जानें, 15 वाइस चांसलर समेत 300 से अधिक शिक्षाविद् क्यों पहुंचे उपराष्ट्रपति के 'दरबार' में

माखनलाल यूनिवर्सिटी में विवादों का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 17 April, 2019
Last Modified:
Wednesday, 17 April, 2019
MAKHANLAL

माखनलाल यूनिवर्सिटी में विवादों का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। आर्थिक अपराध अन्वेषण प्रकोष्ठ (ईओडब्ल्यू) द्वारा विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति बृजकिशोर कुठियाला सहित 20 प्रोफेसर व कर्मचारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के बाद मामला तूल पकड़ता जा रहा है। अकडेमिशियन्स फ़ॉर फ्रीडम, दिल्ली, के तत्वावधान में 300 से अधिक प्राध्यापकों सहित 15 से अधिक कुलपति, पूर्व कुलपति और प्रति कुलपतियों ने विश्वविद्यालय पर राजनैतिक दमन का आरोप लगाते हुए उपराष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा है और इसमें हस्तक्षेप की मांग की है। ग़ौरतलब है कि उपराष्ट्रपति इस विश्वविद्यालय के विज़िटर (कुलाध्यक्ष) हैं और विश्वविद्यालय के अधिनियम के अंतर्गत उन्हें यह अधिकार प्राप्त है।

शिक्षकों का कहना है कि विश्वविद्यालय प्रशासन ने विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति और अन्य 20 प्राध्यापकों पर बिना विधिसम्मत जाँच पड़ताल के गंभीर आरोपों पर एफआईआर दर्ज करवाई है। आरोपी प्राध्यापकों को अपना पक्ष रखने का या कोई स्पष्टीकरण देने का भी अवसर नहीं दिया गया। ज्ञापन में देने वाले लोगों में राज्यसभा सांसद प्रो. राकेश सिन्हा, हिमाचल प्रदेश केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. कुलदीपचन्द अग्निहोत्री, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस्ड स्टडीज़ के अध्यक्ष प्रो. कपिल कपूर, बी पी एस महिला विश्वविद्यालय, सोनीपत की कुलपति प्रो. सुषमा यादव, सिद्धार्थनगर विश्वविद्यालय, सिद्धार्थनगर के कुलपति प्रो. सुरेंद्र दुबे, राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय, प्रयागराज के कुलपति प्रो. के एन सिंह, चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एन के तनेजा, गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय, नोएडा के कुलपति प्रो. भगवती प्रकाश शर्मा, विश्वभारती विश्वविद्यालय, शांतिनिकेतन के कुलपति प्रो. बिद्युत चक्रबर्ती, महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय मोतीहारी के प्रति कुलपति प्रो. अनिल राय, कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय, रायपुर के पूर्व कुलपति प्रो. मानसिंह परमार, भागलपुर विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो. प्रेमचंद पतंजलि इत्यादि के नाम शामिल हैं।

विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘हम सभी शिक्षकगण, हतप्रभ और आहत हैं कि माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्विद्यालय, भोपाल की महापरिषद के अध्यक्ष ने विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार को, पूर्व कुलपति एवं अन्य 20 वर्तमान शिक्षकों पर बिना जाँच के और कई अप्रमाणित आरोपों पर FIR करने का आदेश दिया। विश्वविद्यालय के शिक्षकों पर एफआईआर करने जैसा गंभीर कदम, एक सम्पूर्ण विधिसम्मत प्रक्रिया और स्पष्टीकरण के नोटिस भेजे जाने के पश्चात ही युक्तिसंगत माना जा सकता है। तब भी, उचित यही है, कि एक पूर्ण और पक्षपातरहित जाँच की जाए क्योंकि संबंधित व्यक्ति विश्वविद्यालय के शिक्षक हैं और अत्यन्त जिम्मेदार नागरिक हैं।‘

ज्ञापन में कहा गया है, ‘हम आशंकित हैं कि माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय की महापरिषद के अध्यक्ष के इस कदम से राजनैतिक प्रतिशोध की गंध आती है। क्योंकि आवश्यक प्रक्रिया का पालन नहीं हुआ है, अतः यह कदम स्पष्टतः असमर्थनीय है और निश्चित रूप से एक लंबी कानूनी लड़ाई की ओर ले जा सकता है। सरकार को भले ही इससे कोई अंतर ना पड़ता हो परन्तु यह शिक्षकों और उनके परिवारों के लिए अत्यंत प्रताड़ित करने वाला होगा। इस संदर्भ को देखते हुए हमें संदेह है कि कोई भी जांच कमेटी जो विश्वविद्यालय द्वारा अपने कदम को तर्कसंगत सिद्ध करने के लिए स्थापित की जाती है या की जाएगी, वह पर्याप्त रूप से पक्षपातरहित और वस्तुनिष्ठ होगी। इससे विश्वविद्यालय और सरकार की विश्वसनीयता और छवि और भी अधिक धूमिल हो जाएगी।‘

शिक्षकों का यह भी कहना है, ‘हमारी मांग है कि शिक्षकों के विरुद्ध FIR तुरंत वापस ली जाए। यद्यपि किसी संस्था की जाँच करना सरकार का विशेषाधिकार है, उसी प्रकार यह भी सरकार का ही दायित्व है कि वह पक्षपातरहित रहे जिससे शिक्षकों के प्रति न्याय होना सुनिश्चित हो। अतः, विश्वविद्यालय केविजिटर, भारत के उपराष्ट्रपति से प्रार्थना है कि वे यथाशीघ्र इस विषय में हस्तक्षेप करें और इस विश्वविद्यालय की महापरिषद के अध्यक्ष को परामर्श दें कि एफआईआर वापस लें और शिक्षकों को प्रताड़ित करना बंद करें।‘

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस खबर को लेकर मीडिया से नाराज हुए राष्ट्रपति, कही ये बात

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मीडिया से नाराजगी जगजाहिर है। मीडिया के प्रति एक बार फिर उनकी नाराजगी सामने आई है।

Last Modified:
Tuesday, 26 May, 2020
trump4

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मीडिया से नाराजगी जगजाहिर है। मीडिया के प्रति एक बार फिर उनकी नाराजगी सामने आई है। दरअसल, मीडिया में कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित देश की स्थिति के बीच ट्रंप के गोल्फ खेलने की खबर सामने आई थी। लिहाजा इसी खबर को लेकर ट्रंप ने मीडिया पर निशाना साधा है। ट्रंप ने मीडिया पर हमला बोलते हुए कहा कि मुझे पता था कि यह होगा।

राष्ट्रपति ने इस मामले पर सफाई देते हुए ट्वीट में लिखा, ‘बाहर निकलने के लिए या थोड़ा व्यायाम करने के लिए मैं हर वीकेंड पर गोल्फ खेलता हूं। फर्जी और भ्रष्टाचारी न्यूज ने इसको ऐसे दिखाया जिससे यह पाप की तरह लगने लगा।’

ट्रंप ने आगे लिखा, 'मीडिया ने यह क्यों नहीं कहा कि मैंने तीन महीने बाद पहली बार गोल्फ खेला है और अगर मैं तीन वर्ष बाद भी गोल्फ खेलता तब भी वे इसी तरह से ही कहते। वे नफरत और बेईमानी के आदि हो चुके है तथा वे वास्तव में विक्षिप्त हैं।'

अमेरिका के प्रमुख प्रकाशनों ने दरअसल देश में कोरोना वायरस से एक लाख लोगों की मौत के बीच ट्रम्प के वर्जीनिया में गोल्फ खेले जाने को लेकर उनकी कड़ी आलोचना की थी जिसको लेकर उन्होंने यह ट्विट किया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, अमेरिका (Coronavirus in America) में अबतक कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 17 लाख पहुंच गई है, जबकि मौत का आंकड़ा 99,459 हो गया है। कोविड-19 (COVID-19) से 3 लाख 53 हजार लोग ठीक भी हुए हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

MakeMyTrip से अलग होकर अनंत पटेल ने इस OTT प्लेटफॉर्म के साथ शुरू की नई पारी

MakeMyTrip के अनंत पटेल अब ‘डिज्नी+ हॉटस्टार’ (Disney+ Hotstar) के साथ जुड़ गए हैं। उन्हें यहां मार्केटिंग डायरेक्टर बनाया गया है

Last Modified:
Monday, 25 May, 2020
Anant Patel

MakeMyTrip के अनंत पटेल अब ‘डिज्नी+ हॉटस्टार’ (Disney+ Hotstar) के साथ जुड़ गए हैं। उन्हें यहां मार्केटिंग डायरेक्टर बनाया गया है। पटेल ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट को अपडेट कर इस बात की जानकारी दी है।

उन्हें एक दशक से भी ज्यादा का अनुभव है और उनका पिछला असाइनमेंट  MakeTyTrip के साथ था, जहां वे मार्केटिंग में असोसिएट डायरेक्टर के तौर पर कार्यरत थे। वे पिछले चार वर्षों तक इसकी कंपनी के साथ जुड़े हुए थे।

ट्रैवेल पोर्टल से पहले, पटेल विभिन्न पदों पर रहते हुए OLX, Hungama और JUSTDIAL जैसी कंपनियों के साथ जुड़े हुए थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया को अलविदा कह गए वरिष्ठ खेल पत्रकार डॉ. स्वरूप बाजपेयी

मध्य प्रदेश के वरिष्ठ खेल पत्रकार और समीक्षक डॉ. स्वरूप बाजपेयी का रविवार को निधन हो गया। वे  78 वर्ष के थे और बाजपेयी पिछले कुछ समय से गले के कैंसर से पीड़ित थे

Last Modified:
Monday, 25 May, 2020
Dr. Swaroop Bajpai

मध्य प्रदेश के वरिष्ठ खेल पत्रकार और समीक्षक डॉ. स्वरूप बाजपेयी का रविवार को निधन हो गया। वे  78 वर्ष के थे और बाजपेयी पिछले कुछ समय से गले के कैंसर से पीड़ित थे। इसकी वजह से उनका स्वास्थ्य लगातार गिरता चला गया और उन्होंने रविवार को आखिरी सांस ली।

क्रिकेट के प्रसिद्ध सांख्यिकीविद रहे डॉ. बाजपेयी को क्रिकेट का चलता फिरता इनसाइक्लोपीडिया माना जाता था। उनके परिवार में पत्नी के अलावा 5 बेटियां और 1 बेटा है।

एक सप्ताह के भीतर शहर में ख्यात खेल हस्तियों के दुनिया से विदा होने का यह दूसरा मामला है। इससे पहले बास्केटबॉल के पूर्व नेशनल खिलाड़ी और नए बॉस्केटबॉल कॉम्पलेक्स के कर्णधार भूपेंद्र बंडी जी का निधन हुआ था और अब डॉ. बाजपेयी हमारे बीच नहीं रहे हैं।

डॉ. बाजपेयी कई दशक तक ‘नईदुनिया’ अखबार से जुड़े रहे। यही नहीं,  उन्होंने 1983 से 2005 तक ‘नईदुनिया’ की खेल पत्रिका 'खेल हलचल' का जिम्मा भी संभाला। वे शहर के ऐसे शख्स थे, जिन्हें क्रिकेट के आंकड़ें मुंह जुबानी याद रहते थे।

1999 में डॉ. बाजपेयी ने वन-डे क्रिकेट विश्व कप पर पुस्तक का प्रकाशन भी किया। उन्होंने इंदौर क्रिश्चियन कॉलेज से पढ़ाई पूरी की और फिर बाद में यहीं पर इतिहास के विभागाध्यक्ष रहे। उन्हें कॉलेज से इस कदर लगाव था कि सेवानिवृत्ति के बाद भी वहीं पढ़ाते रहे।

डॉ. बाजपेयी मध्य भारत के एकमात्र ऐसे व्यक्ति थे, जिन्होंने होलकर कालीन क्रिकेट और कुश्ती पर पीएचडी की उपाधि प्राप्त की थी। उन्हें कविताओं का भी शौक था। छात्र जीवन में वे राजनीति में भी सक्रिय रहे।

हमेशा हंसमुख और लोगों की मदद में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने वाले डॉ. बाजपेयी के अचानक निधन से इंदौर का पूरा खेल जगत स्तब्ध है। मध्यप्रदेश टेबल टेनिस संगठन के आजीवन अध्यक्ष पद्मश्री अभय छजलानी के अलावा, चेयरमैन ओम सोनी, अर्जुन अवॉर्डी कृपाशंकर बिश्नोई ने गहरा शोक व्यक्त किया है। उनका अंतिम संस्कार सोमवार सुबह 9 बजे रामबाग मुक्तिधाम में होगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना की चपेट में आए न्यूज चैनल के एंप्लाई की मौत

देश में कोरोनावायरस (कोविड-19) का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। अपनी जान जोखिम में डालकर रिपोर्टिंग कर रहे तमाम मीडियाकर्मी भी इस महामारी की चपेट में आ रहे हैं।

Last Modified:
Monday, 25 May, 2020
Corona

देश में कोरोनावायरस (कोविड-19) का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। आए दिन तमाम लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। कोरोना के संक्रमण के कारण कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। इसी तरह की एक खबर अब मुंबई से आई है, जहां कोरोना की चपेट में आए इलेक्ट्रॉनिक चैनल के एंप्लाई रोशन डायस (Roshan Dias) का शुक्रवार को निधन हो गया।

बता दें कि रोशन डायस का अप्रैल में कोरोना टेस्ट करवाया गया था। इस टेस्ट में करीब 53 मीडियाकर्मी कोरोना पॉजिटिव मिले थे। रोशना का कोरोना टेस्ट भी पॉजिटिव आया था और उन्हें आइसोलेशन वार्ड में क्वारंटाइन किया गया था। हालत बिगड़ने पर उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया था, जहां पर उन्होंने शुक्रवार को दम तोड़ दिया।

करीब 46 वर्षीय रोशन डायस के परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं। रोशन डायस मुंबई में ‘टीवी9मराठी चैनल’ के आईटी विभाग में कार्यरत थे। इससे पहले वह ‘स्टार न्यूज’ में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सैन्य अधिकारी ने चैनल कर्मियों के संक्रमित होने की फैलायी झूठी खबर, मामला दर्ज

सोशल मीडिया पर कोरोना से जुड़ीं अफवाहों का प्रसार तेजी से हो रहा है। इसी बीच एक शरारती युवक ने एक टीवी चैनल के कर्मचारियों के कोरोना पॉजिटिव होने की अफवाह फैला दी

Last Modified:
Saturday, 23 May, 2020
Corona

सोशल मीडिया पर कोरोना से जुड़ीं अफवाहों का प्रसार तेजी से हो रहा है। इसी बीच एक शरारती युवक ने एक टीवी चैनल के कर्मचारियों के कोरोना पॉजिटिव होने की अफवाह फैला दी, जिसके बाद उसके खिलाफ शिकायत दर्ज हो गई है।

बता दें कि यह खबर उत्तर प्रदेश के नोएडा इलाके की है। इस मामले में पुलिस ने राजेश नामक युवक के खिलाफ थाना फेस-2 में मुकदमा दर्ज किया है।

अपर पुलिस उपायुक्त अंकुर अग्रवाल के मुताबिक, सेक्टर-85 स्थित एक निजी चैनल में काम करने वाले राहुल खन्ना ने थाना फेस-2 में रिपोर्ट दर्ज कराई है कि राजेश नामक युवक ने अपने फेसबुक अकाउंट पर 20 मई को एक विवादित पोस्ट डाला।

शिकायत में कहा गया है कि आरोपी ने अपने पोस्ट में लिखा कि एक चैनल के बाद अब दूसरे चैनल के 19 कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव निकले। आरोपी ने लिखा कि यदि कोई संबंधित चैनल का कर्मचारी किसी के आसपास रहता है, तो उससे दूरी बनाएं। उन्होंने बताया कि उक्त पोस्ट के बाद संबंधित चैनल के अधिकारियों ने स्वास्थ्य विभाग से अपने कर्मचारियों की जांच करवाई। जांच में सामने आया कि वर्तमान में चैनल का कोई भी कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव नहीं है। अपर उपायुक्त ने बताया कि थाना फेस- दो में आईटी एक्ट सहित विभिन्न धाराओं में उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

अपर उपायुक्त ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पुलिस को पता चला की आरोपी आगरा जिले में है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने आरोपी राजेश को देर रात गिरफ्तार कर लिया है। उन्होंने बताया कि आरोपी सेना में राडार अधिकारी के रूप में काम करता है और उसे आगरा जिले से गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि आरोपी को गौतमबुद्ध नगर अदालत में पेश किया जा रहा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना के खिलाफ 'जंग' में यूं भागीदारी निभा रही पर्वतीय भ्रातृ समाज सेवा समिति

कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ ‘जंग’ में लाजपतनगर पर्वतीय भ्रातृ समाज सेवा समिति के कार्यकर्ता जी-जान से जुटे हुए हैं

Last Modified:
Friday, 22 May, 2020
Good Initiative

वैश्विक महामारी कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ ‘जंग’ में उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद स्थित साहिबाबाद में लाजपतनगर पर्वतीय भ्रातृ समाज सेवा समिति के कार्यकर्ता जी-जान से जुटे हुए हैं। इसके तहत संस्था की पूरी टीम लगातार प्रभावित लोगों की मदद कर रही है। इसके तहत पहले तो संस्था की ओर से आसपास की कॉलोनियों को कोरोना मुक्त करने के लिए हर घर को सैनिटाइज किया गया, फिर भूखे-प्यासे प्रवासी श्रमिकों के लिए भोजन का इंतजाम किया गया।

संस्था के कार्यकर्ताओं द्वारा लगभग 400 लोगों को भोजन के पैकेट वितरण किए गए, जिनमें सामुदायिक भवन लाजपतनगर में ठहराए गए 55 श्रमिकों से लेकर अर्थला मोहन नगर व शालीमार गार्डन तक सभी जगह श्रमिकों को भोजन वितरण किया गया। इसी कड़ी में समाज द्वारा अलग-अलग जगह राह गुजरते प्रवासी मजदूर श्रमिकों को पानी की बोतल, बिस्किट के पैकेट वितरित किए गए।

समाज के अध्यक्ष भूपेन्द्र न्याल, महासचिव देवेंद्र जोशी व उनकी पूरी टीम का कहना है, ‘हम यथासंभव जरूरतमंदों की सेवा करते रहेंगे। इस कार्य मे हमारी मातृ शक्ति का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। इस महामारी के दौरान लगाए गए रक्तदान शिविर के बाद संस्था के पास फोन आया कि किसी व्यक्ति की जान खतरे में है और उसे खून की सख्त आवश्यकता है। संस्था के कार्यकर्ताओं द्वारा तुरंत फोर्टिस अस्पताल में जाकर रक्तदान किया गया। मानव सेवा से बढ़ कर कोई सेवा नहीं है। हम हर व्यक्ति तक संदेश पहुंचाना चाहते है कि इस संकट की घड़ी में आगे आएं और जरूरतमंदों की मदद करें।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

CMRA ने पत्रकार बृजेश श्रीवास्तव पर जताया भरोसा, सौंपी ये जिम्मेदारी

पत्रकारिता के क्षेत्र में राष्ट्रीय विचारों के प्रवाह के लिए कार्यरत संस्था ‘सेंटर फॉर मीडिया रिसर्च एंड एनालिसिस’ (CMRA) ने बृजेश श्रीवास्तव को अपनी राष्ट्रीय टीम में शामिल कर लिया है

Last Modified:
Friday, 22 May, 2020
Brijesh

पत्रकारिता के क्षेत्र में राष्ट्रीय विचारों के प्रवाह के लिए कार्यरत संस्था ‘सेंटर फॉर मीडिया रिसर्च एंड एनालिसिस’ (CMRA) ने बृजेश श्रीवास्तव को अपनी राष्ट्रीय टीम में शामिल कर लिया है। बता दें कि इस संस्था ने उन्हें राष्ट्रीय कार्यकारिणी का सदस्य नियुक्त किया है।

काशी हिन्दू विश्वविश्वविद्यालय से शिक्षा पूर्ण करने के बाद बृजेश सामाजिक और पत्रकारिता जगत से जुड़ गए। उन्होंने कई वर्ष काशी में पत्रकारिता क्षेत्र  की संस्था विश्व संवाद केन्द्र के प्रमुख का दायित्व निर्वहन किया। बृजेश अमर उजाला, नोएडा में कार्यरत रह चुके हैं, साथ ही आर्थिक जगत की पत्रिका ‘निवेश मंथन’ के सहायक संपादक के तौर पर भी काम किया है। वर्तमान में बृजेश श्रीवास्तव मीडिया सलाहकार और राजनीतिक विश्लेषक हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना वायरस के गढ़ में शुरू हुआ संसद का सालाना सत्र, सभी पत्रकारों को कराना होगा टेस्ट

ऐसे में अब ये आदेश जारी किया गया है कि हर पत्रकार को यहां कोरोना वायरस का टेस्ट कराना जरूरी है

Last Modified:
Friday, 22 May, 2020
corona

कोरोना वायरस (Coronavirus) के गढ़ रहे चीन अब वापस पटरी पर लौटने लगा है। शुक्रवार को शुरू हुए चीनी संसद के सालाना सत्र को कवर करने के लिए आसपास के देशों से कई पत्रकार पहुंच रहे हैं। ऐसे में अब ये आदेश जारी किया गया है कि हर पत्रकार को यहां कोरोना वायरस का टेस्ट कराना जरूरी है।

संसद में पत्रकारों की एंट्री के लिए कुछ ही सीटें बुक की गई हैं, बाकि अन्य को वीडियो लिंक के जरिए ही वहां से जुड़ना होगा। बुधवार को यहां हॉन्गकॉन्ग, ताइवान समेत अन्य पड़ोस के देशों से पत्रकार पहुंचे। बुधवार को जो टेस्ट हुए हैं, उनमें सभी का रिजल्ट नेगेटिव आया है। इसके बाद अब यहां हर किसी का एसिड टेस्ट करवाया जा रहा है, जिसके बाद पत्रकारों को कुछ घंटे आइसोलेशन में रहना होगा। सिर्फ पत्रकार ही नहीं बल्कि हर किसी को यहां इस टेस्ट को करना होगा।

बताया जा रहा है कि यहां करीब तीन हजार लोग जुटेंगे, जो चीन के अलग-अलग हिस्सों से आ रहे हैं। इस दौरान मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर नई गाइडलाइन्स जारी की गई हैं।

बता दें कि कोरोना की वजह से चीनी संसद का सालाना सत्र करीब 78 दिनों के लिए टल गया था, जो अब शुक्रवार से शुरू हो गया है। इस सत्र में मौजूदा चुनौतियों, आर्थिक चुनौती और दुनिया में कोरोनावायरस की स्थिति को लेकर चर्चा होनी है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया को अलविदा कह गए वरिष्ठ पत्रकार मनोहर एस. देसाई

वरिष्ठ पत्रकार मनोहर एस. देसाई का मुंबई के उप-नगर थाणे में निधन हो गया। वे 86 वर्ष थे और लंबे समय से बीमारी से ग्रसित थे

Last Modified:
Friday, 22 May, 2020
manohar-s-desai

वरिष्ठ पत्रकार मनोहर एस. देसाई का मुंबई के उप-नगर थाणे में निधन हो गया। वे 86 वर्ष थे और लंबे समय से बीमारी से ग्रसित थे। उन्हें डिमेंशिया और किडनी से संबंधित बीमारियां थी। देसाई के परिवार वालों ने गुरुवार को इस बात की जानकारी दी। देसाई अपनी पत्नी के साथ, लंबे समय से मुंबई में रह रहे थे। 

देसाई का जन्म कर्नाटक के बेलगाम में साल 1934 में हुआ था। उन्होंने दक्षिण-मध्य मुंबई में स्थित फीनिक्स मिल्स में एक बुनकर के रूप में अपने काम की शुरुआत की थी। इसके बाद 1956 में ऑल इंडिया रेडिया पर कन्नड़ ड्रामों में कई किरदार निभाए। फिर उन्होंने बैंगलुरू के ‘डेक्कन हेराल्ड’ अखबार में बॉम्बे के संवाददाता के रूप में कार्य करना शुरू किया। 

इसके बाद कुछ वर्षों तक कई अन्य अखबारों में काम किया और फिर उन्होंने 1964 में मुंबई के ‘दि इंडियन एक्सप्रेस’ समूह के प्रसिद्ध फिल्म और बॉलीवुड अखबार 'स्क्रीन' में शामिल हो गए। अपने लंबे करियर में, उन्होंने घरेलू फिल्म कार्यक्रमों के अलावा मास्को, ताशकंद, बर्लिन, लंदन और पेरिस में अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोहों को कवर किया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

प्रो. संजय द्विवेदी को MCU में मिली नई जिम्मेदारी

देश के जाने-माने पत्रकार और मीडिया शिक्षक प्रो. संजय द्विवेदी 10 वर्ष से अधिक समय तक माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय ( MCU) के जनसंचार विभाग के अध्यक्ष भी रहे हैं।

Last Modified:
Thursday, 21 May, 2020
Sanjay Dwivedi

देश के जाने-माने पत्रकार और मीडिया प्रोफेसर संजय द्विवेदी को माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय का प्रभारी कुलपति नियुक्त किया गया है। इससे पहले वे विश्वविद्यालय के कुलसचिव की जिम्मेदारी निभा रहे थे। प्रो. द्विवेदी 10 वर्ष से अधिक समय तक विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के अध्यक्ष भी रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि प्रो. संजय द्विवेदी लंबे समय तक सक्रिय पत्रकारिता में रहे हैं। उन्हें प्रिंट, बेव और इलेक्ट्रॉनिक, तीनों ही मीडिया में कार्य करने का वृहद अनुभव है। उन्होंने ‘दैनिक भास्कर’, ‘हरिभूमि’, ‘नवभारत’, ‘स्वदेश’, ‘इंफो इंडिया डाट काम’ और छत्तीसगढ़ के पहले सेटलाइट चैनल ‘जी-24 छत्तीसगढ़’ जैसे मीडिया संगठनों में महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां संभाली।

मुंबई, रायपुर, बिलासपुर और भोपाल में लगभग 14 साल सक्रिय पत्रकारिता में रहने के बाद प्रो. द्विवेदी शिक्षा क्षेत्र से जुड़े। फरवरी-2009 में वे विश्वविद्यालय से जुड़े थे। विश्वविद्यालय में उन्होंने विभागाध्यक्ष एवं कुलसचिव जैसे महत्वपूर्ण पदों कार्य किया।

प्रो. द्विवेदी 12 वर्षों से नियमित जनसंचार के सरोकारों पर केंद्रित पत्रिका ‘मीडिया विमर्श’ के कार्यकारी संपादक भी हैं। विभिन्न समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नियमित तौर पर राजनीतिक, सामाजिक और मीडिया के मुद्दों पर लेखन करते हैं। उन्होंने अब तक 25 पुस्तकों का लेखन और संपादन भी किया है। वे विभिन्न विश्वविद्यालयों की अकादमिक समितियों एवं मीडिया से संबंधित संगठनों में सदस्य एवं पदाधिकारी भी हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए