Share this Post:
Font Size   16

'लाल बाग के राजा' से मीडिया वालों को क्यों है परहेज?

Friday, 18 September, 2015

समाचार4मीडिया ब्यूरो गुरुवार को जैसे ही गणपति बप्पा का उत्सव शुरू हुआ, मुंबई के मीडिया वालों की फौज एक स्टार से दूसरे स्टार, एक नेता से दूसरे नेता और एक मंदिर से दूसरे मंदिर और गणपति पंडाल तक घूमने लगी। कहीं सचिन को आना था, तो कहीं अमित शाह को, कोई नाना पाटेकर के घर जा रहा था तो कोई सलमान खान या गोविंदा के घर। लेकिन सबसे मशहूर 'लाल बाग का राजा' को लेकर मीडिया वाले हिचक रहे थे। आखिर ऐसा क्या हुआ जो इस बार मीडिया वाले लाल बाग के राजा के प्रांगड़ में जाने में आनाकानी कर रहे थे। मुंबई के मीडिया रिपोर्टर्स के बीच दोपहर तक आपस में मेल, फोन और वॉट्सएप ग्रुप्स में विचार-विमर्श चलता रहा कि जाया जाए या ना जाया जाए। फाइनली ज्यादातर लोगों ने ये तय कर लिया कि लाल बाग के राजा को कवर नहीं किया जाएगा जब तक कि कोई बहुत ही बड़ी घटना ना हो जाए। चैनल्स को चाहिए होगा तो सेलेब्रिटी विजिट के विजुअल्स न्यूज एजेंसी एएनआई से ले लेंगे। सबने अपने दिल्ली में बैठे इनपुट हेड्स, असाइनमेंट और एडिटर्स को मेल, फोन और मेसेज के जरिए बता दिया कि इस बार वो लाल बाग का राजा कवर नहीं कर रहे हैं और जो वजह सामने आई वो काफी दिलचस्प है। उनके मुताबिक लाल बाग का राजा गणपति मंडल में पिछले कई सालों मं जब यहां पुलिस, सरकारी अधिकारियों और भक्तों के साथ हुई बदतमीजी की घटनाओं को मीडिया ने कवर करने की कोशिश की थी, तो उनके कैमरे छीन लिए गए हैं या तोड़ दिए गए हैं। इसलिए हम लोग इस बार वहां कवरेज के लिए नही जा रहे हैं। हालांकि इस बार पुलिस भी काफी सतर्क है, उसे पहले ही इस तरह की घटनाओं की सूचना दे दी गई है। गणपति मंडल के वरिष्ठ पदाधिकारियों को भी ताकीद दी गई है कि वे वहां किसी भी तरह की उद्दंडता पर नजर रखें, लेकिन फिर भी मीडिया के एक बड़े तबके ने लाल बाग के राजा का बहिष्कार करने का फैसला कर लिया है। समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Tags media


Copyright © 2018 samachar4media.com