खेलप्रेमियों की बीच बेहद लोकप्रिय मैगजीन ने रचा इतिहास

‘द हिन्दू’ (THE HINDU) ग्रुप की स्पोर्ट्स मैगजीन ने अपने 40 साल पूरे...

Last Modified:
Monday, 12 November, 2018
magazine

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

‘द हिन्दू’ (THE HINDU) ग्रुप की स्पोर्ट्स मैगजीन ‘स्पोर्टस्टार’ (SPORTSTAR) ने अपने सफर के 40 साल पूरे कर लिए हैं। अपनी इस खास उपलब्धि को यादगार बनाने के लिए इस पाक्षिक मैगजीन की ओर से 108 पेज का स्पेशल इश्यू प्रकाशित किया गया है। गौरतलब है कि मैगजीन का पहला इश्यू जुलाई 1978 में प्रकाशित हुआ था और तब इसकी कीमत एक रुपए रखी गई थी।

मैगजीन की इस उपलब्धि के बारे में ‘स्पोर्टस्टार’ के एडिटर अयोन सेनगुप्ता का कहना है, ‘आज के समय में किसी भी स्पोर्ट्स मैगजीन का मार्केट में टिके रहना बहुत बड़ी चुनौती है। लेकिन अपनी शुरुआत के समय से हम बदलते समय की चुनौतियों के अनुसार अपने कंटेंट में आवश्यक बदलाव करते रहे हैं हमारा जोर हमेशा से इसी बात पर रहा है कि आखिर हमारे पाठक क्या चाहते हैं और हम उन्हें उसी तरह का कंटेंट देते हैं। अपने पाठकों के प्यार और प्रोत्साहन की वजह से हमारा यह सफर वाकई में काफी यादगार रहा है और इसी वजह से आज भी हम मजबूती से टिके हुए हैं।’

108 पेज के इस इश्यू में 40 नामचीन खिलाड़ियों जैसे-सचिन तेंदुलकर, कपिल देव, पीवी सिंधु, धनराज पिल्लै, अभिनव बिंद्रा आदि के इंटरव्यू भी शामिल हैं। इसके अलावा इसमें सुनील गावस्कर, ग्रेग चैनल आदि ने भी आर्टिकल लिखे हैं।

इस इश्यू में पाठकों के लिए 40 साल के सफर को एक टाइमलाइन के रूप में भी शामिल किया गया है, जिसमें खेल जगत से जुड़े प्रत्येक वर्ष के महत्वपूर्ण घटनाक्रम को शामिल किया गया है।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इंडिया न्यूज से राणा यशवंत के बारे में आई ये बड़ी खबर

इंडिया न्यूज’ के दफ्तर से एक बड़ी खबर निकलकर सामने आई है

Last Modified:
Thursday, 18 April, 2019
RANA

‘इंडिया न्यूज’ के दफ्तर से एक बड़ी खबर निकलकर सामने आई है। दरअसल, चैनल के मैनेजिंग एडिटर (प्रोग्रामिंग और ब्रैंडेड कंटेट) राणा यशवंत ने चैनल से कुछ समय पहले इस्तीफा दे दिया था और आज उनका नोटिस पीरियड पूरा हो गया। संस्थान ने आज राणा यशवंत को एक फेयरवेल पार्टी भी दी। इस मौके पर कई साथियों ने राणा यशवंत के साथ बिताए गए पलों को संस्मरण के तौर पर भी शेयर किया।

हालांकि, चैनल को अलविदा कहने के साथ ही राणा ने अपने साथियों के नाम एक लेटर भी लिखा है। इस लेटर की शुरुआत उन्होंने यशस्वी कवि केदारनाथ सिंह की कविता से करते हुए लिखा है कि बड़े मकसद के लिए पड़ाव बदलने पड़ते हैं, आगे के सफर पर निकलना पड़ता है। राणा यशवंत द्वारा लेटर के रूप में अपने साथियों के नाम लिखे गए संदेश को आप यहां हूबहू पढ़ सकते हैं-

प्रिय साथियों,

यशस्वी कवि केदारनाथ सिंह की कविता है–‘लंबे दिन के बाद जब लौट कर आता हूं तो कुछ देर तक कमरे के दानव से लड़ना पड़ता है। पराजित कोई नहीं होता, पर समझौता भी कोई नहीं करता। शायद, हम दोनों को यह विश्वास है कि हमारे बीच एक तीसरा भी है जो अजन्मा है।‘ यह जो तीसरा है, वो संभावना है, उम्मीद है, संघर्ष है, बड़े उद्देश्य हैं  औऱ इन सबका ध्येय भविष्य की उपलब्धियां हैं। इसी की खातिर आदमी एक जगह रहता है, बाहर जाता है, लौटता है औऱ फिर जाता है। कभी-कभार इस प्रक्रिया में पड़ाव बदल जाते हैं। मेरा भी बदल रहा है। बड़े मकसद के लिए पड़ाव बदलने पड़ते हैं, आगे के सफर पर निकलना पड़ता है।

पिछले 6 वर्षों से इंडिया न्यूज के लिए, आप सबों के साथ युद्धरत रहा। दफ्तर आने-जाने के नियम-सामान्य कम, असामान्य ज्यादा रहे। आपमें से कइयों को वक्त-वेवक्त जगाया, भगाया, बताया और कई दफा जो नहीं होता लग रहा था, उसको भी मुमकिन बनाया। ऐसा आपसबों की लगन, सामर्थ्य, प्रतिभा और कई मामलों में धैर्य के कारण ही हो पाया। मेरा सफर 14 जनवरी 2013 से ‘आईटीवी’ नेटवर्क के साथ शुरू हुआ और आज मैं स्वयं के लिए एक नई राह चुन रहा हूं। लेकिन मैं आपके पास हमेशा, ठीक वैसे ही हूं, जैसे यहां काम करते हुए आपने मुझे पाया है। हां, अब वो हर छोटी-बड़ी शिकायतें, जिन्हें लेकर आप मेरे पास आते थे,उनको रखने की जगह बदल जाएंगी। बाकी कुछ नहीं।

पिछले 6 वर्षों में असाधारण सफलताओं और अद्भुत टीम-भावना के असंख्य उदाहरण बने। छोटी-सी टीम ने इतिहास के उस सबक को बार-बार दोहराया कि युद्ध संख्या से नहीं, साहस और रणनीति से जीते जाते हैं। जीवन और जिजीविषा की खूबी ये है कि संघर्ष जितना बड़ा होता है, क्षमता का इम्तिहान उतना कड़ा होता है और फिर कामयाबी उतनी ही बड़ी होती है। ‘इंडिया न्यूज’ को पिछले 6 साल में एक मुकाम तक ले आने में आप सबों की मेहनत और लगन का बड़ा योगदान रहा है। कई साथी आज कहीं और चले गए, लेकिन उनकी भी दिन-रात की मेहनत चैनल की कामयाबी में शामिल है। जो जितने दिन अपने दे गया, उतने दिनों का उसका हिस्सा इस चैनल के जीवन में हमेशा बना रहेगा।

आप सबों के पेशेवर, निजी औऱ पारिवारिक जीवन में मैं दाखिल रहा। मेरी राय रही है कि लीडर को सबसे ज्यादा एक्सेसिबल और ऑर्डिनरी होना चाहिए, ताकि उससे कोई भी बात कही-सुनी जा सके। मैंने कोशिश यही की कि जिनती परेशानियां, मुश्किलें आपकी कम कर सकूं, करूं, ताकि आप संस्थान को अपना बेहतर दे सकें। आपकी खातिर संस्थान से जब-जब जो कहा, हर वाजिब रास्ता निकलता रहा। कई दफा कुछ नहीं कर सका तो उसकी भी वाजिब वजहें रहीं। ‘इंडिया न्यूज’ मेरे जीवन में वही मायने रखेगा जैसा इंसान के लिए घर। वह कहीं रहे, पलटकर देखता रहता है। घरवाले पूछ-परख करते रहते हैं। काम करते हुए आप सबों के साथ, एक पेशेवर मगर, निजी औऱ जज्बाती रिश्ता भी बना। वह हमेशा बांधे रखेगा। एक बात औऱ जिसको अपने अंदर रख लिया, तो सच आधा ही रहेगा। पिछळे 6 वर्षों में कार्तिक जी ने जो सहयोग और सम्मान दिया, उसने मेरे कंधों पर जिम्मेदारियों का अहसास कहीं ज्यादा कराया। बहुत सारे मौकों पर चट्टान की तरह खड़े रहे और काम करने के मेरे दायरे को निर्बाध रखा। कई बार असहमतियों में भी मेरे लिए अपने मुताबिक करने की आजादी बनाए रखी। उनका इस बात के लिए भी शुक्रिया कि मुझे, आगे कुछ और करने के लिए उन्होंने आखिरकार इजाजत दे दी। संस्थान को चलाने में वरुण जी, दीपक जी, शिखा जी, नीरज सोनी जी के कंधे से कंधा मिलाकर अपनी पूरी ऊर्जा लगाई और इन सबका मेरे ऊपर एक भरोसा बना रहा।

संस्थान के भरोसे और पेशेवर रिश्ते का इससे अच्छा उदाहरण क्या हो सकता है कि मेरे इस्तीफा देने के इतने दिनों बाद भी मैं पूरे अधिकार से काम करता रहा, फैसले लेता रहा। यह मेल मैं जब लिख रहा हूं, आखिरी दिन औऱ आखिरी घंटे हैं, लेकिन आज भी सारे जरूरी काम किए, बैठकें कीं। जो कमाया है, उसी का ये सिला है। पीछे मुड़कर जब देखता हूं तो ईमानदारी से ये स्वीकार करता हूं कि इस पूरी यात्रा में आप सबों से बहुत कुछ सीखा है। यह मेरी थाती है, पाथेय भी। अगर कभी, किसी कारण से आपमें से किसी को मेरी किसी बात, फैसले या काम से कोई ठेस पहुंची हो तो उसके लिए क्षमाप्रार्थी हूं। आप सबों के सफल भविष्य की कामनाओं के साथ।

आपका शुभेच्छु
राणा यशवंत

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार पूनम अग्रवाल को बॉम्बे HC से मिली बड़ी राहत, ये है मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट ने वरिष्ठ पत्रकार पूनम अग्रवाल को बड़ी राहत प्रदान की है

Last Modified:
Thursday, 18 April, 2019
POONAM

बॉम्बे हाई कोर्ट ने महिला पत्रकार को बड़ी राहत प्रदान की है। दरअसल, कोर्ट ने केरल के जवान रॉय मैथ्यू का स्टिंग करने वाली न्यूज पोर्टल ‘द क्विंट’ की एसोसिएट एडिटर पूनम अग्रवाल के खिलाफ दर्ज एफआईआर को खारिज कर दिया है। अपने स्टिंग में पूनम अग्रवाल ने लांस नायक रॉय का इंटरव्यू किया था, जिसके सामने आने के बाद रॉय ने आत्महत्या कर ली थी।

महाराष्ट्र के नासिक की देवलाली छावनी में दो मार्च, 2017 को मैथ्यू का शव एक खाली पड़ी बैरक में छत से लटकता मिला था। इस मामले में पुलिस ने पूनम अग्रवाल और कारगिल की लड़ाई में शामिल रहे दीपचंद सिंह के खिलाफ 26 मार्च 2017 को मामला दर्ज किया था। सेना ने पूनम अग्रवाल पर प्रतिबंधित क्षेत्र में अवैध तरीके से घुसने और मैथ्यु से सेना के खिलाफ जाने वाले अहम सवाल पूछने का आरोप लगाया था। पूनम अग्रवाल के खिलाफ ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट की धारा भी लगाई गई थी।  

दरअसल, पूनम अग्रवाल ने अपने स्टिंग ऑपरेशन के जरिये सेना की सहायक व्यवस्था के तहत जवानों को अधिकारियों के घरों पर तैनात करने और उनसे घरेलू काम कराने का मुद्दा उठाया था। आरोप था कि इस स्टिंग ऑपरेशन के चर्चित होने के बाद इसमें दिखाई दिए जवान लांस नायक रॉय मैथ्यु ने आत्महत्या कर ली थी, जबकि पूनम अग्रवाल का दावा था कि सेना की आंतरिक जांच के चलते मैथ्यु ने आत्महत्या की थी।

मामले की सुनवाई के दौरान जस्टिस रंजीत मोरे और जस्टिस भारती डांगरे की खंडपीठ ने अपने चैंबर में यह विडियो और इसकी असंपादित फुटेज को देखने के बाद अब निर्णय दिया है कि पूनम अग्रवाल और दीपचंद के खिलाफ कोई मामला नहीं बनता है। इसी तरह यह मामला ऑफिशियल्‍स सीक्रेट्स एक्‍ट के दायरे में भी नहीं आता है। सुनवाई के दौरान अपने खिलाफ दर्ज मामले को रद करने की मांग को लेकर पत्रकार पूनम अग्रवाल और दीपचंद सिंह द्वारा दायर याचिका में कहा गया था कि मैथ्‍यु ने अपने अधिकारियों द्वारा डांटे जाने से क्षुब्‍ध होकर आत्‍महत्‍या की थी, न कि उनकी वजह से। दोनों पक्षों को सुनने के बाद अदालत ने पूनम अग्रवाल और दीपचंद सिंह को अग्रिम जमानत दे दी थी। इससे पहले अंतरिम जमानत मंजूर करते समय कोर्ट ने माना था, 'क्लिप को देखने के बाद ऐसा लगता है कि इस स्टिंग ऑपरेशन का उद्देश्‍य यह दिखाना था कि सेना में सहायकों से घर के छोटे-मोटे काम कराए जा रहे थे। सिर्फ इसलिए कि स्टिंग ऑपरेशन प्रतिबंधित क्षेत्र में किया गया था, यह ऑफिशियल सीक्रेट्स एक्‍ट की धारा तीन और सात का मामला नहीं बनता है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रिपोर्टिंग के दौरान पत्रकार ने किया कुछ ऐसा, वायरल हुआ विडियो

पाकिस्तान के पत्रकारों की ‘अनोखी’ रिपोर्टिंग के विडियो सोशल मीडिया में अक्सर वायरल होते रहते हैं

Last Modified:
Thursday, 18 April, 2019
Journalist

पाकिस्तान के पत्रकारों की ‘अनोखी’ रिपोर्टिंग के विडियो सोशल मीडिया में अक्सर वायरल होते रहते हैं। कभी वहां के पत्रकार गधे की पीठ पर बैठकर तो कभी बाढ़ की रिपोर्टिंग के लिए खुद तेज बहाव वाले पानी में उतरकर रिपोर्टिंग करने लगते हैं।  

पिछले दिनों पाकिस्तानी टीवी चैनल ‘सिटी42’ के सीनियर रिपोर्टर कैसर खोखर का एक विडियो भी काफी वायरल हुआ था, जिसमें वे न्यूज रूम के लाइव चैट में इतने ज्यादा इमोशनल हो गए कि तौबा-तौबा करने लगे। उन्होंने कम से कम 20 बार अपने कान पकड़कर तौबा-तौबा की। दरअसल, वह मोदी सरकार से नाराज थे कि इंडिया ने पुलवामा के बाद पाकिस्तान में निर्यात होने वाले टमाटर पर बैन लगाकर काफी गलत काम किया है। उसका कहना था कि भारत को इसका जवाब एटम बम से दिया जायेगा। इस बार उनका एक और विडियो सामने आया है, जिसमें वह भारत-पाक सीमा रेखा (LOC)  पर खड़े हैं और हेलमेट पहनकर तौबा-तौबा करते नजर आ रहे हैं।

पाकिस्तानी पत्रकार नायला इनायत ने इस विडियो को अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है, जिसे आप यहां देख सकते हैं-

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज रूम में एंकर पहनकर आई ऐसी ड्रेस, सोशल मीडिया पर खूब हो रही चर्चा

पाकिस्तान में एक न्यूज एंकर की ड्रेस इन दिनों सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बनी हुई है

Last Modified:
Thursday, 18 April, 2019
anchor

पाकिस्तान में हालात कितने खराब हो चले हैं कि अब न्यूज एंकर्स को सामने आकर लोगों को सुरक्षा के लिए सलाह देनी पड़ रही है। जी हां, सोशल मीडिया पर आजकल ऐसा ही एक विडियो वायरल हो रहा है, जिसमें न्यूज एंकर लोगों को सलाह दे रही है कि यदि बदमाशों की गोली से बचना है तो उन्हें बुलेटप्रूफ जैकेट पहनकर घर से बाहर निकलना चाहिए। खास बात यह है कि एंकर ने न्यूज रूम में खुद बुलेटप्रूफ जैकेट पहन रखी है। हालांकि, इस विडियो में सलाह के साथ एंकर का व्यवस्था के प्रति रोष भी दिखाई देता है।   

दरअसल, पाकिस्तान की एक पत्रकार @nailainayat (नायला इनायत) द्वारा इस बारे में एक विडियो शेयर किया गया है। इस विडियो में न्यूज एंकर लोगों को सलाह देती नजर आ रही है कि किसी भी मां को अपने बच्चे को बिना बुलेटप्रूफ जैकेट पहनाए घर से नहीं निकलने देना चाहिए। एंकर का यह भी कहना है कि जिस पिता की बेटी स्कूल के फंक्शन में जाते समय बदमाशों की गोलियों का शिकार बन जाए और दुनिया से चली जाए, ऐसे पिता को चाहिए कि वो औलाद की खुराक की फिक्र से पहले बुलेटप्रूफ जैकेट खरीदने के पैसे इकट्ठे करे और अपने बच्चों के साथ यह जैकेट पहनकर ही घर से बाहर निकले। एंकर का यह भी कहना है कि जिन बहनों का भाई सड़क पर गोलियों का निशाना बन जाए, उन बहनों को भी चाहिए कि वे अपने भाइयों को बुलेटप्रूफ जैकेट पहनाएं।

हालांकि नायला ने इस बारे में जो ट्वीट किया है, उसमें उन्होंने यह सवाल भी उठाया है कि आखिर न्यूजरूम में बुलेटप्रूफ जैकेट पहनने से किसी गरीब को सड़क पर गोलियों का शिकार होने से कैसे रोका जा सकता है। नायला के इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं, जिसमें एंकर लोगों को घर से बाहर निकलने से पूर्व बुलेटप्रूफ जैकेट पहनने की सलाह देती नजर आ रही है।

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

लाइव कवरेज के लिए रिपोर्टर ने लिया खतरनाक निर्णय, विडियो वायरल

इसे पत्रकारिता के प्रति जुनून कहें अथवा खबरों की दुनिया में खुद भी खबर बनने की ललक कि तमाम रिपोर्टर कुछ न कुछ ऐसा कर जाते हैं, जो उन्हें चर्चा में ला देता है

Last Modified:
Thursday, 18 April, 2019
Reporter

इसे पत्रकारिता के प्रति जुनून कहें अथवा खबरों की दुनिया में खुद भी खबर बनने की ललक कि तमाम रिपोर्टर कुछ न कुछ ऐसा कर जाते हैं, जो उन्हें चर्चा में ला देता है। ऐसा ही कुछ मामला अब पाकिस्तान से सामने आया है, जहां पर एक रिपोर्टर बाढ़ के बारे में रिपोर्टिंग करने के लिए खुद तेज बहाव वाले पानी में उतरकर रिपोर्टिंग करने लगा।

इस बारे में पाकिस्तान की एक पत्रकार @nailainayat (नायला इनायत) ने एक विडियो शेयर किया है। इसमें यह पाकिस्‍तानी रिपोर्टर बाढ़ क्षेत्र की एक नदी के बीचों-बीच खड़े होकर संभावित बाढ़ की स्थिति के बारे में बता रहा है। रिपोर्टर का अंदाज दिलचस्‍प है। लेकिन विडियो के साथ जो कैप्‍शन लिखा गया है कि वह भी कम मजेदार नहीं है। दरअसल, विडियो को ट्वीट करते हुए लिखा गया है, ‘प्रड्यूसर मुझे एक ऐसी खबर लाकर दो, जो किसी और चैनल के पास न हो।’

 

गौरतलब है कि पिछले दिनों भी सोशल मीडिया में ऐसे दो विडियो वायरल हुए थे, जिन्हें लोगों द्वारा खूब देखा और शेयर किया गया था। पहला विडियो पाकिस्तान का था। इसमें पाकिस्तानी टीवी चैनल ‘सिटी42’ का सीनियर रिपोर्टर कैसर खोखर न्यूज रूम के लाइव चैट में इतना ज्यादा इमोशनल हो गया कि तौबा-तौबा करने लगा था। उसने कम से कम 20 बार अपने कान पकड़कर तौबा-तौबा की। दरअसल, वह मोदी सरकार से नाराज था कि इंडिया ने पुलवामा के बाद पाकिस्तान में निर्यात होने वाले टमाटर पर बैन लगाकर काफी गलत काम किया है। उसका कहना था कि भारत को इसका जवाब एटम बम से दिया जायेगा।कैसर खोखऱ को इस अंदाज में जवाब देने के लिए भारतीय पत्रकार निदा अहमद आगे आई थीं और उन्होंने भी सोशल मीडिया पर एक विडियो शेयर कर कैसर खोखर के ‘तौबा-तौबा’ की धज्जियां उड़ा दी थीं। लगभग सात मिनट के इस विडियो को सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया गया था। निदा अहमद को उनके इस अंदाज के लिए सोशल मीडिया यूजर्स ने बधाइयां भी थीं।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

समय के साथ हिन्दुस्तान भी हुआ 'स्मार्ट', अब इस दिशा में बढ़ाए कदम

तमाम चुनौतियों के बीच लोगों की जरूरतोंं और पसंद को ध्यान में रखते हुए हिन्दुस्तान समाचार पत्र ने नई पहल की है

Last Modified:
Thursday, 18 April, 2019
HINDUSTAN

बिहार ऐसा राज्य है, जहां की जनता पत्रकारिता को हमेशा गंभीरता से लेती है। आज भी बिहार के लोग बहुत गंभीरता से अखबारों को पढ़ते हैं। लोगों की इसी पसंद को ध्यान में रखते हुए ‘हिन्दुस्तान’ अखबार ने एक नई पहल करते हुए राजधानी पटना में एक नया अखबार ‘हिन्दुस्तान स्मार्ट’ लॉन्च किया है। 28 पेज के इस अखबार में पटना शहर की हर स्थानीय खबर पढ़ने को मिलेगी। मात्र दो रुपए की कीमत में इस अखबार में राजनीति, क्षेत्रीय समस्याएं, स्‍वास्‍थ्‍य, बाजार, शिक्षा, गैजेट एवं अपराध आदि से जुड़े तथ्‍यों को समाहित किया गया है।

बताया जाता है कि 'हिन्दुस्तान स्मार्ट' सभी आयु वर्ग के लोगों की रुचि को देखते हुए तैयार किया गया है। इसमें पाठकों को देश-दुनिया के हर जरूरी समाचार के साथ पटना शहर की हर हलचल भी पढ़ने को मिलेगी। यह अखबार हर खबर को अलग नजर और नजरिये से दिखाने की कोशिश करेगा। गौरतलब है कि ‘हिन्दुस्तान’ इससे पहले भी बिहार के लोगों की प्रगति के लिए अनूठे प्रयोग करता रहा है। हर आयु वर्ग की महिलाओं के लिए ‘अनोखी’, अंग्रेजी के तलबगारों के लिए ‘जानो इंग्लिश’ और नौकरी की चाहत रखने वाले नौजवानों के लिए ‘जॉब सर्च’ इसी का हिस्सा है।

नए अखबार की लॉन्चिंग पर ‘हिन्दुस्तान’ के एडिटर-इन-चीफ शशि शेखर ने पहले पेज पर संपादकीय भी लिखा है, जिसमें उन्होंने इस नए अखबार की जरूरत और इसके कंटेंट के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। शशि शेखर ने इस अखबार के बारे में अपने ट्विटर हैंडल पर एक ट्वीट भी किया है, इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं-

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानें कैसे EVM को सीताजी से जोड़ डाला कांग्रेस प्रवक्ता ने

लोकसभा चुनाव के दौरान तमाम विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता विवादित बयान दे रहे हैं

Last Modified:
Thursday, 18 April, 2019
Debate

लोकसभा चुनाव के दौरान तमाम नेता विवादित बयान दे रहे हैं। हालांकि चुनाव आयोग भी सख्त रुख अपनाए हुए है और इस तरह के मामलों में कई नेताओं के प्रचार करने पर प्रतिबंध तक लगा चुका है। ऐसे ही एक मामले में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) के प्रवक्ता सुरेंद्र सिंह राजपूत ने सीता माता को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) के बहाने सीताजी को चुनावी राजनीति में शामिल कर लिया है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने यह बयान ‘न्यूज 18 इंडिया’ के कार्यक्रम ‘सुलगते सवाल’ में दिया। दरअसल, इस कार्यक्रम में चुनाव के पहले चरण के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती के ईवीएम पर किए गए ट्वीट पर बहस चल रही थी। इस पर राजपूत का कहना था, ‘जिस तरह से भगवान श्रीराम ने एक आदमी के संदेह के आधार पर सीता माता की अग्निपरीक्षा करा दी थी, उसी तरह चुनाव आयोग और भारत सरकार को ईवीएम पर अगर पूरे भारतवर्ष में एक भी व्यक्ति को संदेह होता है तो उसकी अग्निपरीक्षा करनी चाहिए।’

सुरेंद्र सिंह के इस बयान पर बीजेपी प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने सीताजी की अग्निपरीक्षा को ईवीएम से जोड़कर बोलने पर विरोध जताया, लेकिन उनकी एक नहीं चली। वहीं, कार्यक्रम में शामिल समाजवादी पार्टी (SP) के प्रवक्ता अमीक जामेई, वरिष्ठ पत्रकार राम कृपाल सिंह, ऑर्गनाइजर के संपादक प्रफुल्ल केतकर ने किसी तरह की टिप्पणी करने से मना कर दिया और अपना पल्ला झाड़ लिया।

गौरतलब है कि कुछ दिनों पूर्व ही ‘न्यूज़ 24’ के चर्चित डिबेट शो ‘सबसे बड़ा सवाल’ में चुनावी डिबेट के दौरान भाजपा और कांग्रेस के प्रवक्ता तो आपस में लड़ बैठे थे। नौबत यहां तक आ गई थी कि एंकर संदीप चौधरी के इस शो में कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता आलोक शर्मा ने भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता केके शर्मा के ऊपर पानी का गिलास फेंक दिया था।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार विनीता दीपक का बढ़ा कद, अब संभालेंगी ये जिम्मेदारी

वरिष्ठ विडियो पत्रकार विनीता दीपक को बड़ी जिम्मेदारी मिली है

Last Modified:
Thursday, 18 April, 2019
VINEETA

न्यूज एजेंसी ‘एसोसिएटेड प्रेस’ (Associated Press) ने वरिष्ठ विडियो पत्रकार विनीता दीपक को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। एजेंसी ने उन्हें साउथ एशिया की कमान देते हुए न्यूज डायरेक्टर नियुक्त किया है। वह दिल्ली से अपना कामकाज देखेंगी और एजेंसी के भारत समेत बांग्लादेश, नेपाल और श्रीलंका में जितने भी ब्यूरो हैं, उनके विडियो जर्नलिस्ट, फोटोग्राफर्स और रिपोर्टर्स की टीम का नेतृत्व करेंगी। इसके अलावा ‘एपी’ की ओर से भूटान और मालदीव के एटोल द्वीपसमूह में कवरेज की जिम्मेदारी भी उनके पास होगी।  

इस बारे में एजेंसी के एशिया पैसिफिक के न्यूज डायरेक्टर एडम श्रेक (Adam Schreck) का कहना है, ‘मीडिया की दुनिया में विनीता दीपक जाना-माना नाम हैं और दो दशक से अधिक समय तक उन्होंने साउथ एशिया में कई बड़ी स्टोरी कवर की हैं। वह ऐसी पत्रकार हैं जो जानती हैं कि कैसे लोगों से जुड़ा जा सकता है और कैसे उन्हें नए अंदाज में न्यूज परोसी जा सकती है।‘ 56 वर्षीय विनीता सीनियर प्रड्यूसर के तौर पर वर्ष 2002 से ‘एपी’ के साउथ एशिया के विडियो ऑपरेशंस की कमान संभाल रही थीं। इस दौरान उन्होंने वर्ष 2004 में आई सुनामी, वर्ष 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले के साथ ही तमाम बड़ी घटनाओं को कवर किया है।

विनीता ने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1988 में दिल्ली से की थी और इसके बाद उन्होंने वर्ष 1995 में दिल्ली में ‘एपी’ के टीवी न्यूज विडियो ऑपरेशंस की लॉन्चिंग में काफी मदद की थी। वर्ष 1998 में ‘एपी’ में बतौर प्रड्यूसर जॉइन करने से पहले उन्होंने कुछ समय तक इंडस्ट्री में विभिन्न पदों पर भी काम किया है। वह 2013 में ‘एपी’ के फ्यूचर लीडर्स प्रोग्राम में मेंबर भी रह चुकी है और इसके अलावा एशिया पैसिफिक में एजेंसी के कामों में समय-समया पर सहयोग देती रही हैं। विनीता दीपक ने दिल्ली के सेंट स्टीफन कॉलेज से इकनॉमिक्स में स्नातक किया है और इसके अलावा दिल्ली स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स से मास्टर्स की डिग्री ली है। इसके अलावा ‘फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ (FTII) से उन्होंने ट्रेनिंग ली है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस वजह से प्रसार भारती परिसर में आमरण अनशन पर बैठी महिला, कहा- मेरी लाश ही जाएगी वापस

तमाम आरोपों में घिरा 'ऑल इंडिया रेडियो' (AIR) एक बार फिर चर्चाओं में है

Last Modified:
Wednesday, 17 April, 2019
PRASAR

'ऑल इंडिया रेडियो' (AIR) एक बार फिर चर्चाओं में है। दरअसल, यौन शोषण के मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर एक महिला ने प्रसार भारती परिसर में आमरण अनशन शुरू कर दिया है। गौरतलब है कि न्यूज पोर्टल ‘द क्विंट’ (The Quint) ने इस बारे में 15 अप्रैल 2019 को एक रिपोर्ट पब्लिश की थी। इस रिपोर्ट में ‘ऑल इंडिया रेडियो’ के ओबरा (सोनभद्र) स्टेशन में अस्थायी उद्घोषक (casual announcer) के रूप में कार्यरत शांति वर्मा का मामला उठाया गया था, जिन्होंने ऑफिस के कई पुरुष सहकर्मियों पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था।   

अपने आरोपों में शांति वर्मा का कहना था कि वर्ष 2010 और 2016 में कई पुरुष सहयोगियों ने उनका यौन उत्पीड़न किया था। इस बारे में उन्होंने आंतरिक जांच समिति (ICC) में भी शिकायत की थी। शांति वर्मा ने यह भी दावा किया था कि 2016 के मामले में आंतरिक समिति की जांच में उन्हें ड्यूटी से हटा दिया गया था और इसके बाद तीन साल तक उन्हें ड्यूटी पर नहीं लिया गया। शांति का कहना था कि मामले की दोबारा जांच और मुआवजे के लिए उसने प्रसार भारती परिसर में आमरण अनशन शुरू करने का फैसला किया है।

बताया जाता है कि शांति वर्मा जब दिल्ली में प्रसार भारती के कार्यालय पहुंचीं और अपनी मांग रखी तो उन्हें पुलिस को सौंप दिया गया। बताया जाता है कि रात में हंगामे के बाद उन्हें पुलिस सुरक्षा में ले जाकर एक एनजीओ के हवाले कर दिया गया। वहीं, इस मामले में दिल्ली के तिलक मार्ग थाने के एसएचओ देवेंद्र कुमार ने इस बात से इनकार किया है कि शांति वर्मा को उनकी इच्छा के विरुद्ध पुलिस स्टेशन लाया गया था अथवा कुछ देर के लिए हिरासत में रखा गया था।   

इस बारे में शांति वर्मा का कहना है कि जब तक उन्हें इंसाफ नहीं मिलेगा, वे अन्न का एक दाना नहीं खाएंगी और न ही प्रसार भारती कार्यालय से वापस अपने घर जाएंगी। शांति वर्मा का यह भी कहना है, ‘इंसाफ न मिलने पर अब दिल्ली से मेरी लाश ही घर जाएगी।’ बताया जाता है कि प्रसार भारती के अधिकारियों ने इस तरह के मामले की जानकारी होने से इनकार किया है। वहीं, शांति वर्मा का कहना है कि उन्होंने प्रसार भारती के अधिकारियों को अपना मांग पत्र सौंपा है, जिस पर उन्हें मामले में जांच का आश्वासन दिया गया है, लेकिन वे अपना आमरण अनशन जारी रखेंगी।

गौरतलब है कि देश में ‘मीटू कैंपेन’ के तहत कार्यस्थल पर महिलाओं के यौन उत्पीड़न के मामले सामने आने के बाद ‘ऑल इंडिया रेडियो’ के विभिन्न स्टेशनों से भी इस तरह की 17 शिकायतें मिली थीं। इन मामलों पर संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग ने 17 जनवरी, 2019 को प्रसार भारती को इन मामलों में जांच कर मामले से अवगत कराने के आदेश दिए थे। आरोप है कि इसके बावजूद प्रसार भारती की ओर से इन मामलों में कोई कदम नहीं उठाया गया है।

’द क्विंट’ में छपी इस रिपोर्ट को आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर पढ़ सकते हैं-
https://www.thequint.com/neon/gender/air-woman-begins-fast-unto-death-sexual-harassment-me-too-india?utm_source=whatsapp&utm_medium=social&utm_campaign=whatsapp_feed

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TOI की वेबसाइट पर नहीं दिख रहा मोदी का इंटरव्यू, जानें क्यों

देश में 17वीं लोकसभा के गठन के लिए 11 अप्रैल को मतदान के पहले चरण के बाद दूसरे चरण के तहत 18 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे

Last Modified:
Wednesday, 17 April, 2019
TOI

देश में 17वीं लोकसभा के गठन के लिए 11 अप्रैल को मतदान के पहले चरण के बाद दूसरे चरण के तहत 18 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे। चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने काफी सख्त रुख अख्तियार कर रखा है। आयोग की ओर से हाल ही में विवादित बयानों को लेकर कई नेताओं के प्रचार पर पाबंदी लगा दी गई है। चुनाव आयोग की सख्ती का असर मीडिया में भी देखने को मिल रहा है। मीडिया संस्थान नहीं चाहते कि किसी भी तरह चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों का उल्लंघन हो। ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ को दिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इंटरव्यू के मामले में कुछ ऐसा ही देखने को मिला है।

दरअसल, अंग्रेजी अखबार ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने 17 अप्रैल के अंक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू पब्लिश किया है। दो पन्ने में छपे इस इंटरव्यू को प्रिंट में तो जगह दी गई है, लेकिन ऑनलाइन संस्करण से यह गायब है। अखबार के ऑनलाइन संस्करण में टाइम्स ग्रुप की ओर से यह संदेश भी दिखाई दे रहा है, ‘लोकसभा चुनाव में मतदान का दूसरा चरण 18 अप्रैल को है। ऐसे में चुनाव आयोग के दिशा निर्देश के अनुपालन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू ऑनलाइन एडिशन में नहीं दिया जा रहा है। वोटिंग खत्म होने के बाद इसे अपलोड किया जाएगा। हालांकि अखबार में इस इंटरव्यू को पढ़ा जा सकता है।’

‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ द्वारा इस बारे में जारी संदेश को आप यहां भी देख सकते हैं-  
  

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए