripti- 158

 Vijaya Lakshmi - 136

 Vijayalakshmi- 148

 Vibha joshi - 89

TAGS 0
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ताइक्वांडो प्रतियोगिता में चमका NDTV के पत्रकार का बेटा, मिली ये उपलब्धि

एसोसिएशन ऑफ स्पोर्ट्स प्रमोशन द्वारा दिल्ली स्थित कॉमनवेल्थ गेम्स स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स में हुई थी प्रतियोगिता, पूर्व में भी दिखा चुके हैं अपना जौहर

Last Modified:
Tuesday, 17 September, 2019
Award

एसोसिएशन ऑफ स्पोर्ट्स प्रमोशन द्वारा नई दिल्ली स्थित कॉमनवेल्थ गेम्स स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स में आयोजित एम्एआरएस इंटरनेशनल द्वितीय ताईक्वांडो प्रमोशन कप 2019 में एनडीटीवी इंडिया के पत्रकार मुन्ने भारती के बेटे मुस्तफा अतहर ने अपना परचम लहराया है। नोएडा के सेक्टर 30 स्थित दिल्ली पब्लिक स्कूल में चौथी कक्षा के छात्र और इंडो इंटरनेशनल ताइक्वांडो अकादमी में प्रशिक्षण ले रहे मुस्तफा अतहर ने अंडर 22 केजी श्रेणी में गोल्ड हासिल किया है। इस प्रमोशन कप 2019 में एनसीआर के 10 स्कूलों सहित ताइक्वांडो क्लब के लगभग 250 बच्चों ने भाग लिया था।

मुस्तफा ने इसी महीने गौतमबुद्ध नगर (उत्तर प्रदेश) जिला ताइक्वांडो एसोसिएशन द्वारा जीडी गोयनका इंटरनेशनल स्कूल में आयोजित प्रथम स्कूल ताइक्वांडो एसोसिएशन चैम्पियनशिप में भी अंडर 22 केजी श्रेणी में गोल्ड हासिल किया था। इस प्रतियोगिता में लगभग 30 स्कूलों के 560 बच्चों ने भाग लिया था।

इंडो इंटरनेशनल ताइक्वांडो अकादमी के डायरेक्टर मास्टर शकील अहमद ने बताया कि इस वर्ष होने वाली प्रतियोगिताओं में अकादमी के छात्र-छात्राओं ने 10 गोल्ड , 9 सिल्वर के साथ 9 ब्रॉन्ज लेकर कामयाबी हासिल की है। इन प्रतियोगिताओं में अब्दुल्ला खान, आइमा खान, अब्दुल रहीम, अमन अहमद (गोल्ड), आयेशा शकील, मोहम्मद मुश्फ़िक़, अलीना खान (सिल्वर) और मोहम्मद अहमद, ताहा सिद्दीकी (ब्रॉन्ज) के अलावा अन्य छात्रों ने अपनी कामयाबी का परचम लहराया।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'मैं गोबर का अनुवाद नहीं कर सकता और मैं स्वीकार नहीं कर सकता कि मिट्टी टेराकोटा है'

हिंदी में एक सहज आकर्षण है और इसे अन्य भाषाओं के शब्दों को बिना असुरक्षा के समायोजित करना चाहिए

Last Modified:
Monday, 16 September, 2019
Prasoon Joshi

दैनिक जागरण द्वारा हिंदी को समृद्ध और मजबूत बनाने की मुहिम 'हिंदी हैं हम' के तहत सानिध्य का आयोजन हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर दिल्ली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में किया गया। इस मौके पर विभिन्न सत्रों में वक्ताओं ने अपनी बात रखी। ऐसे ही एक सत्र ‘विज्ञापन की हिंदी’ में केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने लेखक एवं पत्रकार अनंत विजय से बातचीत में कहा कि हिंदी में एक सहज आकर्षण है और इसे अन्य भाषाओं के शब्दों को बिना असुरक्षा के समायोजित करना चाहिए। शब्द संस्कृति का प्रतिनिधित्व करते हैं।

जोशी ने कहा, ‘मैं गोबर का अनुवाद नहीं कर सकता और मैं स्वीकार नहीं कर सकता कि मिट्टी टेराकोटा है। हिंदी भाषियों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे उन लोगों का उपहास न उड़ाएं जो इसे बोलने के लिए संघर्ष करते हैं। गलतियां होंगी, लेकिन वे अंततः सुधर जाएंगी। हिंदी को बेचारी के रूप में प्रस्तुत नहीं किया जाना चाहिए।’ उन्होंने कहा कि विज्ञापन के लिए लिखना एक चुनौती है। तुरंत मांग पर और भी मुश्किल होता है। विज्ञापन में बहुत ही कम शब्दों में आपको किसी वस्तु का महिमामंडन करना होता है, जो काफी चुनौतीपूर्ण होता है।

प्रसून जोशी का यह भी कहना था कि फिल्म उद्योग में कंटेंट की प्रामाणिकता का अभाव है। किसानों की दुर्दशा पर बनी फिल्मों पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि  हमारे देश में जब तक किसान का बेटा किसानों पर फिल्म नहीं बनायेगा, तब तक किसानों का असली दर्द महसूस नहीं होगा। उन्होंने कहा कि फिल्म निर्माण को अधिक लोगों के लिए खोलकर 'लोकतांत्रिक' होना चाहिए। किसानों पर एक  फैंसी-ड्रेस वाला व्यक्ति फिल्म बनाकर न्याय कभी नहीं कर पाएगा।

इससे पहले कार्यक्रम के मुख्य अतिथि व केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने  दैनिक जागरण के 75 वर्ष की प्रगतिशील यात्रा पर एक विशेष प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। दिनभर चले विभिन्न सत्रों ‘हिंदी का भविष्य’, ‘रेडियो की हिंदी’,‘गांधी और हिंदी’, ‘हिंदी, समाज और धर्म’ में प्रो.सुधीश पचौरी, अब्दुल बिस्मिल्लाह, राम बहादुर राय,प्रो. आनंद कुमार, जैनेद्र सिंह, सच्चिदानंद जोशी, हंसराज कॉलेज की प्राचार्य डॉ. रमा एवं रेडियो जॉकी दिव्या आदि वक्ता शामिल हुए।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नए न्यूज पोर्टल ने दी दस्तक, ये है खासियत

लखनऊ विश्वविद्यालय के डीपीए सभागार में लॉन्चिंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया

Last Modified:
Monday, 16 September, 2019
Web Portal

14 सितंबर को हिंदी दिवस के मौके पर उत्तर प्रदेश में पहली बार शिक्षा पर आधारित न्यूज पोर्टल ‘एजुकेशन बीट्स डॉट कॉम’ (www.educationbeats.com) लॉन्च हुआ। ब्लू बर्ड्स कम्युनिकेशन्स एण्ड मीडिया ग्रुप के तत्वावधान में इस पोर्टल की लॉन्चिंग लखनऊ विश्वविद्यालय के डीपीए सभागार में हुई। उत्तर प्रदेश सरकार के विधि एवं न्याय मंत्री बृजेश पाठक एवं बेसिक शिक्षा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सतीश द्विवेदी ने इसकी लॉन्चिंग की। कार्यक्रम की अध्यक्षता लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया ने की।

इस मौके पर एजुकेशन बीट्स डॉट कॉम की रेजिडेंट एडिटर दिव्या गौरव त्रिपाठी ने बताया कि यह एक ऐसा मंच है, जहां पर शिक्षक और विद्यार्थी अपनी रचनाएं प्रकाशित कराकर समाज में अपनी विशिष्ट पहचान बना पाएंगे। उन्होंने कहा,’ हमारा लक्ष्य विश्विद्यालय या कॉलेज प्रशासन और विद्यार्थियों के बीच एक ब्रिज के रूप में काम करना है। छात्रों से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या को विश्वविद्यालय, कॉलेज प्रशासन और सरकार स्तर तक खबरों के माध्यम से पहुंचाना हमारी प्राथमिकता है।’

कार्यक्रम में अतिविशिष्ट अतिथि सतीश द्विवेदी ने कहा कि शिक्षा में गड़बड़ियों को रोकने के क्षेत्र में यह कदम बेहद सराहनीय है। एजुकेशन बीट्स के माध्यम से युवाओं तक सही जानकारी पहुंचाना बेहद जरूरी है। मुख्य अतिथि ब्रजेश पाठक ने कहा कि कई बार छात्रों को अपनी शिक्षा के दौरान कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। उनकी परेशानियों को इस न्यूज पोर्टल के माध्यम से सरकार तक पहुंचने में मदद मिलेगी। इससे सरकार छात्रों के लिए और अधिक बेहतर ढंग से काम कर सकेगी। 

विशिष्ट अतिथि श्याम शंकर उपाध्याय (पूर्व राज्यपाल एवं उत्तर प्रदेश के विधिक सलाहकार) ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में यह बहुत बड़ी पहल है। इंटीग्रल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. अकील अहमद ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर काम करने की जरूरत है। यह पोर्टल शिक्षा के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होगा। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता एवं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के क्षेत्रीय संगठन मंत्री रमेश गढ़िया ने कहा कि इससे शिक्षा प्रणाली में बेहतर काम हो सकेगा। लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि पढा़ई के दौरान बहुत सी समस्याएं आती हैं और हमें ऐसे न्यूज पोर्टल की सराहना करनी चाहिए। वेबसाइट की लॉन्चिंग कार्यक्रम में ब्लू बर्ड्स कम्युनिकेशन्स एण्ड मीडिया ग्रुप की तरफ से समाज के विभिन्न क्षेत्रों में निस्वार्थ भाव से अपना योगदान देने वाले लोगों को सम्मानित भी किया गया।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जब महात्मा गांधी बोले- अगर एक दिन के लिए तानाशाह बना, तो करूंगा ये काम

हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर दिल्ली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में किया गया कार्यक्रम का आयोजन, जुटे पत्रकारिता व साहित्य जगत के कई दिग्गज

Last Modified:
Saturday, 14 September, 2019
Dainik Jagran

हिंदी दिवस की पूर्व संध्या पर दैनिक जागरण द्वारा हिंदी को समृद्ध और मजबूत बनाने की मुहिम 'हिंदी हैं हम' के तहत सानिध्य का आयोजन दिल्ली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में किया गया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय थे। उन्होंने दैनिक जागरण के 75 वर्ष की प्रगतिशील यात्रा पर एक विशेष प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। इसके बाद विभिन्न सत्रों में प्रसून जोशी, प्रो.सुधीश पचौरी, अब्दुल बिस्मिल्लाह, राम बहादुर राय, प्रो. आनंद कुमार, जैनेद्र सिंह, सच्चिदानंद जोशी एवं रेडियो जॉकी दिव्या आदि वक्ता शामिल हुए।

‘गांधी और हिंदी’ सत्र में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष राम बहादुर राय ने कहा, ‘महात्मा गांधी ने हिंदी के लिये जो किया, वह आज लोगों की नजरों से ओझल हो गया है। हमें आज यह जानने की आवश्यकता है कि गांधी जी ने हिंदी के लिये प्रचंड आन्दोलन किए। गांधी जी कहा था कि अगर मुझे एक दिन के लिये तानाशाह बना दिया जाए तो मैं हिंदी को राष्ट्रभाषा बना दूंगा। महात्मा गांधी ने दक्षिणी एवं पूर्वोत्तर भारतीय राज्यों में हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिये कई कार्य किए।’

वरिष्ठ पत्रकार हर्षवर्धन त्रिपाठी ने कहा, ‘गांधी जी ने हिंदी के लिये क्या-क्या किया, हिंदी उनकी आत्मा के कितने करीब थी, आज ये बातें बहुत कम होती हैं।’ समाजशात्री प्रो. आनन्द कुमार ने कहा, ’भाषा की अपनी राजनीति और राजनीति की अपनी एक भाषा होती है। गांधी जी जब दक्षिण अफ्रीका से भारत आए तो उनका एक सपना था कि भारत की एक राष्ट्रभाषा होनी चहिए। उन्होंने कहा था कि भारतीय संस्कृति के हिसाब से हिंदी भाषा भारत की एकता बनाए रखेगी।’ इसके बाद हुए सत्र ‘हिंदी,समाज और धर्म’ में प्रसिद्ध उपन्यासकार अब्दुल बिस्मिल्लाह ने अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने कहा, ’भाषा किसी जाति,धर्म अथवा देश की नहीं होती है। हिंदी हिंदू की भाषा और उर्दू मुस्लिम की भाषा का खेल अंग्रेजों द्वारा खेला गया था। कैसे अंग्रेजों ने सर सयद और भारतेंदु हरीश चंद्र के बीच इस भाषा का खेल खेला, वह जगजाहिर है।

’हिंदी साहित्यकार, आलोचक एवं विश्लेषक सुधीश पचौरी ने कहा, ’भाषा पहले आयी और धर्म बहुत बाद में और भाषा का किसी धर्म विशेष कोई संबंध नहीं है। हिंदी की आज अपने ही क्षेत्र में बड़ी दयनीय दशा है। हिंदी के पीछे कोई नहीं खड़ा है। हिंदी केवल बाजार के रूप में रह गई है। हिंदी कवि और लेखक भी आज उन्हें हिंदी कवि और लेखक कहने पर शर्म महसूस करते हैं। ऐसा क्यों हो रहा है? आपको किसी सत्ता और व्यक्ति विशेष से नफरत है तो क्या उसके लिये आप अपनी मातृभाषा से नफरत करने लगोगे? हिंदी जैसी भी है, हमारी मातृभाषा है, हां हिंदी मिलावटी है। भाषा और संस्कृति दोनों ही मिलावट के बिना नहीं चल सकते हैं।’ हंसराज कॉलेज की प्राचार्य डॉ. रमा ने कहा, ‘आज हिंदी के पीछे खड़े होने की नहीं, हमें हिंदी के साथ चलने की जरूरत है। हर धर्म एक ही बात सिखाता है कि हम सब में एकता होनी चहिए।’

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

उप्र क्रिकेट एसोसिएशन में वरिष्ठ पत्रकार की हुई एंट्री

उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन की वार्षिक बैठक में रिटर्निंग ऑफिसर नवीन चावला ने एसोसिएशन के चुनाव परिणामों की घोषणा की

Last Modified:
Thursday, 12 September, 2019
UP Cricket

उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन की वार्षिक बैठक 11 सितंबर को कानपुर के कालपी रोड स्थित कमला क्लब में हुई। बैठक में पूर्व मुख्य निर्वाचन आयुक्त व उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ के रिटर्निंग ऑफिसर नवीन चावला ने एसोसिएशन के चुनाव परिणामों की घोषणा की।

एसोसिएशन की नवनिर्वाचित वर्किंग कमेटी में अध्यक्ष यदुपति सिंघानिया को बनाया गया है। इसके अलावा उपाध्यक्ष पद पर प्रदीप कुमार गुप्ता, जॉइंट सेक्रेट्री पद पर मोहम्मद भाई और कोषाध्यक्ष पद पर अरविंद श्रीवास्तव को चुना गया है।

कार्यकारिणी में भारतीय श्रमजीवी पत्रकार संघ के पदाधिकारी व वरिष्ठ पत्रकार श्याम बाबू (जालौन), असद अहमद (सुल्तानपुर), अभिषेक शुक्ला (लखीमपुर), कमल चावला (मथुरा), अजीज खान (सोनभद्र), जावेद चौधरी (बाराबंकी), राकेश मिश्रा (गाजियाबाद), पूरन डावर (आगरा), तालिब खान (हमीरपुर) को चुना गया है।

इसके अलावा वुमन सेलेक्शन कमेटी भी चुनी गई। इसमें चेयरमैन रीता डे को चुना गया। इसके अलावा सीनियर टूर्नामेंट कमेटी के चेयरमैन फैजल शेरवानी,क्रिकेट टैलेंट कमेटी के चेयरमैन अनिल माथुर, अंपायर कमेटी के चेयरमैन मनोज पंडित, मेंन्स जूनियर सेलेक्शन कमेटी के चेयरमैन प्रवीण गुप्ता, मेन्स सेलेक्शन कमेटी के चेयरमैन अरविंद कपूर, टेक्निकल कमेटी के चेयरमैन डीएस चौहान IPS को चुना गया। बताया जाता है कि जिला क्रिकेट एसोसिएशन, जालौन के अध्यक्ष श्याम बाबू की लंबे समय बाद वर्किंग कमेटी में वापसी हुई है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार सागरिका किस्सू के नाम से छपा गलत लेख, जताया खेद

सात अगस्त को पब्लिश हुआ था लेख, सागरिका किस्सू की आपत्ति के बाद वेबसाइट से हटाया

Last Modified:
Thursday, 12 September, 2019
Apology

समाचार4मीडिया पोर्टल ने पत्रकार सागरिका किस्सू को एक आर्टिकल की वजह से लगी ठेस के लिए खेद जताया है। दरअसल, समाचार4मीडिया पोर्टल में सात अगस्त 2019 को एक आर्टिकल प्रकाशित हुआ था। इस आर्टिकल में पत्रकार यूसुफ किरमानी की फेसबुक पोस्ट के हवाले से पत्रकार सागरिका किस्सू का एक आर्टिकल पब्लिश किया गया था। इस आर्टिकल के अनुसार, सागरिका द्वारा कश्मीरी पंडितों के बारे में बात की गई थी। लेकिन सागरिका किस्सू का कहना है उन्होंने इस तरह का कोई बयान नहीं दिया है।

सागरिका किस्सू की आपत्ति के बाद समाचार4मीडिया ने वह आर्टिकल अपनी वेबसाइट से हटा लिया है। समाचार4मीडिया का इरादा किसी भी तरह से उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं था। समाचार4मीडिया ने इस आर्टिकल के द्वारा सागरिका किस्सू को हुई परेशानी के लिए खेद जताया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रंग लाई पत्रकार अमित तिवारी की मुहिम, गरीब परिवार को लगे ‘आशा के पंख’

यूपी के कासगंज स्थित बिलराम कस्बे में गरीब मजदूर पूरन ने अपने परिवार को भूख से तड़पता देखकर आत्महत्या कर ली थी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।
Published - Wednesday, 11 September, 2019
Last Modified:
Wednesday, 11 September, 2019
AMIT KUMAR

आशुतोष शुक्ल, पत्रकार।।

पत्रकारों की मुहिम ने एक गरीब मजदूर के परिवार को नई दिशा व दशा देने का प्रयास किया है। यूपी के जनपद कासगंज में बिलराम कस्बे में एक गरीब मजदूर पूरन ने बीते सोमवार को आर्थिक तंगी के चलते अपने परिवार को भूख से तड़पता देखकर आत्महत्या कर ली थी।

खबर की ग्राउंड रिपोर्टिंग के लिए दैनिक सवेरा समाचार पत्र के संवाददाता अमित कुमार तिवारी अन्य पत्रकार साथियों के साथ मृतक पूरन के घर पहुंचे थे। परिवार की बदहाली देख अमित कुमार तिवारी ने दफ्तर वापस आकर खबर तो लिखी, लेकिन साथ ही इस परिवार को आर्थिक तंगी से उबारने का फैसला भी कर लिया। फिर क्या था, उन्होंने टीवी व प्रिंट मीडिया के अपने करीबी पत्रकार साथियों के साथ मिलकर मुहिम छेड़ दी। प्रमुख अखबारों ने जहां खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया, वहीं चैनलों में परिवार की बदहाली की खबर दिखाई गई। स्वयं अमित ने अपने ब्लॉग पर खबर लिखकर साथियों, समाजसेवियों और जनपद वासियों से सोशल मीडिया के माध्यम से इस परिवार की मदद करने की अपील की। अमित तिवारी द्वारा ब्लॉग पर शेयर की गई खबर आप यहां क्लिक कर देख सकते हैं।

मजरूह सुल्तानपुरी की प्रसिद्ध शायरी ‘मैं अकेला ही चला था जानिब ए मंजिल मगर लोग साथ आते गए कारवां बनता गया।’ की तर्ज पर अमित तिवारी की मुहिम रंग लाई। अमित तिवारी के साथ ही उनके पत्रकार साथियों ने पहले स्वयं ही आर्थिक मदद दी, वहीं जनपद के गैर पत्रकार साथियों व आम लोगों के आने से परिवार को अब तक लगभग एक लाख रुपए की मदद मिल चुकी है। प्रशासन भी नींद से जागकर परिवार की मदद की कवायद में जुट गया है। मिली जानकारी के मुताबिक दूसरे राज्यों व कुवैत से भी लोगों ने थोड़ी आर्थिक मदद की है। समाचार4मीडिया.कॉम अमित कुमार तिवारी की जनसरोकारी पत्रकारिता व कासगंज के सभी पत्रकार साथियों की इस मुहिम को सलाम करता है। 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अमर उजाला लखनऊ के संपादक को मातृशोक

कुछ समय से चल रही थीं बीमार, कानपुर के अस्पताल में ली अंतिम सांस

Last Modified:
Monday, 09 September, 2019
Tribute

अमर उजाला लखनऊ के संपादक राजीव सिंह की माताजी शकुंतला सिंह का गुरुवार को निधन हो गया है। वह 84 साल की थीं और कुछ समय से बीमार चल रही थीं। कानपुर स्थित एक अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली। उनका अंतिम संस्कार शुक्रवार को कानपुर में किया गया। शकुंतला सिंह के निधन पर तमाम पत्रकारों समेत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राजनीतिक दलों से जुड़े नेताओं ने शोक जताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दिल्ली पत्रकार संघ ने गैर मान्यता प्राप्त पत्रकारों के लिए सरकार से की ये मांग

अपनी मांग को शीघ्र पूरा करने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से अपील करने का लिया गया फैसला

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।
Published - Wednesday, 04 September, 2019
Last Modified:
Wednesday, 04 September, 2019
DJA

दिल्ली पत्रकार संघ (DELHI JOURNALISTS ASSOCIATION) ने दिल्ली सरकार से दिल्ली परिवहन निगम (DTC) की बसों में अखबारों एवं न्यूज चैनल्स में फील्ड व डेस्क पर काम करने वाले गैर मान्यता प्राप्त पत्रकारों के लिए निःशुल्क यात्रा का प्रावधान किए जाने की मांग की है।

नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट (इंडिया) से संबद्ध दिल्ली पत्रकार संघ की नव निर्वाचित कार्यकारिणी की पहली बैठक में इस संबंध में प्रस्ताव पारित किया गया। संगठन ने निर्णय लिया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से इस मांग को शीघ्र पूरा करने की अपील की जाएगी। बैठक में डीजेए की नवनिर्वाचित कार्यकारिणी के सदस्यों के अलावा राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से प्रकाशित हिंदी और अंग्रेजी के अखबारों, न्यूज चैनल्स एवं न्यूज एजेंसियों में कार्यरत श्रमजीवी पत्रकार मौजूद थे।

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली से बड़ी संख्या में अखबार व पत्र-पत्रिकाएं पब्लिश होते हैं। इन संस्थानों में कार्यरत कुछ पत्रकारों को ही दिल्ली सरकार से मान्यता मिल पाती है, जिसके तहत उन्हें डीटीसी की बसों में नि:शुल्क यात्रा करने की सुविधा प्रदान की जाती है, जबकि अखबारों में डेस्क व फील्ड में काम करने वाले ऐसे पत्रकारों की संख्या बहुत अधिक है, जिन्हें राज्य सरकार से मान्यता प्राप्त नहीं है। ऐसे में वे बसों में नि:शुल्क यात्रा से वंचित रह जाते हैं। 

दिल्ली पत्रकार संघ के अध्यक्ष मनोहर सिंह और महासचिव अमलेश राजू ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि अक्टूबर में जब महिलाओं के लिए डीटीसी की बसों में नि:शुल्क यात्रा का प्रावधान हो तो उसके साथ ही गैर मान्यता प्राप्त पत्रकारों को भी यह सुविधा प्रदान करने की घोषणा की जाए।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मीडिया कॉलेज ने कुछ यूं पढ़ाया फिटनेस का ‘पाठ’

कॉलेज की प्रिंसिपल ने इस आयोजन को छात्र-छात्राओं के सर्वांगीण विकास से जोड़ते हुये उन्हें शिक्षा के साथ खेल के मैदान से जोड़ने का सफल प्रयास बताया

Last Modified:
Saturday, 31 August, 2019
Niscort College

उत्तर प्रदेश में गाजियाबाद के वैशाली स्थित निस्कॉर्ट (NISCORT) मीडिया कॉलेज, में फिट इंडिया मूवमेंट के अंतर्गत 5 दिवसीय खेल प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। 26 अगस्त से शुरू हुई इस प्रतियोगिता के तहत फुटबॉल,बास्केटबॉल, टेबिल टेनिस बैडमिंटन, खोखो के अतिरिक्त कई अन्य खेल भी शामिल रहे।

कार्यक्रम का उद्घाटन डायरेक्टर डॉ. जोस मुरिकन ने किया। कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ. ऋतु दुबे तिवारी ने इस आयोजन को छात्र-छात्राओं के सर्वांगीण विकास से जोड़ते हुये उन्हें शिक्षा के साथ खेल के मैदान से जोड़ने का एक सफल प्रयास बताया।

डॉ. तिवारी ने बताया कि युवाओं में फिटनेस के प्रति जागरूकता बढ़ाना वर्तमान समय की जरूरत है, क्यूंकि लगातार मोबाइल, टेलिविजन और इंटरनेट के इस्तेमाल की वजह से वे शारीरिक एक्टिविटीज को नजरअंदाज कर रहे हैं। खेलों के माध्यम से छात्र-छात्राओं में आपसी समन्वय बढ़ता है और टीम वर्क से काम करने की क्षमता भी बढ़ती है।

30 अगस्त को इस 5 दिवसीय खेल प्रतियोगिता का समापन समारोह गणमान्यों की उपस्थिति में संपन्न हुआ। नोएडा पुलिस की राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी एवं एमपीटी क्वालिफाइड रीता यादव ने प्रमुख अतिथि के रूप में अपने अनुभव साझा किये। पुरस्कार वितरण के दौरान उन्होंने कहा कि खेलों का महत्व कभी भी, किसी भी उम्र में कम नहीं आंका जा सकता है। इससे समानता और एकता का गुण विकसित होता है।

कार्यक्रम के अंत में प्रिंसिपल डॉ. ऋतु दुबे ने सभी का आभार व्यक्त किया और इस कैंपेन को आगे बढ़ाने के लिए वर्ष भर नियमित खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन करने की बात कही।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए