Share this Post:
Font Size   16

जेटली के खिलाफ दो वाक्य लिखने से जा सकती है किसी भी जर्नलिस्ट की नौकरी...

Published At: Tuesday, 03 November, 2015 Last Modified: Friday, 21 April, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो अरुण जेटली के खिलाफ दो वाक्य लिखने या बोलने से किसी भी जर्नलिस्ट की नौकरी जा सकती है, ये कोई फैक्ट नहीं है, ना ही कोई नया नियम है, बल्कि एक बड़ी महिला पत्रकार का कहना है। ये पत्रकार हैं मानुषी की संपादक मधु किश्वर का, उन्होंने अपने आज के ट्वीट में जेटली को लेकर ये लाइंस लिखी हैं। लेकिन ये लाइंस लिखने के पीछे मधु किश्वर का कुछ और ही मतलब था। दरअसल वो घोषित मोदी फैन हैं, उनके पीएम चुने जाने से पहले से ही। यहां तक कि मधु किश्वर मोदी के आसपास वालों को भी निशाने पर लेने से चूकती नहीं, लेकिन मोदी की तारीफ में लगी रहती हैं। बीच में उनके निशाने पर स्मृति ईरानी थीं, अब लगता है अरूण जेटली आ गए हैं। आज मधु किश्वर ने जो ट्वीट किया है, वो ये है, “Two sentences against Jaitley can cost a journo his/her job. But non stop anti BJP, anti Modi orchestrated hysteria allowed free run”। tweet इसका सीधा सादा मतलब ये निकाला जा रहा है कि जब इनफॉरमेशन ब्रॉडकास्टिंग मिनिस्टर को लेकर मीडिया इतना परहेज बरतती है तो पीएम के खिलाफ इतनी खबरें क्यों? हालांकि एक हद तक ये बात सही है कि न्यूज रूम्स में सख्त ताकीद होती है कि जो भी आईबी मिनिस्टर होता है, उसके खिलाफ कुछ भी लिखने से परहेज किया जाता है या थोड़ा सा बचा जाता है। मधु किश्वर संपादक और मीडिया की इस हकीकत से अच्छी तरह वाकिफ भी, तभी उन्होंने ये लिखा है। उन्होंने सवाल उठाए हैं कि फिर मोदी के खिलाफ इतनी खबरें मीडिया क्यों दिखा रहा है। एक तीर से वो कई निशाने साध रही हैं, मीडिया पर तो उंगली उठा ही रही हैं, इस तरफ भी इशारा कर रही हैं कि जेटली चाहे तो ये खबरे रुक सकती हैं या कम हो सकती है। उन्हें ये भी पता है कि ऐसा कुछ नहीं होने वाला, फिर भी जेटली की तरफ तो तीर चल ही गया है।

 

 

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Tags media


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com