Share this Post:
Font Size   16

मोहन भागवत के दिल्ली कार्यक्रम में एक भी नामी-गिरामी बुद्धिजीवी नहीं था: डॉ. वैदिक

Published At: Monday, 24 September, 2018 Last Modified: Friday, 28 September, 2018

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

वरिष्ठ पत्रकार ।।

मोहनजी का नया हिन्दुत्व

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत ने दिल्ली के विज्ञान भवन में एक ऐसा आयोजन किया, जिसमें देश के प्रमुख बुद्धिजीवियों और लगभग सभी दलों के प्रमुख नेताओं को आमंत्रित किया गया था। मुझे भी आग्रह किया गया। भाषण के दूसरे दिन मैं भी गया लेकिन मुझे यह देखकर बहुत दुख हुआ कि वहां दिल्ली का एक भी नामी-गिरामी बुद्धिजीवी नहीं था। भाजपा के मंत्री तो कई थे लेकिन अन्य दलों के जाने-पहचाने बड़े नेता भी वहां दिखाई नहीं पड़े।

इसके अलावा भाषण का विषय था ‘भारत का भविष्य’। इस विषय पर भी मोहनजी कुछ नहीं बोले। वे बोले हिन्दुत्व के बारे में और संघ व भाजपा के संबंधों के बारे में। क्या ही अच्छा होता कि वे जमकर तैयारी करते और भावी भारत का ऐसा नक्शा पेश करते, जिससे दिशाहीन मोदी सरकार की कुछ मदद हो जाती और अगले साल यदि कोई नई सरकार आ जाएगी तो उसका भी मार्गदर्शन हो जाता। लेकिन कोई बात नहीं। उन्होंने पहले और दूसरे दिन जो भाषण दिए, वे सचमुच नई लकीर खींचते हैं। उन्होंने हिन्दुत्व और भारतीयता को एक ही सिक्के के दो पहलू बताया है। उनके इस कथन ने उसे और अधिक स्पष्ट कर दिया कि मुसलमान लोग भी हिन्दुत्व के दायरे के बाहर नहीं हैं। उन्होंने यह भी कहा कि यह हिन्दू शब्द हमें विदेशियों ने दिया है लेकिन अब यह हमसे चिपक गया है। हिन्दुत्व का अर्थ है, विविधता में एकता, उदारता, सहनशीलता, सह-जीवन आदि। उन्होंने हिन्दुत्व को नए ढंग से परिभाषित करने की कोशिश की है। मुझे खुशी है कि मेरी पुस्तक ‘भाजपा, हिन्दुत्व और मुसलमान’ में मैंने हिन्दुत्व की जो विवेचना की है, मोहनजी उसके काफी नजदीक दिखाई पड़े। लेकिन यहां चुनौती यही है कि क्या हम वही हैं जो दिखाई देना चाहते हैं? मोहनजी ने यह भी ठीक ही कहा कि उनके पास भाजपा का ‘रिमोट कंट्रोल’ नहीं है। यदि होता तो मोदी सरकार की क्या आज वह दशा होती, जो आज है?

संघ और भाजपा मां-बेटे की तरह हैं। दोनों एक-दूसरे को प्रभावित करते हैं लेकिन यह दावा करना कठिन है कि कौन किसको कब चलाता-घुमाता है। यह पात्रों और परिस्थितियों पर निर्भर रहता है। मोहनजी की इस भाषण-माला में संघ की छवि सुधारने का साहसपूर्ण प्रयास किया गया है लेकिन देश के मान्य बुद्धिजीवियों के साथ संवाद करने की कला अभी संघ को प्रयत्नपूर्वक सीखनी होगी।



पोल

मीडिया-एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री से लगातार आ रही #MeToo खबरों पर क्या है आपका मानना

जिसने जैसा किया है, वो वैसा भुगत रहा है

कई मामले फेक लग रहे हैं, ऐसे में इंडस्ट्री को कुछ ठोस कदम उठाना चाहिए

दोषियों को बख्शा न जाए, पर गलत मामला पाए जाने पर 'कथित' पीड़ित भी नपे

Copyright © 2018 samachar4media.com