Share this Post:
Font Size   16

फेसबुक पर की आपत्तिजनक टिप्पणी, मिली मौत की सजा...

Published At: Monday, 12 June, 2017 Last Modified: Monday, 12 June, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

आपने यह खबर पहले कभी नहीं सुनी होगी कि सोशल मीडिया फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर किसी को मौत की सजा मिली हो, लेकिन इस तरह का एक पहला मामला आया है पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से, जहां ईशनिंदा के मामले में एक अल्पसंख्यक शिया व्यक्ति को मौत की सजा सुनाई गई है।  

देश की आतंकरोधी अदालत (एटीसी) ने शनिवार को अल्पसंख्यक शिया समुदाय के तैमूर रजा (30) को ईशनिंदा का दोषी ठहराते हुए मौत की सजा सुनाई है। लोक अभियोजक शफीक कुरैशी ने इसकी पुष्टि की है। 97 फीसद मुस्लिम आबादी वाले पाकिस्तान में ईशनिंदा को गंभीर अपराध माना जाता है, लेकिन साइबर अपराध को लेकर सजा सुनाए जाने के मामले में यह अब तक की सबसे कठोर सजा है। पाकिस्तान में ईशनिंदा को लेकर अब तक किसी को सजा-ए-मौत नहीं दी गई है।

कुरैशी ने बताया कि पंजाब प्रांत के बहावलपुर जिले में एटीसी जज शाबिर अहमद ने यह फैसला सुनाया है। सहयोगियों द्वारा ईशनिंदा की शिकायत मिलने के बाद आतंकरोधी दस्ते ने तैमूर को इसी जिले से पिछले साल गिरफ्तार किया था।

जानकारी के मुताबिक, ओकारा निवासी तैमूर ने सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर सुन्नी समुदाय के प्रतिष्ठित धार्मिक नेताओं और पैगंबर मुहम्मद साहब व उनकी पत्नियों के खिलाफ कथित तौर पर अपमानजनक टिप्पणी की थी। तैमूर के खिलाफ मुल्तान थाने में धारा 295-सी (पैगंबर मुहम्मद साहब के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी), धारा 9 और 11-डब्ल्यू (घृणा फैलाने) के तहत मामला दर्ज किया गया था।  

पाकिस्तान ने पिछले साल ही साइबर अपराध से निपटने के लिए विवादास्पद इलेक्ट्रॉनिक अपराध रोकथाम कानून, 2016 पारित कर सख्त सजा का प्रावधान किया है। मानवाधिकार कार्यकर्ता इस कानून का दुरुपयोग करने का आरोप लगाते रहे हैं। कानून में संशोधन की मांग भी की जा रही है।  


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com