Share this Post:
Font Size   16

आईआरएस 2011 दूसरी तिमाही: मलयालम प्रकाशनों के लिए मिले-जुले परिणाम

Published At: Friday, 01 January, 2016 Last Modified: Tuesday, 27 February, 2018

 समाचार4मीडिया.कॉम ब्यूरो

 एवरेज इश्यू रीडरशिप में थोड़े उतार-चढ़ाव के बावजूद, अधिकांश मलयालम प्रकाशनों ने अपने पाठकों की संख्या को बढ़ाने में कामयाबी हासिल की है। टॉप पांच के मलयालम दैनिकों में, मलयाला मनोरमा’,‘मातृभूमि’, मध्यायम’ और मंगलम’ के पाठकों की संख्या में बढ़ातरी दर्ज की गई है। दूसरी तरफ, मलयालम पत्रिकाओं के पाठकों की संख्या में, आईआरएस 2011 की दूसरी तिमाही के अनुसार, मिश्रित परिणाम देखे गए हैं।
 
नवीनतम एवरेज इश्यू रीडरशिप के अनुसार, मलयाला मनोरमा’ के पाठकों की संख्या 99 लाख 62 हजार है और यह लगातार वृद्धि दर्ज कर रहा है। पिछले एक वर्ष में’ इस दैनिक के पाठकों की संख्या में 1 लाख 21 हजार की बढ़ोतरी दर्ज की गई है और इस तरह से, मलयाला मनोरमा’ के पाठकों की संख्या में एआईआर के अनुसार, 1 प्रतिशत की वृद्दि हुई है। मातृभूमि’ के पाठकों की संख्या में पिछले वर्ष की अपेक्षा 2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है लेकिन पहली तिमाही की तुलना में इसके पाठकों की संख्या में 2 प्रतिशत की कमी आई है और इस तरह से एवरेज इश्यू रीडरशिप के अनुसार, मातृभूमि’ के पाठकों की संख्या 66 लाख 90 हजार हो चुकी है।
 
आईआरएस 2011 की दूसरी तिमाही में, देशाभिमानी’ के लिए कोई राहत की खबर लेकर नहीं आया है। नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, इसके पाठकों की संख्या घटकर 21 लाख 5 हजार तक हो गई है। दूसरी तरफ, मध्यामम’ और मंगलम’ के पाठकों की संख्या में सकारात्मक वृद्धि जारी है। मध्यामम’ के पाठकों की संख्या, नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, 9 लाख 54 हजार हो गई है तो मंगलम’ के पाठकों की संख्या 5 लाख 62 हजार तक पहुंच गई है।
 
एआईआर के अनुसार, केरल कौमुदी’ और केरल कौमुदी फ्लैश’ के पाठकों की संख्या में कमी दर्ज की गई है। हालांकि, दीपिका’ के पाठकों की संख्या में एक वर्ष में 6 प्रतिशत की वृद्दि दर्ज की गई है और इस तरह से, दीपिका’ नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, 1 लाख 90 हजार पाठकों तक अपनी पहुंच बनाने में कामयाब हुई है।
 
मलयालम पत्रिका
 
हाल के एआईआर आंकड़ों के अनुसार, मलयालम पत्रिकाओं के पाठकों की संख्या के मिश्रित परिणाम आए हैं. वनिता’ के पाठकों की संख्या में एक वर्ष के अंदर में तीन प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है और इसने एआईआर आंकड़ों के अनुसार, 26 लाख 71 हजार पाठकों की संख्या दर्ज करने में कामयाबी हासिल की है। इस बीच, साप्ताहिक मलयाला मनोरमा’ के पाठकों की संख्या में एक वर्ष के भीतर 1 लाख 76 हजार की वृद्दि दर्ज की गई है और इसने 13 लाख 93 हजार पाठकों तक अपनी पहुंच बनाने में कामयाबी हासिल की है।
 
‘मातृभूमि आरोग्य मासिका’ के पाठकों की संख्या में कमी दर्ज की गई है, इसके पाठकों की संख्या गिरकर 9 लाख 14 हजार हो गई है। पिछले वर्ष की तुलना में, 33 प्रतिशत की भारी गिरावट के साथ,‘बलरामा’ के पाठकों की संख्या कम होकर 8 लाख 18 हजार हो गई है और इस तरह से नवीनतम एआईआर आंकड़ों के अनुसार, इसने 4 लाख 3 हजार पाठकों को खोया है। मातृभूमि तोझिल वार्ता’ के पाठकों की संख्या में भी कमी दर्ज की गई है और एआईआर आंकड़ों के अनुसार, अब यह 7 लाख 90 हजार ही रह गया है।
 
 नोट: समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडिया पोर्टल एक्सचेंज4मीडिया का नया उपक्रम है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें samachar4media@exchange4media.com पर भेज सकते हैं या 09899147504/ 09911612929 पर संपर्क कर सकते हैं।
 

 

Tags most-read


पोल

‘नेटफ्लिक्स’ और ‘हॉटस्टार’ जैसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करने की मांग को लेकर क्या है आपका मानना?

सरकार को इस दिशा में तुरंत कदम उठाने चाहिए

इन पर अश्लील कंटेट प्रसारित करने के आरोप सही हैं

आज के दौर में ऐसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करना बहुत मुश्किल है

Copyright © 2018 samachar4media.com