Share this Post:
Font Size   16

सोशल मीडिया पर एक-दूसरे को नीचा दिखाने की प्रवत्ति बंद होनी चाहिए: रजत शर्मा

Monday, 07 May, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

नई दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में शनिवार को सोशल मीडिया के प्रयोग और समसामायिक महत्व पर 7 सत्रों में एक संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में वर्तमान समय में देश में चलने वाले मुद्दों पर चिंतन किया गया।

कार्यक्रम के दौरान इंडिया टीवी के एडिटर-इन-चीफ रजत शर्मा और टीवी पत्रकार रोहित सरदाना ने अपनी बात रखी, जिसमें रजत शर्मा ने कहा कि सोशल मीडिया के कारण मुख्यधारा की मीडिया की मनमानी खत्म हुई। इससे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और प्रिंट मीडिया पर दबाव बनता है। चैनल और न्यूजपेपर सोशल मीडिया पर देख-रेख के लिए अलग नियुक्तियां हो रहीं हैं। पहले एंकर का काम केवल खबर पढ़ना होता था, मगर अब बीच-बीच में उसी मुद्दे पर आ रहे ट्वीट्स का विश्लेषण भी करना पढ़ता है। सोशल मीडिया पर हमें संयमित रहना चाहिए और एक-दूसरे को नीचा दिखाने की प्रवत्ति बंद होनी चाहिए।

वहीं सोशल मीडिया को लेकर पत्रकार रोहित सरदाना ने कहा कि पहले रेडियो, दूरदर्शन, प्राइवेट चैनल, डिबेट फिर ग्राउंड डिबेट लेकिन अब इन सबसे प्रभावी माध्यम सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर और वॉट्सऐप हैं। कल तक जो बातें नाई की दुकान, घरों के आंगन में हुआ करती थीं सोशल मीडिया ने उनकी जगह ले ली, लेकिन यहां संयमित रहें। संदेश वायरल करने से पहले 4 बार सोचें। विकीपीडिया पर भरोसा न कर तत्थ्यों के लिए किताबों का सहारा लें।

वहीं कार्यक्रम के शुरुआत में मशहूर नृत्यांगना सोनल मानसिंह ने सोशल मीडिया की भूमिका और अपेक्षा विषय पर कहा कि आज के दौर में सोशल मीडिया का व्यापक स्वरूप है जहां विभिन्न विषयों पर चर्चा व जनसंवाद होता है मगर कला संस्कृति को गहराई से जानना भी जरूरी है। वक्ता अमीर चंद ने कहा कि सोशल मीडिया पर ऐसे लेखक हैं जो अवैतनिक हैं जो अपने जमीर से समझौता नहीं करते।

भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने कहा कि सोशल मीडिया पर फैलाए जा रहे झूठ से सावधान रहें। केंद्र सरकार की प्राथमिकता देश निर्माण की है जिसमें सबका सहयोग उपेक्षित है।

इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता गौरव भाटिया ने न्यायालय के 4 जजों द्वारा मामले को मीडिया में लाए जाने के कारण लोगों में आयी भावनाओं पर कहा कि कोर्ट के आंतरिक  मामले में सरकार हस्तक्षेप नहीं करेगी, यह बात नरेंद्र मोदी कह चुके हैं।

कार्यक्रम की आयोजक मालिनी अवस्थी ने कहा कि सोशल मीडिया पर शब्दों का चयन जरूरी है क्यूंकि यहा लिखी गई बात की पहुंच लाखों करोड़ों लोगों तक है। 

 


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

Tags mediaforum


Copyright © 2018 samachar4media.com