Zee मीडिया के ग्रुप एडिटर (डिजिटल) प्रसाद सान्याल ने दिया इस्तीफा, अब यहां संभालेंगे कमान

अब तक कई मीडिया संस्थानों में महत्वपूर्ण पदों पर काम कर चुके हैं प्रसाद सान्याल

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Thursday, 27 June, 2019
Last Modified:
Thursday, 27 June, 2019
Prasad-Sanyal

‘जी मीडिया’ में ग्रुप एडिटर (डिजिटल) प्रसाद सान्याल ने इस्तीफा दे दिया है। सूत्रों का कहना है कि प्रसाद सान्याल 'एचटी डिजिटल स्ट्रीम्स’ (HT Digital Streams) में चीफ कंटेंट ऑफिसर रहीं नीलांजना भादुड़ी झा की जगह ले सकते हैं। वे आईआईएमसी एल्युमनी एसोसिएशन के प्रेजिडेंट भी हैं।

प्रसाद सान्याल ने वर्ष 2000-01 में IIMC से पत्रकारिता का डिप्लोमा करने के दौरान ही प्रतिष्ठित न्यूज एजेंसी एएनआई (ANI) में कदम रखा और वे पांच साल तक यहां रहे। 2005 में जब यहां से अलग हुए तब वे प्रड्यूसर कम रिपोर्टर के तौर पर कार्यरत थे। यहां से निकलने के बाद वे सीएनएन-आईबीएन से जुड़ गए और 2007 तक प्रड्यूसर के पद पर यहां अपनी सेवाएं दीं।

इसके बाद उनका अगला पड़ाव एनडीटीवी रहा, जहां वे सीनियर आउटपुट एडिटर के तौर पर जुलाई  2009 तक रहे। फिर वे न्यूजएक्स आ गए और यहां न्यूज एडिटर के पद काम किया। एक साल काम करने के बाद वे वर्ष 2010 में दोबारा एनडीटीवी पहुंचे और इस बार उन्हें सीनियर न्यूज एडिटर की जिम्मेदारी दी गई, जिसे उन्होंने 2010 से 2014 तक बखूबी निभाया।

अप्रैल  2014 में उन्हें एनडीटीवी में प्रमोट कर एडिटर (न्यूज) बना दिया गया और यहां उन्होंने अगस्त  2015 तक सफलतापूर्वक काम किया। इसके बाद वे टाइम्स इंटरनेट और फिर जी मीडिया का हिस्सा बने। वे जुलाई  2017 से जी मीडिया के साथ जुड़े थे, जबकि इसके पहले वे टाइम्स इंटरनेट के अंग्रेजी न्यूज पोर्टल timesofindia.com के एडिटर के तौर पर कार्यरत थे।

वे अगस्त 2015 से जुलाई  2017 तक यहां रहे। जी मीडिया में सान्याल समूह के डिजिटल पोर्टल Zeenews.com, ZeeBiz.com, Original Video, Wionews.com, India.com, BollywoodLife.com, BGR.in, TheHealthSite.com, CricketCountry.com, DNA.com का नेतृत्व कर रहे थे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

प्रसार भारती के कंटेंट को कुछ यूं ‘धार’ देगी Google

पार्टनरशिप के तहत राष्ट्रीय महत्व के कार्यक्रमों की यूट्यूब पर लाइव स्ट्रीमिंग भी की जाएगी

Last Modified:
Friday, 16 August, 2019
Google

दिग्गज टेक कंपनी ‘गूगल’ ने देश की पब्लिक ब्रॉडकास्ट कंपनी ‘प्रसार भारती’ (Prasar Bharati) के साथ दीर्घकालिक सहयोग बनाए रखने की घोषणा की है। इसके तहत गूगल अब 12 भाषाओं में ‘ऑल इंडिया रोडियो’ (AIR) और ‘दूरदर्शन’ (DD) के दो दशक के कंटेंट का गूगल आर्ट्स एंड कल्चर पर डिटिलीकरण करने की दिशा में काम करेगी।

इसके अलावा, राष्ट्रीय महत्व के कार्यक्रमों जैसे-स्वतंत्रता दिवस अथवा गणतंत्र दिवस पर प्रधानमंत्री द्वारा दिए जाने वाले भाषणों आदि की यूट्यूब पर लाइव स्ट्रीमिंग भी की जाएगी। इसी के तहत स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए भाषण की लाइव स्ट्रीमिंग यूट्यूब पर की गई।

इस बारे में गूगल इंडिया और साउथ एशिया के डायरेक्टर (पब्लिक पॉलिसी) चेतन कृष्णास्वामी ने कहा, ‘प्रसार भारती के साथ इस तरह का गठबंधन करने को लेकर हम काफी खुश है, जिनमें शानदार कंटेंट से भरी लाइब्रेरी को डिजिटल रूप देने के साथ ही देश के राष्ट्रीय महत्व के कार्यक्रमों को इंटरनेट के जरिये दुनिया भर में बढ़ावा दिया जाएगा। हमें उम्मीद है कि इस गठबंधन से विभिन्न उम्र के डिजिटल यूजर्स को विभिन्न भाषाओं में प्रसार भारती की बेहतरीन प्रोग्रामिंग देखने का मौका मिलेगा।’

वहीं, प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर वेम्पती का कहना है, ‘प्रसार भारती और गूगल की इस पार्टनरशिप से दुनिया भर के दर्शकों के लिए राष्ट्रीय हित से जुड़े कंटेंट को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर लाने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही आज के ऐसे युवा वर्ग को भी प्रसार भारती से जोड़ने में और ज्यादा मदद मिलेगी, जो डिजिटल को पसंद करते हैं और उस पर ज्यादा समय देते हैं।’

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

शर्मनाक: टाइम्स समूह की वेबसाइट पर गलतियों के अंबार वाला इंटरव्यू

पिछले 10 सालों से ये वेबसाइट पुरुषों की लाइफस्टाइल से जुड़े विषयों पर अंग्रेजी में काम कर रही है। हाल ही में हिंदी में इस वेबसाइट को शुरू किया गया है

Last Modified:
Friday, 09 August, 2019
Saif Ali

बॉलिवुड एक्टर सैफ अली खान का इंटरव्यू हाल ही में एक वेबसाइट पर छपा है। बताया जाता है कि इस इंटरव्यू को अंग्रेजी वेबासइट से ट्रांसलेट करके लगाया गया है। यहां तक तो ठीक है, लेकिन हिंदी में छपे इस इंटरव्यू में भाषा और व्याकरण की तमाम गलतियां हैं। ऐसे ही एक पाठक ने इन गलतियों के बारे में बताते हुए अपने विचार शेयर किए हैं। इन्हें आप यहां पढ़ सकते हैं।

‘आज के दौर की हिंदी पत्रकारिता में भाषाई शुद्धता की उम्मीद न के बराबर ही हो चली है। लेकिन पत्रकारिता के कुछ नामी ब्रैंड से अभी भी ये उम्मीद की जाती है कि वे भाषाई शुद्धता के स्तर का ध्यान जरूर रखेंगे। रोजमर्रा के कामों में हिंदी की गलतियां छूट जाना इतनी चिंताजनक बात अब नहीं रह गई है। लेकिन जब आपके सामने एक बड़ी सेलेब्रिटी का इंटरव्यू हो, तब ध्यान देना जरूरी हो जाता है।

ऐसा ही कुछ हुआ टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ। टाइम्स समूह के टाइम्स इंटरनेट का प्रोडक्ट है Mensxp। पिछले 10 सालों से यह वेबसाइट पुरुषों की लाइफस्टाइल से जुड़े विषयों पर अंग्रेजी में काम कर रही है। हाल ही में हिंदी में इस वेबसाइट को शुरू किया गया है। मैं पिछले कई वर्षों से अंग्रेजी की इस वेबसाइट का पाठक रहा हूं। जब इसे हिंदी में शुरू करने की जानकारी मिली तो मन बहुत खुश हुआ। आखिर अपनी भाषा में कुछ पढ़ने का सुख अलग ही होता है।

