Share this Post:
Font Size   16

94 की उम्र में वरिष्ठ पत्रकार काशी प्रसाद का निधन, आखिर तक करते रहे पत्रकारिता की सेवा

Wednesday, 11 April, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।


बिहार के मुंगेर जिले के वरिष्ठ पत्रकार, अधिवक्ता और शिक्षक काशी प्रसाद अब नहीं रहे। उनका निधन मंगलवार देर रात लगभग 12 बजे मंगल बाजार स्थित निवास पर हो गया। वे पिछले दो महीने से हृदय रोग से जूझ रहे थे। वे 94 साल के थे।


मिली जानकारी के मुताबिक, वे अंतिम सांस तक अंग्रेजी दैनिक द टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ संवाददाता के तौर पर जुड़े हुए थे। उन्होंने पत्रकारिता करियर में देश के तमाम बड़े हिंदी व अंग्रेजी अखबारों के साथ संवाददाता के तौर पर काम किया, जिनमें द स्टेट्समैन, ‘द सर्चलाइट, ‘द इंडियन नेशन, ‘प्रदीप, ‘आर्यावर्त, ‘नवभारत टाइम्स, ‘आज, ‘सन्मार्ग, ‘राष्ट्रवाणी आदि शामिल हैं। वे आकाशवाणी से भी जुड़े रहे।


उन्होंने मुंगेर के सरकारी श्रीदुर्गा संस्था उच्च विद्यालय में अंग्रेजी शिक्षक के तौर पर नौकरी की और प्रधानाध्यापक पद पर अवकाश ग्रहण किया। शिक्षा-सेवा से रिटायर होने के बाद उन्होंने मुंगेर सिविल कोर्ट में वकालत की प्रैक्टिस शुरू की और अभी तक वे वकालत के पेशे से भी जुड़े रहे थे।


मुंगेर में गंगा नदी पर आज दौड़ रही ट्रेन में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा। गंगा नदी पर रेल सह सड़क पुल निर्माण के लिए जागृतिसंस्था के बैनर तले चलाए गए दशक पुराने आंदोलन का नेतृत्व बतौर अध्यक्ष किया। उन्होंने आम सभा में पुल न बनने पर सरकार को आत्मदाह की खुली घोषणा की थीं।


वे स्वतंत्रता-सेनानी भी रहे और भारत छोड़े आंदोलन में अहम भूमिका निभाईं, लेकिन उन्होंने स्वतंत्रता-सेनानी पेंशन लेने से इनकार कर दिया। वे अपने पीछे पुत्र श्रीकृष्ण प्रसाद (अधिवक्ता व पत्रकार), पी. संजय (ज्योतिषाचार्य), अजय कुमार (अधिवक्ता) और बिजय कुमार सहित भरा-पूरा परिवार छोड़ गए हैं।  



समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 

 

Tags mediaforum


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com