खोजी पत्रकार जमशेद खान की मेनस्ट्रीम मीडिया में हुई वापसी

<strong>समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।</strong> मशहूर इन्वेस्टीगेटिव जर्नलिस्ट और  स्टिंग ऑपरेशन स्पेशलिस्ट जमशेद खान ने फिर एक न्यूज चैनल जॉइन  कर लिया है। अब वे 'आजतक' की एसआईटी टीम का हिस्सा होगें। जमशेद ने बतौर डिप्टी एडिटर एसआईटी के पद पर जॉइन किया है। जमशेद देश के उन तीन-चार जर्नलिस्टस में शामिल हैं जिन्हें मीडिया में सबसे ज़्यादा और सबसे हंगा

Last Modified:
Tuesday, 26 April, 2016
jamshed
समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। मशहूर इन्वेस्टीगेटिव जर्नलिस्ट और  स्टिंग ऑपरेशन स्पेशलिस्ट जमशेद खान ने फिर एक न्यूज चैनल जॉइन  कर लिया है। अब वे 'आजतक' की एसआईटी टीम का हिस्सा होगें। जमशेद ने बतौर डिप्टी एडिटर एसआईटी के पद पर जॉइन किया है। जमशेद देश के उन तीन-चार जर्नलिस्टस में शामिल हैं जिन्हें मीडिया में सबसे ज़्यादा और सबसे हंगामाखेज स्टिंग्स के लिए जाता है। हज के दलाल, ऑपरेशन फ़तवा, ऑपरेशन सुपारी, ऑपरेशन आईपीएल, ऑपरेशन वर्ल्ड कप, ऑपरेशन माया, सांसदों का एमपी लैंड का फर्जाीवाड़ा जैसे दर्जनों बड़े ऑपरेशन जमशेद ने पिछले सालों में किए, जो आपने अलग-अलग चैनल्स पर देखे होंगे। क्रिकेट के उनके दो ऑपरेशंस की तो दुनिया भर में चर्चा रही तो एमपी लैंड वाले ऑपरेशन पर हफ्तों बवाल कटा। एक प्रडक्शन हाउस के जरिए जैन टीवी मे एक शो के साथ दिल्ली में अपने टीवी करियर की शुरुआत करने वाले जमशेद मूल तौर पर आगरा के हैं और करियर की शुरुआत में ही आगरा के उस दौर में ब्रज खंडेलवाल के इन्वेस्टीगेटिव पेपर 'न्यूज प्रेस' में छपी उनकी रिपोर्ट 'ताजमहल बिकता है किश्तों में' ने तो तहलका मचा दिया था। फिर दिल्ली में जमशेद ने अमिताभ ठाकुर के प्रडक्शन हाउस डीआईजी और अनिरुद्ध बहल के कोबरा पोस्ट के लिए कई इनवेस्टिंगेटिंग स्टोरीज और ऑपरेशन किए। स्टार न्यूज और इंडिया टीवी के साथ-साथ न्यूज एक्सप्रेस में भी काम किया। तहलका मैगजीन में भी काम किया है। सबसे खास बात पिछले 15 साल में अपने ऑपरेशंस में वे कभी टीवी पर दिखे हैं। हाल ही में जमशेद ने कई मित्रों के साथ मिलकर विकीलीक्स इंडिया नाम से कंपनी की शुरुआत की। आगाज़ 'ऑपरेशन बीफ' और कीर्ति आजाद वाले ऑपरेशन से हुआ। 'आजतक' में भी आगाज मंगलवार को बिहार में बंदी के बावजूद शराब के खुले खेल से हुआ है और उनके स्टिंग में कांग्रेस का एक एमएलए फंस गया है। जमशेद के साथ अरसे से साथ काम कर रहे सुशांत पाठक ने भी 'आजतक' की एसआईटी को जॉइन कर लिया है। जमशेद के पिछले कुछ सालों के स्टिंग ऑपरेशन और इन्वेस्टीगेटिव स्टोरीज में सुशांत की बड़ी भूमिका रही है। समाचार4मीडिया की तरफ से दोनों को नई पारी की ढेरों शुभकामनाएं।
  समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।
समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानें, इन तीन महीनों में जागरण प्रकाशन का कैसा रहा हाल

‘जागरण प्रकाशन’ समूह ने इस साल जून में समाप्त हुई पहली तिमाही (Q1FY21) के वित्तीय नतीजे घोषित कर दिए हैं।

Last Modified:
Tuesday, 04 August, 2020
Jagran

‘जागरण प्रकाशन’ (Jagran Prakashan) समूह ने इस साल जून में समाप्त हुई पहली तिमाही (Q1FY21) के वित्तीय नतीजे घोषित कर दिए हैं। इन नतीजों के अनुसार इसका समेकित कुल राजस्व (Consolidated net revenue) पिछले वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही (Q1FY20) में 584.28 करोड़ रुपये से साल दर साल (yoy) 67.3 प्रतिशत घटकर 191.09 करोड़ रुपये हो गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मोटे तौर पर कोविड-19 के कारण देश में हुए लॉकडाउन के कारण कुल रेवेन्यू प्रभावित हुआ है।

‘Earnings before interest, tax, depreciation and amortization’ (EBITDA) की बात करें तो इसमें बहुत ज्यादा यानी निगेटिव में गिरावट दर्ज की गई है। पिछले वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही (Q1FY20) में जहां यह 141.1 करोड़ रुपये था, वहीं इस वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही (Q1FY21) में साल दर साल (yoy) 124.26 प्रतिशत की गिरावट के साथ यह 34.23 करोड़ रुपये रह गया।

इस वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही (Q1FY21) में कंपनी को समेकित कुल नुकसान (consolidated net loss) 44.31 करोड़ रुपये का हुआ जबकि पिछले वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही (Q1FY20) में कंपनी ने 65.75 करोड़ रुपये का प्रॉफिट कमाया था। ऐसे में कुल लाभ का अंतर (net profit margin) इस वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में निगेटिव पर आ गया और यह साल दर साल (yoy) घटकर 23.19 दर्ज किया गया। पिछले वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में कुल लाभ का अंतर (net profit margin) 11.25 प्रतिशत था।  

कंपनी के विज्ञापन राजस्व (print, radio & digital) की बात करें तो इस तिमाही में साल दर साल (YoY) 74.8 प्रतिशत की कमी आई है और यह घटकर 108.7 करोड़ रुपये रह गया है। अन्य परिचालन राजस्व में भी साल दर साल 81.3 प्रतिशत की कमी आई है और यह 8.27 करोड़ रुपये रह गया है। प्रिंट के विज्ञापन राजस्व में साल दर साल 75.6 प्रतिशत की गिरावट के साथ यह 86.0 करोड़ रुपये रह गया है, जबकि सर्कुलेशन रेवेन्यू में साल दर साल (YoY) 32.1 प्रतिशत की गिरावट के साथ यह 74 करोड़ रुपये रह गया है।

हालांकि, प्रिंट के सर्कुलेशन और ऐड रेवेन्यू में पहली तिमाही में महीना दर महीना (month on month) क्रमिक सुधार देखा गया है। जून में कोविड-19 से पहले के मुकाबले ऐड रेवेन्यू 35 प्रतिशत और सर्कुलेशन रेवेन्यू 80 प्रतिशत वापस आ गया। सर्कुलेशन रेवेन्यू में साल दर साल (YoY) 31.8 प्रतिशत की कमी आई और यह 108.6 करोड़ के मुकाबले घटकर 74 करोड़ रुपये रह गया।  

इस तिमाही के दौरान डिजिटल रेवेन्यू तुलनात्मक रूप से लचीला बना रहा और इसमें साल दर साल 15.6 प्रतिशत की गिरावट के साथ यह 9.2 करोड़ रुपये रहा। तमाम डिजिटल पहल जैसे- दैनिक जागरण और मिड-डे के ई-पेपर फॉर्मेट को सबस्क्रिप्शन के तहत लाया गया। इसके अलावा यूनिक यूजर बेस में 107 प्रतिशत की वृद्धि के साथ यह 108 मिलियन हो गया, जिसने परिचालन घाटे (operating losses) को पिछले वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में दो करोड़ रुपये से इस तिमाही में एक करोड़ रुपये तक लाने में कम करने में मदद की।

म्यूजिक ब्रॉडकास्ट की बात करें तो इस तिमाही में रेवेन्यू में साल दर साल (YoY) 79.4 प्रतिशत की गिरावट के साथ यह 14.3 करोड़ रुपए रहा और पिछले वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में  22.4 रुपये EBITDA के मुकाबले 15.3 करोड़ रुपये का ऑपरेटिंग लॉस दर्ज किया गया।   

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

एडिटर की गिरफ्तारी से भारतीय पत्रकार संघ खफा, की तुरंत रिहा करने की मांग

दक्षिण कश्मीर की न्यूज वेबसाइट ‘द कश्मीरियत’ के एडिटर काजी शिब्ली को पुलिस के साइबर अपराध विभाग द्वारा पूछताछ के बाद सोमवार को हिरासत में लिया गया

Last Modified:
Tuesday, 04 August, 2020
editor54

दक्षिण कश्मीर की न्यूज वेबसाइट ‘द कश्मीरियत’ के एडिटर काजी शिब्ली को पुलिस के साइबर अपराध विभाग द्वारा पूछताछ के बाद सोमवार को हिरासत में लिया गया, जिसके बाद उन्हें श्रीनगर के केंद्रीय कारागार में भेज दिया गया है।

काजी शिब्ली पर आपराधिक दंड संहिता की धारा 107 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

वहीं दूसरी तरफ, भारतीय पत्रकार संघ (IJU) ने संपादक काजी शिब्ली को तुरंत हिरासत से रिहा किए जाने की मांग की है।

अनंतनाग निवासी शिब्ली को शुक्रवार को श्रीनगर पुलिस ने पेश होने के लिए समन जारी किया था। शिब्ली अपने कुछ रिश्तेदारों के साथ पुलिस के समक्ष पेश हुए और पूछताछ के बाद नये शहर के शेरगारी थाना में उन्हें हिरासत में ले लिया गया। सोमवार को शिब्ली को श्रीनगर केंद्रीय कारागार भेज दिया गया।

हालांकि अब तक स्पष्ट नहीं हो पाया है कि केंद्रीय कारागार में भेजे जाने से पूर्व शिब्ली को किसी मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया था या नहीं।

IJU ने उल्लेख किया है कि पिछले साल जुलाई के अंत में जम्मू-कश्मीर में अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती किए जाने के बारे में एक ट्वीट करने के बाद, शिब्ली को पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत नौ महीने के लिए यूपी के बरेली जेल में बंद कर दिया गया था। बाद में उन्हें देशभर की अलग-अलग जेलों में रखा गया था। हालांकि, उन्हें इस साल 13 अप्रैल को रिहा कर दिया गया था।

एक बयान में, IJU के अध्यक्ष गीतार्थ पाठक और IJU की महासचिव सबीना इंद्रजीत ने गिरफ्तारी की निंदा करते हुए कहा कि पिछले साल 5 अगस्त के बाद से जब से अनुच्छेद 370 को रद्द कर दिया गया था, तब से जम्मू-कश्मीर के अधिकारी लगातार पब्लिक सेफ्टी एक्ट का दुरुपयोग कर रहे हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस राज्य का भी हो गया अपना चैनल, सूचना-प्रसारण मंत्री ने किया लॉन्च

सूचना-प्रसारण मंत्रालय के सचिव अमित खरे, दूरदर्शन के डायरेक्टर जनरल मयंक अग्रवाल और प्रसार भारती के सीईओ शशि एस. वेम्पति ने चैनल के लॉन्चिंग समारोह को वर्चुअली संबोधित किया।

Last Modified:
Tuesday, 04 August, 2020
Channels

केंद्रीय सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मंगलवार को डिजिटली तौर पर ‘डीडी असम 24x7’ (DD Assam) चैनल लॉन्च किया। इस दौरान सूचना-प्रसारण मंत्रालय के सचिव अमित खरे, दूरदर्शन के डायरेक्टर जनरल मयंक अग्रवाल और प्रसार भारती के सीईओ शशि एस. वेम्पति ने चैनल के लॉन्चिंग समारोह को वर्चुअली संबोधित किया।

इस खास मौके पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘24x7 की तर्ज पर शुरू किए गए सैटेलाइट चैनल ‘डीडी असम’ यहां के लिए एक बड़ा तोहफा है, जो विविधता में एकता का संदेश देता है।’

उन्होंने कहा, ‘असम और उत्तर पूर्वी क्षेत्र प्राकृतिक विविधता और सांस्कृतिक समृद्धि से परिपूर्ण हैं और यह एकता के सूत्र को आगे बढ़ाता है। इसलिए यह आवश्यक है कि प्रत्येक राज्य का अपना दूरदर्शन चैनल हो।’

दूरदर्शन के डायरेक्टर जनरल ने कहा, ‘डीडी असम राज्य के समृद्ध इतिहास को प्रदर्शित करने में एक लंबा रास्ता तय करेगा। हर क्षेत्र में एक समृद्ध विविधता है, असम को भी अपने राज्य और देश के लोगों से बहुत कुछ कहना है।’

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सूचना-प्रसारण मंत्री को इस पहल के लिए धन्यवाद देते हुए कहा, ‘डीडी असम सरकार के संदेशों, पहलों और कार्यक्रमों को जमीनी स्तर पर लाने में मदद करेगा।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

IMPACT की 50 प्रभावशाली महिलाओं की लिस्ट से कल उठेगा पर्दा

वर्चुअल रूप से होने वाले इस कार्यक्रम को पांच अगस्त की शाम पांच बजे से इंपैक्ट और एक्सचेंज4मीडिया के फेसबुक पेज पर स्ट्रीम किया जाएगा।

Last Modified:
Tuesday, 04 August, 2020
IMPACT

एक्सचेंज4मीडिया (exchange4media) समूह की जानी-मानी वीकली मैगजीन ‘इम्पैक्ट’ (IMPACT) द्वारा मीडिया, एडवर्टाइजमेंट और मार्केटिंग में इस साल अपनी खास पहचान बनाने वाली 50 महिलाओं की लिस्‍ट (IMPACT’s 50 Most Influential Women, 2020) से पांच अगस्त को पर्दा उठ जाएगा। पांच अगस्त की शाम पांच बजे से वर्चुअल रूप से होने वाले इस कार्यक्रम में इस लिस्ट से पर्दा उठाया जाएगा। इस कार्यक्रम को IMPACT और exchange4media के फेसबुक पेज पर लाइव स्ट्रीम किया जाएगा।

इस कार्यक्रम में ‘Women in Power: Leading by example’ टॉपिक पर भी चर्चा की जाएगी, जिसमें उन प्रभावशाली महिलाओं से जुड़ी कहानियों पर चर्चा की जाएगी, जिनके सहयोग से इंडस्ट्री पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है और ऐसा माना जाता है कि आज इनकी वजह से पूरी तरह से इंडस्ट्री के मायने बदल गए हैं। इन महिलाओं के गुणों का अनुकरण करना अब अनगिनत लोगों के लिए प्रेरणास्रोत हैं। शाम साढ़े पांच बजे से छह बजे तक होने वाली इस परिचर्चा में ‘Publicis Groupe, India’ की सीईओ अनुप्रिया आचार्य, ‘Hindustan Unilever’ की एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर (Beauty and Personal Care) प्रिया नायर, ‘CNBC-TV18’ की मैनेजिंग एडिटर शीरीन भान और ‘FCB Ulka’ की चीफ क्रिएटिव ऑफिसर स्वाति भट्टाचार्य शामिल रहेंगी। इस परिचर्चा को ‘Delna Avari & Consultants’  की फाउंडर डेलना अवारी मॉडरेट करेंगी।  

इस लिस्ट को तैयार करने वाली जूरी के अध्यक्ष मैडिसन वर्ल्ड (Madison World) के चेयरमैन सैम बलसारा हैं, जिनके नेतृत्व में इस साल फरवरी के अंत में यह सूची तैयार की गई। वहीं जूरी सदस्यों में विभिन्न इंडस्ट्री के बड़े-बड़े दिग्गजों को शामिल किया गया, जिनमें ‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (Zee Entertainment Enterprises Ltd) के चीफ पीपुल ऑफिसर अनिमेश कुमार, ‘विकटान ग्रुप’ (Vikatan Group) के मैनेजिंग डायरेक्टर बी. श्रीनिवासन, डेलना अवारी एंड कंसल्टेंट्स (Delna Avari & Consultants) की फाउंडर डेलना अवारी, ‘वायकॉम18’ (Viacom18) के अंग्रेजी मनोरंजन समूह (English Entertainment cluster) के प्रमुख फरजाद पालिया, ‘क्वोरा’ (Quora) के जनरल मैनेजर गुरमीत सिंह, ‘मैक्केन वर्ल्डग्रुप इंडिया’ (Mccann Worldgroup India) के एमडी व वाइस चेयरमैन पार्थ सिन्हा,  अरुमुगम एंड कंसल्टेंट्स की फाउंडर पुनीता अरुमुगम, ‘हवास ग्रुप इंडिया’ (Havas Group India) के सीईओ राणा बरुआ, ‘वायकॉम18’ की रीजनल एंटरटेनमेंट क्लस्टर के हेड रवीश कुमार, ‘एसके एंड एसोसिएट्स’ (SK & Associates) की फाउंडर व सीईओ शालिनी कामत,  ‘जी5 इंडिया’ (Zee5 India) के सीईओ तरुण कात्याल और ‘हेड्रिक एंड स्ट्रगल’ (Heidrick & Struggles) कंपनी के प्रमुख (ग्लोबल कंज्यूमर मार्केट्स) विक्रम छाछी शामिल रहे।

बता दें कि यह इस कार्यक्रम का नौवां एडिशन है। इंपैक्ट द्वारा यह लिस्ट जारी करने की शुरुआत वर्ष 2012 में की गई थी, जिसमें देश की ऐसी महिलाओं को स्थान दिया जाता है, जिन्होंने अपनी प्रतिभा के दम पर अपने-अपने फील्ड में खास पहचान बनाई है और दूसरी महिलाओं के लिए प्रेरणास्रोत्र बनी हैं। इस लिस्ट की पूर्व में विजेता रहीं महिलाओं पर नजर डालें तो इनमें ‘गोदरेज इंडस्ट्रीज’ (Godrej Industries) की एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर और चीफ ब्रैंड ऑफिसर तान्या डबास (2019), नादिया चौहान (2018), मालिनी अग्रवाल (2017), एकता कपूर (2016), कीर्तिगा रेड्डी (2015), रामा बीजापुरकर (2014), शोभना भरतिया (2013) और विनीता बाली (2012) जैसे नाम शामिल हैं।

इस साल इस कार्यक्रम का प्रजेंटिंग पार्टनर &TV है। कार्यक्रम में रजिस्टर करने के लिए और इसे जूम पर देखने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Zee5 में कुछ यूं निवेश करेंगे ZEEL के MD पुनीत गोयनका

'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) से एक बड़ी खबर सामने आई है।

Last Modified:
Monday, 03 August, 2020
Punit Goenka

'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) से एक बड़ी खबर सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ पुनीत गोयनका ‘ZEEL’ के ऑपरेटिंग प्रॉफिट का सात प्रतिशत देश के पॉपुलर स्ट्रीमिंग सर्विस प्रोवाइडर ‘Zee5’ में निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं।  

पुनीत गोयनका ने कथित तौर पर कहा है कि उन्हें प्रमुख चैनल्स के बंद होने की चिंता नहीं है, क्योंकि दर्शक अब स्ट्रीमिंग सेवाओं की ओर रुख कर रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में गोयनका के हवाले से यह भी कहा गया है कि कंपनी डिजिटल प्लेटफॉर्म से प्रमुख कंटेंट हासिल करने की दिशा में कदम उठाएगी। गोयनका ने हाल ही में एक ओपन लेटर जारी कर कंपनी के नए वर्जन ‘ZEE 4.0’  के लिए अपने स्ट्रैटेजिक विजन के बारे में बताया था।  

इस दौरान गोयनका ने कंपनी को एक प्रमुख मीडिया और एंटरटेनमेंट कंपनी के रूप में प्रचारित करने के लिए भविष्य का एक रोडमैप रखा था। उन्होंने कहा था कि ‘ZEE 4.0’ नया और मजबूत वर्जन है, जो 5जी फॉर्मूले पर काम करेगा। इसके तहत – Governance, Granularity, Growth, Goodwill और Gusto पर फोकस किया जाएगा जो कंपनी के एक नए चरण को परिभाषित करेगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पाकिस्तान का न्यूज चैनल हुआ हैक, इस संदेश के साथ लगाया भारतीय तिरंगा

पाकिस्तान के प्रमुख टीवी चैनल ‘डॉन’ पर रविवार को अचानक भारतीय तिरंगा लहराने से लोग अचंभित हो गए

Last Modified:
Monday, 03 August, 2020
channel-dawn

पाकिस्तान के प्रमुख टीवी चैनल ‘डॉन’ पर रविवार को अचानक भारतीय तिरंगा लहराने से लोग अचंभित हो गए। बताया जा रहा है कि इस न्यूज चैनल को हैक कर लिया गया था, जिसके बाद चैनल की स्क्रीन पर भारतीय झंडा लहराता रहा। इस घटना का फोटो और विडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है।                                                                                 

बता दें कि रविवार दोपहर 3.30 बजे जिस समय चैनल को हैक किया गया, उस समय चैनल की स्क्रीन पर एक विज्ञापन चल रहा था, कि तभी टेलिविजन की स्क्रीन पर अचानक भारतीय झंडा लहराने लगा, जिस पर भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाओं वाला मैसेज भी लिखा हुआ था। हालांकि अभी तक यह नहीं बताया जा सका है कि चैनल पर यह विडियो कितने समय तक प्रसारित होता रहा।

वहीं, डॉन टीवी ने मामले की तत्काल जांच के आदेश दे दिए हैं। इस बीच घटना के कई वीडियो और स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वायरल हो गए हैं।

अधिकारियों के मुताबिक, 'चैनल हमेशा की तरह प्रसारित हो रहा था, तभी अचानक भारतीय ध्वज और हैप्पी इंडिपेंडेंस डे का लेख स्क्रीन पर चल रहे कॉमर्शियल पर दिखाई दिया और कुछ समय तक वहां रहा और फिर गायब हो गया। हम इसकी जांच कर रहे हैं।'

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे वरिष्‍ठ फोटो जर्नलिस्ट राजीव केतन

वरिष्‍ठ फोटो जर्नलिस्ट राजीव केतन का रविवार को निधन हो गया। वे पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे

Last Modified:
Monday, 03 August, 2020
rajeev

वरिष्ठ फोटो जर्नलिस्ट राजीव केतन का रविवार को निधन हो गया। करीब 50 वर्षीय राजीव केतन कुछ समय से बीमार चल रहे थे और इन दिनों संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एसजीपीजीआई), लखनऊ में भर्ती थे। 

बताया जाता है कि तबीयत खराब होने पर पहले उन्हें गोरखपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन हालत में सुधार न होने पर लखनऊ रेफर कर दिया गया था, जहां पर रविवार की शाम उन्होंने अंतिम सांस ली।

राजीव केतन पांच भाई-बहनों में सबसे छोटे थे। उनके परिवार में पत्नी, पुत्र व पुत्री हैं। वे ललित कला अकादमी के नामित सदस्य थे। इसके अलावा वह संस्कार भारती के महानगर अध्यक्ष भी थे। पिछले तीन दशक से भी ज्‍यादा समय से वे फोटो पत्रकारिता से जुड़े थे। उन्‍होंने कई प्रतिष्ठित संस्‍थानों में काम किया।

उन्‍हें एक प्रतिभाशाली फोटो जर्नलिस्‍ट के तौर पर जाना जाता था। गोरखपुर प्रेस क्‍लब के गठन के समय भी वह काफी सक्रिय रहे। प्रेस क्‍लब की पहली स्‍मारिका का आवरण चित्र उन्‍होंने ही डिजाइन किया था। वह अकसर युवा फोटोग्राफरों को फोटोग्राफी की बारीकियों से परिचित कराते नजर आते थे। उन्‍होंने फोटोग्रॉफी के क्षेत्र में पीएचडी की थी। उनके निधन से कला, साहित्‍य और पत्रकारिता जगत में शोक की लहर है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानिए, क्यों लाखों में बिका इस मैगजीन का कवर

वैसे तो यह मैगजीन अपने कंटेंट और कवर पेज को लेकर लोकप्रसिद्ध है, लेकिन 1989 में प्रकाशित  मैगजीन की कवर को एक खास व्यक्ति के ऑटोग्राफ ने बेशकीमती बना दिया है

Last Modified:
Monday, 03 August, 2020
Magazine

दुनियाभर में कई ऐसी मैगजीन छपती हैं, जो काफी लोकप्रिय होती हैं, इन्हीं में से एक है फॉर्च्यून मैगजीन (Fortune Magazine)। वैसे तो यह मैगजीन अपने कंटेंट और कवर पेज को लेकर लोकप्रसिद्ध है, लेकिन 1989 में प्रकाशित  मैगजीन की कवर को एक खास व्यक्ति के ऑटोग्राफ ने बेशकीमती बना दिया है, जिसकी बिक्री लाखों रुपए में हुई है।

बता दें कि इस कवर पेज को एक शख्स ने 12 लाख में खरीदा है। इस कवर पेज में स्टीव जॉब्स का ऑटोग्राफ था, जिससे यह इतनी खास हो गई।

मूल कीमत से 5000 गुना अधिक की कीमत में बिकने वाले इस कवर में स्टीव जॉब्स को फीचर किया गया था और इसपर उनका ऑटोग्राफ भी मौजूद था। कवर पर लिखा था- 'To Terry, Steve Jobs'। एपल इंसाइडर की रिपोर्ट के अनुसार,  उस वक्त वे NeXT सॉफ्टवेयर नामक कंप्यूटर कंपनी में थे।  

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 1980 के दशक में टेरी (Terry) स्टीव जॉब्स के लिमुसिन (limousine) के लिए ड्राइवर थे। जब टेरी ने ऑटोग्राफ मांगा, तो तुरंत एपल के फाउंटर  स्टीव जॉब्स ने अपने पास पड़ी मैगजीन के कवर पर लिखकर दे दिया था। कवर की नीलामी वाले पत्र पर टेरी ने लिखा, 'मैं जॉब्स के पास कई सालों तक काम करने वाले ड्राइवरों में से एक था। हालांकि जॉब्स ने मेरी ऑटोग्राफ मांगने वाली बात को लेकर लिमुसिन (limousine) कंपनी के पास शिकायत भी की थी।'  

1985 में जॉब्स ने एपल कंपनी को छोड़ दिया और  NeXT नाम के कंप्यूटर कंपनी के साथ काम करने लगे। 400 मिलियन डॉलर की कीमत में एपल ने NeXT सॉफ्टवेयर का अधिग्रहण कर लिया। डील के अनुसार, जॉब्स आई फोन निर्माता कंपनी एपल से वापस जुड़ गए और तत्कालीन सीइओ डॉक्टर गिल एमेलियो (CEO Dr Gil Amelio) को रिपोर्ट करने लगे इसके बाद यहां उन्हें CEO की पदवी मिल गई। कवर की नीलामी नेट डी सैंडर्स ऑक्सन्स द्वारा की गई। इसपर केवल तीन लोगों ने बोली लगाई थी। इससे पहले जॉब्स की हस्ताक्षर वाली पिक्सर एनिमेशन स्टूडियोज 1995  की फिल्म टॉय स्टोरी की पोस्टर 31,250 डॉलर में बिकी थी। पोस्टर की साइज 24 इंच  गुना 36 इंच है और इसपर 1995 के बाद हस्ताक्षर किया गया था। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सेना पर वेब सीरीज और फिल्म की रिलीज से पहले लेनी होगी रक्षा मंत्रालय से मंजूरी

सेना पर तमाम बनीं फिल्में, डॉक्यूमेंट्री और वेब सीरीज में सशस्त्र बलों के जवानों के चित्रण पर रक्षा मंत्रालय ने आपत्ति जताई है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 01 August, 2020
Last Modified:
Saturday, 01 August, 2020
army

इन दिनों सेना पर तमाम फिल्में, डॉक्यूमेंट्री और वेब सीरीज बन रही हैं, जिसमें सशस्त्र बलों के जवानों के चित्रण पर रक्षा मंत्रालय ने आपत्ति जताई है। साथ ही पत्र लिखकर केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (CBFC) को सलाह दी है कि सेना से जुड़े किसी कंटेंट के प्रसारण से पहले रक्षा मंत्रालय से अनापत्ति प्रमाण पत्र (NOC) लेने की सलाह देने पर विचार करे। हालांकि अभी इसको लेकर कोई लिखित आदेश जारी होने की बात सामने नहीं आई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रक्षा मंत्रालय को भारतीय सेना के जवानों और सैन्य वर्दी (  के अपमानजनक तरीके से फिल्म और वेब सीरीज में चित्रित करने के बारे में कुछ शिकायतें मिलीं है। इस शिकायत के बाद रक्षा मंत्रालय ने औपचारिक रूप से केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (CBFC), MEITY) और सूचना-प्रसारण मंत्रालय से कहा है कि भारतीय सेना पर बनाई गई फिल्म/डॉक्यूमेंट्री/वेब सीरीज के प्रसारण से पहले प्रॉडक्शन हाउस से कहे कि वो रक्षा मंत्रालय से NOC प्राप्त करें। बिना NOC के भारतीय सेना पर बनाई गई फिल्मों और उसके सीन का प्रसारण नहीं होगा।

केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड और सूचना-प्रसारण मंत्रालय को रक्षा मंत्रालय की ओर से यह भी कहा गया है कि यह सब उन घटनाओं को रोकने के लिए किया जा रहा है जो रक्षा बलों की छवि को बिगाड़ते हैं और रक्षा कर्मियों और दिग्गजों की भावनाओं को आहत करते हैं।

गौरतलब है कि एकता कपूर की वेब सीरीज ‘XXX: अनसेंसर्ड 2’ (XXX: Uncensored 2) में कथित रूप से सेना के अपमान और अश्लीलता फैलाने के आरोप लगे थे। इस पर विवाद होने के बाद एकता कपूर ने बयान में कहा था कि किसी की भी भावना आहत न हो, इसलिए आपत्तिजनक कंटेंट को हटा दिया गया है। उन्होंने बयान में कहा था, ‘स्थिति की पूरी जिम्मेदारी लेते हुए हम मानते हैं कि सीरीज में आपत्तिजनक दृश्य दिखाया गया जो हमारी तरफ से चूक थी।   

आलोचनाओं का सामना कर रहीं एकता कपूर ने भारतीय सेना से माफी मांगते हुए कहा था कि उनका ओटीटी प्लेटफॉर्म ‘ऑल्ट बालाजी’ (ALT Balaji) सैनिकों का बेहद सम्मान करता है। उन्होंने कहा, ‘वे हमारी सुरक्षा के लिए सीमा पर न केवल अपनी जिदंगी को खतरे में डालते हैं, बल्कि देश में एक बेहद अनुशासित और सम्मानीय संगठन हैं।'

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मीडिया मुगल रूपर्ट मर्डोक के बेटे जेम्स मर्डोक ने इंडस्ट्री में उठाया ये बड़ा कदम

मीडिया मुगल रूपर्ट मर्डोक (Rupert Murdoch) के बेटे जेम्स मर्डोक ने ‘न्यूज कॉर्प’ (News Corp) के बोर्ड से इस्तीफा दे दिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 01 August, 2020
Last Modified:
Saturday, 01 August, 2020
James Murdoch

मीडिया मुगल रूपर्ट मर्डोक (Rupert Murdoch) के बेटे जेम्स मर्डोक ने जानी मानी मीडिया कंपनी ‘न्यूज कॉर्प’ (News Corp) के बोर्ड से इस्तीफा दे दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्होंने एडिटोरियल कंटेंट को लेकर वैचारिक मतभेद का हवाला देते हुए यह कदम उठाया है।  

बता दें कि इससे पहले मर्डोक ने परिवार के स्वामित्व वाले ‘फॉक्स न्यूज’ (Fox News) से इस्तीफा दे दिया था, जहां पर उनके भाई लाचलान मर्डोक (Lachlan Murdoch) सीईओ के पद पर कार्यरत हैं। इससे पहले उन्होंने जलवायु परिवर्तन की न्यूज को लेकर ‘वॉल स्ट्रीज जर्नल’ (Wall Street Journal) की कवरेज की आलोचना भी की थी।   

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पिछले कुछ समय से जेम्स मर्डोक और रूपर्ट मर्डोक के बीच राजनीतिक विचारधारा को लेकर टकराव चल रहा है। रूपर्ट मर्डोक जहां रिपब्लिकन डोनाल्ड ट्रंप का समर्थन कर रहे हैं, वहीं जेम्स मर्डोक उनकी प्रतिद्वंद्वी और डेमोक्रेटिक पार्टी के जो बिडेन (Joe Biden) का समर्थन कर रहे हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए