डॉ. सौरभ मालवीय की प्रतिभा को मिलेगा नया आयाम, इस मंच पर होगा सम्मान

पत्रकारिता विधा में रचना कौशल के लिए डॉ. सौरभ मालवीय को इस अवॉर्ड के लिए चुना गया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 10 December, 2020
Last Modified:
Thursday, 10 December, 2020
DR Saurabh Malviya

‘भाऊराव देवरस सेवा न्यास’ (Bhaorao Deoras Sewa Nyas) की ओर से डॉ. सौरभ मालवीय  को पंडित प्रताप नारायण मिश्र साहित्यकार सम्मान के लिए चुना गया है। उन्हें पत्रकारिता विधा में उनके रचना कौशल के लिए इस अवॉर्ड के लिए चुना गया है।

26 दिसंबर को लखनऊ के निराला नगर स्थित माधव सभागार में होने वाले न्यास के 26वें सम्मान समारोह में डॉ. सौरभ मालवीय को इस अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा। इन्हें पुरस्कार स्वरूप 10 हजार रुपये, मां सरस्वती की प्रतिमा और पं. प्रताप नारायण मिश्र द्वारा रचित साहित्य प्रदान किया जाएगा। बताया जाता है कि मंत्री ब्रजेश पाठक कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहेंगे।

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्विद्यालय, नोएडा में वरिष्ठ सहायक प्राध्यापक के पद पर कार्यरत डॉ. सौरभ मालवीय को उनकी पुस्तक 'राष्ट्रवादी पत्रकारिता के शिखर पुरुष अटल बिहारी बाजपेयी' के लिए इस अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा।

बता दें कि भाऊराव देवरस सेवा न्यास लंबे समय से हर साल ये सम्मान युवा साहित्यकारों को देता आ रहा है। 40 वर्ष तक की आयु वाले साहित्यकारों को उनके रचना कौशल के लिए ये सम्मान दिया जाता है। इस साल डॉ. सौरभ मालवीय सहित यूपी के छह युवा साहित्यकारों को इस अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा।

डॉ. सौरभ मालवीय के अलावा काव्य विधा में लखनऊ के अतुल बाजपेयी, कथा साहित्य में बुलंदशहर के कुलदीप सिंह राघव, बाल साहित्य विधा में लखनऊ के श्याम कृष्ण सक्सेना, संस्कृत में अहमदाबाद के ऋषिराज जानी और भोजपुरी विधा में लखनऊ के अंबरीश राय का नाम इस लिस्ट में शामिल है।

उल्लेखनीय है कि डॉ.मालवीय, वाजपेयी सरकार में बीजेपी मीडिया सेल से जुड़े थे और वर्ष 2010 तक मीडिया सेल में समन्वयक के रूप में खासे लोकप्रिय रहे। सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर पीएचडी करने वाले सौरभ मालवीय ने राष्ट्रवादी लेखक और वक्ता के नाते अपनी खास पहचान बनाई है। डॉ. सौरभ टीवी डिबेट में शामिल होते रहते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे FCB-Ulka समूह के पूर्व MD और CEO अनिल कपूर

तमाम उपलब्धियों के बीच वह अगस्त 2019 में ‘FCB Worldwide’ (Foote, Cone & Belding) बोर्ड, न्यूयॉर्क के मेंबर नियुक्त किए गए थे।

Last Modified:
Monday, 12 April, 2021
Anil Kapoor

DraftFCB+ Ulka के चेयरमैन एमरेटस (Chairman Emeritus) अनिल कपूर का निधन हो गया है। वह लंबे समय से कैंसर से जूझ रहे थे। वह ‘एफसीबी-उलका’ (FCB-Ulka) ग्रुप के पूर्व मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ (former Managing Director & CEO) थे। तमाम उपलब्धियों के बीच वह अगस्त 2019 में ‘FCB Worldwide’ (Foote, Cone & Belding) बोर्ड, न्यूयॉर्क के मेंबर नियुक्त किए गए थे।

अनिल कपूर को याद करते हुए ‘आईपीजी मीडियाब्रैंड्स’ (IPG Mediabrands) के सीईओ शशि सिन्हा का कहना है, ‘वह मेरे मार्गदर्शक और मित्र से भी बढ़कर थे, जिन्होंने मुझे इस मुकाम तक पहुंचाने में काफी मदद की। इस दुख की भरपाई नहीं की जा सकती है। दुख की इस घड़ी में मैं पीड़ित परिवार के साथ हूं और भगवान से पीड़ित परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूं।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जिंदगी की जंग हार गए पत्रकार शिवनंदन साहू

कौशाम्बी जिले के दारानगर नगर पंचायत के रहने वाले शिवनंदन साहू का शनिवार की शाम निधन हो गया है।

Last Modified:
Monday, 12 April, 2021
Shivnandan Sahu

उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी जिले में आजतक के पत्रकार शिवनंदन साहू का निधन हो गया है। कौशाम्बी जिले के दारानगर नगर पंचायत के रहने वाले शिवनंदन साहू को बुखार और सांस लेने में दिक्कत के कारण जिला अस्पताल, मंझनपुर में भर्ती करवाया गया था।

यहां उपचार के बाद साहू को प्रयागराज के एसआरएन अस्पताल रेफर किया गया था, जहां शनिवार शाम को अस्पताल के बाहर ही उनकी मौत हो गई। शिवनंदन साहू के निधन पर तमाम लोगों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना से जिंदगी की जंग हार गए वरिष्ठ पत्रकार कपिल दत्ता

जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार कपिल दत्ता का शुक्रवार सुबह दिल्ली के एक अस्पताल में कोरोना की वजह से निधन हो गया।

Last Modified:
Saturday, 10 April, 2021
Kapil

जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार कपिल दत्ता का शुक्रवार सुबह दिल्ली के एक अस्पताल में कोरोना की वजह से निधन हो गया। बताया जा रहा है कि वह करीब 10 दिन पहले कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आ गए थे, जिसके बाद उन्हें दिल्ली के विमहंस अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। उपचार के दौरान उन्हें निमोनिया हुआ और शुक्रवार की सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली। 

मीडिया के उनके सहकर्मियों ने यह जानकारी दी। नोएडा मीडिया क्लब के अध्यक्ष पंकज पराशर ने कहा कि दत्ता को हाल ही में राष्ट्रीय राजधानी के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

नोएडा मीडिया क्लब ने एक बयान में कहा, ‘वरिष्ठ पत्रकार और एक अच्छे इंसान कपिल दत्ता सर का दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था। आज सुबह उनकी मृत्यु हो गई। भगवान उनके परिवार और दोस्तों को इस नुकसान को सहने की ताकत दें। वह हम में से कई लोगों के लिए पिता तुल्य थे।’

बता दें कि कपिल दत्ता 65 वर्ष के थे और करीब 3 दशकों से नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में रिपोर्टिंग कर रहे थे। वह अंग्रेजी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स के लंबे अरसे से संवाददाता थे और आज कल पीटीआई से जुड़े हुए थे। कपिल दत्ता के निधन से दिल्ली-एनसीआर के पत्रकारों में शोक की लहर है। सोशल मीडिया के जरिए तमाम लोग शोक संदेश जारी कर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहा है-

 

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार और लेखक राजीव मित्तल

शुक्रवार की देर रात लखनऊ में एक निजी अस्पताल में आखिरी सांस ली।

Last Modified:
Saturday, 10 April, 2021
Rajiv Mittal

वरिष्ठ पत्रकार और लेखक राजीव मित्तल का निधन हो गया है। उन्होंने शुक्रवार की देर रात लखनऊ में एक निजी अस्पताल में आखिरी सांस ली।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, राजीव मित्तल को कई वर्षों से अस्थमा की समस्या थी। पत्रकारिता में 35 वर्ष से अधिक समय तक सक्रिय रहे राजीव मित्तल हिंदुस्तान, नई दुनिया, सहारा, जनसत्ता, दैनिक जागरण, अमर उजाला आदि अखबारों में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके थे। वह 15 साल से भी ज्यादा समय तक संपादक रहे।

राजीव मित्तल के निधन पर तमाम लोगों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

गंभीर आरोपों में घिरे न्यूज एंकर को दिल्ली HC से मिली ये राहत

अपनी शिकायत में करीब 22 वर्षीय इस युवती का कहना है कि वह पुणे में कॉलेज के दिनों से वरुण को करीब तीन सालों से जानती है।

Last Modified:
Saturday, 10 April, 2021
Court

युवती के साथ दुष्कर्म के मामले में आरोपित मुंबई के न्यूज एंकर वरुण हिरेमथ (28) को 9 अप्रैल को दिल्ली हाई कोर्ट ने राहत देते हुए गिरफ्तारी से अंतरिम सुरक्षा प्रदान की। कोर्ट ने ये राहत इस शर्त पर दी है कि जब भी जरूरत होगी, वे पुलिस जांच में शामिल होंगे।

बता दें कि हिरेमथ की गिरफ्तारी के लिए दिल्ली की एक अदालत ने गैरजमानती वारंट (NBW) जारी किया था। साथ ही पुलिस ने वरुण की गिरफ्तारी के लिए इनाम की घोषणा करने का भी फैसला किया था और इस संबंध में मंजूरी के लिए एक फाइल दिल्ली पुलिस मुख्यालय भेजी गई है।

वहीं इससे पहले मार्च में दिल्ली की एक अदालत ने वरुण की अग्रिम जमानत की अर्जी को खारिज कर दी थी।  पुलिस ने उनके खिलाफ लुकआउट सर्कुलर (LoC) जारी कर दिया था, जिसके तहत उन्हें देश छोड़ने से रोक दिया गया था। बता दें कि दिल्ली के चाणक्यपुरी थाने में दर्ज एफआईआर में एक युवती ने आरोप लगाया था कि एक अंग्रेजी न्यूज चैनल में कार्यरत वरुण हिरेमथ उसे दोस्ती के नाम पर दिल्ली के एक होटल में ले गया था और उसके साथ रेप किया।

यह भी पढ़ें: युवती ने न्यूज एंकर पर लगाया गंभीर आरोप, दर्ज कराई FIR

अपनी शिकायत में करीब 22 वर्षीय इस युवती का कहना है कि वह पुणे में कॉलेज के दिनों से वरुण को करीब तीन सालों से जानती है। मामले के सामने आने के बाद से ही वरुण फरार हैं।  

वरुण हिरेमठ के खिलाफ आईपीसी सेक्शन 376 (रेप के लिए सजा), सेक्शन 342 (गलत तरह से बंदी बनाने की सजा) और 509 (महिला की गरिमा का अपमान करने के शब्द या हरकत) के तहत चाणक्यपुरी पुलिस स्टेशन में केस दर्ज हुआ था।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अपहरण के बाद पत्रकार की हत्या

महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में एक पत्रकार का अपहरण और हत्या की चौंकाने वाली घटना सामने आई है

Last Modified:
Thursday, 08 April, 2021
Journalist65

महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में एक पत्रकार का अपहरण और हत्या की चौंकाने वाली घटना सामने आई है। पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी कि राहुरी नगर में स्थानीय साप्ताहिक अखबार के एक पत्रकार का कथित तौर पर अपहरण करने के बाद हत्या कर दी गई।

राहुरी पुलिस थाने के उपनिरीक्षक गणेश शेलके ने बताया कि 49 वर्षीय रोहिदास दातिर का मंगलवार दोपहर कॉलेज रोड इलाके से अपहरण कर लिया गया, जहां वह अपने दोपहिया वाहन से जा रहे थे और बाद में देर रात उसी जगह से उनका शव मिला जिसपर चोट के कई निशान थे।

अधिकारी ने बताया कि दातिर राहुरी में एक साप्ताहिक अखबार निकालता था। उन्होंने कहा कि वह एक आरटीआई कार्यकर्ता भी था।

उन्होंने बताया कि अपहरण के बाद एक मामला दर्ज किया गया और दातिर की तलाश शुरू की गई।

अधिकारी ने बताया कि एक संदिग्ध की पहचान की गई है और यह हमला पुरानी दुश्मनी का नतीजा लगता है। उन्होंने बताया कि मामले में आगे की जांच जारी है।

रोहिदास दतिर, अहमदनगर जिले के राहुरी में एसोसिएशन ऑफ जर्नलिस्ट्स और विजिलेंट जर्नलिस्ट्स के अध्यक्ष थे। रोहिदास की पत्नी ने राहुरी पुलिस स्टेशन में अपहरण का मामला दर्ज कराया था। पुलिस ने इलाके के सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपी और वाहन की तलाश शुरू की थी। हालांकि, मंगलवार आधी रात के आसपास कॉलेज रोड पर रोहिदास दतिर का शव मिला था। पहली नजर में बताया गया कि उसके सिर पर पत्थर फेंककर मारा गया था।  

रोहिदास दतिर ने राहुरी तालुका में कई घटनाओं की कवरेज की थी और कई लोगों को न्याय दिलाने का काम किया। कुछ मामले औरंगाबाद कोर्ट में लंबित हैं।   रोहित दक्ष पत्रकार संघ के संस्थापक व अध्यक्ष थे और आरटीआई के माध्यम से कई भ्रष्टाचारों को उजागर किया था। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रही जानी-मानी शिक्षाविद व वरिष्ठ पत्रकार फातमा जकरिया

जानी-मानी शिक्षाविद व वरिष्ठ पत्रकार फातमा जकरिया का महाराष्ट्र के औरंगाबाद में मंगलवार को निधन हो गया

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 07 April, 2021
Last Modified:
Wednesday, 07 April, 2021
fatma54211

जानी-मानी शिक्षाविद व वरिष्ठ पत्रकार फातमा जकरिया का महाराष्ट्र के औरंगाबाद में मंगलवार को निधन हो गया। वे 85 वर्ष की थीं।

वह मौलाना आजाद न्यास की अध्यक्ष थीं। मौलाना आजाद कॉलेज के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि फातमा का मंगलवार शाम निधन हो गया। उन्होंने बताया कि फातमा का पिछले सप्ताह से यहां एक अस्पताल में इलाज चल रहा था।

फातमा जकरिया लेखन और पत्रकारिता में बड़ा नाम रहे रफीक जकरिया की पत्नी और पत्रकार फरीद जकरिया की मां थीं।  

फातिमा जकारिया एक भारतीय महिला पत्रकार हैं। वे दैनिक अखबार ‘मुंबई टाइम्स’ और ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ के शुक्रवार डेस्क की संपादक रह चुकी हैं। इसके अतिरिक्त वे ताज होटल की आंतरिक पत्रिका ‘ताज’ की भी संपादक रह चुकी हैं। भारत सरकार ने उन्हें वर्ष 2006 में पद्मश्री से सम्मानित किया था।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हाथरस मामला: पत्रकार सिद्दीकी कप्पन समेत 8 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

हाथरस मामले में यूपी एसटीएफ की एक टीम दंगों की साजिश की जांच कर रही थी, जिसको लेकर अब यूपी एसटीएफ ने मथुरा कोर्ट को 5 हजार पेज की चार्जशीट सौंपी है।

Last Modified:
Monday, 05 April, 2021
Siddiquekappan457

यूपी के हाथरस में दलित लड़की के साथ हुई रेप और हत्या के मामले में दंगों की साजिश रचने के आरोप में उत्तर प्रदेश पुलिस ने केरल के पत्रकार सिद्दीकी कप्पन पर UAPA के तहत चार्जशीट दायर किया है। हाथरस में हुए रेप और हत्या के मामले में यूपी एसटीएफ की एक टीम दंगों की साजिश की जांच कर रही थी, जिसको लेकर अब यूपी एसटीएफ ने मथुरा कोर्ट को 5 हजार पेज की चार्जशीट सौंपी है। इस चार्जशीट में पत्रकार सिद्दीकी कप्पन के अलावा छह और लोगों का नाम शामिल है।

दायर की गई इस चार्जशीट में PFI और उससे जुड़े संगठन के 8 आरोपितों के नाम हैं, जिनमें सिद्दीकी कप्पन, अतीकुर्रहमान, मसूद अहमद, रउफ शरीफ, असद बदरुद्दीन, फिरोज, दानिश का नाम शामिल है। मामले की अगली 1 मई 2021 को निर्धारित की गई है।

इस चार्जशट में यूपी पुलिस की ओर से कहा गया है कि गिरफ्तार किए गए सभी आरोपी हाथरस में दंगा भड़काना चाहते थे और उसकी साजिश रच रहे थे। चार्जशीट के अनुसार सिद्दीकी कप्पन ने ही दंगों की साजिश रची थी और पीएफआई मेंबर रउफ शरीफ इन दंगों की फंडिंग के लिए काम कर रहा था।

5000 पन्नों की चार्जशीट में पीएफआई के सदस्यों पर मस्कट और दोहा में वित्तीय संस्थानों से 80 लाख रुपए की धनराशि प्राप्त करने का आरोप लगाया गया है।

चार्जशीट दायर होने के बाद आरोपियों के वकील मधुवन चतुर्वेदी ने कहा कि हमें अभी तक चार्जशीट की कॉपी नहीं मिली है। जैसे ही हमें कॉपी मिलती है तो हम उसको देखेंगे और फिर आगे की कार्रवाई करेंगे।

दिल्ली में रहने वाले सिद्दीकी कप्पन मलयालम पोर्टल अजीमुखम के लिए काम करते थे। कप्पन केरल यूनियन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट्स के सचिव भी थे। पुलिस ने कप्पन पर गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत मामला दर्ज किया था और राजद्रोह के आरोप भी लगाए थे।

मूल रूप से केरल के रहने वाले पत्रकार सिद्दीकी कप्पन पिछले साल दलित लड़की के साथ हुई रेप की वारदात के बाद घटना को रिपोर्ट करने के लिए हाथरस जा रहे थे। तभी मथुरा में ही यूपी पुलिस ने सिद्दीकी कप्पन और उनके साथियों को आतंकवाद निरोधी कानून के तहत गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस ने कहा था कि ये लोग हाथरस में दंगा फैलाने की कोशिश कर रहे थे। साथ ही पुलिस ने यह भी कहा था कि गिरफ्तार किए गए आरोपी प्रतिबंधित संगठन पीएफआई के सदस्य हैं।

बता दें कि हाथरस में दलित लड़की के साथ हुई रेप की घटना के बाद यूपी सरकार की काफी आलोचना हुई थी। प्रशासन ने हाथरस मामले में बेहद ही असंवेदनशील तरीके से कार्रवाई की थी। जब हाथरस पीड़िता की मौत दिल्ली के अस्पताल में हो गई थी तो पुलिस ने परिवारवालों को बिना बताए ही उसका अंतिम संस्कार कर दिया था। इतना ही नहीं जब विपक्षी दलों के कई नेता पीड़िता के परिवार वालों से मिलने जा रहे थे तो उनके साथ भी मारपीट की गई थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया को अलविदा कह गए PTI में कार्यरत वरिष्ठ पत्रकार वी श्रीकांत

न्यूज एजेंसी पीटीआई (PTI) के वरिष्ठ पत्रकार वी श्रीकांत का रविवार को चेन्नई में निधन हो गया।

Last Modified:
Monday, 05 April, 2021
Death

न्यूज एजेंसी पीटीआई (PTI) के वरिष्ठ पत्रकार वी श्रीकांत का रविवार को चेन्नई में निधन हो गया। बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद श्रीकांत का शहर के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था, जहां रविवार को उन्होंने अंतिम सांस ली।

वे 53 साल के थे। उनके परिवार में पत्नी और बेटी है। वे पीटीआई के चेन्नई कार्यालय में मुख्य उप-संपादक के पद पर तैनात थे। वह करीब तीन दशक से भी अधिक समय से संस्थान के साथ जुड़े हुए थे।

श्रीकांत ने कई खेल प्रतियोगिताओं को भी कवर किया था।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे 'कल्याण' के संपादक राधेश्याम खेमका, PM समेत तमाम दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि

‘गीता प्रेस गोरखपुर’ (Geeta Press, Gorakhpur) के अध्यक्ष और सनातन धर्म की प्रसिद्ध पत्रिका 'कल्याण' के संपादक राधेश्याम खेमका का निधन हो गया है।

Last Modified:
Monday, 05 April, 2021
Radheshyam Khemka

‘गीता प्रेस गोरखपुर’ (Geeta Press, Gorakhpur) के अध्यक्ष और सनातन धर्म की प्रसिद्ध पत्रिका 'कल्याण' के संपादक राधेश्याम खेमका का निधन हो गया है। उन्होंने शनिवार की दोपहर करीब 12.30 बजे वाराणसी में केदारघाट स्थित आवास पर अंतिम सांस ली।

करीब 87 वर्षीय खेमका पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ्य चल रहे थे। इलाज के लिए उन्हें रवीन्द्रपुरी स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसके बाद परिजन उन्हें केदारघाट स्थित आवास ले आए थे, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। उनका अंतिम संस्कार हरिश्चंद्र घाट पर किया गया।

राधेश्याम खेमका के परिवार में पुत्र राजाराम खेमका, पुत्री राज राजेश्वरी देवी चोखानी, भतीजे गोपाल राय खेमका, कृष्ण कुमार खेमका, गणेश खेमका समेत नाती-पोते हैं। राधेश्याम खेमका ने 40 वर्षों से गीता प्रेस में अपनी भूमिका का निर्वहन करते हुए कई धार्मिक पत्रिकाओं का संपादन किया। उनमें कल्याण प्रमुख है। राधेश्याम खेमका के पिता सीताराम खेमका मूलतः बिहार के मुंगेर जिले से यहां आए थे।

राधेश्याम खेमका वाराणसी की प्रसिद्ध संस्थाओं मारवाड़ी सेवा संघ, मुमुक्षु भवन, श्रीराम लक्ष्मी मारवाड़ी अस्पताल गोदौलिया, बिड़ला अस्पताल मछोदरी, काशी गोशाला ट्रस्ट से जुड़े रहे। राधेश्याम खेमका के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह सहित तमाम दिग्गजों ने श्रद्धांजलि देते हुए दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को साहस देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए