दैनिक भास्कर का खुलासा: राष्ट्रपति से ज्यादा हुई सचिव की सैलरी, कमिश्नर ने मानी चूक

हिंदी अखबार दैनिक भास्कर के डिजिटल विंग में पत्रकार रोहितश्व मिश्रा की एक खबर प्रकाशित हुई है, जिसमें उन्होंने बताया कि सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को मंजूरी मिल जाने से 2.50 लाख रुपए की मैक्सिमम सैलरी को लेकर कानूनी अड़चनें सामने आ गई हैं। दरअसल कैबिनेट सेक्रेटरी और आर्मी चीफ जैसे हाई रैंक अफसरों को मिलने वाली ये

Last Modified:
Friday, 01 July, 2016
db

हिंदी अखबार दैनिक भास्कर के डिजिटल विंग में पत्रकार रोहितश्व मिश्रा की एक खबर प्रकाशित हुई है, जिसमें उन्होंने बताया कि सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को मंजूरी मिल जाने से 2.50 लाख रुपए की मैक्सिमम सैलरी को लेकर कानूनी अड़चनें सामने आ गई हैं। दरअसल कैबिनेट सेक्रेटरी और आर्मी चीफ जैसे हाई रैंक अफसरों को मिलने वाली ये बेसिक सैलरी प्रेसिडेंट प्रणब मुखर्जी की बेसिक पे से 1 लाख रुपए ज्यादा हो गई है। जबकि नियम कहते हैं कि किसी भी सरकारी अफसर की बेसिक पे प्रेसिडेंट से ज्यादा नहीं हो सकती। इस मामले में सिर्फ पीएसयू और ऑटोनोमस बॉडी के अफसरों को छूट मिली है। पढ़िए दैनिक भास्कर की ये पूरी रिपोर्ट...

पे कमीशन: पहली बार हमारे राष्ट्रपति की बेसिक सैलरी कैबिनेट सेक्रेटरी से 1 लाख कम

28-june-pay-commission7th पे कमीशन की सिफारिशों को मंजूरी मिलने के बाद 2.50 लाख रुपए की मैक्सिमम सैलरी को लेकर कानूनी अड़चनें सामने आ गई हैं। कैबिनेट सेक्रेटरी और आर्मी चीफ जैसे हाई रैंक अफसरों को मिलने वाली ये बेसिक सैलरी प्रेसिडेंट प्रणब मुखर्जी की बेसिक पे से 1 लाख रुपए ज्यादा हो गई है। जबकि नियम ये है कि किसी भी सरकारी अफसर की बेसिक पे प्रेसिडेंट से ज्यादा नहीं हो सकती। इस मामले में सिर्फ पीएसयू और ऑटोनोमस बॉडी के अफसरों को छूट मिली है। बता दें कि प्रेसिडेंट की मौजूदा बेसिक सैलरी 1.50 लाख रुपए है। दुनिया में ऐसा पहली बार हुआ है कि प्रेसिडेंट से ज्यादा बेसिक सैलरी कैबिनेट सेक्रेटरी को मिलेगी। मोदी, अलग-अलग राज्यों के सीएम-गवर्नर और सांसदों की बेसिक भी 2.50 लाख रुपए की इस मैक्सिमम सैलरी से काफी कम है।

पे कमीशन के चेयरमैन ने dainikbhaskar.com से बातचीत में मानी चूक...

- बता दें, मोदी सरकार की कैबिनेट ने बुधवार को 7th पे कमीशन की सिफारिशों को मंजूरी दी थी। इसके तहत सभी क्लास के इम्प्लॉइज की बेसिक सैलरी 2.57 गुना बढ़ेगी।

- मिनिमम बेसिक पे सात हजार से बढ़ाकर 18 हजार रुपए कर दी गई है। वहीं, मैक्सिमम बेसिक सैलरी को कैबिनेट सेक्रेटरी जैसी रैंक के अफसरों के मामले में 90 हजार से बढ़ाकर 2.5 लाख रुपए कर दिया गया है।

- 7th पे कमीशन के चेयरमैन जस्टिस अशोक कुमार माथुर ने dainikbhaskar.comसे एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा, ''वाकई कैबिनेट सेक्रेटरी की 2.50 लाख रुपए की बेसिक सैलरी प्रेसिडेंट से ज्यादा हो गई है। कानूनन ऐसा नहीं होना चाहिए। अब इस पर सरकार की ओर से नोटिफिकेशन जारी कर हल निकाला जाएगा।''

- वहीं, कमीशन के एडवाइजर राजीव मिश्रा का कहना है, ''हां, हमसे इस मामले में चूक हुई है। जल्द ही नोटिफिकेशन जारी कर सुधार करेंगे।''

- सरकार के पास इसको सुधारने के अब दो रास्ते हैं।

- पहला:कैबिनेट सेक्रेटरी की सैलरी घटाकर प्रेसिडेंट की बेसिक पे से कम कर दी जाए। हालांकि, ऐसी संभावना कम है।

- दूसरा: प्रेसिडेंट की बेसिक सैलरी बढ़ाकर 2.50 लाख रुपए से ज्यादा कर दी जाए और इसे 1 जनवरी 2016 की बैक डेट से लागू किया जाए।

- सूत्रों के मुताबिक, सरकार जल्द ही नोटिफिकेशन जारी कर प्रेसिडेंट की बेसिक सैलरी को बढ़ाएगी, ताकि कानूनी उलझन से बचा जा सके।

- केंद्र के इम्प्लॉइज को नई सैलरी देने से पहले यह नोटिफिकेशन जारी हो सकता है।

- इस नोटिफिकेशन में प्रेसिडेंट के साथ-साथ पीएम की बेसिक सैलरी में भी बढ़ोत्तरी का एलान किया जा सकता है।

28_june-pay_commission-ro5क्या है प्रेसिडेंट की सैलरी का नियम?

- लोकसभा के पूर्व सेक्रटरी जनरल और संविधान विशेषज्ञ सुभाष कश्यप नेdainikbhaskar.comको बताया, "प्रेसिडेंट देश के सर्वोच्च नागरिक हैं। नियम के मुताबिक, किसी भी गवर्नमेंट इम्प्लॉई की बेसिक सैलरी प्रेसिडेंट से ज्यादा नहीं हो सकती है।"

- बता दें कि 7th पे कमीशन ने कैबिनेट सेक्रेटरी, कैग और आर्मी चीफ के बेसिक को 90 हजार से बढ़ाकर 2.50 लाख रुपए कर दिया है। यह प्रेसिडेंट के बेसिक पे से 1 लाख रुपए ज्यादा है।

- इन सभी के ज्वाइनिंग लेटर पर प्रेसिडेंट की तरफ से अप्वाइंटमेंट की बात लिखी होती है। ऐसे अफसरों की बेसिक सैलरी इम्प्लॉयर से ज्यादा नहीं हो सकती है।

- 7th पे कमीशन की रिपोर्ट पर लिखी बुक के संपादक और सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता विराग गुप्ता ने कहा, 'जिन सरकारी ऑफिसर्स ने नियम के खिलाफ खुद की सैलरी राष्ट्रपति की बेसिक पे से ज्यादा कर ली हो..., उन पर हंसी आती है। क्या उन्हें कानून का ज्ञान नहीं है? पीएम और राज्यों के गवर्नर की सैलरी भी इनसे कम हो गई। इस पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।'

 मोदी की सैलरी भी है 90 हजार रुपए कम

- मोदी की मंथली बेसिक सैलरी 1.60 लाख रुपए है, जो अब कैबिनेट सेक्रेटरी को मिलने वाली बेसिक सैलरी से 90 हजार रुपए कम है। - सांसदों को 1.40 लाख रुपए मंथली सैलरी मिलती है। इसमें 50 हजार रुपए बेसिक, 45-45 हजार रुपए ऑफिस-सेक्रेटरी अलाउंस और चुनाव क्षेत्र के भत्ते शामिल हैं।

- बता दें, सांसद भी अपनी सैलरी दोगुनी करने की मांग कर रहे हैं।

70 साल में सबसे कम बढ़ोत्तरी, हड़ताल की तैयारी में 32 लाख इम्प्लॉई

- 7th पे कमीशन का फायदा सेंट्रल गवर्नमेंट के 47 लाख इम्प्लॉइज और 53 लाख पेंशनर्स को मिलेगा।

- इनमें से 32 लाख यानी 70% सरकार के इस एलान से नाराज हैं। उनका कहना है कि 14% सैलरी बढ़ाई जा रही है जो 70 साल में सबसे कम है। - इन इम्प्लॉइज के ज्वाइंट काउंसिल एनजेसीए का कहना है, "ये अब तक का सबसे खराब पे कमीशन है। सरकार मिनिमम पे 18 हजार से बढ़ाकर 26 हजार करे। ऐसा नहीं हुआ तो 32 लाख इम्प्लॉई 11 जुलाई से हड़ताल पर जाएंगे।"

69 साल में 327 गुना बढ़ी सैलरी

- पे कमीशन का इतिहास 69 साल पुराना है।

- 1947 में बने पहले पे कमीशन ने मिनिमम सैलरी 55 रुपए तय की थी। तब से अब तक इम्प्लॉइज की सैलरी 327 गुना बढ़ चुकी है।

कितनी बढ़ेगी महंगाई?
- बाजार में पैसा आने से महंगाई डेढ़ फीसदी तक बढ़ सकती है।
- डिमांड बढ़ने से कीमतों में जो इजाफा होगा, उसकी भरपाई क्रूड ऑयल और दूसरी कमोडिटी की कम हो रही कीमत से हो जाएगी। इसलिए ज्यादा असर नहीं होगा।
इन्क्रीमेंट से सरकार को वापस मिलेंगे 14 हजार करोड़
- इंडिया रेटिंग्स के मुताबिक, इन्क्रीमेंट के बाद लोग 45,110 करोड़ रुपए ज्यादा खर्च करेंगे। सेविंग्स में भी 30,710 करोड़ का इजाफा होगा।
- अभी बैंक डिपॉजिट्स 53 साल के लो लेवल पर हैं।
- लोगों की बढ़ी इनकम पर सरकार को इनकम टैक्स मिलेगा।
- चीजों की खरीददारी बढ़ने से एक्साइज ड्यूटी कलेक्शन भी बढ़ेगा।
- दोनों मिलाकर करीब 14,134 करोड़ बतौर टैक्स सरकार को वापस मिल जाएंगे।
ज्यूमर ड्यूरेबल इंडस्ट्री में 15% से ज्यादा इजाफे की उम्मीद बनी
- टीवी-फ्रिज जैसे कंज्यूमर ड्यूरेबल्स और सर्विसेस की मांग बढ़ेगी। सालाना 15% इजाफे की उम्मीद है।
- अभी इस इंडस्ट्री में प्रोडक्शन कैपिसिटी का करीब 70% ही इस्तेमाल हो रहा है। ये बेहतर होगा।
ऑटो सेक्टर में 15 से 20% ग्रोथ के आसार
- ऑटो सेक्टर में 15 से 20% तक ग्रोथ हो सकती है। सिर्फ मारुति ने ही अपनी सेल्स 25% बढ़ने की उम्मीद जताई है।
- इसके कस्टमर्स में 17% तो सेंट्रल और स्टेट गवर्नमेंट के इम्प्लॉई ही हैं।
70 साल में सबसे कम इजाफे की सिफारिश, पहले कमीशन में 10 रुपए बढ़ी थी सैलरी
- बेसिक पे के मामले में यह 70 साल में सबसे कम बढ़ोत्तरी की सिफारिश है, क्योंकि इस बार यह 16% बढ़ाने की बात कही गई है। जबकि 6th पे कमीशन में बेसिक सैलरी 20% बढ़ाने की सिफारिश की गर्इ थी। - पहले पे कमीशन में रेलवे के क्लास-4 इम्प्लॉई की सैलरी 10 रुपए से 30 रुपए तक बढ़ाई गई थी।
(साभार: दैनिक भास्कर)

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सरकार का ‘प्रेस’ पर पहरा, विदेशी पत्रकार संग किया ऐसा सुलूक

एयरपोर्ट से वापस लौटाए गए पत्रकार का नाम स्टीवन बटलर है और वह कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (CPJ)के लिए काम करते हैं...

Last Modified:
Friday, 18 October, 2019
Journalist

कश्मीर में मानवाधिकारों की दुहाई देने वाले पाकिस्तान ने एक विदेशी पत्रकार को केवल इसलिए बैरंग लौटा दिया, क्योंकि वह अस्मा जहांगीर कांफ्रेंस-रोडमैप फॉर ह्यूमन राइट्स में भाग लेने के लिए लाहौर आया था। 

उल्लेखनीय है कि अस्मा जहांगीर, जिनके नाम पर मानवाधिकार सम्मेलन आयोजित किया जा रहा था, पाकिस्तान के इस्लामीकरण की कट्टर आलोचक थीं। उसने देश के ईश निंदा कानूनों का विरोध किया और जीवन भर पाकिस्तान के अल्पसंख्यकों के लिए लड़ाई लड़ी।

एयरपोर्ट से वापस लौटाए गए पत्रकार का नाम स्टीवन बटलर है और वह कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (CPJ)के लिए काम करते हैं। बटलर के पास पाकिस्तान का वैध वीजा भी था, इसके बावजूद उन्हें जबरन हवाई अड्डे से ही वापस लौटा दिया गया। इमरान सरकार के इस कदम की कड़ी निंदा हो रही है। 

CPJ के अनुसार, बटलर के अल्लामा इकबाल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचते ही सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें घेर लिया। उनसे कहा गया कि भले ही उनके पास वैध वीजा है, लेकिन चूंकि वह आंतरिक मंत्रालय के ‘स्टॉप लिस्ट’ में शामिल हैं, उन्हें पाकिस्तान में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जा सकती।

पाकिस्तान एयरपोर्ट अथॉरिटी ने बटलर का पासपोर्ट और अन्य दस्तावेज जब्त करके उन्हें दोहा (कतर) जाने के लिए मजबूर किया और जब वह दोहा पहुंचे तो वहां से उन्हें वॉशिंगटन जाने वाले विमान में बैठा दिया गया। CPJ के मुताबिक, उड़ान के दौरान स्टीवन बटलर ने संगठन से संपर्क करके बताया कि वह एक तरह प्रिवेंटिव कस्टडी में हैं, अधिकारियों ने उनका बोर्डिंग पास तक जब्त कर लिया है। 

CPJ के कार्यकारी निदेशक जोएल साइमन ने कहा, स्टीवन बटलर को पाकिस्तान में प्रवेश करने से रोकने का अधिकारियों का कदम बेहद चौंकाने वाला है और यह पाकिस्तान के उन लोगों के गाल पर थप्पड़ की तरह है जो प्रेस की स्वतंत्रता पर बड़ी-बड़ी बाते करते हैं। पाक अधिकारियों को इस बारे में स्पष्टीकरण देना चाहिए कि उन्होंने बटलर को किस आधार पर रोका। यदि सरकार प्रेस की स्वतंत्रता के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दर्शाना चाहती है, तो उसे इस मामले में तुरंत पारदर्शी जांच करनी चाहिए। 

 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज एंकर ने यूं रची पत्नी के मर्डर की साजिश

इटावा में न्यूज एंकर की पत्नी के चर्चित हत्याकांड का खुलासा आखिरकार यूपी पुलिस ने कर दिया है

Last Modified:
Friday, 18 October, 2019
Ajitesh

इटावा में न्यूज एंकर की पत्नी के चर्चित हत्याकांड का खुलासा आखिरकार यूपी पुलिस ने कर दिया है। पुलिस ने इस हत्याकांड के आरोपितों के तौर पर न्यूज एंकर और उसके दोस्त को नोएडा से गिरफ्तार कर लिया है। एंकर अजितेश मिश्रा नोएडा से संचालित न्यूज चैनल FM News में काम करता है। उसकी शादी को 4 साल हुए थे। 

जांच में पता चला है कि नोएडा में कार्यरत इस न्यूज एंकर का अपने ऑफिस में एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर चल रहा था, जिसकी भनक इसकी पत्नी को भी हो गई थी, ऐसे में न्यूज एंकर ने रास्ते से पत्नी को हटाने का मन बना लिया था। 

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्रा ने बताया कि 14 अक्टूबर को नोएडा के निजी चैनल में कार्यरत न्यूज एंकर अजितेश मिश्रा की पत्नी दिव्या का मर्डर इटावा में उसकी ससुराल में हुआ था। पुलिस ने मोबाइल लोकेशन और सर्विलांस की मदद से जांच की, तो कई रहस्य पता चले। इसके लिए तीन टीमें गठित की गई थी। सर्विलांस की मदद से पता चला कि मर्डर से एक घंटे पहले तक दिव्या ने अपने पति से तीन बार बात की थी। एंकर की कॉल डिटेल से पता चला कि वे अपने ही न्यूज चैनल में कार्यरत मेकअप आर्टिस्ट भावना आर्या से काफी बातें करता था। जांच में पता चला कि दोनों के बीच अफेयर है। जब इसकी खबर एंकर की पत्नी हो गई तो एंकर ने अपने दोस्त अखिल के जरिए पत्नी के मर्डर का प्लान बनाया। अखिल को एंकर की पत्नी भाई मानती थी, ऐसे में जब अखिल उसकी पत्नी से मिलने इटावा गया तो वो उसके साथ पति को समझाने की बात करने लगी, पर अखिल ने मौका देखकर उसके सिर पर फूलदान दे मारा। इस बीच दोनों के बीच हाथापाई भी हुई, पर अखिल ने उसके सिर को जमीन पर तब तक मारा,जब तक उसकी मौत न हो गई। 


 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

PTI में कई पदों पर रहे वरिष्ठ पत्रकार का निधन, आज होगा अंतिम संस्कार

बताया गया है कि शुक्रवार को 3.30 बजे दिल्ली स्थित लोधी गार्डन श्मशान घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा

Last Modified:
Friday, 18 October, 2019
Tribute

वरिष्ठ पत्रकार कंवर सेन जोली का गुरुवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया है। वे गुड़गांव में रहते थे। जोली करीब 86 साल के थे। बताया गया है कि शुक्रवार को 3.30 बजे दिल्ली स्थित लोधी गार्डन श्मशान घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा

1993 में पीटीई से बतौर डिप्टी जनरल मैनेजर रिटायर हो चुके जोली ने यहां करीब 40 साल की नौकरी की थी। इस दौरान वे कई पदों पर सेवारत रह चुके थे। कई सम्मानों से सम्मानित हो चुके जॉली ने रिटायरमेंट के बाद केपीएमजी के साथ भी काम किया था। 
 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ये बता रहा है इंटरनेशनल सेंटर फॉर जर्नलिस्ट्स (ICFJ) का नया ग्लोबल सर्वे 

14 भाषाओं में किया गया यह अनोखा सर्वेक्षण, 149 देशों के 4,100 से अधिक न्यूज़ रूम प्रबंधकों और पत्रकारों की प्रतिक्रियाओं पर आधारित है

Last Modified:
Thursday, 17 October, 2019
ICFJ

डिजिटल टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल में पत्रकार भी तेजी से आगे बढ़ते जा रहे हैं। 2017 के मुकाबले पत्रकारों ने ऐसे डिजिटल टूल्स का प्रयोग ज्यादा कर दिया है, जो उनकी कई तरह की चुनौतियों से निपटने में मदद करते हैं। जैसे कि भ्रामक या गलत जानकारी। सोशल मीडिया से निकली कोई खबर किस तरह से खबरिया चैनल या न्यूज़ वेबसाइट की सुर्खियां बन जाती है, ये हम कई बार देख चुके हैं। लिहाजा, ऐसी गलतियों को दुरुस्त करने और अपनी सूचनाओं को सुरक्षित रखने के लिए मीडिया प्रोफेशनल्स की डिजिटल टेक्नोलॉजी पर निर्भरता बढ़ी है। यह बात सामने आई है इंटरनेशनल सेंटर फॉर जर्नलिस्ट (आईसीएफजे) के एक सर्वेक्षण में। 14 भाषाओं में किया गया यह अनोखा सर्वेक्षण, 149 देशों के 4,100 से अधिक न्यूज़ रूम प्रबंधकों और पत्रकारों की प्रतिक्रियाओं पर आधारित है। इस अध्ययन को आईसीएफजे की 2017 की रिपोर्ट का अपडेटेड संस्करण कहा जा सकता है, क्योंकि उस वक़्त यह पता चला था कि डिजिटल क्रांति के साथ तालमेल बैठने में पत्रकारों को संघर्ष करना पड़ रहा है।

‘ग्लोबल न्यूज़रूम में टेक्नोलॉजी की स्थिति 2019’ नामक इस सर्वेक्षण के मुताबिक, पत्रकारों द्वारा सोशल मीडिया वेरिफिकेशन टूल्स का उपयोग दोगुना (11 प्रतिशत से बढ़कर 25 प्रतिशत) हो गया है। वहीं, मौजूदा वक़्त में 67 प्रतिशत पत्रकार एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड कम्युनिकेशन इस्तेमाल करते हैं, 2017 में यह आंकड़ा 46 फीसदी था। इस बारे में आईसीएफजे के अध्यक्ष जॉय बरनाथन ने कहा, आजकल न्यूज़ आउटलेट्स डिजिटल और भौतिक हमले का शिकार हो रहे हैं। ऐसे में पत्रकारों ने डिजिटल टेक्नोलॉजी पर ज्यादा विश्वास जताना शुरू कर दिया है। सर्वेक्षण के निष्कर्ष से पता चलता है कि न्यूज़रूम अपने कम्युनिकेशन को सुरक्षित रखने और अपनी जानकारी की सत्यता सुनिश्चित करने के लिए बड़े पैमाने पर डिजिटल उपकरणों को अपना रहे हैं।

सर्वेक्षण के मुताबिक, ऑनलाइन हमलों में वृद्धि के चलते पत्रकार खुद को बचाने के अधिक प्रयास कर रहे हैं। दो-तिहाई से अधिक पत्रकार और न्यूज़ रूम आज साइबर सिक्योरिटी का उपयोग करते हैं, जो 2017 के बाद से लगभग 50% ज्यादा है। इसके अलावा, सुरक्षित संचार के लिए व्हाट्सएप, टेलीग्राम और सिग्नल जैसे एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग ऐप्स के इस्तेमाल में भी इजाफा हुआ है। साइबर सिक्योरिटी के जरिये अपने न्यूज़ रूम को सुरक्षित बनाने में उत्तरी अमेरिकी का नंबर यूरोप के बाद आता है। यहां, 82% न्यूज़रूम डिजिटल रूप से सुरक्षित हैं। ये आंकड़ा पहले के मुकाबले लगभग दोगुना है। जबकि यूरोप 92% के साथ पहले स्थान पर है। सर्वेक्षण में शामिल 50% से अधिक पत्रकारों का कहना है कि वे नियमित रूप से डिजिटल टूल का उपयोग जानकारी की सत्यता जांचने के लिए करते हैं। जबकि 2017 में केवल 11% ही सोशल मीडिया वेरिफिकेशन टूल इस्तेमाल करते थे।
     
इसी तरह न्यूज़ आर्गेनाईजेशन की बात करें, तो करीब एक तिहाई में ऐसे समर्पित कर्मचारी हैं, जिनका काम सिर्फ फैक्ट-चेकिंग करना है। इसके अतिरिक्त, पिछले वर्ष की तुलना में 44% न्यूज़ रूम और 37% पत्रकार पहले से अधिक फैक्ट-चेकिंग गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं। यह अध्ययन व्यावहारिक पत्रकारिता अनुसंधान पर आईसीएफजे के विस्तार पर केंद्रित है। ऐसे समय में जब मीडिया के खिलाफ बड़े पैमाने पर असहमति का माहौल है, आईसीएफजे इंडस्ट्री में प्रमुख रुझानों पर अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए विशिष्ट रूप से कार्य कर रहा है। और अपने इस प्रयास को आगे बढ़ाने के लिए उसने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध पत्रकार और मीडिया शोधकर्ता डॉ. जूली पॉसेट्टी को ग्लोबल डायरेक्टर ऑफ रिसर्च के नवनिर्मित पद पर नियुक्त किया है। गौरतलब है कि आईसीएफजे दुनिया भर में पत्रकारों की विशेषज्ञता और स्टोरीटेलिंग के कौशल को निखारने के लिए पत्रकारिता और प्रौद्योगिकी के गठजोड़ के रूप में करता है।
 

TAGS journalist
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कश्मीर के हालात पर वरिष्ठ पत्रकार के.जी.सुरेश ने लिखा केंद्रीय मंत्री को पत्र

फ़ेसर और वरिष्ठ पत्रकार के. जी. सुरेश ने सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखा है

Last Modified:
Thursday, 17 October, 2019
kg-suresh

370 से आज़ाद हुए कश्मीर में हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं, लेकिन स्कूलों में पसरा सन्नाटा चिंता का विषय है। इसी चिंता को रेखांकित करते हुए प्रोफ़ेसर और वरिष्ठ पत्रकार के. जी. सुरेश ने सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखा है। हालांकि, उन्होंने अपने पत्र में सरकार को कठघरे में खड़ा नहीं किया है, जैसा कि पहले होता आया है। उन्होंने इस चिंता से निपटने का नायब सुझाव सरकार को दिया है। 

सुरेश ने केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को लिखा है ‘यह बहुत संतोष की बात है कि कश्मीर की स्थिति धीरे-धीरे सामान्य हो रही है और इस बारे में आवाम को सूचित करने के लिए आकाशवाणी और दूरदर्शन दोनों कई कश्मीर केंद्रित कार्यक्रम पेश कर रहे हैं, जैसे कि ‘कश्मीर का सच’। लेकिन विरोध या हिंसा के डर से स्कूलों में छात्रों की अनुपस्थिति चिंता का विषय रही है। इससे लाखों युवाओं की शिक्षा प्रभावित हो रही है, जो इस क्षेत्र और देश का भविष्य हैं’।

2014 में इबोला के खौफ के चलते सिएरा लियोन के स्कूलों से गायब हुए बच्चों की पढ़ाई को लेकर वहां की सरकार द्वारा उठाये गए क़दमों का जिक्र करते हुए के. जी. सुरेश ने आगे लिखा है ‘यह काबिले गौर है कि 2014 में पश्चिम अफ्रीकी देश सिएरा लियोन में इबोला के प्रकोप के कारण एक मिलियन से अधिक बच्चों ने कई महीनों तक स्कूल से दूरी बना ली थी। इसके बाद, सिएरा लियोन सरकार ने यूनिसेफ और कई संगठनों के साथ मिलकर रेडियो शिक्षा कार्यक्रम शुरू किया। इस कार्यक्रम का प्रसारण 41 सरकारी रेडियो स्टेशनों के साथ ही राज्य के स्वामित्व वाले टीवी चैनलों पर भी किया गया। प्रशिक्षकों ने बच्चों के लिए एक घंटे का शिक्षण सत्र तैयार किया। कुछ ही समय में ये सेशन इतने लोकप्रिय हो गए कि शुरुआत में महज 20 की भागीदारी बढ़कर 70 प्रतिशत हो गई। 

इसी तरह, हरियाणा के मेवात जिले से संचालित होने वाले सामुदायिक रेडियो स्टेशन ‘रेडियो मेवात’ भी चुनिंदा विषयों पर बच्चों को शिक्षित करने में लगा है और इसके सकरात्मक परिणाम भी दिखाई दे रहे हैं। उपरोक्त के मद्देनजर, रेडियो कश्मीर और डीडी कश्मीर भी राज्य में शैक्षणिक संस्थान, केंद्रीय संगठन जैसे नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग एंड कंसोर्टियम फॉर एजुकेशनल कम्युनिकेशन (दोनों मानव संसाधन मंत्रालय के अंतर्गत आते हैं) के साथ मिलकर इसी तरह के कार्यक्रम तैयार कर सकते हैं। यदि ऐसा होता है तो ये निश्चित रूप से कश्मीर के छात्रों के लाभकारी होगा’।

अपने पत्र को आगे बढ़ाते हुए सुरेश ने लिखा है ‘आप इस उद्देश्य के लिए केंद्र शासित प्रदेश में मौजूद सामुदायिक रेडियो स्टेशनों का उपयोग करने की संभावना का पता लगा सकते हैं, साथ ही शैक्षणिक संस्थानों, कृषि विज्ञान केंद्रों और स्वयंसेवी संगठनों द्वारा अधिक स्टेशनों की स्थापना पर भी विचार कर सकते हैं। आईआईएमसी में महानिदेशक के रूप में मेरे कार्यकाल के दौरान सामुदायिक रेडियो सशक्तिकरण और संसाधन केंद्र की स्थापना की गई थी, जो बच्चों को प्रौद्योगिकी, विषय-वस्तु और संसाधन उत्पादन में प्रशिक्षित करने के लिए एक नोडल एजेंसी के रूप में कार्य कर सकता है। 
हमारे माननीय प्रधानमंत्री ने रेडियो की शक्ति का उपयोग करते हुए अपने लोकप्रिय कार्यक्रम 'मन की बात' के माध्यम से बड़े पैमाने पर लोगों तक पहुँच बनाई है। मुझे विश्वास है कि आपके गतिशील नेतृत्व में, रेडियो कश्मीर और डीडी कश्मीर छात्रों का भविष्य संवारने के लिए इस दिशा में कदम बढ़ा सकते हैं’।
के. जी. सुरेश एपीजे इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन के प्रोफेसर रहे हैं, एससीडीआर, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के वह विजिटिंग प्रोफेसर हैं। इसके अलावा, भारतीय जनसंचार संस्थान में उन्होंने महानिदेशक पद की ज़िम्मेदारी संभाली है। साथ ही वह हील(Heal) फाउंडेशन के कार्यकारी निदेशक और मुख्य संपादक हैं।
 
 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार कुमार पंकज ने पत्रिका को कहा ‘अलविदा’, अब यहां बने नेशनल ब्यूरो चीफ 

कुमार पंकज को पत्रकारिता के क्षेत्र दो दशक से अधिक का अनुभव है। कुमार पंकज आउटलुक, बिजनेस भास्केर, राज एक्सप्रेस, राष्ट्रीय सहारा जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम कर चुके हैं

Last Modified:
Thursday, 17 October, 2019
Kumar Pankaj

दिल्ली, छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश से प्रकाशित अखबार  'देशबंधु' ने वरिष्ठ पत्रकार कुमार पंकज को बड़ी जिम्मेदारी सौंपते हुए उन्हें  राष्ट्रीय ब्यूरो प्रमुख बनाया है। इससे पहले कुमार पंकज राजस्थान पत्रिका के दिल्ली ब्यूरो में कार्यरत थे। 

कुमार पंकज को पत्रकारिता के क्षेत्र दो दशक से अधिक का अनुभव है। कुमार पंकज आउटलुक, बिजनेस भास्कर, राज एक्सप्रेस, राष्ट्रीय सहारा जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम कर चुके हैं।  कई बीट्स पर उनकी पकड़ बहुत मजबूत मानी जाती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लिखी उनकी पुस्तक 'दूरदृष्टा नरेंद्र मोदी' काफी चर्चित रही है जो कि साल 2007 में लिखी गई थी। इस पुस्तक का कई भाषाओं में अनुवाद हो चुका है और कई संस्करण भी प्रकाशित हो चुके हैं। कुमार पंकज की अन्य पुस्तकों में 'देश का युवा नेतृत्व ‘, ‘प्रथम महिला राष्ट्रापति प्रतिभा पाटिल’, ‘रिपोर्टिंग’, ‘साक्षात्काार’ आदि शामिल हैं। वे अभी तक करीब 9 पुस्तकें लिख चुके हैं। 

नेशनल फांउडेशन फॉर इंडिया, एक्शन एड सहित कई संस्थारओं से विकास के मुद्दे पर लेखन के लिए फेलोशिप भी मिल चुकी है। इसके अलावा शहीद शंकर गुहा नियोगी, यूनिफेम मीडिया एचिवमेंट अवार्ड से भी सम्मानित हो चुके हैं। 

पाकिस्तान, जापान, सीरिया सहित कई देशों की यात्रा कर चुके कुमार पंकज राजनीति के अलावा समसामयिक विषयों पर गहरी पकड़ रखते हैं। 

मूल रूप से उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के रहने वाले कुमार पंकज इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक और कानपुर विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर हैं।
 
 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अयोध्या केस की कवरेज को लेकर चैनलों के लिए जारी हुई मीडिया एडवाइजरी

आज अयोध्या केस को लेकर चल रही सुनवाई के पूरी होने के बाद न्यूज चैनलोंके लिए एक एडवाइजरी जारी की है

Last Modified:
Wednesday, 16 October, 2019
Advisory

टीवी न्यूज मीडिया ब्रॉडकास्टर्स के संगठन न्यूज ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड्स ऑथरिटी (NBSA) ने आज अयोध्या केस को लेकर चल रही सुनवाई के पूरी होने के बाद न्यूज चैनलों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि कोर्ट कार्यवाही को लेकर कोई भी भ्रामिक खबर न चलाई जाए। सुनवाई को लेकर कोई कयास नहीं लगाए जा।

सुनवाई की खबर दिखाते समय फैक्ट्स यानी तथ्यों का खास ध्यान रखा जाए। मस्जिद विध्वंस की फुटेज का प्रयोग नहीं किया जाए। किसी भी तरह के जश्न की फुटेज नहीं दिखाई जाए और साथ ही ये भी सुनिश्चित किया जाए कि डिबेट शो में किसी भी तरह के अतिवादी विचारों का प्रसारण नहीं किया जाए। 

 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

चुनावी बैलेट पर बुलेट एंकर का जबर्दस्त निशाना

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों को लेकर जहां सियासी दल अपनी तैयारियों में मशगूल हैं, वहीं मीडिया ने भी कमर कस ली है

Last Modified:
Wednesday, 16 October, 2019
ElectionShow

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों को लेकर जहां सियासी दल अपनी तैयारियों में मशगूल हैं, वहीं मीडिया ने भी कमर कस ली है। खबरिया चैनल कई नए प्रोग्राम ला रहे हैं, ताकि टीआरपी के खेल में दूसरों से दो कदम आगे रहा जा सके। ‘आज तक’ ने भी ‘बुलेट रिपोर्टर’ के नाम से चुनावों पर केंद्रित एक शो शुरू किया है, जिसे चित्रा त्रिपाठी होस्ट कर रही हैं। ‘बुलेट रिपोर्टर’ की ख़ास बात है इसका अंदाज़, जो लोगों को सबसे ज्यादा पसंद आ रहा है। चित्रा चैनल की ओबी वैन में नहीं बल्कि बुलेट पर सवार होकर महाराष्ट्र और हरियाणा में घूम-घूमकर मतदाताओं का मन टटोल रही हैं। हालांकि, बुलेट चलाते-चलाते चुनावी चर्चा जोखिम भरी है, उम्मीद है चैनल इस विषय पर ध्यान देगा। ‘बुलेट रिपोर्टर’ के पहले एपिसोड की शुरुआत हरियाणा के चरखी-दादरी और आदमपुर से की गई, जहां चित्रा त्रिपाठी ने प्रत्याशियों का मन भी टटोला।

चुनावी मौसम में अलग-अलग निर्वाचन क्षेत्रों में सेट लगाकर शो करने का चलन पिछले कुछ समय से काफी बढ़ गया है। चुनिंदा लोगों के बीच एंकर विकास, वादों और इरादों पर               बात करते  हैं और आरोप-प्रत्यारोप के बीच शो समाप्त हो जाता है। इस लिहाज से देखें तो आज तक का ‘बुलेट रिपोर्टर’ सबसे जुदा है। क्योंकि यहां न सेट लगाया जाता है, न चुनिंदा लोगों को तवज्जो दी जाती है और न ही सीमित वर्ग की सोच को संपूर्ण जनता की सोच करार दिया जाता है। रिपोर्टर घूम-घूमकर मतदाताओं से बात करते हैं, प्रत्याशियों का हाल जानते हैं और उन समस्याओं पर भी प्रकाश डालते हैं, जो अब तक अनसुलझी हैं।

जैसे आदमपुर में चित्रा त्रिपाठी सबसे पहले आम जनता से रूबरू हुईं, फिर प्रत्याशियों से बात की और इसके बाद सीधे कपास मंडी पहुंचकर व्यापारियों के हाल जाने। शो के साथ-साथ चित्रा का अंदाज़ भी बेहद निराला है। वह जिस तरह से सवाल दागती हैं या मतदाताओं का मन टटोलती हैं, वह काबिले तारीफ है। स्टूडियो में बैठकर किसी विषय पर बात करना आसान है, लेकिन लोगों के बीच जाकर बिना रुके बोलते जाना मुश्किल और चित्रा इस मुश्किल काम को अच्छी तरह से अंजाम दे रही हैं। शो देखने के बाद पता चलता है कि चित्रा त्रिपाठी ने इसके लिए कितना दोनों राज्यों के बारे में खूब जानकारी जुटाई है। महाराष्ट्र की सड़क पर उन्हें नऊवारी महाराष्ट्रियन साड़ी पहन कर बुलेट चलाते देखा गया, स्थानीय लोगों ने ऐसे में उनकी खूब फोटो भी खींची।

उल्लेखनीय है कि चित्रा ने इस साल की शुरुआत में ही ‘आज तक’ का दामन थमा है। इससे पहले वह एबीपी न्यूज में शानदार पारी खेल चुकी हैं। ‘एबीपी न्यूज’ में वह ‘2019 कौन जीतेगा’ शो करती थीं, साथ ही उनके पास 'प्रेस कॉन्फ्रेंस' जैसा बड़ा वीकली प्रोग्राम भी था। सियाचिन में की गई रिपोर्टिंग के लिए उन्हें बेस्ट रिपोर्टर का अवॉर्ड भी मिला था।

‘बुलेट रिपोर्टर’ के लिए आजतक और चित्रा त्रिपाठी को समाचार4मीडिया की ओर से शुभकामनाएं एवं बधाई!

 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Zee को अलविदा कह वंदना यादव का ये बना नया ‘ठिकाना’ 

जी न्यूज की वेबसाइट में कार्यरत पत्रकार वंदना यादव ने अब समूह को अलविदा कह दिया है...

Last Modified:
Wednesday, 16 October, 2019
Vandana Yadav

जी न्यूज की वेबसाइट में कार्यरत पत्रकार वंदना यादव ने अब समूह को अलविदा कह दिया है। वे वहां बतौर सीनियर सब एडिटर कार्रयत थीं। वे जल्दी ही अपनी नई पारी का आगाज ओपेरा न्यूज (Opera News) के साथ करेगी। यहां वे असोसिएट न्यूज ऑपरेशंस का दायित्व संभालेगी। जी न्यूज की वेबसाइट में रीजनल डेस्क के साथ-साथ वे एंटरटेनमेंट, लाइफस्टाइल, फूड-ट्रैवल सेक्शन संभाल ही थीं।

जी न्यूज डिजिटल के साथ करीब डेढ़ साल काम करने से पहले वे आजतक के डिजिटल पोर्टल में सीनियर सब एडिटर के पद पर कार्यरत रह चुकी है। आजतक में वे एंटरटेनमेंट, लाइफ स्टाइल और ट्रैवेल बीट पर अपना सहयोग देती थीं। वे यहां दिसंबर, 2015 से जुड़ी हुईं थीं और अप्रैल 2018 में उन्होंने यहां से विदाई ले जी समूह जॉइन किया था

आजतक से पहले वंदना दैनिक जागरण के साथ थीं और यहां वे सखी मैगजीन के लिए इन्हीं बीट्स पर काम करतीं थीं। इसके अतिरिक्त वे यहां करियर बीट भी संभालती थीं। जागरण में सीनियर सब एडिटर के पद पर रहते हुए उन्होंने यहां जनवरी, 2015 से नवंबर, 2015 तक अपना योगदान दिया। इसके पहले वे फरवरी, 2013 से दिसंबर, 2014 तक ‘दैनिक राष्ट्रीय उजाला’ में सब एडिटर के पद पर कार्यरत थीं। यहां उन्हें रिपोर्टिंग में भी हाथ आजमाने का मौका मिला।

दिल्ली के साउथ दिल्ली कैंपस स्थित डब्लूएलसीआई (WLCI) से पत्रकारिता में पीजी डिप्लोमा करने के बाद उन्होंने अपने करियर की शुरुआत ओशो फाउंडेशन से जून, 2012 में बतौर सब एडिटर की थी। यहां जनवरी, 2013 तक रहीं और इसके बाद वे  ‘दैनिक राष्ट्रीय उजाला’ से जुड़ीं।
वंदना यादव को नई पारी के लिए समाचार4मीडिया की ओर से शुभकामनाएं...

 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज एंकर की पत्नी के साथ ससुराल में बड़ी वारदात

चार साल पहले हुई थी शादी, करीब 15 दिन पहले ही दिल्ली से अपनी ससुराल इटावा आई थी महिला

Last Modified:
Tuesday, 15 October, 2019
Divyanshi

दिल्ली से अपनी ससुराल इटावा आई न्यूज एंकर की पत्नी की घर में घुसकर हत्या करने का मामला सामने आया है। इटावा की लड़ैती भवन के पास वाली गली में हुई इस वारदात की जानकारी मिलते ही इलाके में सनसनी फैल गई।

बताया जाता है कि दिल्ली में एक न्यूज चैनल के एंकर अजितेश मिश्रा की 27 वर्षीय पत्नी दिव्यांशी करीब 15 दिन पहले ही दिल्ली से ससुराल आई थी और मंगलवार को उसे वापस लौटना था। घटना के दौरान अजितेश की मां और भाई दिल्ली में थे, जबकि घर में केवल ससुर प्रमोद मिश्रा थे।

प्रमोद मिश्रा कर्बा बुजुर्ग प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक के पद से रिटायर हुए हैं। वाल्मीकि जयंती पर सोमवार को विद्यालय में आयोजित कार्यक्रम से वो दोपहर करीब एक बजे लौटे थे और मुख्य गेट की दूसरी चाबी से गेट खोलकर अपने कमरे में सो गए।

करीब तीन बजे जब वे सोकर उठे, तब बहू को आवाज दी। जवाब नहीं मिलने पर वह कमरे में पहुंचे तो देखा कि कमरे में दिव्यांशी का लहूलुहान शव पड़ा था। इसके बाद उन्होंने शोर मचाया और पड़ोसियों को सूचना दी। मोहल्ले के लोगों की मदद से दिव्या को दूसरी मंजिल स्थित कमरे से नीचे उतारकर जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

फिलहाल हत्यारे और हत्या के कारणों का पता नहीं चल सका है। पुलिस के अनुसार, सिर पर वजनदार वस्तु के प्रहार से इस वारदात को अंजाम दिया गया है। अलमारी के पास दो बैग अस्त-व्यस्त मिले हैं, कमरे का भी सामान बिखरा पड़ा था। दिव्यांशी की शादी करीब चार वर्ष पूर्व हुई थी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए