इस मंच पर दिखे प्रतिभाओं के विविध रूप, हुआ सम्मान

काव्य पाठ से कलाकारों ने मन मोहा, डॉ. आरपी चतुर्वेदी की किताब ‘तेरे लिए’ का भी विमोचन किया गया

Last Modified:
Monday, 12 August, 2019
Programme

देश की स्वतंत्रता के 73 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष में ताज लिटरेचर क्लब और जलवा ग्रुप के संयुक्त तत्वावधान में आगरा की विजयनगर कॉलोनी स्थित आगरा पब्लिक स्कूल ऑडिटोरियम में 11 अगस्त की अपराह्न 4 बजे से एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसके तहत विचार गोष्ठी  और अचीवर अवार्ड समारोह’ का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि विनोद भारद्वाज, विशिष्ट अतिथि  ताज लिटरेचर क्लब के चेयरमैन राजकुमार शर्मा, विशिष्ट अतिथि पवन आगरी, डॉ. ह्रदेश चौधरी, प्रदीप खंडेलवाल, दिवाकर तिवारी, अमित त्रिवेदी ने मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित करके और राष्ट्रगान के द्वारा किया। सरस्वती वंदना अंशु प्रधान ने प्रस्तुत की। कार्यक्रम का संचालन ताज लिटरेचर क्लब की संस्थापिका भावना वरदान शर्मा ने किया। विचार गोष्ठी का विषय था, ‘सोशल मीडिया का आज के राजनीतिक परिदृश्य में योगदान।‘ कार्यक्रम में विभिन्न क्षेत्रों में अभूतपूर्व सफलता प्राप्त करने वालों को अचीवर अवार्ड से भी सम्मानित किया गया। इसके तहत साहित्य के क्षेत्र में पम्मी सदाना, स्वास्थ्य के क्षेत्र में  रेणुका डंग और शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय सफलता के लिए महेश शर्मा को सम्मानित किया गया।  

कार्यक्रम की दूसरी श्रंखला में ताज लिटरेचर क्लब द्वारा काव्य संध्या का आयोजन किया गया। डॉ. आरपी चतुर्वेदी. नरेश चंद्रा, तृषा अग्रवाल, श्रेय वर्मा, अनुराधा शर्मा आदि ने देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत कविताओं का पाठ कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। कार्यक्रम में डॉ. आरपी चतुर्वेदी की किताब ‘तेरे लिए’ का भी विमोचन किया गया। उनकी किताब कृष्ण भक्ति पर आधारित ब्रजभाषा के छंदों का काव्य संकलन है। कार्यक्रम में पम्मी सदाना ने कहा, ‘आज का मीडिया बहुत प्रबल है। ये केवल टेलिविजन या प्रिंट मीडिया तक सीमित नहीं है, वरन मोबाइल के रूप में प्रत्येक के हाथ में उपलब्ध है। बात क्षण भर में देश-विदेश तक पहुंच जाती है। 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मैं यही संदेश देना चाहती हूं कि तुम रक्त बहा लो, या फिर धमका लो, ये पग अब नहीं थमेंगे, ये पग अब नहीं रुकेंगे!’

विनोद भारद्वाज ने कहा, ‘सोशल मीडिया ने सबको अपनी बात कहने का मौका दिया है और परंपरागत मीडिया का एकाधिकार खत्म कर दिया है। परंपरागत और मेनस्ट्रीम मीडिया के लिए समय है कि वह सचेत हो जाएं और सही दिशा में चलें, अब उनकी मनमानी नहीं चलेगी। कोई भी खबर छिपाई नहीं जा सकेगी और न ही एक तरफा बात कही जा सकती है। मीडिया का कर्तव्य है कि वह किसी पार्टी की आवाज न बने और पत्रकारिता के सिद्धांतों को प्रतिपादित करे। लोग टि्वटर, फेसबुक, वॉट्सऐप का सावधानी से प्रयोग करें और विश्वसनीय सूत्र से जानकारी मिलने के बाद ही शेयर करें, क्योंकि इससे लोगों की राजनीतिक विचारधारा पर गहरा प्रभाव पड़ता है। गलत खबरों से खबरों की विश्वसनीयता कम होगी और खबरों के माध्यमों की संदिग्धता बनी रहेगी।’

 कार्यक्रम की संचालिका भावना वरदान शर्मा ने कहा, ‘सोशल मीडिया के जमाने में लेखकों और साहित्यकारों का दायित्व है कि वे अपना रोल अच्छी तरह से निभाएं और साहित्यकार समाज में चेतना पैदा करने वाले लेख लिखें। वहीं, रेणुका डंग ने कहा, ‘हर चीज का अच्छा और बुरा पहलू होता है। दोनों को स्वीकारें और अपने विवेक का इस्तेमाल करें। सोशल मीडिया द्वारा नकारात्मकता फैलाने वाली खबरों को फैलने से रोकने की दिशा में काम करने की जरूरत है। इसके अलावा महेश शर्मा का कहना था,‘ सोशल मीडिया का प्रयोग विवेक के साथ करें। गलत खबरों को फैलाने से रोकें और वॉट्सऐप जैसे माध्यमों को विचारों के आदान-प्रदान के लिए रखें, न कि फेक न्यूज के लिए।’ प्रदीप खंडेलवाल ने कहा कि समाज में जागरूकता लाने के लिए सोशल मीडिया एक अच्छा माध्यम है।

कार्यक्रम में दिवाकर तिवारी का कहना था, ‘सोशल मीडिया ने लोगों को अपनी बात कहने का माध्यम दिया है। सोशल मीडिया के माध्यम से न केवल विरोध दर्ज कराया जा सकता है, बल्कि सच को भी सामने लाया जा सकता है।’ अमित त्रिवेदी ने कहा, ‘सोशल मीडिया पर अच्छे और बुरे हर तरह के अनुभव होते हैं। आज के समय में इसकी एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है।’ धन्यवाद जलवा ग्रुप के डायरेक्टर सचिन शुभ शर्मा ने दिया। कार्यक्रम में श्याम दीक्षित, सुरेश, अजय कौशल, गोपालशरण गोस्वामी, वीना शर्मा, सुनीता सारस्वत, आदर्श नंदन गुप्त आदि की उपस्थिति रही।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस हादसे ने छीन ली ‘द प्रिंट’ की संपादक रेणु अगाल की जिंदगी

BBC में लंबे समय तक कार्यरत रही थीं रेणु अगाल। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बुधवार की देर रात नोएडा के कैलाश अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली।

Last Modified:
Thursday, 22 April, 2021
Renu Agal

न्यूज वेबसाइट ‘द प्रिंट’ (The Print) के हिंदी संस्करण की संपादक रेणु अगाल (Renu Agal) का निधन हो गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बुधवार की देर रात नोएडा के कैलाश अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली।

बता दें कि 25 मार्च को उत्तरी दिल्ली में हुई एक सड़क दुर्घटना में रेणु अगाल के सिर में काफी चोटें आई थीं। गंभीर हालत में रेणु को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने बुधवार की देर रात दम तोड़ दिया।

रेणु अगाल बीबीसी में भी लंबे समय तक कार्यरत रही थीं। वह वर्ष 1996 में बीबीसी लंदन से बतौर प्रड्यूसर जुड़ी थीं। वह बीबीसी हिंदी रेडियो के लिए इंटरेक्टिव प्रोग्राम टॉकिंग प्वाइंट और वीकली विश्लेषण कार्यक्रम विवेचना और युवाओं पर आधारित साप्ताहिक शो बदलता भारत भी बनाती थीं।

उन्होंने बीबीसी के लंदन और दिल्ली स्थित दोनों दफ्तरों में अपनी जिम्मेदारी निभाई थी। बीबीसी को अलविदा कहने के बाद अगाल ने दो नामी-गिरामी प्रकाशन संस्थानों में बतौर संपादक काम किया। वह पहले पेंग्विन इंडिया से जुड़ी थीं और उसके बाद जगरनॉट से।

बीबीसी लंदन से पहले रेणु अंग्रेजी अखबार फाइनेंशियल एक्सप्रेस में बतौर रिपोर्टर काम किया करती थीं। उन्होंने दिल्ली के मिरांडा हाउस कॉलेज और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन से पढ़ाई की थी। रेणु अगाल के निधन पर तमाम वरिष्ठ पत्रकारों ने उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया को अलविदा कह गए वरिष्ठ पत्रकार के. अमरनाथ

कई तेलुगु पब्लिकेशंस और न्यूज चैनल्स में अपनी रिपोर्ट से अलग पहचान बना चुके वरिष्ठ पत्रकार के. अमरनाथ का मंगलवार को हैदराबाद में COVID-19 की वजह से निधन हो गया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 April, 2021
Last Modified:
Wednesday, 21 April, 2021
K-Amarnath454

कई तेलुगु पब्लिकेशंस और न्यूज चैनल्स में अपनी रिपोर्ट से अलग पहचान बना चुके वरिष्ठ पत्रकार के. अमरनाथ का मंगलवार को हैदराबाद में COVID-19 की वजह से निधन हो गया। वे 69 साल के थे। इस बीमारी के इलाज के लिए उन्हें 10 दिन पहले शहर के निजाम इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (NIMS) अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

पत्रकारिता में उन्हें 40 वर्षों का अनुभव था। इस दौरान, अमरनाथ ने तेलुगु दैनिक ‘आंध्रभूमि’ में लंबे समय तक काम किया। इसके अलावा अन्य तेलुगु व नेशनल पब्लिकेशंस में भी अपना योगदान दिया।

अपने करियर के दौरान, अमरनाथ ने यूनाइटेड आंध्र प्रदेश यूनियन फॉर वर्किंग जर्नलिस्ट्स (APUWJ) और इंडियन यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (UJI) में विभिन्न पदों पर काम किया। वे प्रेस क्लब ऑफ इंडिया (पीसीआई) के सदस्य भी थे।

वरिष्ठ पत्रकार की मृत्यु पर हैदराबाद प्रेस क्लब और अन्य जर्नलिस्ट एसोसिएशंस ने शोक व्यक्त किया। तेलंगाना के स्वास्थ्य मंत्री ईटेला राजेंद्र, आईटी मंत्री के.टी. रामा राव और मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव सहित कई विधायकों ने अपनी संवेदना व्यक्त की।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार ने खुद वीडियो जारी कर बताया, अज्ञात लोगों ने उन्हें मारी गोली

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में अज्ञात बंदूकधारियों ने एक वरिष्ठ पत्रकार को उनके घर के बाहर गोली मार दी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 April, 2021
Last Modified:
Wednesday, 21 April, 2021
Abrar5465

पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद में अज्ञात बंदूकधारियों ने एक वरिष्ठ पत्रकार को उनके घर के बाहर गोली मार दी। पत्रकार का नाम अबसार आलम है और उन पर तब गोली चलाई गई, जब वे अपने घर के बाहर टहल रहे थे। आलम पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया अथॉरिटी (PEMRA) के चेयरमैन भी हैं। गोली पत्रकार के पसलियों में लगी, जिसके बाद से वे अस्पताल में भर्ती हैं और फिलहाल खतरे से बाहर हैं।  

अबसार आलम ने खुद वीडियो अपलोड कर इस हमले की जानकारी दी है। उन्होंने बताया, ‘मेरी पसलियों में गोली लगी है। हालांकि मैंने उम्मीद नहीं छोड़ी है। जिन लोगों ने यह किया है, मैं उनसे कहना चाहूंगा कि मैं इन हरकतों से डरने वाला नहीं हूं।’ अभी तक किसी ने भी इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।

वहीं, इस्लामाबाद पुलिस ने मामले की जांच के लिए विशेष टीम का गठन किया है। इस्लामाबाद पुलिस ने ट्वीट कर कहा, ‘टीम को सभी तरह के वैज्ञानिक व फोरेंसिक तरीके अपनाने को कहा गया है ताकि आरोपियों का पता लगाया जा सके।’

पाकिस्तान के सूचना-प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ने भी इस हमले की निंदा की है। उन्होंने कहा कि पुलिस मामले की गंभीरता से जांच कर रही है।

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दैनिक जागरण के युवा फोटो पत्रकार अमित भारद्वाज का निधन

दैनिक जागरण, आगरा के युवा फोटो पत्रकार अमित भारद्वाज का मंगलवार की सुबह निधन हो गया है।

Last Modified:
Tuesday, 20 April, 2021
Amit Bharadwaj

दैनिक जागरण, आगरा के युवा फोटो पत्रकार अमित भारद्वाज का निधन हो गया है। तबीयत खराब होने पर करीब दो दिन पहले ही अमित को आगरा में सिकंदरा स्थित रेनबो हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां मंगलवार की सुबह उन्होंने दम तोड़ दिया।

करीब 32 वर्षीय अमित लगभग पांच वर्षों से दैनिक जागरण में फोटो पत्रकार थे। बताया जाता है कि करीब एक हफ्ते पूर्व उन्हें बुखार और उल्टी की समस्या हुई थी। इस पर उन्होंने अपने फैमिली डॉक्टर से दवा ले ली। हालांकि, दवा लेने पर बुखार उतर गया था, लेकिन उल्टी आनी बंद नहीं हुई। इस बीच कराई गई कोविड की जांच में रिपोर्ट निगेटिव आई। करीब दो दिन पूर्व हालत बिगड़ने पर अमित को रेनबो अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने उनके लिवर में सूजन बताई। मंगलवार की सुबह रेनबो अस्पताल में ही अमित का निधन हो गया।

मूल रूप से आगरा के रहने वाले अमित की करीब डेढ़ साल पहले ही शादी हुई थी। उनके छह माह का बेटा है। अमित के निधन पर तमाम पत्रकारों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार पर जानलेवा हमला, पुलिस चौकी में घुसकर बचाई जान

पत्रकार की शिकायत पर पुलिस ने चार अज्ञात बदमाशों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Last Modified:
Tuesday, 20 April, 2021
Sanjay Kumar

हरियाणा के रेवाड़ी जिले में एक पत्रकार पर जानलेवा हमला करने का मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, रेवाड़ी जिला के डहीना बस स्टैंड पर सोमवार की सुबह पत्रकार संजय कुमार पर मोटरसाइकिल सवाल चार बदमाशों ने कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला कर उसे लहूलुहान कर दिया। संजय कुमार ने बस स्टैंड स्थित पुलिस चौकी में जाकर अपनी जान बचाई।

घटना सोमवार की सुबह करीब सवा चार बजे उस समय हुई, जब संजय कुमार बस स्टैंड स्थित एजेंसी जा रहे थे। पुलिस चौकी के जवानों ने लहूलुहान हालत में संजय कुमार को को प्राथमिक उपचार के लिए निजी अस्पताल में भर्ती कराया।

गंभीर हालत को देखते हुए संजय कुमार को रेवाड़ी के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है। संजय कुमार की शिकायत पर पुलिस ने चार अज्ञात बदमाशों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोविड से जिंदगी की जंग हार गईं ‘द पॉयनियर’ की पॉलिटिकल एडिटर तविशी श्रीवास्तव

‘द पॉयनियर’ की पॉलिटिकल एडिटर तविशी श्रीवास्तव का रविवार को कोविड-19 की वजह से निधन हो गया।

Last Modified:
Monday, 19 April, 2021
Tavishi5

‘द पॉयनियर’ की पॉलिटिकल एडिटर तविशी श्रीवास्तव का रविवार को कोविड-19 की वजह से निधन हो गया। वे 73 साल की थीं। तविशी को सांस लेने में तकलीफ और बुखार होने के बाद रविवार सुबह लखनऊ के केजीएमयू अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी हालत बिगड़ने के बाद शाम को उन्हें आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया था। रात-रात होते-होते उनकी हालत इतनी बिगड़ गई, उनके सांसो की डोर टूट गई।

उन्होंने अपने करियर की शुरुआत पॉयनियर के साथ फ्रीलांसर के रूप में की थी और बाद में कठिन परिश्रम के जरिए सफलता की सीढ़ियां चढ़ते हुए यहां तक पहुंची थीं। रविवार एडिशन में उनका कॉलम ‘उल्टा प्रदेश’ काफी लोकप्रिय था। उनके निधन पर तमाम नेताओं, सामाजिक कार्यकर्ताओं और पत्रकारों ने पर शोक व्यक्त किया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

1971 में पाक सेना के सरेंडर करने की खबर ब्रेक वाले वरिष्ठ पत्रकार का निधन

न्यूज एजेंसी पीटीआई के पूर्व खेल संपादक के जगन्नाथ राव का रविवार को निधन हो गया

Last Modified:
Monday, 19 April, 2021
Journalist565

न्यूज एजेंसी पीटीआई के पूर्व खेल संपादक के जगन्नाथ राव का रविवार को निधन हो गया। वे 78 साल के थे और पिछले छह साल से कैंसर से जूझ रहे थे।

उनके परिवार में पत्नी के अलावा एक बेटी है। खेल संवाददाता होने के बावजूद राव ने 1971 में पाकिस्तानी सेना के भारतीय सेना के सामने सरेंडर करने की खबर ब्रेक की थी। इसके बाद बांग्लादेश का गठन हुआ था। राव 1964 से 2002 में सेवानिवृत्त होने तक पीटीआई के साथ रहे।

राव ने छह ओलंपिक और दो एशियाई खेलों के अलावा भारतीय क्रिकेट टीम का 1982-83 का पाकिस्तान का एतिहासिक दौरा कवर किया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे लेखक-संपादक जी वेंकटसुबैया, 107 वर्ष की उम्र में हुआ निधन

कन्नड़ के लेखक, संपादक और लेक्सियोग्राफर जी वेंकटसुब्बैया का बेंगलुरु में सोमवार की सुबह निधन हो गया।

Last Modified:
Monday, 19 April, 2021
g-venkatasubbiah

कन्नड़ के लेखक, संपादक और लेक्सियोग्राफर जी वेंकटसुब्बैया का बेंगलुरु में सोमवार की सुबह निधन हो गया। वे 107 साल के थे। कन्नड़ भाषा में उनके योगदान के लिए उन्हें पद्मश्री व साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी नवाजा गया है।

कन्नड़ साहित्यिक क्षेत्र में लोकप्रिय जी वेंकटसुबैया एक लेक्सियोग्राफर, व्याकरणिक और साहित्यिक आलोचक थे। उन्होंने 12 शब्दकोश संकलित किए हैं। उनकी रचनाओं में व्याकरण, कविता, अनुवाद और निबंध सहित कन्नड़ साहित्य के विभिन्न रूप शामिल हैं।

जी वेंकटसुब्बैया का जन्म 23 अगस्त 1913 में मांड्या जिले के गंजम गांव के श्रीरंगपटना में हुआ था। वे आठ भाई-बहनों में दूसरे स्थान पर थे। उनके पिता गंजम थिमनियाह एक प्रसिद्ध कन्नड़ और संस्कृत विद्वान थे। जी वेंकटसुब्बैया को अपने पिता से ही कन्नड़ के प्रति प्रेम की प्रेरणा मिली थी। जी वेंकटसुब्बैया की प्राथमिक स्कूली शिक्षा दक्षिण भारतीय राज्य कर्नाटक के बन्नूर और मधुगिरि के शहरों में हुई है। कन्नड़ में पोस्ट-ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद उन्होंने मांड्या में एक नगरपालिका स्कूल में बतौर शिक्षक के रूप में अपना करियर शुरू किया था। इसके बाद वे दावणगेरे के एक हाई स्कूल और मैसूरु में महाराजा कॉलेज में पढ़ाने चले गए। फिर वे  बेंगलुरु के विजया कॉलेज में शिफ्ट हो गए। 1973 में जी वेंकटसुब्बैया ने विजया कॉलेज से सेवानिवृत्त होने के बाद इसके मुख्य संपादक के रूप में कन्नड़-टू-कन्नड़ शब्दकोश पर काम करने की जिम्मेदारी ली। उन्होंने 2011 में बेंगलुरु में आयोजित 77वें अखिल भारतीय कन्नड़ साहित्य सम्मेलन की अध्यक्षता की थी।

जी वेंकटसुब्बैया को उनके स्मारकीय साहित्यिक कृतियों के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया जिनमें पद्मश्री, पम्पा पुरस्कार, साहित्य अकादमी द्वारा भाषा सम्मान, कर्नाटक राज्योत्सव पुरस्कार और कर्नाटक साहित्य अकादमी पुरस्कार शामिल हैं।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार बृजेन्द्र पटेल का कोरोना से निधन

पिछले कुछ वर्षों से हिंदुस्तान अखबार के आगरा एडिशन में कार्यरत थे बृजेन्द्र पटेल

Last Modified:
Saturday, 17 April, 2021
Brajendra Patel

कोरोनावायरस (कोविड-19) का कहर दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है। तमाम लोग इसकी चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके हैं और कई लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। कोरोना के संक्रमण के कारण जान गंवाने वालों में कई पत्रकार भी शामिल हैं। ऐसी ही एक दुखद खबर आगरा से आई है। खबर है कि हिन्दुस्तान के आगरा एडिशन में कार्यरत वरिष्ठ पत्रकार बृजेन्द्र पटेल का कोरोना से निधन हो गया है।

कुछ दिनों पूर्व तबीयत खराब होने पर बृजेन्द्र पटेल ने कोविड-19 की जांच कराई थी, जिसमें रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी, इसके बाद उन्हें आगरा के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालत में थोड़ा सुधार होने पर एक-दो दिन पूर्व उन्हें एसएन अस्पताल, आगरा में भर्ती कराया गया था, जहां शनिवार की सुबह उन्होंने दम तोड़ दिया।

करीब 50 वर्षीय बृजेन्द्र पटेल कानपुर के मूल निवासी थे। लगभग 25 वर्षों से मीडिया में सक्रिय बृजेन्द्र अब तक दैनिक आज, अमर उजाला और सहारा समेत तमाम मीडिया संस्थानों में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके थे। करीब दो साल से वह हिंदुस्तान, आगरा में अपनी भूमिका निभा रहे थे।  

बृजेन्द्र पटेल के निधन पर डॉ. अनिल दीक्षित, विनोद भारद्वाज, पीपी सिंह, अवधेश माहेश्वरी, ताज प्रेस क्लब के महासचिव उपेंद्र शर्मा और राज कुमार दंडौतिया सहित तमाम पत्रकारों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

PTI के पूर्व पत्रकार जमालुद्दीन अहमद का निधन

प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) के पूर्व पत्रकार जमालुद्दीन अहमद का निधन हो गया।

Last Modified:
Saturday, 17 April, 2021
Death

प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) के पूर्व पत्रकार जमालुद्दीन अहमद का निधन हो गया। उनके पारिवारिक सदस्यों ने शुक्रवार को मीडिया को बताया कि जमालुद्दीन अहमद का निधन हाल में एक बीमारी की वजह से नई दिल्ली में हुआ।

जमालुद्दीन अहमद 2007-2008 के दौरान मध्यप्रदेश के भोपाल में पीटीआई के ब्यूरो प्रमुख रहे। उन्होंने साथ ही यहां कई समाचार पत्रों के लिए भी काम किया।

वहीं  आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अहमद के निधन पर दुख व्यक्त किया है और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना ईश्वर से की।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए