Share this Post:
Font Size   16

जानें, क्यों मोदी ने अरुण पुरी,संजय गुप्त,रजत शर्मा,सुधीर चौधरी,अंजना कश्यप,रूबिका को किया टैग

Published At: Wednesday, 13 March, 2019 Last Modified: Wednesday, 13 March, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।.

लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ जहां सियासी पार्टियां अपनी रणनीति को अंतिम रूप देने में जुटी हैं, वहीं आम जनता को वोटिंग के लिए प्रेरित करने के अभियान भी शुरू हो गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद भी यह बीड़ा उठाया है। पीएम की तरफ से न केवल लोगों से ज्यादा से ज्यादा मतदान करने की अपील की जा रही है, बल्कि उन्होंने इस अभियान में मीडिया से भी योगदान देने को कहा है।

बुधवार को मोदी ने मीडिया सहित लगभर हर क्षेत्र की हस्तियों को ट्वीट किये। नए साल पर प्रधानमंत्री का इंटरव्यू लेकर विपक्ष के निशाने पर आईं एएनआई की संपादक स्मृति प्रकाश, टाइम्स नाउ की मैनेजिंग एडिटर नविका कुमार और न्यूज़ पोर्टल ‘स्वराज्य’ के सीईओ प्रसन्ना विश्वनाथन को किये गए अपने ट्वीट में मोदी ने लिखा है ‘मैं आप सब से 2019 के चुनाव में ज्यादा से ज्यादा मतदान के लिए लोगों को जागरूक करने का अनुरोध करता हूं। आप जनता की आवाज़ हैं और मतदान जागरुकता में आपका योगदान देश की 130 करोड़ आबादी के लिए लाभकारी होगा।’

अपने एक अन्य ट्वीट में पीएम ने कुछ पत्रकारों को टैग करते हुए कहा है ‘मैं रूबिका लियाकत, अंजना ओम कश्यप,  सुधीर चौधरी, राहुल कंवल और रिपब्लिक टीवी की टीम से यह अपील करता हूं कि वो मतदान को लेकर जागरूकता फैलाएं और लोगों खासकर युवाओं को बताएं कि वोट डालना कितना ज़रूरी है।’

इसके बाद मोदी ने मीडिया जगत के कुछ बड़े नामों से भी इस अभियान का हिस्सा बनने की अपील की। उन्होंने इंडिया टीवी के एडिटर इन चीफ रजत शर्मा, टाइम्स ग्रुप के एमडी विनीत जैन, ज़ी ग्रुप प्रमुख सुभाष चंद्रा को टैग करते हुए ट्वीट किया है ‘मैं मीडिया जगत के दिग्गजों से कहना चाहता हूं कि बड़े मतदान प्रतिशत की ज़रूरत को रेखांकित करें। ऐसा करने से लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं में अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित होगी और हमारे राष्ट्र के विकास को बल मिलेगा’।

 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दैनिक जागरण के एडिटर इन चीफ संजय गुप्ता, इंडिया टुडे के चेयरमैन अरुण पुरी, नेटवर्क 18 के ग्रुप एडिटर राहुल जोशी, मात्रभूमि और ईनाडू जैसे मीडिया संस्थानों से भी लोकतंत्र के पर्व में आम जनता की भागीदारी बढ़ाने में सहयोग देने की अपील की है। हालांकि, पीएम की इस अपील में जिन पत्रकारों के नाम शामिल नहीं हैं, उन्हें लेकर सोशल मीडिया पर मजाक भी किया जा रहा है। द स्किन डॉक्टर नामक यूजर ने बरखा दत्त की फोटो को इस कैप्शन के साथ शेयर किया है ‘तुझे याद न मेरी आई, किसी से अब क्या कहना..’।


 



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com