Share this Post:
Font Size   16

आज से शुरू हुआ लिटरेचर फेस्टिवल ‘साहित्य आजतक’, जानिए इस बार क्यों है खास...

Friday, 10 November, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

हिंदी न्यूज चैनल आजतक के लिटरेचर फेस्टिवल साहित्य आजतक’ के दूसरे संस्करण का इंतजार अब खत्म हो गया है। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के आंगन में साहित्य आजतक की महफिल सज गई है। यह कार्यक्रम शुक्रवार से शुरू होकर रविवार (12 नवंबर) तक चलेगा।

इस फेस्टिवल में होंगे हिन्दुस्तान के नामचीन फनकारजो अपने सुरों और शब्दों से साहित्य आजतक की महफिल को चार चांद लगाएंगे। साहित्य आजतक के मंच पर प्रख्यात हस्तियों में शामिल हैं- जावेद अख्तरकरन जौहरवसीम बरेलवी, पीयूष मिश्रा, अशोक वाजपेयीमैनेजर पांडेकुमार विश्वासप्रसून जोशीनीलेश मिश्राचेतन भगत, चंद्र प्रकाश द्विवेदीहंस राज हंसजयदीप साहनीरचना बिष्टरावतदीक्षा द्विवेदीमंजूर भोपालीआलोक श्रीवास्तवशीन काफ निजामअशोक वाजपेयीमामे खानमैनेजर पांडेअनुजा चैहानदेवदत्त पटनायकअश्विन सांघीसुदीप नागरकर और यतीन्द्र मिश्रा।

इस साल का साहित्य सम्मेलन साहित्य जगत के कई अन्य नामों के जुड़ने से ज्यादा आकर्षक और खास होगा, क्योंकि देश के प्रख्यात लेखकों के साथ-साथदर्शकों को स्पोर्ट्सथिएटर और राजनीति जैसे विभिन्न पृष्ठभूमि वाले दिग्गजों को सुनने का मौका मिलेगा।

साहित्य आजतक का नया संस्करण लेखकों और विचारकों की नई पीढ़ी को प्रेरित करेगा और कहानीकारों की भावनाओं को अभिव्यक्त करेगा। आरिफ जकारिया और सोनाली कुलकर्णी द्वारा गर्दिश में तारे’ नाटक के साथ-साथ मामे खान और नूरां बहनों का जादुई प्रदर्शन भी इस लिटरेचर फेस्टिवल की भव्यता में चार चांद लगाएगा।

बता दें कि साहित्य आजतक सम्मेलन एक खास तरह का मंच है जो हिन्दी साहित्य की बड़ी हस्तियों को एक साथ एक मंच पर लाता है।



समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

Tags mediaforum


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com