Share this Post:
Font Size   16

भारतीय मीडिया उद्योग 100 बिलियन डॉलर का

Published At: Friday, 01 January, 2016 Last Modified: Tuesday, 27 February, 2018

समाचार4मीडिया.कॉम ब्यूरो

कन्फेडरेशन ऑफ इन्डियन इंडस्ट्री (सी आईआई) मीडिया एण्ड एन्टरटेन्मेन्ट समिट के सेशन "इन्डिया दि बिग पिक्चर" में मीडिया विशेषज्ञों नें कहा कि भारत में मीडिया उद्योग के लिए उम्मीजद जगाते हुए कहा कि 100 बिलियन डालर तक पहुंच सकता है। सीआईआई के अमित खन्ना ने अपनी बात रखते हुए कहा कि शेयरधारक एक स्पष्ट खाका तैय्यार करें तो 100 बिलियन डालर कोई असम्भव बात नहीं है।

स्टार इंडिया के सीईओ उदयशंकर ने इस इस उद्देश्य को प्राप्त करनें में आने वाली बाधाओं पर चर्चा की और कहा कि "अगर हम इस लक्ष्य तक पहुंचते हैं तो इंडस्ट्री के लिए यह एक मील का पत्थर होगा, लेकिन लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि औद्योगिक उत्पादन की गुणवत्ता के मामले में हम बहुत पीछे है"

उन्होनें विस्तार से अपनी बात रखते हुये कहा कि " टेलीविजन उद्योग में हमें और भी अधिक कन्टेन्ट चाहिये। टैलेन्ट एक अलग ही मुद्दा है।" "हलांकि 100 बिलियन डॉलर के लक्ष्य को पाया जा सकता है। "

सोनी पिक्चर के ग्लोबल नेटवर्क से एन्डी कापलॉन ने कहा कि " इनोवेशन ही भारतीय मीडिया उद्योग की कुंजी है जो इसे $100 बिलियन डालर तक पहुंचा सकता है। दूसरी तरफ वाल्ट डिज्नी की मैनेजिंग डायरेक्टर रोनी स्क्रूवाला के कहा कि उद्योग के दीर्घकालीन वृद्धि के लिये बिजनेस मॉडल में ही क्रान्तिक बदलाव की जरूरत है।

समिट के दूसरे सेशन में इंडिया टुडे ग्रुप के चेयरमैन और चीफएडिटर अरूण पुरी ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में मीडिया पारदर्शी और उत्तरदायी हुई। लेकिन सरकार की ओर से इन दोनों ही मसलों पर गिरावट देखी गई है।

नोट: समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल एक्सचेंज4मीडिया का उपक्रम है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें samachar4media@exchange4media.com पर भेज सकते हैं या 09899147504/ 09911612929 पर संपर्क कर सकते हैं।



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com