Share this Post:
Font Size   16

सुहैब इलियासी की दूसरी पत्नी बीमार, हाई कोर्ट ने दिया ये आदेश...

Wednesday, 16 May, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

पत्नी अंजू इलियासी की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे पूर्व टीवी एंकर सुहैब इलियासी की अंतरिम जमानत की अवधि बढ़ाने से दिल्ली हाई कोर्ट ने इनकार कर दिया। हाई कोर्ट ने इलियासी को उसकी बीमार दूसरी पत्नी की देखरेख के करने के लिए एक महीने की अंतरिम जमानत दी थी।

जस्टिस एस. मुरलीधर और आईएस मेहता की पीठ ने सोमवार को इलियासी की मांग को ठुकरा दियाजिसमें उन्होंने बीमार पत्नी की देखभाल के लिए चार हफ्ते तक अंतरिम जमानत की अवधि बढ़ाए जाने की मांग की थी।  पीठ ने यह कहते हुए उसकी याचिका ठुकरा दी कि मामले में बहस हो सके। पीठ ने इससे पहले 26 अप्रैल को इलियासी को 20 हजार के निजी मुचलके पर जमानत दी थी।

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने अंजू की मां द्वारा एक न्यायमूर्ति को केस से अलग होने के संबंध में पत्र लिखने पर नाराजगी जताई। कोर्ट ने कहा कि यह अदालत की अवमानना का मामला है। हालांकियाची के वकील ने जब कोर्ट को सुनिश्चित किया कि उनकी मुवक्किल पत्र वापस ले लेंगी तो कोर्ट ने मामले में कोई कार्रवाई नहीं की।

वहीं निचली अदालत के फैसले के खिलाफ इलियासी की अपील पर अब 4 जुलाई को सुनवाई होगी। निचली अदालत ने 20 दिसंबर2017 को इलियासी को पहली पत्नी अंजू की हत्या के जुर्म में दोषी ठहराते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी। साथ ही उन पर दो लाख रुपए का जुर्माना और 10 लाख रुपए अंजू के माता-पिता को देने का निर्देश दिया है। उन्हें 16 दिसंबर, 2017 को दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने दोषी करार दिया था। मामले में 17 वर्ष बाद फैसला आया था।

गौरतलब है कि 11 जनवरी 2000 को सुहैब के घर पर अंजू की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। मर्डर करने के लिए कैंची का इस्तेमाल किया गया था। बाद में आरोप सुहैब पर ही लगा और उसे 28 मार्च 2000 को गिरफ्तार कर लिया गया था। सुहैब का तर्क था कि उसने आत्महत्या की हैजबकि अंजू की मां व उसकी दो बहनों ने शपथ पत्र सहित बयान दिया था कि अंजू ने उन्हें कई बार फोन कर बताया था कि सुहैब कभी भी उसकी हत्या कर सकते हैं।

28 मार्च 2000 को पुलिस ने सुहैब को गिरफ्तार किया था। बाद में उसे जमानत मिल गई थी। निचली अदालत ने 29 मार्च 2011 को सुहैब के खिलाफ दहेज प्रताड़ना व दहेज हत्या की धारा के तहत आरोप तय किए थे।

इसी आदेश को सुहैब की सास रुकमा सिंह ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। उन्होंने हत्यासुबूत मिटाने सहित अन्य धाराओं के तहत आरोप तय करने की मांग की थी। सुहैब इलिहासी को 90 के दशक में भारत में टेलिविजन पर क्राइम बेस्ड रियलिटी शो इंडियाज मोस्ट वांटेड की शुरुआत करने वाले के तौर पर जाना


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

 

Tags mediaforum


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com