Mensxp हर महीने किसी सेलिब्रिटी का इंटरव्यू डिजिटल कवर के तौर पर छापती है। इन सितारों में कई बड़े नाम शामिल हैं। मैं खुद इन डिजिटल कवर्स का फैन रहा हूं। हाल ही में आदित्य रॉय कपूर का इंटरव्यू मुझे इस वेबसाइट पर बहुत अच्छा लगा। पहले मैं इन इंटरव्यू को अंग्रेज़ी में पढ़ता था, लेकिन हिंदी की वेबसाइट शुरू होने के बाद कुछ कवर इंटरव्यू हिंदी में भी प्रकाशित किये गए।

अगस्त में वेबसाइट ने सैफ अली खान के ऊपर डिजिटल कवर निकाला है। वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार इसे अलशार ने लिखा है। हिंदी वेबसाइट में लेख के अंत में दी गई जानकारी के अनुसार अंग्रेजी के इसआर्टिकल का हिंदी अनुवाद किया है मृदुल राजपूत ने। लेकिन Mensxp की हिंदी वेबसाइट पर इस कवर को देखने के बाद यह अनुवाद असल में ट्रांसलेशन के नाम पर भाषाई आतंकवाद और हिंदी पट्टी में ही हिंदी की दुर्दशा का जीता-जागता प्रमाण दिखता है।

एक बड़े सुपरस्टार पर लिखे गए इस लेख में हिंदी की इतनी अनगिनत अशुद्धियां हैं कि पढ़ने वाला भी अपना माथा पीट ले। कई जगह सैफ अली खान को शैफ अली खान तक लिख दिया गया है। यहां तक कि अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद करते वक़्त अर्थ का अनर्थ भी कर दिया गया है। कई शब्द ऐसे हैं, जिनका कोई मतलब ही नहीं। लगता है अनुवाद करने वाले व्यक्ति ने गूगल ट्रांसलेट का उपयोग कम दुरुपयोग ज्यादा किया है। बेसिरपैर के हिंदी में अनुवाद किये गए इंटरव्यू को पता नहीं सैफ अली खान ने देखा होगा या नहीं। शायद नहीं ही देखा होगा, क्योंकि अगर देखेंगे तो शायद अपने इंटरव्यू की इस दुर्दशा को देखकर वो अंग्रेज़ी में भी कभी दोबारा Mensxp को इंटरव्यू नहीं देना चाहेंगे।

असल मे टाइम्स जैसे संस्थान जो मुख्यतः अंग्रेजी में काम करते हैं, उन्हें हिंदी के लेखकों के बारे में शायद ये जानकारी नहीं होगी कि हिंदी पट्टी के अधिकांश लेखक ढंग की हिंदी तक नहीं लिख पाते और अनुवाद तो खैर छोड़ ही दीजिये। हालांकि कई अखबार और कई वेबसाइट अपने लेख में हिंदी की कुछ गलतियां कर जाते हैं, लेकिन जिस तरह से इस इंटरव्यू को लिखा गया, वो बताता है कि कैसे हिंदी के लोग ही हिंदी की हत्या करने पर तुले हुए हैं। कम से कम टाइम्स जैसे संस्थानों से भाषाई शुद्धता की उम्मीद  होनी चाहिए।’

नोट: Menxp ने समाचार4मीडिया डॉट कॉम पर स्टोरी प्रकाशित होने के बाद उसे सुधार लिया है। उन्होंने हमें बताया है कि गलती से संपादित कॉपी की बजाए असंपादित कॉपी लाइव हो गई थी। हालांकि वे स्टोरीज के लाइव होने की प्रक्रिया में पूरी सतर्कता बरतते हैं।  Mensxp पर संपादित स्टोरी को आप इस लिंक पर क्लिक कर पढ़ सकते हैं।

 इससे पहले वेबसाइट पर प्रकाशित इंटरव्यू में किस तरह की गलतियां थीं, इसे आप नीचे स्क्रीनशॉट के जरिए देख सकते हैं। 


आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इन खासियतों के साथ मार्केट में दस्तक देने को तैयार है नया ऐप, लोगो हुआ लॉन्च

मुंबई में आयोजित ऐप के लोगो लॉन्च कार्यक्रम में गौहर खान, राहुल रॉय, जसलीन मथारू और कंगना शर्मा जैसे नाम हुए शामिल

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 07 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 07 August, 2019
Launch

अब सिर्फ टीवी ही मनोरंजन के लिए प्लेटफॉर्म नहीं रहा है, बल्कि अब ओवर द टॉप (ओटीटी) प्लेटफॉर्म वेब की दुनिया में तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। कई ओटीटी ऐप सस्ती मासिक सदस्यता योजनाओं के साथ अपना ध्यान आकर्षित कर रहे हैं। जल्द ही बाजार में एक नए खिलाड़ी का उदय होने का रहा है। रापची ऐप के नाम से आने वाला यह नया ओटीटी प्लेटफॉर्म जल्द ही कंटेंट स्पेस पर कब्जा करने जा रहा है।

अपने इस ओटीटी ऐप  के लोगो का अनावरण धरम गुप्ता ने मुंबई में जुहू के रमादा पाम ग्रोव होटल में किया। गौहर खान, राहुल रॉय, जसलीन मथारू, कंगना शर्मा, गहना वशिष्ठ, ज्योत्सना चंदोला, टीना घई, साजन अग्रवाल, ब्राइट आउटडोर के डॉ योगेश लखानी, हेमंत बिरजे, निगार खान और अन्य लोग विशेष रूप से अनावरण में शामिल होने के लिए आए। इस मौके पर कंगना शर्मा ने लाइव प्रस्तुति दी।

बेहतरीन व्यापार कौशल रखने वाले और प्रोडकशन के क्षेत्र में एक दशक से अधिक का अनुभव रखने वाले धरम गुप्ता की इस ओटीटी प्लेटफॉर्म के निर्माण के पीछे मुख्य भूमिका है। उनका कहना है,’ मेरा ऐप बहुत बड़े नामों के सभी तामझाम के साथ कमजोर या सतही नहीं है, यहां कंटेंट किंग है। ऐसा नहीं कि केवल नामी चेहरे हैं। मैंने इस लाइन में बहुत लंबे समय तक काम किया है और मैं टेलिविजन से ओटीटी ऐप में बदलाव देख रहा हूं। यही प्लेटफॉर्म मनोरंजन का भविष्य है।’

धरम गुप्ता का कहना है, ‘यह ऐप उन प्रोडक्शन हाउस और लोगों के लिए भी बनाया गया है, जिनके पास शानदार स्क्रिप्ट और शो हैं, लेकिन वे बड़े ऐप को बेचने में सक्षम नहीं हैं। मैंने यह खुद देखा है, जहां सभी बड़े ऐप केवल बड़े नामों और चेहरों में रुचि रखते हैं। ऐसे में अच्छे कंटेंट को नुकसान पहुंचाया जा सकता है, लेकिन यहां ऐसा नही है। मैं इस प्लेटफॉर्म को लॉन्च कर रहा हूं, ताकि कई निर्माता अपना काम दिखाने के लिए अपना रास्ता खोज सकें।’

उन्होंने कहा, ‘कई बड़े वादों और अद्भुत क्षमता के साथ, ‘रापचे ऐप’ 15 शो के साथ लाइव होने के लिए तैयार है। इसकी सदस्यता एक वर्ष के लिए मुफ्त है और ग्राहकों को बेहतर भारतीय कंटेंट का स्वाद मिलेगा, वहीं इस ऐप पर बहुत सारी अंतर्राष्ट्रीय सामग्री भी होगी। मैं वर्तमान में विभिन्न देशों के 6 कंटेंट क्रिएटर्स के साथ संबंध बनाने की प्रक्रिया में हूं। मुझे पहले से ही 3 देशों का साथ मिल चुका है। तीन और देशों के साथ बातचीत जारी है। यह कंटेंट हमारी स्थानीय भाषा में भी देखने को मिलेगा, हमारे शो 10 क्षेत्रीय भाषाओं में भी उपलब्ध होंगे, इसलिए दुनिया के हर कोने से लोग इस कंटेंट का आनंद ले सकते हैं।’

 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार दयाशंकर मिश्र के काम की हुई सराहना, मिला ये प्रतिष्ठित अवॉर्ड

दिल्ली के ऐवान-ए-गालिब ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में फिल्म इंडस्ट्री के साथ-साथ मीडिया जगत से जुड़े लोगों को भी सम्मानित किया गया, एबीपी न्यूज के पत्रकार का भी हुआ सम्मान

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Saturday, 03 August, 2019
Last Modified:
Saturday, 03 August, 2019
Dayashankar

दिल्ली के ऐवान-ए-गालिब ऑडिटोरियम में शुक्रवार को कॉन्फ्लूएंस इंडिया इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2019 का आयोजन किया गया। इस अवसर पर फ़िल्म इंडस्ट्री के साथ मीडिया जगत को भी सम्मानित किया गया।

फेस्टिवल में फिल्मों की स्क्रीनिंग के बाद देर शाम अवॉर्ड फंक्शन का भी आयोजन किया गया। इसमें न्यूज 18 के डिप्टी एग्जिक्यूटिव एडिटर दयाशंकर मिश्र को डिजिटल इनोवेशन अवॉर्ड और एबीपी न्यूज के वरिष्ठ पत्रकार निपुण सहगल को बेस्ट न्यूज रिपोर्टर अवॉर्ड दिया गया। इसके अलावा नवोदय टाइम्स अखबार को फास्टेस्ट ग्रोइंग न्यूज पेपर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। बता दें कि दयाशंकर मिश्र को ये अवॉर्ड 'डियर जिंदगी' के लिए दिया गया, जो कि 'डिप्रेशन और आत्महत्या के विरुद्ध' जीवन संवाद की एक सीरीज है। इस सीरीज के अंतर्गत वह अब तक 500 से अधिक आर्टिकल लिख चुके हैं। अभी भी 'जीवन संवाद' के नाम से इस गंभीर मुद्दे पर उनका लेखन जारी है।

वहीं, निपुण सहगल को यह अवॉर्ड सरल शब्दों में सुप्रीम कोर्ट की रिपोर्टिंग के लिए दिया गया। निपुण सहगल वर्तमान में एबीपी न्यूज के वरिष्ठ पत्रकार हैं और कई वर्षों से सुप्रीम कोर्ट बीट कवर कर रहे हैं। कोर्ट से जुड़ी खबरों को आसान शब्दों में दर्शकों तक पहुंचाने में उन्हें महारत हासिल है। उनकी इस सरल रिपोर्टिंग को डिजिटल मीडिया पर भी काफी पसंद किया जाता है।

समारोह के दौरान देश-विदेश की 200 से अधिक फिल्मों में से जूरी द्वारा चयनित 19 फिल्मों को प्रदर्शित किया गया। इनमें मुख्य रूप से सामाजिक मुद्दों पर आधारित डॉक्यूमेंट्री, शॉर्ट फिल्म और एनिमेटेड मूवी का प्रदर्शन किया गया। इस अवसर पर फेस्टिवल में चयनित फिल्मों के निर्देशकों को भी सम्मानित किया गया। इस कार्यक्रम में आदित्य पाण्डेय और फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े राहुल खंडालकर आदि उपस्थित रहे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

MIB मिनिस्टर ने डिजिटल मीडिया को कुछ यूं दी 'रफ्तार'

प्रकाश जावड़ेकर बोले, मन की बात’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जिस तरह नागरिकों से पढ़ने की आदत डालने की बात कही जाती है, उसी तरह हमें पढ़ने की संस्कृति में नई जान फूंकनी चाहिए

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 01 August, 2019
Last Modified:
Thursday, 01 August, 2019
Prakash Javadekar

सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दिल्ली स्थित सूचना भवन में प्रकाशन विभाग की कई ई-परियोजनाओं की शुरुआत की। इस दौरान उन्होंने विभाग की नए डिजाइन के साथ तैयार वेबसाइट, मोबाइल ऐप ‘डिजिटल डीपीडी’, रोजगार समाचार के ई-संस्करण और ई-पुस्तक ‘सत्याग्रह गीता’ की शुरुआत भी की।

जावड़ेकर ने कहा, ‘मन की बात’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जिस तरह नागरिकों से पढ़ने की आदत डालने की बात कही जाती है, उसी तरह हमें पढ़ने की संस्कृति में नई जान फूंकनी चाहिए। पढ़ने की संस्कृति में सुधार लाने के लिए उन्होंने रीडिंग क्लब बनाने का आग्रह भी किया। जावड़ेकर ने कहा, ‘रोजगार समाचार में निजी नौकरियों सहित सभी तरह की नौकरियों की सूची शामिल कर इसकी भूमिका सुधारी जा सकती है।’ उन्होंने सुझाव दिया कि रोजगार समाचार कॉलेजों में वितरित किया जाएगा तो इससे छात्रों को अपना कौशल बढ़ाने के साथ ही खुद को नौकरियों के बाजार के लिए बेहतर बनाने में मदद मिलेगी।

उन्होंने कहा कि प्रकाशन विभाग की नई सिरे से तैयार वेबसाइट को रोजाना अपडेट करने से लोग जल्दी-जल्दी इस साइट को देखेंगे। प्रकाशन विभाग के लिए एक मोबाइल ऐप शुरू करने के बारे में उन्होंने कहा कि इससे लोगों की पढ़ने की आदतों को सुधारने में मदद मिलेगी।

जिन ई-परियोजनाओं की शुरुआत की गई है, उनमें वेबसाइट (www.publicationsdivision.nic.in) में प्रकाशन विभाग की पुस्तकों और अखबारों के बारे में नवीनतम जानकारी के साथ-साथ खरीदने की सुविधा प्रदान की गई है। वेबसाइट पर उपलब्ध सभी पुस्तकों की बिक्री के लिए भुगतान भारत कोष के जरिये होगा। इसे दृष्टिबाधित (स्क्रीन रीडर के साथ) सहित सभी लोग देख सकते हैं। इसे सोशल मीडिया से भी जोड़ा गया है।

इसके अलावा मोबाइल ऐप ‘डिजिटल डीपीडी’ भी शुरू किया गया है।  इसे गूगल प्ले स्टोर से मुफ्त में डाउनलोड किया जा सकता है। इस मोबाइल ऐप को डिजिटल राइट्स प्रबंधन प्रणाली से जोड़ा गया है, ताकि साहित्यिक चोरी पर अंकुश लगाया जा सके और आसानी से भुगतान के लिए भारत कोष भुगतान गेटवे से इसे जोड़ा गया है। वहीं, रोजगार के अवसरों के बारे में जानकारी देने वाले इम्प्लायमेंट न्यूज (अंग्रेजी) के हिन्दी संस्करण रोजगार समाचार को ऑनलाइन किया गया है। यह 400 रुपए के वार्षिक शुल्क पर उपलब्ध है। इनके अतिरिक्त पुस्तक ‘सत्याग्रह गीता’ का भी ई-संस्करण शुरू किया गया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

डिजिटल जर्नलिस्ट्स को मिला मजबूत मंच, कार्यकारिणी में शामिल हुए ये पत्रकार

डिजिटल मीडिया से जुड़े पत्रकारों के अधिकारों की लड़ाई लड़ने का संकल्प भी लिया

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Monday, 29 July, 2019
Last Modified:
Monday, 29 July, 2019
Journalist Committee

डिजिटल मीडिया जर्नलिस्ट फोरम ने अपनी कार्यकारिणी की घोषणा कर दी है। लखनऊ में हुए कार्यक्रम में नौ सदस्यीय कार्यकारिणी गठित की गई। इसके साथ ही डिजिटल जर्नलिस्टों के अधिकारों की लड़ाई लड़ने का संकल्प भी लिया गया है।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार रामेश्वर पांडेय ने पदाधिकारियों की घोषणा की। उन्होंने बताया कि न्यूज 85 डॉट इन के संपादक अनुराग यादव को डिजिटल मीडिया जर्नलिस्ट फोरम का अध्यक्ष चुना गया है। वहीं, कांव-कांव डाट काम के संपादक हेमंत पांडेय और वरिष्ठ पत्रकार काशी प्रसाद को फोरम के उपाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। स्टार एक्सप्रेस डाट न्यूज के संपादक नरेंद्र कुमार को फोरम का संगठन मंत्री और नीति वर्मा को कोषाध्यक्ष बनाया गया है।

इसके साथ ही फोरम के महासचिव पद पर चार लोगों को मनोनीत किया गया है। प्रभात मीडिया क्रिएशंस के सीईओ रंजीत गुप्ता, 24 घंटे ऑनलाइन डॉट काम के संपादक रोहित सिंह, यूपी किरण डॉट काम के संपादक सुभाष विश्वकर्मा और फर्क इंडिया डॉट ओआरजी के संपादक अखिलेश कृष्ण मोहन डिजिटल फोरम के महासचिव की जिम्मेदारी संभालेंगे।

कार्यक्रम की अध्यक्षता दूरदर्शन के पूर्व अपर महानिदेशक प्रभुझिंगरन ने की, जबकि संचालन लोकप्रिय उद्घोषक और वरिष्ठ पत्रकार पी.के तिवारी तथा दूरदर्शन की न्यूज रीडर दीपाली सिंह ने संयुक्त रूप से किया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में पत्रकार मौजूद थे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

किस तूफानी रफ्तार से बढ़ रही है डिजिटल मीडिया, पढ़ें ये रिपोर्ट

डिजिटल मीडिया की यही रफ्तार रही तो जल्द पीछे छूट जाएंगे प्रिंट समेत ये दो बड़े सेक्टर

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Friday, 26 July, 2019
Last Modified:
Friday, 26 July, 2019
Digital Media

देश में इंटरनेट यूजर्स की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होती जा रही है। ऐसे में यदि ‘फिक्की-ईवाई’ (FICCI-EY) की रिपोर्ट की मानें तो डिजिटल मीडिया वर्ष 2019 तक फिल्म एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री और वर्ष 2021 तक प्रिंट मीडिया इंडस्ट्री को पीछे छोड़ देगी। यही नहीं, डिजिटल मीडिया इंडस्ट्री वर्ष 2021 तक 5.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर की हो जाएगी। फिल्मी सेगमेंट की बात करें तो वर्ष 2018 में यह 2.5 बिलियन डॉलर का था और वर्ष 2019 में इसके 2.8 बिलियन डॉलर होने का अनुमान है, वहीं प्रिंट सेक्टर वर्ष 2018 में जहां 4.4 बिलियन डॉलर का था, वह 2021 तक 4.8 बिलियन डॉलर होने का अनुमान है।

वर्ष 2018 में डिजिटल मीडिया की ग्रोथ में 42 प्रतिशत तक का इजाफा हुआ है और यह 2.4 बिलियन डॉलर की हो गई है। कहा जाता है कि भारतीय जितना भी समय अपने फोन पर बिताते हैं, उसमें से 30 प्रतिशत समय वह एंटरटेनमेंट देखने में व्यतीत करते हैं। माना जा रहा है कि 2019 में 42 प्रतिशत ग्रोथ बढ़ने के साथ ही डिजिटल मीडिया 3.2 बिलियन डॉलर की हो जाएगी।

बता दें कि दुनियाभर में चीन के बाद अपने देश में इंटरनेट यूजर्स की संख्या सबसे ज्यादा है। इस समय करीब 570 मिलियन एंटरनेट यूजर्स हैं और जिनकी संख्या में हर साल 13 प्रतिशत की दर से बढ़ोतरी हो रही है। वर्ष 2018 में 325 मिलियन ऑनलाइन विडियो व्युअर्स थे और 150 मिलियन  ऑडियो स्ट्रीमिंग यूजर्स थे। रिपोर्ट में उम्मीद जताई गई है कि भुगतान करने वाले ‘ओटीटी’ (OTT) विडियो सबस्क्राइबर्स की संख्या वर्ष 2021 तक 30-35 मिलियन हो जाएगी।

वर्ष 2018 में इसके एडवर्टाइजिंग मॉडल की कीमत 2.2 बिलियन अमेरिकी डॉलर थी, जबकि वर्ष 2018 में इसका सबस्क्रिप्शन 0.2 बिलियन अमेरिका डॉलर था। माना जा रहा है कि वर्ष 2021 तक इसका विज्ञापन मॉडल 4.3 बिलियन अमेरिकी डॉलर और सबस्क्रिप्शन मॉडल 0.8 बिलियन अमेरिकी डॉलर का हो जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि टेलिकॉम ऑपरेटर्स आने वाले समय में नए मल्टी सिस्टम ऑपरेटर्स बन जाएंगे।

बता दें कि ‘भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिककरण’ (TRAI) के नए ऑर्डर की वजह से ओटीटी प्लेटफॉर्मस को काफी फायदा होगा। कुल मिलाकर भारतीय मीडिया और एंटरटेनमेंट सेक्टर ने वर्ष 2017 के मुकाबले 13.4 प्रतिशत की ग्रोथ के साथ 23.9 बिलियन अमेरिकी डॉलर का आंकड़ा छू लिया है। रिपोर्ट में उम्मीद जताई गई है कि वर्ष 2021 तक यह क्षेत्र बढ़कर 33.6 बिलियन अमेरिकी डॉलर का हो जाएगा। इस रिपोर्ट में कहा गया है, ‘वर्ष 2018-21 के दौरान ऑनलाइन गेमिंग और डिजिटल मीडिया से ग्रोथ आएगी, टीवी की स्थिति में कोई बदलाव नहीं होगा और रेवेन्यू के मामले में यह सबसे बड़ा सेगमेंट बना रहेगा।’

भारतीय लोग ऑनलाइन गेमिंग को भी काफी पसंद कर रहे हैं। यही वजह है कि वर्ष 2017 में ऑनलाइन गेमिंग सबस्क्राइबर बेस जहां 183 मिलियन था, वह 2018 में बढ़कर 278 मिलियन हो गया था। माना जा रहा है कि वर्ष 2018 में 0.7 बिलियन के मुकाबले वर्ष 2021 में इसका रेवेन्यू 1.7 बिलियन हो सकता है। टेलिविजन की बात करें तो वर्ष 2018 में इसमें 12 प्रतिशत की ग्रोथ दर्ज की गई और यह 10.6 बिलियन डॉलर का हो गया है। माना जा रहा है कि वर्ष 2021 तक यह क्षेत्र और विशाल होकर 13.7 बिलियन डॉलर का हो जाएगा। रिपोर्ट का कहना है, ‘भारतीय ब्रॉडकास्टर्स अंतररष्ट्रीय स्तर पर अपने पैर पसारना जारी ऱखेंगे। ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय रेवेन्यू वर्ष 2021 तक 15 प्रतिशत तक पहुंच सकता है।’

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इन वरिष्ठ पत्रकार को सौंपी गई Zee News डिजिटल की कमान

राकेश तनेजा करीब 14 साल से Zee News के साथ काम कर रहे हैं

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Friday, 19 July, 2019
Last Modified:
Friday, 19 July, 2019
Zee News

‘जी न्यूज’ (Zee News) में एग्जिक्यूटिव प्रड्यूसर की जिम्मेदारी संभाल रहे वरिष्ठ पत्रकार राकेश तनेजा को नई जिम्मेदारी मिली है। उन्हें अब zeenews.com का हेड बनाया गया है। राकेश तनेजा करीब 14 साल से इस ग्रुप के साथ जुड़े हुए हैं। गौरतलब है कि पहले दयाशंकर मिश्र व फिर प्रसाद सान्याल के जाने के बाद प्रबंधतंत्र ने अब मन बनाया है कि किसी और संस्थान से किसी सीनियर को लाने के बजाय अपने समूह के काबिल लोगों को ही आगे बढ़ाया जाए, ऐसे में राकेश तनेजा को ये जिम्मेदारी सौंपी गई है। 

2005 में जी समूह से जुड़ने से पहले राकेश वर्ष 2003 में  ‘अमर उजाला’ के साथ अपनी नई पारी खेल चुके हैं। वे अमर उजाला के दिल्ली संस्करण के साथ जुड़े थे और बतौर डिप्टी ब्यूरो चीफ फरीदाबाद की कमान संभालते थे। उससे पहले वे करीब साढ़े तीन साल तक ‘दैनिक भास्कर’ में  200-2003 तक हिसार व गुंडगांव संपादकीय विभाम में भी काम कर चुके हैं। 1999 में उन्होंने अपने करियर की शुरुआत हरिभूमि 'अखबार' से की थी।

 वर्ष 2005 में उन्होंने ‘अमर उजाला’ को अलविदा कहकर ‘जी न्यूज’ का दामन थाम लिया था और तब से यहां वे विभिन्न जिम्मेदारियों को संभाल रहे हैं। वे असाइनमेंट डेस्क से लेकर गेस्ट कोर्डिनेटर हेड तक भी भूमिका सफलतापूर्वक संभाल चुके हैं। हरियाणा में हिसार के रहने वाले राकेश तनेजा ने गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए