Share this Post:
Font Size   16

पढ़ें, अमर उजाला की हेडिंग पढ़कर क्यों भड़क उठे अर्जुन कपूर...

Tuesday, 29 November, 2016

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

बॉलिवुड सितारों को लेकर कई तरह के किस्से मीडिया में सुनने को मिलते हैं, इनमें कुछ प्रफेशनल होते हैं तो कुछ पर्सनल। लेकिन कभी कुछ खबरें ऐसी भी होती हैं जो सितारो को नागवार गुजरती हैं, और मीडिया पर उनका गुस्सा भड़क उठता है। इसी तरह के गुस्से का शिकार हिंदी अखबार ‘अमर उजाला’ के डिजिटल पोर्टल को भी होना पड़ा।

दरअसल अमर उजाला के डिजिटल वेंचर (amarujala.com) पर बॉलिवुड अभिनेता अर्जुन कपूर को लेकर एक खबर प्रकाशित की गई, जिसमें बताया गया था पिछले कुछ सालों में अर्जुन कपूर को भी अमृता सिंह के रूप में अपनी फिल्मी मां मिल गईं थीं लेकिन अब वो अर्जुन के साथ काम नहीं करेंगी। लेकिन विवादास्पद विषय ये नहीं बल्कि इसकी हेडिंग थी जिसमें लिखा गया था- ‘तो इसलिए अर्जुन को छोड़ कर चली गई उनकी मां’। गौरतलब है कि अर्जुन कपूर की मां का लंबी बीमारी के बाद कुछ साल पहले ही देहांत हुआ था।

जब अर्जुन कपूर ने यह हेडिंग पढ़ी तो वह भड़क गए और सोशल मीडिया पर अपना विरोध जताते हुए लिखा- मैं आमतौर पर अपने बारे में लिखी रही किसी खबर पर रिएक्ट नहीं करता हूं लेकिन जिस आदमी ने अपनी मां को खोया हो, मेरे हिसाब से उसके लिए ये खबर बेकार और असंवेदनशील है।

दरअसल बता दें अर्जुन कपूर की मां का कैंसर की लंबी बीमारी के बाद साल 2012 में निधन हो गया था। अर्जुन, अपनी मां के बेहद करीब थे। वो अपने खास इंटरव्यू के दौरान उनकी चर्चा करना नहीं भूलते। उन्होंने अपनी मां के साथ कई यादगार तस्वीरें इंस्टाग्राम पर शेयर की हैं। हालांकि अर्जुन कपूर के ट्वीट के बाद अमर उजाला ने अपना  स्पष्टीकरण देते हुए उन्हें ट्वीट के ही जरिए जवाब दिया है। आप अमर उजाला का जवाब नीचे पढ़ सकते हैं...

amarujala

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Tags media


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com