Share this Post:
Font Size   16

LGBT समुदाय के लिए लॉन्च हुआ म्यूजिक विडियो ‘बंद कमरा’

Published At: Wednesday, 12 September, 2018 Last Modified: Wednesday, 12 September, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

6 सितम्बर 2018 की सुबह तक भारत में समलैंगिकता को भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 377 के तहत अपराध माना जाता था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट की पांच-सदस्यीय संविधान पीठ ने अपने ऐतिहासिक फैसले में इसे अपराध के दायरे से बाहर कर दिया, जिसके बाद से अब दो वयस्क पुरुषों अथवा दो वयस्क महिलाओं द्वारा आपसी सहमति से आपस में यौन संबंध स्थापित करना इस धारा के तहत अपराध नहीं कहा जा सकेगा।

फैसले के बाद पूरे हिन्दुस्तान में LGBTसमुदाय के लोग जश्न से सराबोर हो गए और इसी बीच राय साहब मोशन पिक्चर्स (Rai Sahab Motion Pictures) ने रिलीज किया एक म्यूजिक विडियो ‘बंद कमरा’, जो दर्शाता है कि सुप्रीम कोर्ट के इस ऐतिहासिक फैसले से पहले हिन्दुस्तान में इस समुदाय के लोगो पर क्या तंज कसे जाते थे? इन्हें बहुत सी सामाजिक मुसीबतों का सामना करना पड़ता था?  

इस विडियो में रैप किया है जाने माने रैपर अभिषेक सोनपालिया (ABHI उर्फ़ रैपर वुल्फ) ने।जो रैपिंग की दुनिया में अपनी अलग पहचान बना रहे हैं।संगीत दिया है एक्सप्रोनिक सुमित ने।कला का प्रदर्शन किया है आकांक्षा तिवारी,वार्षिक सूद और अदिति सिंह ने।  इसके निर्माता हैं अभिषेक सोनपालिया, अनन्त राय और सौरभ शर्मा।

बंद कमरा म्यूजिक विडियो के निर्देशक अनन्त राय का कहना है ‘यह गाना हमने तीन महीने पहले ही बना लिया था और बस इस ऐतिहासिक फैसले का इंतज़ार कर रहे थे क्योंकि हिन्दुस्तान एक लोकतांत्रिक देश है जहां हर समुदाय को आजादी के साथ रहने की आजादी है, तो फिर LGBTसमुदाय को क्यों नहीं।  मैं सुप्रीम कोर्ट के इस फैसला का सम्मान करता हूं।’

वहीं, बंद कमरा म्यूजिक विडियो के रैपर और निर्माता अभिषेक सोनपालिया का कहना है ‘म्यूजिक एक ऐसी भाषा है जो आजादी के सही मायने बताती है और यही कारण था कि मैंने ये गाना लिखा और एक्सप्रोनिक सुमित की मदद से गाने को संगीत से सजाया सवारा।मैं धन्यवाद करना चाहूंगा Rai Sahab Motion Pictures की पूरी टीम का इस अथक प्रयास में हमारा साथ देने के लिए।’

यहां देखें विडियो:

 

 



पोल

मीडिया-एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री से लगातार आ रही #MeToo खबरों पर क्या है आपका मानना

जिसने जैसा किया है, वो वैसा भुगत रहा है

कई मामले फेक लग रहे हैं, ऐसे में इंडस्ट्री को कुछ ठोस कदम उठाना चाहिए

दोषियों को बख्शा न जाए, पर गलत मामला पाए जाने पर 'कथित' पीड़ित भी नपे

Copyright © 2018 samachar4media.com