विज्ञापनों पर नजर रखेगी अब ASCI की ये नई टीम...

भारतीय विज्ञापन मानक परिषद (ASCI) की बोर्ड मीटिंग में आदित्य बिड़ला समूह के समूह...

Last Modified:
Thursday, 13 September, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

भारतीय विज्ञापन मानक परिषद (ASCI) की बोर्ड मीटिंग में आदित्य बिड़ला समूह के समूह कार्यकारी अध्यक्ष (कॉर्पोरेट रणनीति) डी.शिवकुमार को सर्वसम्मति से ASCI का अध्यक्ष निर्वाचित किया गया है।

तीन साल तक बोर्ड के सदस्य के रूप में आत्म-विनियमन का समर्थन करने वाले शिवकुमार एक सफल व्यावसायिक लीडर हैं, उन्होंने उपभोक्ता उत्पादों और लक्जरी उद्योग में विभिन्न पदों पर सेवाएं दी हैं। उनके पास सेल्स और मार्केटिंग में 19 साल का लंबा अनुभव है। वहीं, सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के नेटवर्क सेल्स एंड इंटरनेशनल बिजनेस प्रेसिडेंट रोहित गुप्ता उपाध्यक्ष चुने गए हैं, जबकि मीडिया ब्रांड्स प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ शशिधर सिन्हा को पुन: मानद कोषाध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के सदस्यों में हरीश भट्ट (निदेशक, टाटा ग्लोबल बेवरेजेज लिमिटेड), सुभाष कामथ (मैनेजिंग पार्टनर, बीबीएच कम्युनिकेशंस इंडिया प्राइवेट लिमिटेड), संदीप कोहली (पर्सनल केयर हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक और उपाध्यक्ष), प्रोफेसर एस.के. पालेकर (सहायक प्रोफेसर एवं एडवाइजर – एग्जिक्यूटिव एज्यूकेशन ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी), एन.एस. राजन (प्रबंध निदेशक, केचम सम्पर्क प्राइवेट लिमिटेड), के.वी. श्रीधर (संस्थापक और चीफ क्रिएटिव ऑफिसर (निदेशक), हाइपर कलेक्टिव क्रिएटिव टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड), अबंती शंकरनारायणन (पूर्व उपाध्यक्ष, सीआईएबीसी), गिरीश अग्रवाल (निदेशक, दैनिक भास्कर समूह), मधुसूदन गोपाल (सीईओ, प्रोक्टर एंड गैंबल हाइजीन एंड हेल्थ केयर लिमिटेड), प्रसून बसु (अध्यक्ष – साउथ एशिया नील्सन (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड), शिवकुमार सुंदरम (अध्यक्ष- राजस्व बेनेट, कोलमन एंड कंपनी लिमिटेड), विकास अग्निहोत्री (निदेशक सेल्स, गूगल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड), उमेश श्रीखंडे (सीईओ, टैप्रूट इंडिया कम्युनिकेशन प्राइवेट लिमिटेड) में शामिल हैं।

ASCI के सेवामुक्त अध्यक्ष अबंती शंकरनारायणन ने इस मौके पर कहा कि 2017-18ASCI के लिए एक और मजबूत वर्ष रहा है, क्योंकि हमने अपने संगठनात्मक ढांचे को सशक्त बनाने, बाहरी विश्वसनीयता और मजबूत सहयोग निर्मित करने की दिशा में महत्वपूर्ण प्रगति की है। हमारे कड़े दिशानिर्देश, निर्बाध प्रक्रियाओं और हमारे उपभोक्ता शिकायत परिषद के समर्पण और कड़ी मेहनत ने भ्रामक विज्ञापनों के उपयोग को सीमित करने और स्वयं विनियमन को बढ़ाने में योगदान दिया है।

उन्होंने आगे कहा कि इस साल की ASCI की महत्वपूर्ण उपलब्धियों में उपभोक्ता मामलों के विभाग के साथ तीन साल का लंबा सहयोग, फूड सेफ्टी अथॉरिटी ऑफ इंडिया के साथ मेमोरेंडम ऑफ़ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) का नवीनीकरण, ‘विज्ञापन में प्रसिद्ध हस्तियों के लिए दिशानिर्देश’ और आयुष दवाओं के भ्रामक विज्ञापनों को नियंत्रित करने के लिए आयुष का समावेश, शामिल हैं। अबंती शंकरनारायणन ने कहा ‘वर्ष 2017-18 के लिए एएससीआई के अध्यक्ष के रूप में, मुझे इस यात्रा का हिस्सा बनने पर गर्व है और मुझे पूरा भरोसा है कि शिवकुमार की अध्यक्षता में एएससीआई तेज़ी से और लगातार प्रगति करेगा’।

नवनिर्वाचित अध्यक्ष डी.शिवकुमार ने कहा, ‘मैं अबंती के कार्यकाल के लिए उनका धन्यवाद देना चाहता हूं। हम सूचना, मीडिया और समाज के विश्वास के संबंध में एक बदलते परिवेश में रहते हैं। एएससीआई आत्म-विनियमन और पिछले अध्यक्षों एवं बोर्ड के ज्ञान की नींव पर निर्मित है। अब बोर्ड को और आगे ले जाना मेरी जिम्मेदारी है’।

उपभोक्ता शिकायत परिषद (CCC) ASCI द्वारा स्थापित एक स्वतंत्र निकाय है (इसके अधिकांश सदस्य उपभोक्ता संबंधी मामलों के कार्यकर्ता, वकील, डॉक्टर और शिक्षाविद जैसे सिविल सोसाइटी के सदस्य हैं), CCC ने इस साल 47 बैठकें की और 2641 विज्ञापनों के खिलाफ शिकायतों पर विचार-विमर्श किया। जिसमें से 1177 विज्ञापनों के खिलाफ शिकायतों को सही माना गया, जबकि 483 को निरस्त किया गया। 2016-17 (2300) की तुलना में शिकायतों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि एएससीआई की सुओ मोटो निगरानी परियोजना के कारण है। स्वतंत्र समीक्षा प्रक्रिया (IRP) को बहुत अनुकूल प्रतिक्रिया मिली और इस वर्ष 30 आईआरपी किए गए।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

महीना भी नहीं हुआ सांसद बने, महिला पत्रकार के साथ किया ऐसा बर्ताव

अभी लोकसभा चुनाव के नतीजों को आए महीनाभर भी नहीं बीता है, पर नए सांसद साहब अपने बुरे बर्ताव के चलते सुर्खियों का हिस्सा बन गए हैं

Last Modified:
Tuesday, 18 June, 2019
female-journalist

अभी लोकसभा चुनाव के नतीजों को आए महीनाभर भी नहीं बीता है, पर नए सांसद साहब अपने बुरे बर्ताव के चलते सुर्खियों का हिस्सा बन गए हैं। मामला ओडिशा के बीजू जनता दल के सांसद अनुभव महांती का है। सांसद महोदय एक्टर भी है। ऐसे में हीरो से वे सोशल मीडिया पर आजकर विलेन के तौर पर नजर आ रहे हैं। 


महिला पत्रकार सस्मिता ने उन पर आरोप लगाया कि उनका भाई उसे पर कमेंट और छींटाकशी कर उसे परेशान करता था इसलिए वे सांसद महोदय के पास उसकी शिकायत लेकर गई, पर सांसद ने उल्टा ये बात सुनकर उसके साथ दुर्व्यवहार किया और उसे धक्का दे दिया। महिला पत्रकार ने कहा कि 2017 में वे एक अखबार में इंटर्नशिप कर रही थीं तब झांझरीमंगला, चौधरी बाजार होते हुए जाना पड़ता था। उस समय अनुभव के भाई अनुप्रास आते-जाते समय कमेंट मारा करते थे। दो साल में कई बार इस तरह की घटना कई बार हुई, इससे परेशान होकर ही वे सांसद से मिलने गई थी। महिला पत्रकार की शिकायत पर पुलिस ने सांसद और उसके भाई के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।


वहीं सांसद का कहना है, 12 जून को समिस्ता मेरे निवास स्थान पर आई थी और मेरे साथ अभद्र भाषा में बात करने लगी। वे मेरे घर के बाहर शोर-शराबा मचाने लगी तो मैंने पुलिस को बुलाकर कहा कि इस महिला को इसके घर ले जाए। 


 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टीवी पत्रकारों के लिए पुलिस ने बिछाया ऐसा ‘जाल’  

एक जालसाज को पत्रकार के रूप में पुलिसवाले को ब्लैकमेल करना बहुत भारी पड़ा

Last Modified:
Tuesday, 18 June, 2019
arrested

एक जालसाज को पत्रकार के रूप में पुलिसवाले को ब्लैकमेल करना बहुत भारी पड़ा। पुलिस ने आरोपी सुधीर को उसकी सही जगह यानी सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है। सुधीर खुद को वरिष्ठ टीवी पत्रकार बताकर ट्रैफिक पुलिसकर्मी से दो लाख रुपए की मांग कर रहा था। पुलिस का कहना है कि आरोपी नरेला का रहने वाला है और उस गैंग का हिस्सा है जो दुकान मालिकों और पुलिसकर्मियों को किसी न किसी कारण से ब्लैकमेल करता है। सुधीर को पुलिस ने नरेला के पास से गिरफ्तार किया, जबकि उसका एक साथी भाग निकलने में कामयाब रहा। आरोपी सुधीर के बारे में पुलिस को तब पता चला जब कुछ ट्रैफिक पुलिस के जवानों ने शिकायत दर्ज कराई कि एक लोकप्रिय मीडिया हाउस का पत्रकार उन्हें ब्लैकमेल कर रहा है। 
 
सुधीर खुद को वरिष्ठ पत्रकार बताता था और पुलिसकर्मियों को धमकी देता था कि यदि उन्होंने पैसे नहीं दिए थे वो उनके गलत कार्यों के विडियो अपने चैनल पर वायरल कर देगा। इसी तरह की शिकायतें पुलिस को कुछ दुकान मालिकों से भी मिली थीं। पीड़ितों की तरफ से पुलिस को बताया गया था कि पत्रकारों का एक समूह उन्हें ब्लैकमेल कर रहा है। इन शिकायतों के आधार पर पुलिस ने आरोपियों की तलाश शुरू कर दी थी, लेकिन उसे सफलता तब मिली जब मंगोलपुरी सर्किल में तैनात कांस्टेबल ने 2 लाख रुपए मांगे जाने की शिकायत दर्ज कराई। अब चूंकि मामले में पत्रकारों का नाम लिया जा रहा था, इसलिए पुलिस ने बड़ी सूझबूझ से काम लिया। 

शिकायतकर्ता को आरोपियों की बताई जगह पर भेजा गया और पुलिसकर्मी भी वहां घात लगाकर बैठ गए। जैसे ही बाइक सवार दो आरोपी वहां पहुंचे, पुलिसकर्मियों ने उन्हें घेर लिया। जब आरोपियों से प्रेस कार्ड दिखाने को कहा गया, तो वो घबरा गए। इस बीच मौका पाकर एक आरोपी भाग निकला, जबकि सुधीर पुलिस के हत्थे चढ़ गया।    

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

महिला पत्रकार का दर्द: किसी पुरुष संपादक ने नहीं स्वीकारी गर्भपात से जुड़ी स्टोरी

गर्भपात जैसे संवेदनशील और गंभीर मामलों पर मीडिया और खासकर पुरुष संपादकों का क्या रुख रहता है

Last Modified:
Tuesday, 18 June, 2019

गर्भपात जैसे संवेदनशील और गंभीर मामलों पर मीडिया और खासकर पुरुष संपादकों का क्या रुख रहता है, यह अमेरिकी पत्रकार ने अपने एक लेख में रेखांकित किया है। कोलंबिया जर्नलिज्म रिव्यु नामक वेबसाइट पर प्रकाशित इस लेख में मेगन विंटर ने अपने अनुभवों को साझा किया है। गौरतलब है कि अमेरिका के अलबामा में पिछले महीने गर्भपात पर प्रतिबंध को लेकर बिल पारित किया गया है। इसी तरह लुइसियाना, मिसिसिपी, ओहियो और जॉर्जिया भी इस राह पर चल निकले हैं। मिसौरी भी जल्द ही देश का पहला ऐसा राज्य बन सकता है, जहां गर्भपात की सुविधा प्रदान नहीं की जाएगी। इन ख़बरों के बीच मेगन विंटर उस दौर से लोगों को रूबरू करा रही हैं, जब उनकी एक के बाद एक गर्भपात से जुड़ी कई स्टोरियों को किसी भी मीडिया हाउस ने जगह नहीं दी थी। लिहाजा मेगन का मानना है कि जब तक इस मुद्दे की गंभीरता को नहीं समझा जाएगा, तब तक स्थिति बदलने वाली नहीं है।


अपने लेख में मेगन ने लिखा है ‘2016 में मैंने मिसौरी राज्य की राजधानी जेफर्सन सिटी की यात्रा की। मैं उस वक़्त एक फ्रीलांस पत्रकार के रूप में कई राज्यों में घूमकर गर्भपात-विरोधी आंदोलन पर रिपोर्टिंग कर रही थी, और मैंने मिसौरी को केस स्टडी के रूप में चुना। जब मैंने इस विषय में गहराई से उतरना शुरू किया, तो आभास हुआ कि मैं जितना समझ रही थी स्थिति उससे ज्यादा भयावह है। मिसौरी में जो कुछ हो रहा था, उसका राष्ट्रीय स्तर पर दूरगामी प्रभाव पड़ने वाला था। इसलिए मैंने तुरंत इस पर काम शुरू किया, लेकिन उस मीडिया हाउस की तलाश बेहद मुश्किल साबित हुई जो गर्भपात से जुड़ी मेरी स्टोरी को जगह देने का साहस दिखा सके। 

कई महीनों की मशक्कत के बाद रोलिंग स्टोन, बज़फीड, द न्यू रिपब्लिक, हार्पर, हैफिंगटन पोस्ट हाइलाइन और अटलांटिक के संपादकों ने या तो मेरे स्टोरी आईडिया को सिरे से खारिज कर दिया या प्रारंभिक उत्तरों के बाद मुझे जवाब देने में विफल रहे। मेरे लिए चौंकाने वाली बात तो यह रही कि उन संपादकों में से कुछ तो महिलाएं थीं और और हफ़पोस्ट के संपादक को छोड़कर सभी पुरुष चीफ एडिटर के अधीन कार्यरत थीं। मैंने लगातार कई महीनों तक सभी प्रमुख संपादकों को यहाँ की स्थिति से अवगत कराया, मगर किसी ने मेरी स्टोरी को गंभीरता से नहीं लिया, जैसे उनके लिए यह कोई मुद्दा ही नहीं था। प्रजनन-स्वास्थ्य पर मेरी पांच सालों की रिपोर्टिंग में किसी भी पुरुष संपादक ने गर्भपात से जुड़ी मेरी स्टोरी को स्वीकार नहीं किया। मीडिया का या रुख दर्शाता है कि महिलाओं के हित की बात करना और उसके लिए खड़े रहना दोनों अलग-अलग बातें हैं’।

मेगन के मुताबिक, उन्होंने अब तक केवल एक पुरुष संपादक के लिए महिलाओं की स्वास्थ्य देखभाल विषय पर लिखा है, वो भी इसलिए कि उक्त संपादक की पत्नी के साथ मेगन ने काम किया था और उन्होंने ही मेगन का नाम अपने पति को सुझाया था। हालांकि, मेगन मानती हैं कि भले ही महिला संपादकों ने गर्भपात से संबंधित मेरी स्टोरियों को स्वीकार न किया हो, लेकिन उन्होंने मेरे काम की सराहना की, अपने सहकर्मियों से मेरी अन्य ख़बरों के लिए ज्यादा पैसे देने की सिफारिश की। मेगन की नज़र में पुरुष संपादकों का पूरा ध्यान राजनीतिक मुद्दों पर रहता है और इस वजह से महिलाओं से जुड़े मुद्दे पीछे छूट जाते हैं। 

मेगन के अनुसार, 2012 में, द कट के संपादक ने मुझे गुमनाम रूप से महिलाओं से उनके गर्भपात के विषय में सवाल जवाब करने का मौका दिया, जो न्यूयॉर्क मैगज़ीन की कवर स्टोरी बन गई। कॉस्मोपॉलिटन के लिए मेरे द्वारा गर्भपात विरोधी आंदोलन पर लिखा गया एक फीचर 2016 के नेशनल मैगज़ीन अवार्ड के लिए नामांकित किया गया था। मेगन का कहना है कि सियासी ख़बरों के चलते गर्भपात जैसे विषयों को नज़रंदाज़ करना पूरी तरह गलत है। अब मीडिया संस्थानों को यह फैसला लेना होगा कि क्या महिलाओं की हित की बातें सिर्फ बातों तक ही सीमित हैं।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार बोला, पहले मंत्री ने मारा थप्पड़ फिर दी धमकी

देश में तो लगातार पत्रकारों की शोषण की खबरें सामने आ ही रही थी

Last Modified:
Tuesday, 18 June, 2019
slap


देश में तो लगातार पत्रकारों की शोषण की खबरें सामने आ ही रही थी, अब पाकिस्तान से भी ऐसी ही एक खबर सामने आई है।  मामला पाकिस्तान के एक टीवी पत्रकार और वहां के विज्ञान-प्रोद्योगिकी मंत्री के बीच का है। टीवी चैनल बोल न्यूज के पत्रकार समी इब्राहिम ने मंत्री चौधरी इमरान खान पर आरोप लगाते हुए कहा कि फैसलाबाद में एक शादी समारोह के दौरान उन्हें मंत्री ने सिर्फ थप्पड़ जड़ दिया बल्कि उसे गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी भी दी।

इन आरोपों पर मंत्री ने कहा कि ऐसा नहीं होना चाहिए था, पर ये दुर्भाग्यपूर्ण घटना है।  पत्रकार मुझसे बदतमीजी कर रहा था और उसने मुझे ‘भारतीय जासूस’ भी कहा। 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सरकार द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्तियों को लेकर लिया गया ये फैसला

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अब जारी होने वाली सरकारी प्रेस विज्ञप्तियों को लेकर एक बड़ा निर्णय लिया है

Last Modified:
Tuesday, 18 June, 2019
Press

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अब जारी होने वाली सरकारी प्रेस विज्ञप्तियों को लेकर एक बड़ा निर्णय लिया है। यूपी के सूचना विभाग को आदेश दिया गया है कि वे अब प्रदेश सरकार द्वारा जारी होने वाली प्रेस रिलीज को संस्कृत भाषा में भी जारी करेगा। अभी तक प्रेस रिलीज अंग्रेजी, हिंदी और उर्दू भाषा में ही जारी की जाती थी।  

योगी के आदेश को अमली जामा पहनाते हुए इसकी शुरुआत भी सोमवार से कर दी गई है। सूचना विभाग ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नीति आयोग के साथ हुई बैठक का प्रेस नोट संस्कृत भाषा में जारी किया। सूचना विभाग के निदेशक शिशिर ने बताया कि इससे संस्कृत भाषा को बढ़ावा मिलेगा और संस्कृत के छात्र-छात्राओं का उत्साहवर्धन भी होगा।
 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रिका समूह: कोठारी परिवार में शोक

देश के बड़े मीडिया हाउस में शुमार पत्रिका समूह में आज शोक की लहर है

Last Modified:
Tuesday, 18 June, 2019
Patrika


देश के बड़े मीडिया हाउस में शुमार पत्रिका समूह में आज शोक की लहर है। समूह के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी के छोटे भाई मिलाप कोठारी का आकस्मिक निधन हो गया है। वे 69 वर्ष के थे। उन्होंने मंगलवार की सुबह अंतिम सांस ली। 

1950 में जन्मे मिलाप पत्रिका समूह के निदेशक और संपादक के पद पर कार्य कर चुके हैं। उनकी शवयात्रा निवास ‘स्वस्ति, 11, हॉस्पिटल मार्ग, सी स्कीम’ से रवाना होगी। उनका अंतिम संस्कार शाम सवा पांच बजे आदर्श नगर में किया जाएगा। 

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर स्व.कोठारी के निधन पर गहरा शोक जताया है। 
 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दैनिक जागरण को अलविदा कह पत्रकार सुशील मिश्रा ने शुरू की नई पारी

देश के नंबर वन अखबार दैनिक जागरण के मेरठ एडिशन से खबर है कि

Last Modified:
Tuesday, 18 June, 2019


देश के नंबर वन अखबार दैनिक जागरण के मेरठ एडिशन से खबर है कि वहां कार्यरत आउटपुट हेड सुशील मिश्रा ने इस्तीफा दे दिया है। सुशील ने जागरण के साथ एक दशक से भी अधिक समय तक काम किया है। उन्होंने वहां सिटी डेस्क, इसपुट डेस्क व यूपी डेस्क के इंजार्च के तौर पर भी अपनी सेवाएं दी है। सुशील मूल तौर पर उत्तर प्रदेश के ही निवासी है। 

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से पढ़ाई करने वाले सुशील ने अब अपनी नई पारी अमर उजाला के मेरठ संस्करण के साथ शुरू की है। वहां उनकी नियुक्ति डिप्टी न्यूज एडिटर के पद पर हुई है।


 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

राष्ट्रीय सहारा के कानपुर एडिशन को मिला नया रेजिडेंट एडिटर

जेश मिश्रा पहले से ही कानपुर यूनिट में कार्यरत हैं और ये पद उन्हें प्रमोशन के तौर पर मिला है

Last Modified:
Monday, 17 June, 2019
Rastriya Sahara


सहारा मीडिया से आ रही खबर के मुताबिक अखबार के कानपुर संस्करण के नए रेजिडेंट एडिटर के तौर पर ब्रजेश मिश्रा को नियुक्त किया गया है। ब्रजेश मिश्रा पहले से ही कानपुर यूनिट में कार्यरत हैं और ये पद उन्हें प्रमोशन के तौर पर मिला है।  इस बावत राष्ट्रीय सहारा के समूह संपादक मनोज तोमन ने पत्र जारी किया है, जो हम आपके साथ नीचे शेयर कर रहे हैं।


 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस पत्रकार की तारीफ तो बनती ही है

असली पत्रकार स्थिति और उसकी गंभीरता को पल भर में समझ लेता है और टीवी9 के पत्रकार ने भी तुरंत भाप लिया

Last Modified:
Monday, 17 June, 2019

नियम-कानून क्या केवल आम जनता के लिए है, यह सवाल अक्सर पूछा जाता है? और जब इस सवाल का कारण सामने मौजूद हो तो फिर एक पत्रकार को दूसरा अहम् सवाल दागने में देर नहीं करनी चाहिए। टीवी9 भारतवर्ष के मुजफ्फरपुर के पत्रकार रूपेश कुमार ने भी कुछ ऐसा ही किया। जब उन्होंने नेताजी को नियम कायदों की धज्जियाँ उड़ाते हुए देखा तो उनके रुतबे को दरकिनार करते हुए पूछ ही लिया कि ‘आप नियम से बड़े कैसे हो गए’?

मामला बिहार के मुजफ्फरपुर का है। यहां एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) के चलते 100 से ज्यादा बच्चों की मौत हो गई है। ऐसे में नेताओं से लेकर प्रशासन और मीडिया सभी व्यस्त हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्द्धन भी स्थिति का जायजा लेने मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्ण सिंह मेडिकल कालेज अस्पताल पहुंचे। उनके साथ-साथ नेताओं-कार्यकर्ताओं की भीड़ भी वहां पहुँच गई। कुछ देर के लिए अस्पताल, अस्पताल कम कोई सरकारी कार्यालय नज़र आने लगा। इस बीच टीवी9 भारतवर्ष के पत्रकार की नज़रें वहां मौजूद एक नेताजी पर गईं। दरअसल, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्द्धन अस्पताल के जिस हिस्से में मरीजों से मिल रहे थे, वहां मीडिया के जाने पर पाबंदी लगाई गई थी। इसलिए रिपोर्टर ने जब कोई दूसरी खबर तलाशना शुरू किया, तो आईसीयू में बैठे नेताजी नज़र आ गए।

असली पत्रकार स्थिति और उसकी गंभीरता को पल भर में समझ लेता है और टीवी9 के पत्रकार ने भी तुरंत भाप लिया कि यह खबर वायरल हो सकती है। भाजपा के उक्त नेता आईसीयू के केबिन में नर्स की कुर्सी पर बैठे थे और नर्स पास में खड़ी हुई थी। इतना ही नहीं जहां मीडियाकर्मियों को अंदर जाने की मनाही थी वहां नेताजी जूतों के साथ बड़े इत्मिनान से आराम फरमा रहे थे। जबकि आईसीयू में दाखिल होने से पहले जूते-चप्पल बाहर ही उतारने होते हैं। रिपोर्टर ने अपने कैमरामैन को पीछे लिए और यह बोलते हुए सीधे नेताजी के सामने पहुंच गए कि ‘मीडिया को जहाँ अनुमति नहीं है, वहां नेताजी की पहुंच देखिये। यहां से जो जाता है वो जूते उतारकर जाता है, लेकिन नेताजी जूते पहनकर बैठे हैं।’ एकदम से कैमरा देखकर नेताजी सकपका गए। उन्हें समझ ही नहीं आया कि बोलना क्या है। जब रिपोर्टर ने पूछा कि मीडिया को यहाँ आने की मनाही है, तो आप यहाँ कैसे बैठे हैं, इस पर नेताजी ने कहा ‘मरीज देखने आये हैं।’ रिपोर्टर ने तुरंत दूसरा सवाल दागते हुए कहा कहा कि कौन है आपका मरीज, कितने नंबर पर है? नेताजी इसका कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दे सके। इसके बाद जब उन्होंने देखा कि रिपोर्टर के सवाल ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं, तो उन्होंने सच्चाई स्वीकारते हुए कहा कि ‘हमारे नेता, अभिभावक यहां आये हुए हैं।’

सवाल-जवाब का सिलसिला यहीं नहीं रुका, टीवी9 भारतवर्ष के पत्रकार ने इस पर कहा ‘आपके नेता हर्षवर्द्धन जी यहां आये हुए हैं तो आप आईसीयू में जूते पहनकर बैठेंगे? नेताजी फिर निरुत्तर हो गए। हालांकि उन्होंने अपना बचाव करते हुए कहा कि ये आईसीयू नहीं है, बाहर है। इसके बाद वह सीधे दरवाजे तक पहुंचे और अपने जूते उतार दिए। रिपोर्टर ने वहां मौजूद अस्पताल कर्मी से भी बात की कि आखिर नेताजी को ऐसे कैसे प्रवेश करने दिया गया, लेकिन कोई सही जवाब नहीं मिल सका। जायज है, नेताओं के आगे भला क्या किसी की चल पाई है। वैसे, इस बेवाकी के लिए टीवी9 भारतवर्ष के पत्रकार की जितनी तारीफ की जाये कम है, क्योंकि आजकल पत्रकार भी नेताओं से सीधे लड़ाई मोल नहीं लेते।

आप इस पूरे घटनाक्रम का विडियो नीचे देख सकते हैं...

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जेल से नहीं छूट पाए नोएडा से गिरफ्तार ये 3 पत्रकार

एक न्यूज चैनल से गिरफ्तार तीन पत्रकारों की मुश्किल कम होने का नाम नहीं ले रही है

Last Modified:
Monday, 17 June, 2019
crime

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेकर विवादित शो का प्रसारण के करने के बाद नोएडा के एक न्यूज चैनल से गिरफ्तार तीन पत्रकारों की मुश्किल कम होने का नाम नहीं ले रही है। 

उल्लेखनीय है कि न्यूज चैनल नेशन लाइव की एमडी इशिका सिहं, एमडी अनुज शुक्ला, और एंकर अंशुल ने जमानत के लिए अर्जी दी थी, पर शुक्रवार को कोर्ट में इस मसले की सुनवाई नहीं हुई। कोर्ट ने अगली डेट मुकर्रर कर दी है। अब इन सबकी जमानत पर 18 जून यानी मंगलवार को सुनवाई की जाएगी। 

इस बावत बचाव पक्ष के वकील के.के.सिंह ने कहा कि जिला जज के अवकाश पर होने के चलते ये मामला एडीजे प्रथम के कोर्ट में भेजा गया था, पर वहां केसों की ज्यादा संख्या के चलते इस मामले को 18 जून की तारीख दी गई है। वैसे इस मामले में चैनल हेड अजय शाह अभी फरार चल रहे हैं। पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने के लिए दबिश दे रही है। 
 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए