Share this Post:
Font Size   16

वरिष्ठ कवि विष्णुचन्द्र शर्मा को मिला ये सम्मान...

Tuesday, 15 May, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

वरिष्ठ कवि विष्णुचन्द्र शर्मा को 12 मई की शाम दिल्ली के सादतपुर एक्सटेंशन स्थित उनके आवास पर द्वितीय 'मानबहादुर सिंह-लहक सम्मान' प्रदान किया गया। उन्हें यह सम्मान वरिष्ठ कवि-पत्रकार व 'दुनिया इन दिनों' पत्रिका के प्रधान संपादक डॉ. सुधीर सक्सेना द्वारा दिया गया। मानबहादुर सिंह-लहक सम्मान के तहत 90 वर्षीय विष्णुचन्द्र शर्मा को सम्मान के तौर पर प्रतीक चिह्न, नकद राशि व अंगवस्त्र भेंट किया गया।

सम्मान समारोह दो सत्रों में आयोजित हुआ। पहले सत्र में कवि विष्णुचंद्र शर्मा का सम्मान किया गया और दूसरे सत्र में उपस्थित जनों ने उनके व्यक्तित्व व कृतित्व पर अपने विचार रखे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डॉ. सुधीर सक्सेना ने कहा कि  विष्णुचन्द्र शर्मा सही मायनों में एक दूरदर्शी साहित्यकार हैं। वे मौजूदा वक्त की बारीकियों को तो देखते ही हैं, भविष्य की आहट को भी महसूस करने की उनकी क्षमता अद्वितीय है। 50 साल पहले मुक्तिबोध को लेकर उन्होंने जैसा सोचा था, वह आगे चलकर सच साबित हुआ। सुधीर सक्सेना ने विष्णुचन्द्र शर्मा के साहित्यिक अवदान को अप्रतिम बताया।

विष्णुचन्द्र शर्मा ने सम्मान के लिए आभार जताते हुए कहा कि दरअसल यह सम्मान मानवीय त्रासदी के दौर में इंसानी जिजीविषा को कायम रखने की चुनौती के समान है। यह सम्मान उस शख्सियत की याद दिलाता है, जिसने ऐसे ही दौर में मजबूती के साथ खड़ा होने का जज्बा दिखाया था। कार्यक्रम की अध्यक्षता सुधीर सक्सेना ने, संचालन महेश दर्पण ने और आभार प्रदर्शन रईस अहमद 'लाली' ने किया। इस मौके पर रत्नेश गुप्ता, मधुवेश, मेघ पांडे, सेवकराम शर्मा, अतानु, राजकिशोर, बृजश्याम शुक्ला आदि उपस्थित थे।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।  

Tags mediaforum


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com