Share this Post:
Font Size   16

ट्विटर ने पत्रकार को भेजा नोटिस, जानिए वजह

Published At: Friday, 04 January, 2019 Last Modified: Friday, 04 January, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार मुबशिर जैदी को माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने नोटिस भेजा है। ट्विटर का कहना है कि जैदी ने पाकिस्तानी कानूनों का उल्लंघन किया है, जिसके लिए उन्हें नोटिस भेजा गया है। मुबशिर जैदी 'डॉन' समाचार चैनल से जुड़े हुए हैं और पाकिस्तान में 'डॉन' के बारे में यह माना जाता है कि वो सत्ता प्रतिष्ठान के खिलाफ काम करता है।

दरअसल, जैदी को ये नोटिस पुलिस अधिकारी और एक नेता की हत्या की जांच की मांग करने के लिए मिला है। वो खुद भी समझ नहीं पा रहे हैं कि आखिर जांच की मांग करना कानूनों का उल्लंघन कैसे हो गया?

पत्रकार जैदी ने खैबर पख्तूनख्वा में पुलिस अधिकारी ताहिर दावर और मुत्तहिदा कौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के नेता अली रज़ा आबिदी की हत्या के मामलों की जांच की मांग करने वाले अपने ट्वीट में लिखा था ‘ताहिर दावर मामले की जांच का क्या हुआ? क्या आदिल रजा आबिदी की हत्या की गुत्थी भी कई अन्य मामलों की तरह अनसुलझी रहेगी’?

मुबशिर जैदी का कहना है, ‘आबिदी को 25 दिसंबर को कराची में उनके घर के बाहर गोली मारी गई थी। पुलिस अधीक्षक दावर का 26 अक्टूबर को इस्लामाबाद से अपहरण कर लिया गया था और एक महीने बाद अफगानिस्तान से उनका शव मिला। मैंने बस इन मामलों की जांच की मांग की थी,  क्या इसे कानून का उल्लंघन कहा जा सकता है?’

बकौल जैदी, ‘मुझे ट्विटर से एक ईमेल मिला है, जिसमें कहा गया है कि पाकिस्तान से मेरे खिलाफ शिकायत मिली है कि मेरा ट्वीट देश के कानून का उल्लंघन है। ट्विटर ने मुझे न तो शिकायतकर्ता के बारे में कुछ बताया है और न ही इस बारे में कि जांच की मांग पाकिस्तानी कानून का उल्लंघन कैसे हो सकती है?’

जैदी शिकायतकर्ता और ट्विटर की प्रतिक्रिया से हैरान हैं। वहीं, इस मामले को पाकिस्तान में बढ़ती मीडिया सेंसरशिप के रूप में भी देखा जा रहा है। वैसे ये कोई पहला मौका नहीं है, जब पाकिस्तानी कानून के उल्लंघन के नाम पर ट्विटर की तरफ से नोटिस भेजा गया है। हाल ही में ट्विटर ने कनाडा के एक कॉलमनिस्‍ट को भी नोटिस भेजा था। कनै‍डियन कॉल‍मनिस्‍ट एंथोनी फुरे को भेजे नोटिस में कहा गया था कि उन्होंने पाकिस्‍तान का नियम तोड़ा है। फुरे के अनुसार, उन पर पैंगबर मोहम्‍मद के अपमान का आरोप लगा है, जो कि कई सालों पहले का मामला है।



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com