IMA अवॉर्ड्स में इन कंपनियाों ने मचाई धूम, देखें सूची...

मार्केटिंग के क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन करने वालों को सम्‍मानित करने के लिए एक्‍सचेंज4मीडिया...

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 08 December, 2017
Last Modified:
Friday, 08 December, 2017
Samachar4media

समाचार4मीडिया ब्‍यूरो ।।

मार्केटिंग के क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन करने वालों को सम्‍मानित करने के लिए एक्‍सचेंज4मीडिया (exchange4media) द्वारा 07 दिसंबर को गुरुग्राम में इंडियन मार्केटिंग अवॉर्ड्स (IMA) के चौथे संस्करण का आयोजन किया गया। हर साल दिए जाने वाले इन अवॉर्ड्स का उद्देश्‍य ऐसे लोगों को पुरस्‍कृत करना है, जिन्‍होंने मार्केटिंग के क्षेत्र में नए कीर्तिमान स्‍थापित किए हों और नई पहचान बनाई हो।

आईएमए का यह कार्यक्रम में इस बार चार कैटेगरी और 22 सब-कैटेगरी में बांटा गया था। समारोह के दौरान कुल 44 अवॉर्ड्स दिए गए।

इस साल सबसे बड़े विजेता के तौर पर उभरकर सामने आए मीडियाकॉम कम्युनिकेशंस प्राइवेट लिमिटेड (MediaCom Communications Pvt Ltd), जिसने कार्यक्रम के दौरान 5 गोल्ड, 2 सिल्वर और 3 ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किए। वहीं दूसरे नंबर पर माइंडशेयर इंडिया (Mindshare India) रहा, जिसने 2 गोल्ड, 2 सिल्वर और 3 ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किए।

इस कार्यक्रम में टाइटन इंडस्ट्रीज (Titan Industries) के मैनेजिंग डायरेक्टर भास्कर भट्ट को इंडस्ट्री में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए लाइफटाइम एचीवमेंट अवॉर्ड से सम्‍मानित किया गया। इसके अलावा प्रॉक्टर एंड गैंबल (Procter & Gamble) ने अपने #लाइकएगर्ल (#LikeAGirl) और #इटकेक्स2 (#ItTakes2) कैम्पेन के लिए मार्केटिंग टीम ऑफ द ईयर अवॉर्ड जीता।

वहीं अन्य विजेताओं में जियो (Jio), मैडिसन मीडिया (Madison Media), 93.5 रेड एफएम (93.5 RED FM) और लैंगूर डिजिटल प्राइवेट लिमिटेड (Langoor Digital Pvt Ltd) शामिल रहे। जियो ने 2 गोल्ड मेडल अपने नाम किए, तो वहीं मैडिसन मीडिया ने 1 गोल्ड और 2 सिल्वर। 93.5 रेड एफएम ने 1 गोल्ड और 1 सिल्वर जीता, तो लैंगूर डिजिटल ने सिर्फ 1 गोल्ड मेडल।

विजेताओं की पूरी लिस्‍ट को आप यहां देख सकते हैं-

A. Stages of Brand Building
A1. Category Creation
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Procter & Gamble - Pampers - Nappy to Happy MediaCom Communications Pvt Ltd Bronze
 
A2. New Product Launch
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Sony Pictures - How 300,000 offline TV viewers switched channels to Sony’s new dance reality show via Zapr Zapr Media Labs Bronze
 
A4. Brand Rejuvenation
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Procter & Gamble - Whisper#LikeAGirl MediaCom Communications Pvt Ltd Silver
2 Procter & Gamble - Pampers #ItTakes2 MediaCom Communications Pvt Ltd Gold
 
A5. Transformational Growth
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Changing the Way India Buys Insurance from Offline to Online Policybazaar.com Bronze
2 Jio Catalyst for Digital Revolution Jio Gold
 
A6. Customer Relationship Marketing
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Reliance Retail Limited - ‘Chhoti Si Achhai' Utopeia Communicationz Silver
 
A7. Customer Experience
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 fbb - Stitching Back A Community’s Tattered Pride Mediacom Communications Pvt Ltd Bronze
2 InstaInsure and Saral Max Bupa Health Insurance Silver
3 Future Retail Ltd. - Big Bazaar: Quick Check Out Mediacom Communications Pvt Ltd Gold
 
A8. Use of Analytics/Big Data/AI
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Royal Enfield - Problem solving framework to identify and manage crisis Interactive Avenues Pvt Ltd Silver
2 GSK Consumer Healthcare, India - How Boost used Data and Machine Learning to Identify & target kids online Mindshare India Gold
 
A9. Use of Consumer Insight
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Procter & Gamble - Pampers - Nappy to Happy MediaCom Communications Pvt Ltd Bronze
2 Royal Enfield - #SheRidesRE – The no cost campaign Interactive Avenues Pvt Ltd Silver
3 Procter & Gamble - Whisper#LikeAGirl MediaCom Communications Pvt Ltd Gold
 
B. Communications
B1. ABP News Presents Best Use of Television
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Hindustan Unilever - Rin KBC Mindshare India Silver
2 Godrej Consumer Products Limited - Bollywood's Hair Secrets Revealed Madison Media Gold
 
B2. Best Use of Print
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Hindustan Unilever - Rin Antibac Mindshare India Bronze
2 Procter & Gamble - Pampers - Nappy to Happy MediaCom Communications Pvt Ltd Silver
3 Hindustan Unilever - India's 1st Cloth Newspaper Mindshare India Gold
 
B3. Best Use of OOH
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Zee TV - WTP - Dangal Zee Entertainment Enterprises Ltd Bronze
 
B4. Best Use of Radio
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Motorola India - #MOTOModJocks Mindshare India Bronze
2 Mumbai Khadde Mein 93.5 Red FM Gold
 
B5. Best Use of Experiential Marketing
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Colors Golden Petal Club Viacom18 Media Pvt Ltd Silver
2 fbb - India Did The Denim Dance MediaCom Communications Pvt Ltd Gold
 
B6. Best Use of Digital Marketing/Social Media
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Micromax Informatics Ltd. - #AngrezipantiKoAngootha Interactive Avenues Pvt Ltd Bronze
2 Star Plus - Nayi Soch Sparkt Gold
 
B7. Best Use of Omni Channel Marketing
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Unlocking the Power of Engaged Customer HCL Technologies Ltd Bronze
 
B8. Best Use of Integrated Marketing Campaign
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 MMT Assured Hotels MakeMyTrip Bronze
2 Godrej Consumer Products Limited - An Ode to the No 1 Beauty of Punjab Madison Media Silver
3 Jio IPL Jio Gold
 
B9. Branded Content
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 GSK Healthcare, India - When Horlicks skipped the ad and told a story in rural Bihar Mindshare India Bronze
2 Godrej Consumer Products Limited - An Ode to the No 1 Beauty of Punjab Madison Media Silver
3 Procter & Gamble - Whisper#LikeAGirl MediaCom Communications Pvt Ltd Gold
 
B10. Innovative Use of Technology
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Zee TV - Sa Re Ga Ma Pa Li'l Champs Zee Entertainment Enterprises Ltd Bronze
2 Pizza Hut - Frictionless Consumer Experience on all Digital Assets SingleInterface Bronze
3 GSK Healthcare, India - How Boost used Data and Machine Learning to Identify & target kids online Mindshare India Silver
 
B11. Marketing on a Small Budget
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Adhunik Annadata : A Newspaper helps farmers on the road to Income Security Jagran Prakashan Ltd Bronze
2 Pizza Hut India - Moment Marketing Yum! Foods Bronze
3 Bloombergquint - #HomemakersTheBestCEOs iProspect Silver
 
C. Design
C1. Brand Identity/Packaging
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Signature Masterclass Diageo India Silver
 
D. Marketing to Unique Audience/with Non Traditional/Mass Media Approach
D1. Not for Profit Sector/Corporate Social Responsibility
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Bajao For A Cause 93.5 Red FM Silver
 
D2. Business to Business Sector
S.NO. Brand - Campaign Name Agency Medal
1 Casino Grande : The Gamification of Advertising Sales for Revenue Growth Jagran Prakashan Ltd Bronze
2 Infosys Limited - Reinventing the Tennis Experience Langoor Digital Pvt Ltd Gold
 
E. Excellence Awards
Marketing Team of the Year
Procter & Gamble


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
TAGS s4m
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज ब्रॉडकास्टर्स के इस संगठन का NBF में हुआ विलय

न्यूज ब्रॉडकास्टर्स फेडरेशन के गवर्निंग बोर्ड की बैठक में इस निर्णय की पुष्टि की गई है।

Last Modified:
Saturday, 19 June, 2021
NBF

न्यूज इंडस्ट्री से जुड़े मुद्दे सुलझाने और न्यूज ब्रॉडकास्टर्स के हितों की रक्षा के लिए गठित ‘न्यूज ब्रॉडकास्टर्स फेडरेशन’ (News Broadcasters Federation)  में ‘एसोसिएशन ऑफ रीजनल टीवी ब्रॉडकास्टर्स ऑफ इंडिया’ (ARTBI) का विलय हो गया है।

फेडरेशन की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, एनबीएफ के गवर्निंग बोर्ड की बैठक में इस निर्णय की पुष्टि की गई है। इस निर्णय को काफी महत्वपूर्ण बताते हुए फेडरेशन का कहना है कि इससे क्षेत्रीय समाचार चैनल्स और उनके डिजिटल प्लेटफॉर्म्स को नियामकीय जरूरतों (regulatory requirements) को समझने और उनका पालन करने में मदद मिलेगी।

‘एनबीएफ’ का कहना है कि इस कदम का उद्देश्य बड़े पैमाने पर लोकहित में फेडरेशन को 'अधिक लोकतांत्रिक, विविध और भावनात्मक रूप से एकजुट' कर न्यूज ब्रॉडकास्टिंग इंडस्ट्री को और मजबूत करना है।

इस बारे में ‘एनबीएफ’ के प्रेजिडेंट अरनब गोस्वामी का कहना है, ‘एआरटीबीआई के विलय के बाद एनबीएफ निर्विवाद रूप से देशभर में ब्रॉडकास्टर्स की सबसे बड़ी इकाई बन गई है, जो मौजूद अन्य ब्रॉडकास्टर्स संगठनों से दोगुनी से ज्यादा बड़ी है। इस उपलब्धि के बाद एनबीएफ नए न्यूज स्टैंडर्ड्स के साथ ही उच्चतम सेल्फ रेगुलेशन और एडिटोरियल स्टैंडर्ड्स स्थापित करेगी।‘

‘एआरटीबीआई‘ के फाउंडर कार्तिकेय शर्मा ने इस कदम को लेकर खुशी जताई है। एनबीएफ की ओर से जारी बयान में कार्तिकेय शर्मा के हवाले से कहा गया है, ‘हम देश के पहले मान्यता प्राप्त ‘एसोसिएशन ऑफ रीजनल टेलिविजन ब्रॉडकास्टर्स ऑफ इंडिया’ के ‘एनबीएफ’ के साथ विलय से खुश हैं। समय की मांग को देखते हुए हमने एआरटीबीआई और एनबीएफ को मिलाकर सबसे बड़ा निकाय बनाया है और इस तरह हम इसके सभी स्टेकहोल्डर्स के लिए और बेहतर कर सकते हैं।‘

वहीं, इसके संयोजक राकेश शर्मा का कहना है, ‘एआरटीबीआई पिछले एक दशक से अधिक समय से राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर क्षेत्रीय चैनल्स के मुद्दों के समाधान के लिए सरकार और अन्य एजेंसियों के साथ काम कर रहा है।’

इसके साथ ही उनका यह भी कहना है, ‘इस अवधि के दौरान प्रसारण उद्योग विकसित हुआ है। क्षेत्रीय और राष्ट्रीय ब्रॉडकास्टर्स के मुद्दे लगभग समान हैं। प्रसारण उद्योग को और मजबूत व प्रभावी बनाने के लिए ARTBI का NBF के साथ विलय करने का निर्णय लिया गया है। मुझे विश्वास है कि यह पहल क्षेत्रीय चैनलों के उद्देश्य को मजबूती प्रदान करेगी।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हैप्पी बर्थडे सुधीर चौधरी: ऐसे ही नहीं बनाई आपने लोगों के दिलों में जगह

'जी न्यूज' के एडिटर-इन-चीफ सुधीर चौधरी आज मीडिया जगत में किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। वह एक ऐसे इंसान हैं, जिन्होंने टीवी पत्रकारिता में हमेशा नए प्रयोग किए हैं और सफल भी हुए हैं।

Last Modified:
Friday, 18 June, 2021
Sudhir Chaudhary

'जी न्यूज' के एडिटर-इन-चीफ सुधीर चौधरी आज मीडिया जगत में किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। वह एक ऐसे इंसान हैं, जिन्होंने टीवी पत्रकारिता में हमेशा नए प्रयोग किए हैं और सफल भी हुए हैं। आज उनके लिए बेहद खास दिन है, क्योंकि आज उनका जन्मदिन है।

दरअसल, फील्ड रिपोर्टिंग से लेकर एंकरिंग तक ऐसा कोई काम नहीं है जो सुधीर चौधरी ने नहीं किया है। वर्तमान समय में ‘जी न्यूज’ पर रात 9 बजे आने वाले उनके प्राइम टाइम शो ‘डीएनए’ के बहुसंख्य दर्शक हैं। लोग इस शो को काफी पसंद करते हैं। अपनी रिसर्च से कई बार वह लोगों को चौंका देते हैं। उनके प्राइम टाइम में ऐसी खबरें होती हैं, जो न सिर्फ सामाजिक सरोकार से जुड़ी होती हैं, बल्कि लोगों के ज्ञान को भी बढ़ाती हैं।

सुधीर चौधरी अपनी टीम और अपने काम को लेकर किस कदर जुनूनी हैं, इसका अंदाजा आप सिर्फ इस बात से लगा सकते हैं कि कोविड-19 के दौर में एक दिन भी ऐसा नहीं हुआ, जब वह ऑफिस न गए हों और वहां जाकर खुद अपने एम्प्लॉयीज को प्रोत्साहित न किया हो। भावनात्मक मजबूती को बढ़ाना और उस डर को दूर करना बहुत जरूरी था और यही एक असली लीडर की पहचान होती है।हालांकि यह अलग बात है कि कोरोना संक्रमित होने के बाद मजबूरन उन्हें कुछ दिनों के लिए ऑफिस से दूर रहना पड़ा।

‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन’ (IIMC) से पढ़कर निकले सुधीर चौधरी ने करियर के शुरुआती दौर में ही अपना लक्ष्य सोच लिया था और जैसे अर्जुन को सिर्फ चिड़िया की आंख दिखाई देती थी, उसी तरह सुधीर चौधरी को सिर्फ अपने लक्ष्य दिखाई देते हैं और उन्हें पाने के लिए वो दिन-रात एक कर देते हैं। टीवी में छोटे पद से लेकर सीईओ तक का सफर उन्होंने तय किया है।

आपको यह जानकार हैरानी होगी कि जब ‘डीएनए’ का कंटेंट तैयार किया जाता है तो उसमें महिलाओं और बच्चों का भी पूरा ध्यान रखा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस शो को लॉन्च करने  से पहले उनकी टीम ने पूरे देश में सर्वे किया और यह पता लगाया कि लोग क्या देखना चाहते हैं और अब उसी तरह का कंटेंट वे अपने शो में देते हैं। यही वजह है कि आज उनका प्राइम टाइम शो लोगों के दिलों पर राज करता है।

आज ट्विटर पर सुधीर चौधरी के छह मिलियन से अधिक फॉलोअर्स हैं और इस लिहाज से भी वह सबसे प्रसिद्ध एंकर्स में से एक हैं। उनकी दीवानगी का आलम यह है ये कि जब हाल ही में वह कोरोना वायरस से संक्रमित हुए तो देश-दुनिया से उनकी सलामती के संदेश आने लगे। सुधीर चौधरी खुद जानते हैं कि उनकी ताकत उनकी फैंन-फॉलोइंग है। लिहाजा, उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और कोरोना से जमकर लड़ाई लड़ी और उसे मात दी।

कोरोना को मात देने के बाद सुधीर चौधरी चाहते तो सीधे टीवी पर आ सकते थे, लेकिन उन्होंने उससे पहले फेसबुक लाइव करने का निर्णय किया, ताकि उनके लाखों चाहने वाले उनसे बात कर सकें। जब वो फेसबुक लाइव हुआ तो वो कोई साधारण लाइव नहीं था। उसने एक तरह से इतिहास रच दिया। मीडिया जगत में शायद ही पहले कभी हुआ हो कि किसी प्राइम टाइम एंकर के फेसबुक लाइव को करीब नौ मिलियन लोगों ने देखा हो।

सुधीर चौधरी ने अलग-अलग संस्थानों में काम करते हुए कई बड़े मुद्दों को कवर किया है। उन्होंने लोकसभा चुनावों के साथ कई राज्यों के विधानसभा चुनावों को भी कवर किया है। इसके अलावा उन्होंने तमाम बड़े राजनेताओं के साक्षात्कार भी किए हैं। सुधीर चौधरी उन युवाओं के लिए प्रेरणा का स्तोत्र हैं, जो पत्रकारिता जगत में कदम रख रहे हैं। बहुत ही कम समय में उन्होंने न केवल आसमान की बुलंदियों को छुआ है, बल्कि वे अब अपनी दमदार एंकरिंग और अपनी प्रतिभा से मीडिया जगत में एक चमकता सितारा हैं। समाचार4मीडिया की ओर से सुधीर को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

माइक्रोसॉफ्ट में CEO सत्या नडेला का हुआ प्रमोशन, अब निभाएंगे यह जिम्मेदारी

दो दशकों में पहली बार माइक्रोसॉफ्ट का कोई सीईओ इसके चेयरमैन के रूप में भी काम करेगा।

Last Modified:
Thursday, 17 June, 2021
Satya nadella

अमेरिका की दिग्गज टेक्नोलॉजी कंपनी ‘माइक्रोसॉफ्ट’ (Microsoft) में चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) सत्या नडेला का कद और बढ़ गया है। दरअसल, कंपनी ने अब उन्हें अपना नया चेयरमैन नामित किया है। नडेला को वर्ष 2014 में माइक्रोसॉफ्ट का सीईओ बनाया गया था।

दो दशकों में पहली बार माइक्रोसॉफ्ट का कोई सीईओ इसके चेयरमैन के रूप में भी काम करेगा। इससे पहले बिल गेट्स ने कंपनी में दोहरी भूमिका निभाई हैं। बता दें कि बिल गेट्स ने वर्ष 2000 में सीईओ और इसके बाद 2014 में चेयरमैन का पद छोड़ दिया था। इसके बाद जॉन थॉम्पसन (John Thompson) ने इंडिपेंडेट चेयरमैन का पदभार संभाला था। नडेला अब जॉन थॉम्पसन की जगह लेंगे।

भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक नडेला चेयरमैन के रूप में अब बोर्ड के लिए एजेंडा तय करने और स्ट्रैटेजिक अवसरों की पहचान करने समेत तमाम रणनीतियों की दिशा में काम करेंगे। सत्या नडेला का जन्म 19 अगस्त 1967 को हैदराबाद में हुआ था।

उनके पिता एक प्रशासनिक अधिकारी और मां संस्कृत की अध्यापिका थीं। उन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई भी यहीं से की है और इसके बाद कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई करने के लिए वह अमेरिका चले गए थे। उन्होंने वर्ष 1996 में शिकागो के बूथ स्कूल ऑफ बिजनेस से एमबीए की पढ़ाई की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टीवी-फिल्म कंटेंट में निवेश को लेकर सन टीवी नेटवर्क ने लिया ये निर्णय

वित्तीय वर्ष 2021 की चौथी तिमाही की अर्निंग कॉन्फ्रेंस कॉल (earnings conference call) के दौरान कंपनी प्रबंधन ने कई अहम योजनाओं के बारे में बताया

Last Modified:
Tuesday, 15 June, 2021
Sun TV Network

‘सन टीवी नेटवर्क’ (Sun TV) के प्रबंधन ने घोषणा की है कि कंपनी वित्तीय वर्ष 2022 (FY22) में और इसके बाद टीवी कंटेंट व फिल्म कंटेंट में बड़ा निवेश करेगी। इस दौरान वित्तीय वर्ष की पहली छमाही में ओटीटी कंटेंट में निवेश को कम करना जारी रखेगी। इसके साथ ही कंपनी ने सैटेलाइट अधिकारों के अधिग्रहण के लिए 200-250 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना बनाई है।

वित्तीय वर्ष 2021 की चौथी तिमाही की अर्निंग कॉन्फ्रेंस कॉल (earnings conference call) के दौरान कंपनी प्रबंधन ने कहा, 'तेलुगु और मलयालम मार्केट में वित्तीय वर्ष के दौरान अंतर्राष्ट्रीय फॉर्मेट पर आधारित पांच-छह बड़े बजट के नॉन फिक्शन शो (non-fiction shows) लॉन्च किए जाएंगे। 30-40 एपिसोड वाले ये शो 3-4 महीने तक चलेंगे और प्रति शो की लागत करीब 25-30 करोड़ रुपये आएगी।' बता दें कि कंपनियों के लिए अर्निंग कॉन्फ्रेंस कॉल उसके सभी निवेशकों सहित विश्लेषकों को जानकारी देने का एक तरीका है।

‘सन टीवी नेटवर्क’ के एमडी महेश कुमार का कहना है, ‘हम कुछ अंतर्राष्ट्रीय फॉर्मेट के गैर-फिक्शन शो की ओर देख रहे हैं। मुझे लगता है कि यदि आप वास्तव में गुणवत्ता बढ़ाना चाहते हैं और बेहतरीन प्रॉडक्ट देना चाहते हैं तो लागत में 30-40 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हो सकती है। मुझे लगता है कि तीन-चार महीने में मार्केट में यह निवेश आ जाएगा।’ प्रबंधन ने यह भी कहा कि 1200 करोड़ रुपये के निवेश से अगले दो वर्षों में आठ फिल्मों की योजना बनाई गई है।

वहीं, ‘सन टीवी नेटवर्क’ के ग्रुप सीएफओ एसएल नारायणन का कहना है कि मूवी कंटेंट में निवेश और बढ़ाया जाएगा। ‘सन टीवी नेटवर्क’ के सीएफओ वीसी उन्नीकृष्णन का कहना है कि चार फिल्में निर्माणाधीन हैं। उनकी शूटिंग शुरू हो चुकी है और कई चरण पूरे हो चुके हैं, जबकि एक फिल्म लगभग पूरी होने वाली है। कुछ फिल्मों की शूटिंग 30 से 40 फीसदी तक पूरी हो चुकी है। चौथी फिल्म की शूटिंग अभी शुरू हुई है। आठ में से दो फिल्में बड़े बजट की हैं और उनमें दक्षिण भारत के मेगा स्टार्स लीड रोल में हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सरकार की आलोचना करने वाले पत्रकारों को बनाया जा रहा निशाना: एडिटर्स गिल्ड

यूपी के प्रतापगढ़  जिले में ‘एबीपी गंगा’  के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की संदिग्ध मौत के मामले पर एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने चिंता जताई और पुलिस के रवैये को आश्चर्यजनक करार दिया है।

Last Modified:
Tuesday, 15 June, 2021
Editors Guild

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़  जिले में ‘एबीपी गंगा’  के पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की संदिग्ध मौत के मामले पर एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने चिंता जताई और पुलिस के रवैये को आश्चर्यजनक करार दिया है। सोमवार को एक बयान जारी कर एडिटर्स गिल्ड ने कहा है कि प्रतापगढ़ में टीवी पत्रकार सुलभ श्रीवास्तव की रहस्यमयी मौत को लापरवाही बरती जा रही है।  

गिल्ड का कहना है कि सुलभ ने शराब माफिया के गलत कामों का भंडाफोड़ किया था, जिसके बाद पत्रकार को शराब माफियाओं की तरफ से धमकी दी गई, उन्होंने इस संबंध में अपनी जान को खतरा बताते हुए पुलिस को पत्र भी लिखा था, फिर भी पुलिस ने कोई सुरक्षा नहीं दी। अब मौत के बाद जल्दबाजी में पुलिस दावे कर रही है कि मौत दुर्घटना है और हैंडपंप से टकरा जाने की वजह से हादास हुआ है। गिल्ड ने कहा कि ऐसी जल्दबाजी से हैरत हो रही है।

एडिटर्स गिल्ड की तरफ से जारी बयान में यह भी कहा गया है कि ये मामला ऐसे समय में सामने आया है जब मीडिया पर केंद्र और राज्य सरकारों का दबाव बढ़ रहा है कि वह महामारी के मामले में अधिकारियों के नरैटिव पर चलें।

गिल्ड ने राजद्रोह और UAPA जैसे कानूनों के गलत इस्तेमाल का जिक्र करते हुए कहा है कि यह चिंताजनक है कि पुलिस और स्थानीय अधिकारी UAPA का इस्तेमाल पत्रकारों के खिलाफ कर रहे हैं। एडिटर्स गिल्ड ने विनोद दुआ का भी जिक्र किया है, जिनके खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज किया गया था, लेकिन बाद में सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को रद्द कर दिया था।

गिल्ड ने कहा कि सरकार की आलोचना करने वाले पत्रकारों और कार्टूनिस्ट्स को भी सोशल मीडिया पर निशाना बनाया जा रहा है। सरकार इन प्लेटफॉर्म्स पर सरकार की आलोचना करने वाले ऐसे पत्रकारों को हटाने के लिए दबाव डाल रही है। सरकार का कहना है कि उनकी आलोचना करने वाले देश के कानून का उल्लंघन कर रहे हैं। सरकार के ये काम उन वादों के उलट हैं जो पीएम मोदी ने लोकतंत्र, खुलेपन और सत्तावाद को लेकर G-7 सम्मेलन में किए थे।

गिल्ड की टिप्पणी प्रधानमंत्री मोदी के G-7 शिखर सम्मेलन में संबोधन के एक दिन बाद आई है। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में इस बात पर जोर दिया था कि साइबर स्पेस लोकतांत्रिक मूल्यों को आगे बढ़ाने के लिए एक अवसर बना रहना चाहिए, उसे नष्ट करने का नहीं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TRAI में हुई नए सचिव की एंट्री!

इससे पहले 31 मई तक सुनील कुमार गुप्ता निभा रहे थे यह जिम्मेदारी, अब वह दूरसंचार विभाग में वरिष्ठ उपमहानिदेशक के रूप में अपनी सेवाएं देंगे।

Last Modified:
Monday, 14 June, 2021
TRAI

‘भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण’ (TRAI) में नए सचिव की एंट्री की खबर सामने आई है। मिली खबर के मुताबिक, अब वी. रघुनंदन ‘ट्राई’ के नए सचिव के रूप में अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वी. रघुनंदन इस पद पर सुनील कुमार गुप्ता की जगह लेंगे। वी. रघुनंदन इससे पहले दूरसंचार विभाग (Department of Telecommunications) में डिप्टी डायरेक्टर जनरल के पद पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

सुनील कुमार गुप्ता को 31 मई, 2021 तक ट्राई सचिव के रूप में सेवा करने के लिए मार्च में दो महीने का विस्तार दिया गया था। अब वह दूरसंचार विभाग में वरिष्ठ उपमहानिदेशक के रूप में अपनी सेवाएं देंगे। वह 22 लाइसेंस सेवा क्षेत्रों (एलएसए) के तहत फील्ड यूनिट्स का कार्यभार संभालेंगे।

बता दें कि सुनील कुमार गुप्ता ने सितंबर 2017 में ट्राई के सचिव के रूप में कार्यभार ग्रहण किया था। उन्हें सुधीर गुप्ता के सेवानिवृत्त होने के बाद इस पद पर नियुक्ति दी गई थी। उससे पहले वह ट्राई में मुख्य सलाहकार (ब्रॉडकास्टिंग एवं केबल सर्विसेज) के रूप में अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

भारतीय मूल की पत्रकार मेघा राजगोपालन को मिला पुलित्जर अवॉर्ड, देखें विजेताओं की पूरी लिस्ट

कोरोनावायरस (कोविड-19) के संकट के बीच प्रतिष्ठित पुलित्जर पुरस्कार के विजेताओं की घोषणा कर दी गई है।

Last Modified:
Monday, 14 June, 2021
Megha Rajgopalan

कोरोनावायरस (कोविड-19)  के संकट के बीच प्रतिष्ठित पुलित्जर पुरस्कार के विजेताओं की घोषणा कर दी गई है। इस साल के पुलित्जर पुरस्कार के विजेताओं की सूची में भारतीय मूल की पत्रकार मेघा राजगोपालन शामिल हैं। उन्हें यह अवॉर्ड इंटरनेशनल रिपोर्टिंग की कैटेगरी में दिया गया है। उन्होंने अपनी रिपोर्ट्स में चीन के डिटेंशन कैंपों की सच्चाई दुनिया के सामने रखी थी।

अपनी रिपोर्ट्स में सैटेलाइट तस्वीरों का विश्लेषण कर मेघा राजगोपालन ने बताया था कि चीन ने किस तरह से लाखों उइगुर मुसलमानों को कैद कर रखा है।  मेघा के साथ इंटरनेट मीडिया बजफीड न्यूज (BuzzFeed News) के दो पत्रकारों को भी पुलित्जर पुरस्कार दिया गया। भारतीय मूल के पत्रकार नील बेदी को भी स्थानीय रिपोर्टिंग कैटेगरी में पुलित्जर पुरस्कार दिया गया है।

‘तांपा बे टाइम्स’ (Tampa Bay Times) के रिपोर्टर नील बेदी को फ्लोरिडा में सरकारी अधिकारियों के बच्चों की तस्करी को लेकर इंवेस्टीगेशन स्टोरी की थी और कई अहम खुलासे किए थे। वहीं, अमेरिका की डार्नेला फ्रेजियर को 'पुलित्जर स्पेशल साइटेशन' का अवार्ड दिया गया है। उन्होंने मिनेसोटा में उस घटना को रिकॉर्ड किया था, जिस दौरान अश्वेत-अमेरिकन जॉर्ज फ्लॉएड की जान चली गई थी। इसके बाद नस्लीय हिंसा के विरोध में दुनियाभर में काफी प्रदर्शन हुए थे।

यह अवॉर्ड मिलने पर मेघा राजगोपालन ने अपने पिता के बधाई संदेश को ट्विटर पर शेयर किया है। इसमें मेघा के पिता ने उन्हें पुलित्जर पुरस्कार मिलने की बधाई दी है। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ‘मम्मी ने मुझे अभी ये मैसेज फॉरवर्ड किया है। पुलित्जर पुरस्कार। बहुत बढ़िया।‘ मेघा ने इसके जवाब में उन्हें थैंक्यू लिखा है।

बता दें कि पुलित्जर पुरस्कार की शुरुआत 1917 में की गई थी। यह अमेरिका का एक प्रमुख पुरस्कार है, जो समाचार पत्रों की पत्रकारिता, साहित्य एवं संगीत रचना के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वालों को दिया जाता है।

22 श्रेणियों में दिए जाने वाले इस अवॉर्ड के विजेताओं की पूरी लिस्ट आप यहां देख सकते हैं। 

Sl. No.    Category    Winner
     JOURNALISM

1.    Public service-The New York Times
2.    Criticism- Wesley Morris of The New York Times
3.    Editorial writing- Robert Greene of the Los Angeles Times
4.    International Reporting- Megha Rajagopalan, Alison Killing and Christo Buschek of BuzzFeed News
5.    Breaking News Reporting-Staff of the Star Tribune, Minneapolis, Minn.
6.    Investigative Reporting- Matt Rocheleau, Vernal Coleman, Laura Crimaldi, Evan Allen and Brendan McCarthy of The Boston Globe
7.    Explanatory Reporting- Andrew Chung, Lawrence Hurley, Andrea Januta, Jaimi Dowdell and Jackie Botts of Reuters
8.    Local Reporting- Kathleen McGrory and Neil Bedi of the Tampa Bay Times
9.    National Reporting- Staffs of The Marshall Project; AL.com, Birmingham; IndyStar, Indianapolis; and the Invisible Institute, Chicago
10.    Feature Writing- Mitchell S. Jackson, freelance contributor, Runner’s World
11.    Commentary- Michael Paul Williams of the Richmond (Va.) Times-Dispatch
12.    Breaking News Photography- Photography Staff of Associated Press
13.    Feature Photography- Emilio Morenatti of Associated Press
14.    Audio Reporting-Lisa Hagen, Chris Haxel, Graham Smith and Robert Little of National Public Radio

     BOOKS, DRAMA, AND MUSIC

15.    Fiction- The Night Watchman by Louise Erdrich
16.    Drama- The Hot Wing King, by Katori Hall
17.    History- Franchise: The Golden Arches in Black America, by Marcia Chatelain (Liveright/Norton)
18.    Biography or autobiography- The Dead Are Arising: The Life of Malcolm X by Les Payne and Tamara Payne
19.    Poetry- Postcolonial Love Poem by Natalie Diaz
20.    General nonfiction- Wilmington’s Lie: The Murderous Coup of 1898 and the Rise of White Supremacy by David Zucchino
21.    Music- Stride, by Tania León (Peermusic Classical)
22.    Special Citation- Darnella Frazier, The teenager who recorded the killing of George Floyd

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ब्रॉडकास्टर्स की इस मांग को सूचना-प्रसारण मंत्रालय ने ठुकराया, कहा- नहीं कर सकते भेदभाव

सूचना-प्रसारण मंत्रालय ने एक आदेश जारी कर स्पष्ट कर दिया है कि मंत्रालय टीवी चैनलों और अखबारों के डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म को नए आइटी नियमों के दायरे से बाहर नहीं करेगा।

Last Modified:
Saturday, 12 June, 2021
MIB

सूचना-प्रसारण मंत्रालय ने एक आदेश जारी कर स्पष्ट कर दिया है कि मंत्रालय टीवी चैनलों और अखबारों के डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म को नए आइटी नियमों के दायरे से बाहर नहीं करेगा। साथ ही मंत्रालय ने इनसे आइटी नियम, 2021 के प्रावधानों के अनुपालन के लिए तत्काल कदम उठाने को कहा है।

सूचना-प्रसारण मंत्रालय ने कहा कि संगठनों की वेबसाइट को कानून के दायरे में लाने का औचित्य तर्कपूर्ण है। मंत्रालय ने डिजिटल न्यूज पब्लिशर, पब्लिशर ऑफ ऑनलाइन क्यूरेटट कंटेंट या ओटीटी प्लेटफॉर्म और एसोसिएशन ऑफ डिजिटल मीडिया पब्लिशर को दिए स्पष्टीकरण में यह बात कही।

मंत्रालय ने कहा कि कानून में किसी तरह के अपवाद को शामिल करने का मतलब उन डिजिटल न्यूज पब्लिशर के साथ भेदभाव करना है, जो पारंपरिक टीवी या प्रिंट मीडिया से नहीं जुड़े हैं।

जब से नए आईटी नियम अस्तित्व में आए हैं, तभी से अधिकांश मीडिया संगठनों ने, फिर चाहे वह टेलीविजन हो या प्रिंट सभी ने इन नए नियमों के तहत आने का विरोध किया है। परंपरागत मीडिया ने तर्क दिया कि वे पहले से ही विभिन्न नियमों और कानूनों के तहत बंधे हुए है।

वहीं, इसी कवायद के तहत नेशनल ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए) ने हाल ही में मंत्रालय को पत्र भी लिखा, जिसमें पारंपरिक टेलीविजन न्यूज मीडिया और उनके डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म को सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती संस्थानों के लिए दिशा-निर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियमों, 2021 के दायरे से बाहर रखने और छूट प्रदान करने का अनुरोध किया था। एनबीए ने कहा था कि ये पहले से ही विभिन्न नियमों, कानूनों, दिशानिर्देशों और संहिताओं से बंधे हुए हैं।

वहीं, अब मंत्रालय ने एनबीए के अनुरोध को अस्वीकार करते हुए कहा कि 'चूंकि, आचार संहिता यह कहती है कि ऐसे डिजिटल प्लेटफॉर्म पारंपरिक प्रिंट और टीवी मीडिया के लिए मौजूदा मानदंडों/ सामग्री नियमों का पालन करेंगे, इसलिए ऐसी संस्थाओं के लिए कोई अतिरिक्त नियामक बोझ नहीं हैं। इसलिए डिजिटल मीडिया नियमों से बाहर रखने के उनके अनुरोध को स्वीकार नहीं किया जा सकता है।'

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार कंचन गुप्ता को सूचना प्रसारण मंत्रालय में मिली बड़ी जिम्मेदारी

केंद्र सरकार ने वरिष्ठ पत्रकार कंचन गुप्ता को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। इस बारे में सूचना प्रसारण मंत्रालय की ओर से आदेश जारी कर दिए गए हैं।

Last Modified:
Friday, 11 June, 2021
Kanchan Gupta

केंद्र सरकार ने वरिष्ठ पत्रकार कंचन गुप्ता को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। इसके तहत कंचन गुप्ता को ‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) में सीनियर एडवाइजर के तौर पर नियुक्त किया गया है। इस बारे में मंत्रालय की ओर से आदेश जारी कर दिए गए हैं। इन आदेशों के अनुसार इस पद पर कंचन गुप्ता की नियुक्ति एक साल अथवा अगले आदेश तक (जो भी पहले हो) प्रभावी होगी।  

भारत सरकार के डिप्टी सेक्रेट्री राजेंद्र सिंह द्वारा जारी इस आदेश के अनुसार, इस पद के लिए नियम व शर्तें अलग से जारी की जाएंगी। कंचन गुप्ता को ‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ में सीनियर एडवाइजर के तौर पर नियुक्त किए जाने के आदेश की प्रति आप यहां पढ़ सकते हैं।

बता दें कि बंगाली पत्रकार कंचन गुप्ता जमशेदपुर और पटना में पले-बढ़े हैं। कोलकाता के सेंट जेवियर कॉलेज से ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने 'द टेलिग्राफ' अखबार से पत्रकारिता की पारी की शुरुआत की। वे एमजे अकबर और विनोद मेहता जैसे पत्रकारों के साथ काम कर चुके हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सवालों के घेरे में आने वाली रेटिंग से बेहतर है कि कोई रेटिंग न आए: अविनाश पाण्डेय

‘गवर्नेंस नाउ’ (Governance Now) के एमडी कैलाशनाथ अधिकारी के साथ एक बातचीत में एबीपी नेटवर्क के सीईओ अविनाश पाण्डेय ने तमाम मुद्दों पर खुलकर अपनी राय रखी।

Last Modified:
Friday, 11 June, 2021
Governance Now

कुछ न्यूज चैनल्स द्वारा टेलिविजन रेटिंग पॉइंट्स (टीआरपी) में हेराफेरी के आरोपों के बाद अक्टूबर 2020 के मध्य से न्यूज चैनल्स की रेटिंग जारी नहीं हो रही है। वीकली व्युअरशिप रेटिंग न होने के बावजूद लॉकडाउन के दौरान दुनियाभर में न्यूज चैनल्स की व्युअरशिप में काफी इजाफा हुआ है। इन सबके बीच ‘एबीपी नेटवर्क’ (ABP Network) के सीईओ अविनाश पाण्डेय का कहना है कि खराब या गलत रेटिंग मिलने से अच्छा है कि रेटिंग न मिले।

‘गवर्नेंस नाउ’ (Governance Now) के एमडी कैलाशनाथ अधिकारी के साथ एक बातचीत में अविनाश पाण्डेय का कहना है कि यदि रेटिंग सिस्टम से छेड़छाड़ की गई हो और वास्तविक सच्चाई सामने न आए तो सवालों के घेरे में आने वाली रेटिंग से बेहतर है कि कोई रेटिंग न आए।

पब्लिक पॉलिसी प्लेटफॉर्म पर ‘विजिनरी टॉक सीरीज’ (Visionary Talk series) के तहत होने वाले इस वेबिनार के दौरान अविनाश पाण्डेय का कहना था कि विभिन्न टीवी चैनल्स पर होने वाला शोरगुल लगभग खत्म हो गया है और चैनल्स प्रधानमंत्री के भाषणों को कवर कर रहे हैं।  

हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि लंबे समय तक डाटा की अनुपलब्धता इंडस्ट्री के लिए अच्छा नहीं है और इंडस्ट्री के दिग्गजों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि न्यूज ब्रॉडकास्टर्स को दिया जाने वाला डाटा त्रुटि रहित हो और न्यूज ब्रॉडकास्टर्स की मांग पूरी करता हो। ऐसा होने पर न्यूज ब्रॉडकास्टर्स फिर से रेटिंग्स पर वापस आ जाएंगे और हर कोई खुश होगा। अभी यह कंटेंट और एडवर्टाइजर के लिए अच्छा लगता है।   

इस बातचीत के दौरान अविनाश पाण्डेय का यह भी कहना था कि न्यूज का काम सूचना देना, शिक्षित करना और मनोरंजन करना है, लेकिन यहां आखिरी को अन्य दो पर प्राथमिकता मिलती है, यही समस्या है।

उनका कहना था, ‘इस तथ्य के बावजूद कि पिछले दो वर्षों में भारत में शिक्षा क्षेत्र में काफी सुधार हुआ है, किसी भी टीवी चैनल ने इस पर बहस नहीं की है या न्यूज चैनल्स पर कोई चर्चा नहीं हुई है। शिक्षा सुधारों को लेकर कोई भी खबर नहीं आई है। आज न्यूज इस बात पर फोकस गई है कि उनकी कवरेज ज्यादा अच्छी है। उन्होंने कहा कि इसका कारण बार्क (BARC) का डाटा है जो बताता है कि जब भी आप कोई ऐसा कार्यक्रम चलाते हैं जो सनसनीखेज हो, तो रेटिंग बढ़ने लगती है, क्योंकि बार्क सिस्टम को मनोरंजन को मापने के लिए डिज़ाइन किया गया लगता है, जो यह बहुत अच्छा करता है, लेकिन न्यूज जैसे गंभीर जॉनर को मापने के लिए पर्याप्त नहीं है।

उन्होंने कहा कि ब्रॉडकास्ट न्यूज का वर्तमान मॉडल काफी त्रुटिपूर्ण है, क्योंकि यह पूरी तरह से एडवर्टाइजिंग पर निर्भर है। यह रेवेन्यू के लिए एडवर्टाइजिंग पर निर्भर होता है। अभी या बाद में न्यूज ब्रॉडकास्टर्स को पे मॉडल (pay model) की ओर बढ़ना चाहिए जो इस सिस्टम की खामियों को दूर कर देगा।  

अविनाश पाण्डेय के अनुसार, ‘उन्हें ऐसा कंटेंट तैयार करना चाहिए, जिसे लोग सबस्क्राइब करना चाहते हों वे इस पर जाएं और इसे देखें। इसके लिए लोग भुगतान करेंगे और रेवेन्यू मिलेगा। अभी यह फ्री टू एयर (FTA) है और रेटिंग पर निर्भर है।’

उन्होंने कहा, ’जब आपका पूरा रेवेन्यू एडवर्टाइजिंग पर निर्भर होता है तो तमाम एडिटर्स उन स्टोरीज को ज्यादा प्राथमिकता देते हैं जो  मनोरंजक अथवा सनसनीखेज हों और इसने समय के साथ भारतीय टेलिविजन न्यूज की समग्र गुणवत्ता को कम कर दिया है।’

इसके साथ ही पाण्डेय का यह भी कहना था, ’हालांकि, न्यूज की गुणवत्ता पूरी तरह से कम नहीं हुई है। न्यूज चैनल को सफल होने के लिए रोचक तरीके से न्यूज प्रदान करना एक महत्वपूर्ण घटक है। इन सबके बावजूद तमाम न्यूज एडिटर्स हमेशा ये मानते हैं कि बेशक न्यूज का कुछ हिस्सा रेटिंग के लिए किया जाता है, अधिकांश न्यूज ने बेहतरीन कंटेट प्रदान किया है। दुनिया में कोई भी अन्य चैनल भारत के साथ तुलना नहीं कर सकता है, क्योंकि यह विविध और अलग है, जहां हर दिन कुछ न कुछ हो रहा है।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए