Share this Post:
Font Size   16

सूचना-प्रसारण मंत्रालय इस अंतरराष्ट्रीय संगठन की सूची में शामिल...

Published At: Tuesday, 25 September, 2018 Last Modified: Tuesday, 25 September, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

विश्व के स्थायी विकास और विकास के लक्ष्यों के प्रति जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से संयुक्त राष्ट्र द्वारा एक वैश्विक मीडिया कॉम्पैक्ट का गठन किया गया है। इसमें भारत के सूचना-प्रसारण मंत्रालय को भी शामिल किया गया है। इसके लिए पूरी दुनिया से 30 से भी अधिक संगठन सामने आए हैं।

टिकाऊ विकास लक्ष्यों (एसडीजी) के प्रति जागरुकता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से  ग्लोबल मीडिया कॉम्पैक्ट एक नई मुहिम है। 2015 में पूरी दुनिया के नेताओं ने इसे सर्वसम्मति से स्वीकार किया था। कॉम्पैक्ट में दुनिया भर की मनोरंजन और मीडिया कंपनियों को प्रेरित करने और इनके संसाधनों और प्रतिभाओं का रचनात्मक रूप से लाभ उठाने की बात को कहा गया है। इन तीस कॉम्पैक्ट सदस्यों में भारत का सूचना और प्रसारण मंत्रालय भी शामिल है।

इंटरनेशनल ग्रुप ऑफ मीडिया की अध्यक्ष ओलुसोला मोमेह ने कहा, ‘एसडीजी कॉम्पैक्ट मीडिया और मनोरंजन का ही गठजोड़ है, यह जनसंवाद को बढ़ाने और टिकाऊ विकास के लक्ष्यों को प्राप्त करने में संयुक्त राष्ट्र का साथ देने के लिए प्रतिबद्ध है। एसडीजी मीडिया संगठन में 100 से अधिक मीडिया और मनोरंजन संगठन शामिल हैं।’

संस्थापक कॉम्पैक्ट सदस्यों में अल जदीद टीवी-लेबनान, असाही शिमबुन-जापान, एशिया पैसिफिक इंस्टीट्यूट फॉर ब्रॉडकास्ट डेवलपमेंट, यूरोप में एसोसिएशन ऑफ कमर्शियल टीवी, चाइना मीडिया ग्रुप, डेली स्टार अखबार- लेबनान, डेली ट्रिब्यून-फिलीपीन, डॉयचे वेले-जर्मनी, काथीमेरीनि-यूनान, एलबीसीआई टीवी-लेबनान, निक्कन कोगयो शिमबुन-जापान, तास-रूस, दिस डे-नाइजीरिया, टीवीसी-कम्युनिकेशंस-नाइजीरिया, टीवी-ब्रिक्स-रूस और वीडीएल रेडियो-लेबनान शामिल हैं।

 



पोल

‘नेटफ्लिक्स’ और ‘हॉटस्टार’ जैसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करने की मांग को लेकर क्या है आपका मानना?

सरकार को इस दिशा में तुरंत कदम उठाने चाहिए

इन पर अश्लील कंटेट प्रसारित करने के आरोप सही हैं

आज के दौर में ऐसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करना बहुत मुश्किल है

Copyright © 2018 samachar4media.com