फकीर होकर भी हम वजीरों और अमीरों की नींद उड़ा सकते हैं: बाबा रामदेव फकीर होकर भी हम वजीरों और अमीरों की नींद उड़ा सकते हैं: बाबा रामदेव

फकीर होकर भी हम वजीरों और अमीरों की नींद उड़ा सकते हैं: बाबा रामदेव

Wednesday, 13 December, 2017

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

हाल के वर्षों में यदि किसी ब्रैंड ने देश में मार्केटिंग के नियमों को बदलकर रख दिया है तो पतंजलि (Patanjali)  का नाम ही सामने आता है। वर्ष 2017 में पतंजलि का टर्नओवर 10561 करोड़ रुपये पार कर चुका है और यह ग्‍लोबल ब्रैंड बनने की दिशा में तेजी से अग्रसर है।

बाबा रामदेव पतं‍जलि का चेहरा  हैं। यदि यह कहा जाए कि इस ब्रैंड की सफलता में बाबा रामदेव की काफी अहम भूमिका है तो गलत नहीं होगा। यह कहा जा सकता है कि वह ऐसे साधुओं में शामिल हैं जिन्‍होंने न सिर्फ बहुत ही कम समय में पतंजलि को देश के बड़ा एफएमसीजी (FMCG) ब्रैंड बना दिया है बल्कि वह मार्केटिंग के विशेषज्ञ भी माने जाते हैं जो आसानी से कंज्‍यूमर तक अपनी पहुंच बना सकते हैं। इन दिनों पतंजलि के स्‍वदेशी प्रॉडक्‍ट्स की धूम मची हुई है और बाबा रामदेव ने वर्षों से इस मार्केट पर कब्‍जा जमाए बैठे कई धुरंधरों का वर्चस्‍व खत्‍म कर दिया है।

इसी काबिलियत के बल पर (एक्‍सचेंज4मीडिया (exchange4media)  ग्रुप द्वारा मीडिया, मार्केटिंग और एडवर्टाइजिंग के क्षेत्र में बेहतरीन योगदान देने और ऊंचाइयों को छूने वालों को हर साल दिया जाने वाला इंपैक्‍ट पर्सनऑफ द ईयर’ (IMPACT Person of the Year) अवॉर्ड बाबा रामदेव की झोली में गया।  मुंबई में 11 दिसंबर को आयोजित कार्यक्रम में उन्‍हें यह प्रतिष्ठित अवॉर्ड दिया गया।

मार्केटिंग और मीडिया से जुड़े तमाम दिग्‍गजों के बीच कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बाबा रामदेव ने न सिर्फ उम्‍मीद जताई कि आने वाले तीन से पांच वर्षों में इस ब्रैंड का टर्नओवर एक लाख करोड़ रुपये को पार कर जाएगा बल्कि दो महीने से भी कम समय में 20 हजार नौकरियों के सृजन  का दावा भी किया है।

गांव के सरकारी स्‍कूल से पढ़ाई करने के बाद यहां तक पहुंचकर बाबा रामदेव ने तमाम लोगों के लिए नजीर पेश की है। कार्यक्रम में बाबा रामदेव का कहना भी था, ‘फकीर होकर भी हम वजीरों और अमीरों की नींद उड़ा सकते हैं। मैं बंधनों में नहीं रह सकता हूं और लोगों को भी संन्‍यास को एक सीमाओं तक ही रखना चाहिए। लोग सोचते हैं कि संन्‍यासी राजनीति और बिजनेस में भाग नहीं ले सकता है लेकिन मैं देश के लिए कुछ करना चाहता था और मैंने ऐसा किया भी। मैं सबसे पहले इस देश का नागरिक हूं और देश के तमाम नियम-कानून मुझ पर भी लागू होते हैं। मुझे भी इस बात से फर्क पड़ता है कि देश के लिए क्‍या अच्‍छा है और क्‍या बुरा और मैं अपने देश के लिए कुछ अच्‍छा करना चाहता हूं, इसलिए मैंने खुद को सभी तरह की सीमाओं से मुक्‍त कर लिया है।

बाबा रामदेव का कहना था, ‘आज हम यहां पतंजलि की बात कर रहे हैं। मैं बता देना चाहता हूं कि आने वाले समय में लोग पतंजलि की और ज्‍यादा बातें करेंगे। तीन से पांच वर्षों के भीतर दुनियाभर में इसकी हेडलाइंस बनेंगी लेकिन मुझे इससे कुछ कमाई नहीं करनी है। मैंने हमेशा कहा है कि पतंजलि से जितनी भी कमाई होगी वह समाज के कल्याण के लिए होगी। आने वाले छह महीनों में हम इसे कानूनीजामा भी पहना देंगे। मेरा उद्देश्‍य कुछ हासिल करना नहीं है। जब मैं नौ साल का था, मेरे लिए तभी से काम ही मेरी पूजा है। मैं रोजाना सुबह चार बजे से रात को 11 बजे तक लगातार काम करता हूं।

कार्यक्रम में महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल सी विद्यासागर राव मुख्‍य अतिथि थे। बाबा रामदेव का स्‍वागत करते हुए उन्‍होंने कहा, ‘आज के डिजिटल युग में बाबा रामदेव एक प्रमुख योग गुरु हैं, जिन्‍होंने बहुत ही कम समय में अपने प्रयासों से योग को घर-घर तक पहुंचाया है। बाबा रामदेव योग के द्वारा लोगों के बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य और सशक्‍त भारत के निर्माण में योगदान देकर रामदास स्‍वामी के संदेशों को आगे बढ़ा रहे हैं। दूसरी खास बात यह है कि बाबा रामदेव का जोर स्‍वदेशी प्रॉडक्‍ट्स पर है। मुझे उम्‍मीद है कि कॉरपोरेट हाउस भी पतं‍जलि की सफलता की कहानी से प्रेरणा लेंगे। मैं कहूंगा कि बाबा रामदेव ने अत्‍यंत भरोसेमंद और गुणवत्‍ता के बल पर पतंजलि को सर्वश्रेष्‍ठ ग्‍लोबल ब्रैंड बना दिया है।

राव ने गांवों-कस्‍बों में एडवर्टाइजिंग और ब्रैंडिंग के महत्‍व पर भी बल दिया। उन्‍होंने कहा, ‘अनियोजित सेक्‍टर में ऐेसे तमाम लोग हैं जो एडवर्टाइजिंग, ब्रैंडिंग और मार्केटिंग का महत्‍व नहीं जानते हैं। हर साल मैं महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों और ग्रामीण कारीगरों द्वारा बनाए गए उत्पादों और कलाकृतियों की प्रदर्शनी का उद्घाटन करता हूं। यह प्रदर्शनी महाराष्‍ट्र सरकार के ग्रामीण विकास विभाग द्वारा आयोजित की जाती है लेकिन ब्रैंडिंग, एडवर्टाइजिंग और मार्केटिंग के अभाव में ये प्रॉडक्‍ट राष्‍ट्रीय अथवा अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर अपनी पहचान नहीं बना पाते हैं। मुझे पूरा विश्‍वास है कि एडवर्टाइजिंग, ब्रैंडिंग और मार्केटिंग के द्वारा हम ग्रामीण कलाकारों अथवा प्रॉडक्‍ट को आगे बढ़ा सकते हैं और यहां के लोगों को समृद्ध बना सकते हैं। मैं इस क्षेत्र के पेशेवर लोगों से गुजारिश करता हूं कि वे आगे बढ़कर महिलाओं के स्‍वयं सहायता समूह और ग्रामीण कलाकारों की मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाएं। आजकल ग्रामीण क्षेत्रों में इंटरनेट की पहुंच और सोशल मीडिया की लोकप्रियता यहां के कारीगारों और ग्रामीणों को समृद्ध बनाती है और उनकी जिंदगी में बेहतर बदलाव लाती है।’ 

वायकॉम18’ (Viacom18) के सीओओ राज नायक और Dentsu Aegis Network (DAN) के चेयरमैन और सीईओ (दक्षिण एशिया) आशीष भसीन भी कार्यक्रम में मौजूद रहे। 

वहीं इस साल अन्य नॉमिनीज में जिन लोगों के नाम शामिल थे, वे हैं- ‘Diageo India’ के एमडी व सीईओ आनंद कृपालु, जिन्होंने मुश्किल घड़ी में तब Diageo को संभाला, जब राजमार्ग पर शराब प्रतिबंध लगा दिया गया था और जब कंपनी विजय माल्या की कंट्रोवर्सी से घिरी थी। नीति आयोग (NITI Aayog) के सीईओ अमिताभ कांत, जिन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में न केवल विभिन्‍न राष्‍ट्रीय कार्यक्रमों के संचालन की जिम्‍मेदारी संभाली, बल्कि वे भारत को ब्रैंड बनाने के मोदी के सपने पर भी काम कर रहे हैं। Dentsu Aegis Network (DAN) के चेयरमैन और सीईओ (दक्षिण एशिया) आशीष भसीन, जिन्होंने सही अधिग्रहण कर एक प्रभावशाली समूह के तौर पर DAN का निर्माण किया। ओला कैब्‍स (OLA Cabs) के सह संस्‍थापक और सीईओ भाविश अग्रवाल, जिन्होंने भारत में न केवल उबर कैब से मुकाबला किया, बल्कि अपनी कंपनी को उस स्तर तक पहुंचाया, जहां से अन्य कंपनियों के साथ उसका कंपटीशन शुरू होता है। मैक्कैन वर्ल्डग्रुप’ (McCann Worldgroup) एशिया पैसिफिक के चेयरमैन प्रसून जोशी, जिन्होंने विज्ञापन, फिल्म, संगीत और सार्वजनिक नीति में अपना बेहतरीन योगदान दिया है। हिन्‍दुस्‍तान यूनिलीवरके सीईओ और एमडी संजीव मेहता, जिनके नेतृत्‍व में पतंजलि से मिल रही तमाम चुनौतियों के बावजूद उनकी कंपनी ने अच्छा प्रदर्शन किया। नेस्‍ले इंडिया लिमिटेड’ (Nestle India Limited)  के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्‍टर सुरेश नारायणन, जिन्होंने सभी विवादों से न केवल कंपनी को दूर रखा, बल्कि महज एक साल से भी कम समय में इस ब्रैंड को अपनी कैटेगरी में सबसे ऊंची स्थिति में वापस ले आए। पिछले दो वर्षों में नेस्‍ले ने देश भर में न सिर्फ ढेरों प्रॉडक्‍ट लॉन्‍च किए बल्कि कई नई कैटेगेरी जैसे हेल्‍थकेयर और स्किनकेयर में भी प्रवेश किया।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

रात 9 बजे आप हिंदी न्यूज चैनल पर कौन सा शो देखते हैं?

जी न्यूज पर सुधीर चौधरी का ‘DNA’

आजतक पर श्वेता सिंह का ‘खबरदार’

इंडिया टीवी पर रजत शर्मा का ‘आज की बात’

इंडिया न्यूज पर दीपक चौरसिया का 'टू नाइट विद दीपक चौरसिया'

न्यूज18 हिंदी पर किशोर आजवाणी का ‘सौ बात की एक बात’

एबीपी न्यूज पर पुण्य प्रसून बाजपेयी का ‘मास्टरस्ट्रोक’

एनडीटीवी इंडिया पर रवीश कुमार का ‘प्राइम टाइम’

न्यूज नेशन पर अजय कुमार का ‘Question Hour’

Copyright © 2017 samachar4media.com