Share this Post:
Font Size   16

भाईसाहब मीडिया में हिट भी हैं और फिट भी, अपना चैनल भी लाने जा रहे हैं:)

Friday, 19 January, 2018

मीडिया को खरी-खोटी सुनाने वालों को भी आखिर में उसका ही आसरा लेना पड़ता है। ऐसे दौर में स्टूडियो दर स्टूडियो भटकने की प्रबल उत्कंठा सब में है।’ दैनिक जागरण में छपे अपने व्यंग्य के जरिए ये कहना है व्यंग्यकार सूर्यकुमार पांडेय। उनका पूरा व्यंग्य आप यहां पढ़ सकते हैं-

मीडिया को खरी-खोटी सुनाने वालों को भी आखिर में उसका ही आसरा लेना पड़ता है

यदि एक बार अपने इस चौखटे पर भी कैमरे की लाइट चमक जाए तो अपुन भी दस-बीस लोगों के बीच मुंह दिखलाने के लायक हो जाएं। भाई साहब को जब देखो तबअपने गालों पर हाथ फेरते हुएइस सदिच्छा को व्यक्त करते पाए जाते थे। इसे आप उनकी चरम या अंतिम इच्छा भी समझ सकते हैं। मीडियातुर समय है साहब! यहां तक कि आए दिन मीडिया को खरी-खोटी सुनाने वालों को भी आखिर में उसका ही आसरा लेना पड़ता है। ऐसे दौर में स्टूडियो दर स्टूडियो भटकने की प्रबल उत्कंठा सब में है। तो भाई साहब भी इसके अपवाद नहीं। जैसी आज के समय में हर किसी की तमन्ना हैवैसी ही भाई साहब की भी। कहते पाए जाते हैंमुझे भी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सामने आना है। बार-बार आना है। बात-बात पर आना है। कोई बात न हो तो बिना बात भी आना है। गोयासंसार की हर शै का इतना ही फसाना है। येन-केन या फिर लेन-देन प्रकारेण मीडिया के बंधुओं को फंसाना है और चैनलों पर आना है।

आज के संत-महात्मा टीवी पर भी दिखलाई देते हैं

धनेषणा और यशेषणा किस मनुष्य को नहीं व्यापतीअपने धर्मग्रंथ और पुराण भी बताते हैं कि यह कोई नई टपकी हुई एषणा नहीं है। यह इतनी पुरानी है कि इसे आप मनुष्य की आदिम इच्छा भी कह सकते हैं। क्या गृहस्थ और क्या ऋषि-मुनिसभी में यह डिग्री के अंतर में पाई जाती हैपरंतु पाई जरूर जाती है। तो भाई साहब भी कोई साधु-वैरागी तो हैं नहीं! वैसे भी आज के संत-महात्मा ही कौन-सा नाम-दाम से विरत हैं! वे भी तो टीवी पर दिखलाई देते हैं! आप कह सकते हैंभाई साहब भी समाज सेवा करने को इसलिए नहीं निकले हैं कि अपनी अंटी से माल लगाएंबाप-दादों की अर्जित कमाई गलाएं और फिर ‘रातों में चोर जागाकिसने देखा?’ वाली स्थिति पैदा करें। ऐसा भी हातिमताई किस काम काजिसकी नेकी को चैनलों के मार्फत दस-पचास लाख लोग देख न लें। आज का हातिम तो नेकी करके दरिया में भी डालता है तो कैमरों के सामने ही डालता है।

दलाली करके ही कमाई करनी होती तो कब के अरबपति हो गए होते

चोरी करने के हजार रास्ते बनाए गए या कि बन गए हैं। ईमानदारी से जीने का एक ही मार्ग होता है। यदि दलाली करके ही कमाई करनी होती तो भाई साहब भी कब के अरबपति हो गए होते। मगर वे कमाई के इस गुप्त रास्ते पर कभी नहीं गए। जाते भी तो कैसेअवसर ही नहीं थे। एक-दो बार छोटे-मोटे मौके भी आए तो अपने घर में सलाह- मशविरा करने लग गए कि क्या किया जाएपत्नी ने साफ मना कर दिया। भाई साहब की पत्नी नहीं चाहती थीं कि उनके साहब की समाज में बदनामी होवह भी दस-पांच हजार रुपयों की खातिर! चोरी के जुर्म में जिला जेल जाने में और घोटालों में फंसकर तिहाड़ जाने में मौलिक अंतर होता है।

तिहाड़ जाने का फायदा यह मिला कि जब भी पेशी के लिए जाते कैमरों की लाइटें सत्कार करतीं थीं

बीते कई वर्षों से एक से एक कद्दावर गौरव बढ़ाने जेल नहींतिहाड़ ही गए। तिहाड़ जाने का फायदा उन्हें यह मिला कि जब भी पेशी के लिए इधर-उधर जातेकैमरों की लाइटें ललकती हुई उनका सत्कार करतीं थीं। इससे उनका रुतबा और रोशन होता। आखिरकार स्टैंडर्ड भी कोई चीज होती है कि नहीं! कहां तो चोर की बुझी हुई ढिबरी और कहां यह घोटालेबाजी की फोकस मारती हुई हेलोजेन लाइटतो भाई साहब के घर में राय यह बनी कि कमाई का छोटा-मोटा धंधा न किया जाए। समय की प्रतीक्षा की जाए। और जैसे ही बड़ी डीलडौल वाली डील की गुंजाइश बने मुंह और हाथ दोनों मारे जाएं। इसी प्रतीक्षा में साल-दर-साल निकलते चले गए। चमड़ी झूलने लग गई और भाई साहब काजिसे संयम का बंधन कहा जाता हैवह तक ढीला पड़ने लगा।

मीडिया मैनेजमेंट के कुछ गुर मुझे भी सिखाइए

भाई साहब ने एक रोज मुझसे भी सलाह चाही। कहने लगे, ‘पांडेजीतनिक मीडिया मैनेजमेंट के कुछ गुर मुझे भी सिखाइए। टीवी पर कई बार आना तो हुआमगर औरों जैसी न फेस वैल्यू बन पाई हैन ही लोकप्रियता मिल पाई है।’ मैंने कहा, ‘भाई साहबआपको धारा के विपरीत बहना होगा। उलटी बयानबाजियां करनी होंगी। अपनी वाणी से विवाद खड़े करने होंगे। सनसनीखेज बयान उछालने होंगें।’ कुछ ऐसा बोलना होगा जिसके बारे में लोग सोच भी न सकें। गलत कामों और बातों को सही बताना होगा और सही कामों में भी मीन-मेख निकालनी होगी। लगता हैभाई साहब मेरी बात के मर्म को समझ चुके हैं। मीडिया और खासकर टीवी पर छाए रहने के लिए वे धारा के विपरीत तो तैर ही रहे हैं और बेहिसाब उलटी-सीधी नहींकेवल उलटी ही बयानबाजियां कर रहे हैं। वे मीडिया में हिट भी हैं और फिट भी। वे दनादन अपने बयानों के उल्कापिंड बरसा रहे हैं। उनके वक्तव्य वायरल हो रहे हैं। सर्वत्र भाई साहब के नाम की चर्चा है। मीडिया के आकाश में वह एक पुच्छल तारे की तरह चमक रहे हैं। तारीफ के साथ धन भी उपजने लगा है।  सुना हैभाई साहब जल्दी ही स्वयं का न्यूज चैनल डालने जा रहे हैं।

(साभार: दैनिक जागरण) 



समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com