Share this Post:
Font Size   16

संघ की हैसियत भी आज क्या है? बोले डॉ. वैदिक

Published At: Monday, 18 June, 2018 Last Modified: Saturday, 02 June, 2018

डॉ. वेदप्रताप वैदिक

वरिष्ठ पत्रकार ।।

भानुमति के कुनबे की तैयारी

28 मई को हुए उप-चुनाव भी यदि नरेंद्र मोदी और अमित शाह को उनके कल्पना-लोक से बाहर नहीं लाएंगे तो मानकर चलिए कि 2019 में भाजपा की नय्या को डूबने से कोई बचा नहीं सकता। मोदी को यह गलतफहमी हो गई थी कि उनके चमत्कारी व्यक्त्वि ने 2014 में भाजपा को वैसी विजय दिलाईजैसे अटलजी को भी नहीं मिली। इसी घमंड में चूर होकर आडवाणीजी और जोशीजी को मार्गदर्शक मंडल में बिठा दिया गया ताकि वे अपने शेष जीवन में मार्ग ताकते रहें।

संघ की हैसियत भी आज क्या हैजिस संघ की उपेक्षा अटलजी और आडवाणीजी जैसे वरिष्ठ नेता भी नहीं कर सकते थेउस संघ के स्वयंसेवकों के मुंह पर पट्टी बांध दी गई है। हांमोहन भागवत (सर संघचालक) कभी-कभी अपने मन की बात कह लेते हैं। मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों का हाल इंदिरा-काल जैसा हो रहा है। वे मुंह खोलते हैं तो सिर्फ खुशामदी तराने गाने के लिए। भाजपा एक भाई-भाई पार्टी में बदल गई है।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी हैसियत इतनी बड़ी बना ली है कि वे सिर्फ विदेशी राष्ट्रपतियों और प्रधानमंत्रियों से ही संवाद करते हैं। भारत की जनता और पत्रकारों से वे संवाद नहींएकालाप करते हैं। जनता दरबार जैसी चीज पिछले चार साल में एक बार भी नहीं देखी गई। प्रधानमंत्री का कर्तव्य-कर्म करने की बजाय वे प्रचार मंत्री बने हुए हैं। बंडियां बदल-बदल कर बंडल मारते-मारते उन्होंने चार साल गुजार दिए। यदि इस आखरी एक साल में भी उनकी दर्जनों पतंगें नहीं उड़ी तो देश में शीघ्र ही भानुमति के कुनबे का राज होगा।

यह ठीक है कि मोदी दिन-रात काम करते हैं और अभी तक सीधे भ्रष्टाचार का आरोप न उन पर लगा है और न ही उनके मंत्रियों पर लेकिन यह वैसा ही हैजैसे कोई इंजन 24 घंटे घड़घड़ाता रहे लेकिन एक इंच भी आगे नहीं बढ़े। 2014 में उन्हें 31 प्रतिशत वोट मिले थे लेकिन कैराना और नूरपुर की तरह यदि विरोधी एक हो गए तो क्या भाजपा की आधी सीटें भी बच पाएंगीदेश एक स्थायी संकट में फंस जाएगा। मोदी की जगह एक भानुमति का कुनबा हम पर राज करेगा।



समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर छत्तीसगढ़ सरकार कानून बनाने जा रही है, इस पर क्या है आपका मानना

सिर्फ कानून बनाने से कुछ नहीं होगा, कड़ाई से पालन सुनिश्चित हो

अन्य राज्य सरकारों को भी इस दिशा में कदम उठाने चाहिए

सरकार के इस कदम से पत्रकारों पर हमले की घटनाएं रुकेंगी

Copyright © 2019 samachar4media.com