Share this Post:
Font Size   16

पुण्य प्रसून: ये टूटा सितारा सुरक्षा कवच है या फिर सितारे का सुरक्षा दायरा?

Tuesday, 03 April, 2018

पुण्य प्रसून का आजतक से एबीपी न्यूज में जाना इस बात का संकेत है कि प्रतिभा, मेहनत, ईमानदारी और प्रोफेशनलिज्म इस सफारी सूट विमर्श से आगे की चीज है।अपने फेसबुक पोस्ट के जरिए ये कहना है मीडिया विश्लेषक विनीत कुमार का। उनका पूरा पोस्ट आप यहां पढ़ सकते हैं-

ये टूटा सितारा सुरक्षा कवच है या फिर सितारे का सुरक्षा दायरा?

सितारा एंकर के एक बार फिर से टीवी स्क्रीन पर आने की खबर जानकर मन खुश हो गया। मुझे इस बात का इल्म है कि रोज टीवी स्क्रीन के जरिए लाखों लोगों के घर पहुंचने वाले शख्स के लिए ऑफ स्क्रीन हो जाने का क्या मतलब होता है? एक तरह से जीते-जी उसकी सांकेतिक मौत हो जा जाती है। शुक्र है कि ऐसे दौर पर जब टीवी पर दिखने वाले लोगों के भीतर से मीडियाकर्मी तेजी से गायब हो जा रहा है, वो पार्टी प्रवक्ता या आइटी सेल इन्चार्ज हो जा रहे हों, पुण्य प्रसून के लिए इन्डस्ट्री में अभी जगह बची हुई है।

जिस तेजी से सफारी सूट विमर्श का दौर शुरू हुआ है और सपाट ढंग से चीजें बांट दी जा रही हो, ऐसे में पुण्य प्रसून का 'आजतक' से 'एबीपी न्यूज' में जाना इस बात का संकेत है कि प्रतिभा, मेहनत, ईमानदारी और प्रोफेशनलिज्म इस सफारी सूट विमर्श से आगे की चीज है। मैं जब अपने आस पास के लोगों को ऐसे विभाजन के तहत बातचीत करते देखता हूं तो अंदाजा लगा रहा होता हूं इससे दरअसल हमारे भीतर अपने पेशे की ईमानदारी छीजती है। हम आसानी से किसी खित्ते के हो जाते हैं जबकि पेशेवर ईमानदारी इससे कहीं आगे की चीज है। जी न्यूज प्रकरण (सुधीर चौधरी की गिरफ्तारी देश में अपातकाल के संकेत हैं) को छोड़ दें तो पुण्य प्रसून के काम में जो धार है वो पत्रकारिता के पुराने स्कूल की दुर्लभ चीज है। मुझे नहीं पता कि ये कब तक सुरक्षित रह पाएगी? एबीपी न्यूज को बधाई कि उन्हें ये एंकर-मीडियाकर्मी मिला।

लेकिन जैसे कि मेरी नजर इस तस्वीर पर गयी, लगा एबीपी के इस टूटे तारे के लोगो के भीतर होने के बजाय पुण्य प्रसून को इसके बाहर होना चाहिए था। अभी देखें तो फिर भी लग सकता है कि इसमें गलत कुछ नहीं है। कितना अच्छा तो है कि चैनल ने पनाह दिया। लेकिन आगे जब इनके दो-चार दस शो हो जाते हैं तो यही तस्वीर कुछ और अर्थ बयां करने लगेगी। शायद सबसे पहले तो ये कि ये एंकर इस टूटे सितारे में समा नहीं पा रहा है। इसका आकार उससे कहीं ज्यादा बड़ा है।

बहरहाल हम उम्मीद करते हैं कि ये एंकर यहां पहुंचकर अपने इस चैनल के लोगो को इस हद तक फैलाएगा कि ये सुरक्षा दायरा न लगकर, सुरक्षा कवच लगने लगेगा जिससे टीवी दर्शकों को लगे कि मीडिया धंधा अपनी जगह है लेकिन ज्ञान, समझ और तर्क का अपमान करते हुए एक बर्बर समाज की तरफ धकेलना चैनल का काम नहीं है।
(साभार: फेसबुक वॉल से)



समाचार4मीडिया.कॉ देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबु पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं



पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com