सुमित अवस्थी पर भड़के फारूक अब्दुल्ला ने मीडिया को बताया ‘आतंकवादी’

यदि आप ज्वलंत मुद्दों पर तीखी बहस और धारधार सवालों से रूबरू होना चाहते हैं, तो एबीपी न्यूज़ का...

Last Modified:
Tuesday, 12 March, 2019
Sumit Farooq

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

यदि आप ज्वलंत मुद्दों पर तीखी बहस और धारधार सवालों से रूबरू होना चाहते हैं, तो ‘एबीपी न्यूज़’ का ‘सुमित अवस्थी टूनाइट’ शो देखना न भूलें। 27 फरवरी से शुरू हुआ यह शो सप्ताह में पांच दिन यानी सोमवार से शुक्रवार रात 9:30 बजे प्रसारित होता है। जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है इस शो की कमान सुमित अवस्थी के हाथों में है और वो अब तक अपने सवालों से कई नेताओं को दुविधा में डाल चुके हैं। हाल ही में जब जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और सांसद फारूक अब्दुल्ला का सुमित का आमना-सामना हुआ, तो वो ज्यादा देर तक खुद को कुर्सी से बांधकर नहीं रख सके।

पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायुसेना की एयर स्ट्राइक का मुद्दा काफी गर्माया हुआ है, इस बीच चुनाव आयोग द्वारा लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान पर भी कुछ नेताओं द्वारा एतराज जताया जा रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए ‘सुमित अवस्थी टूनाइट’ के 11 मार्च के एपिसोड में फारूक अब्दुल्ला को आमंत्रित किया गया था। 3 बार लोकसभा, 2 बार राज्यसभा के सांसद, 5 बार विधायक, 1 बार केंद्र में मंत्री और 3 बार राज्य के मुख्यमंत्री रहे अब्दुल्ला को अब लगता है कि चुनाव आयोग सरकार के इशारे पर काम करता है और एयर स्ट्राइक को चुनाव के मद्देनजर अंजाम दिया गया।

इसी पर अवस्थी ने अपना पहला सवाल दागा। उन्होंने अब्दुल्ला से पूछा कि आपको ऐसा क्यों लगता है कि चुनाव के चक्कर में एयर स्ट्राइक की गई, जिसका वो कोई सीधा जवाब नहीं दे सके। उल्टा उन्होंने पुलवामा हमले को सरकार की नाकामी बताकर भाजपा को कोसना शुरू कर दिया। बातों-बातों में यह कहते हुए कि ‘तो आपको लगता है कि सीआरपीएफ के जवानों को भाजपा ने मरवाया’ सुमित ने अब्दुल्ला के मुंह में शब्द डालने की कोशिश की, लेकिन वो मंझे हुए नेता की तरह इस चक्रव्यूह को भेदने में कामयाब रहे।

इसके बाद सुमित अवस्थी ने एक और दमदार सवाल दागा। उन्होंने अब्दुल्ला से पूछा कि ‘तो क्या हम इसलिए पाकिस्तान को जवाब न दें कि देश में चुनाव होने हैं? इसका भी पूर्व मुख्यमंत्री गोलमोल जवाब देते रहे। वो वर्तमान से इतिहास में चले गए और फिर वापस वर्तमान में आकर मोदी सरकार पर हमले करते रहे, लेकिन उन्होंने सीधा जवाब नहीं दिया।

जब सुमित ने कहा कि ‘आप जैश के आतंकवादी महसूद अजहर को बचाने की बात कर रहे हैं, तो फारूक अब्दुल्ला नाराज़ हो गए और इसके लिए भी उन्होंने पूर्ववर्ती राजग सरकार को कुसूरवार ठहराया। काफी देर तक दोनों के बीच ऐसे ही बहस होती रही और फिर जैसे ही सुमित अवस्थी ने अब्दुल्ला को यह याद दिलाया कि आतंकवाद से केवल कश्मीर ही नहीं, पूरा भारत पीड़ित है, तो उनका हावभाव और अंदाज़ एकदम से बदल गया। उन्होंने कहा ‘लड़ आप नहीं रहे हैं, हम रहे हैं।’ जिसके जवाब में सुमित ने कहा ‘लड़ हर हिन्दुस्तानी रहा है, जो 40 जवान शहीद हुए उनमें कोई कश्मीरी नहीं था, सब बाहर के बच्चे थे। आप केवल हम-हम मत बोलिए आप अपनी गलती मानिये, आप हम बोलकर कश्मीरियों के लिए हमदर्दी नहीं जीत सकते।’ सुमित अवस्थी की यह बातें फारूक अब्दुल्ला को इस कदर नागवार गुजरीं कि उन्होंने न केवल अवस्थी बल्कि संपूर्ण मीडिया को ही आतंकवादी करार दे दिया।

हालांकि सुमित ने बेहद संयम से काम लिया। आमतौर पर ऐसी परिस्थिति में एंकर भी जोश में आ जाते हैं और फिर डिबेट मूल मुद्दे से भटककर कहीं और चली जाती है। इसके बाद एबीपी न्यूज़ के पत्रकार ने कहा, ‘फारूक साहब, आपको समझना होगा कि कश्मीर हिंदुस्तान से अलग नहीं है, आप हिंदुस्तान के साथ रहिये।‘ यह सुनते ही नेशनल कांफ्रेंस अध्यक्ष बिफर गए और माइक निकालकर फेंक दिया। सुमित अवस्थी ने उन्हें रोकने का कोशिश की, लेकिन वह नहीं रुके।

शो के इस विडियो को आप यहां पर क्लिक कर देख सकते हैं-

 

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए