Share this Post:
Font Size   16

GroupM का अहम फैसला, किए बड़े बदलाव

Published At: Friday, 25 January, 2019 Last Modified: Friday, 25 January, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

जानी-मानी मीडिया एडवर्टाइजिंग कंपनी ‘ग्रुपएम’ (GroupM)  ने अपने साउथ एशिया ऑपरेशंस ‘ग्रुपएम साउथ एशिया’ (GroupM, South Asia) में टॉप लेवल पर कई बदलाव किए हैं। इसके तहत तुरंत प्रभाव से प्रशांत कुमार को साउथ एशिया का चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर और तुषार व्यास को प्रेजिडेंट (ग्रोथ एंड ट्रान्सफॉर्मेशन) पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। संगठन में दोनों को ही नई भूमिका दी गई है। इसके अलावा पार्थसारथी मंडायम (Parthasarathy Mandayam) को ‘माइंडशेयर’ (Mindshare) का सीईओ बनाने के साथ ही अमीन लखानी को ‘माइंडशेयर’ का चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर बनाया गया है।

अपनी नई भूमिका में प्रशांत कुमार कंपनी के बेहतर परिचालन के लिए जिम्मेदार होंगे। उनका काम यह देखना होगा कि क्लाइंटस की अपेक्षाओं के अनुसार कंपनी में आवश्यक सुधार किए जा रहे हैं अथवा नहीं और इन्हें ये सब सुनिश्चित कराना होगा। इससे पहले ‘माइंडशेयर’ के सीईओ के तौर पर कुमार ने कंपनी को काफी मजबूती प्रदान की है और उनके नेतृत्व में कंपनी ने कई ग्लोबल अवॉर्ड्स भी जीते हैं। अपनी उस पारी के दौरान उन्होंने एक ही मार्केट से कई बिजनेस लाने का रिकॉर्ड बनाया था और देश के बाहर भी कई अवॉर्ड जीते थे। इसमें ‘कान’ (Cannes) में ग्लास लॉयन, ‘WARC’ में ग्रांड प्रिक्स के साथ ही औसतन 250 से ज्यादा अवॉर्ड हर साल जीते हैं। विश्वस्तर पर एडवर्टाइजिंग के क्षेत्र में खास पहचान बनाने वालों का रिकॉर्ड रखने वाली ‘गन रिपोर्ट’ (Gunn report) में ‘माइंडशेयर’ को विश्व स्तर पर नंबर-दो का दर्जा दिया जा चुका है। ‘माइंडशेयर’ से पहले वह साउथ एशिया में ‘ग्रुप एम सेंट्रल ट्रेडिंग ग्रुप’ की कमान भी संभाल चुके हैं और डिजिटल व ट्रेडिशनल मीडिया में काफी अच्छी पार्टनरशिप कर चुके हैं।   

मद्रास यूनिवर्सिटी से एमबीए प्रशांत कुमार को दो दशक से ज्यादा का अनुभव है और अपने इस सफर में उन्होंने कई पहल करने के साथ ही इंडस्ट्री को एक नई दिशा दी है। टेनिस, बैडमिंटन और म्यूजिक के शौकीन कुमार पहले की तरह मुंबई से अपना काम करते रहेंगे।  

वहीं, तुषार व्यास की बात करें तो प्रेजिडेंट (ग्रोथ एंड ट्रान्सफॉर्मेशन) की नई भूमिका में वह ग्रुप में डिजिटल के विस्तार की दिशा में काम करेंगे। ग्रुपएम में चीफ स्ट्रैटेजी ऑफिसर की अपनी भूमिका को निभाने से पहले व्यास ग्रुपएम इंडिया के लिए डिजिटल मीडिया एजेंसी की बिजनेस यूनिट (Interaction) लॉन्च कर चुके हैं। उन्होंने यहां कंटेंट, सर्च, मोबाइल, डिजिटल एक्टिवेशन, सोशल इनसाइट और डिजिटल एनॉलिटिक्स का विस्तार करके 600 से ज्यादा सदस्यों की टीम तैयार की थी। वर्तमान में ग्रुपएम सबसे बड़ा डिजिटल मीडिया सॉल्यूशन प्रोवाइडर है और इसके 500 से ज्यादा एक्टिव क्लाइंट्स हैं। उनके नेतृत्व में सभी बड़े डिजिटल और मीडिया अवॉर्ड्स में डिजिटल पर काफी काम किया जाता था।  वह मीडिया टेक्नोलॉजी पर केंद्रित ‘SureWaves’ नामक स्टार्ट-अप की टीम का हिस्सा भी रह चुके हैं।

व्यास को डिजिटल, मीडिया, एडवर्टाइजिंग और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में काम करने का 20 साल से ज्यादा का अनुभव है और वह ‘Chevening Rolls-Royce Science and Innovation Leadership’ फेलो भी रह चुके हैं। बॉलिवुड फिल्मों के शौकीन व्यास को परिवार के साथ समय बिताना पसंद है। नई भूमिका में भी वह पहले की तरह  मुंबई से अपना काम करेंगे।

इन नई नियुक्तियों के बारे में ‘ग्रुपएम साउथ एशिया’ के सीईओ सैम सिंह का कहना है, ‘पीके और तुषार दोनों में चुनौतीपूर्ण माहौल में भी बेहतर प्रदर्शन की क्षमता है। चूंकि अब हमारा ऑर्गनाइजेशन डाटा पर केंद्रित हो गया है। ऐसे में हमें डाटा, एनालिटिक्स और कंटेंट पर ध्यान केंद्रित करने के साथ ट्रान्सफॉर्मेशन और भविष्य की जरूरतों पर ध्यान देने की आवश्यकता है। टीम में किया गया बड़ा फेरबदल भी इसी दिशा में उठाया गया कदम है।  

इसके साथ ही उन्होंने कहा, ‘मुझे यह कहते हुए बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा है कि ‘ग्रुपएम साउथ एशिया’ के चीफ ग्रोथ ऑफिसर लक्ष्मी नरसिम्हन ने निजी कारणों से अपने पद से इस्तीफा देने का निर्णय लिया है। उनका इस्तीफा 31 जनवरी 2019 से प्रभावी होगा। इतने सालों के दौरान ग्रुप में दिए गए योगदान के लिए मैं उन्हें शुक्रिया अदा करता हूं और शुभकामनाएं देता हूं। कंपनी को मजबूती प्रदान करने में लक्ष्मी की काफी अहम भूमिका है।      ’

पार्थसारथी मंडायम अपनी नई भूमिका में प्रशांत कुमार की जगह लेंगे। पार्थसारथी की नई भूमिका एक फरवरी 2019 से प्रभावी होगी। पार्थसारथी ‘माइंडशेयर’ से दस साल से ज्यादा समय से जुड़े हैं और इस दौरान कई प्रमुख पदों पर काम कर चुके हैं। अपनी नई भूमिका में वह ‘ग्रुपएम साउथ एशिया’ के सीईओ सैम सिंह, ‘ग्रुपएम साउथ एशिया’ के सीओओ प्रशांत कुमार और ‘माइंडशेयर एशिया पैसिफिक’ की सीईओ अमृता रंधावा को रिपोर्ट करेंगे।

पार्थसारथी ‘बिट्स पिलानी’ (BITS Pilani) और ‘आईआईएम कोलकाता’ (IIM Calcutta) के पूर्व छात्र रह चुके हैं। उन्हें ‘डब्‍ल्‍यूपीपी’ (WPP) ग्रुप के साथ एडवर्टाइजिंग और कम्युनिकेशन इंडस्ट्री में काम करने का दो दशक से ज्यादा का अनुभव है। अपनी पुरानी भूमिका में वह ‘माइंडशेयर’ के नॉर्थ और साउथ ऑफिसों की कमान संभालते थे। प्रेजिडेंट (प्रॉडक्ट, डिजिटल और स्ट्रैटेजी) की अपनी पूर्व की भूमिका में उन्होंने रणनीतिक पहल करने वाली टीमों का नेतृत्व किया है। उन्होंने विभिन्न कम्युनिटी के लिए काम किया है और क्लाइंट्स को सॉल्यूशंस उपलब्ध कराए हैं, जिसने कंपनी को ‘icom’ जैसे ग्लोबल मंच पर एक पहचान दिलाई है। पार्थसारथी को भी टेनिस खेलना पसंद है। इसके अलावा उन्हें घूमना-फिरना, खासकर वाइल्डलाइफ सेंचुरी में जाना बहुत पसंद है।

इनके अलावा ‘माइंडशेयर साउथ एशिया’ के सीओओ बनाए गए अमीन लखानी को ‘माइंडशेयर’ और ‘ग्रुपएम’ में विभिन्न भूमिकाओं में काम करने का 20 साल से ज्यादा का अनुभव है। इससे पहले प्रेजिडेंट (क्लाइंट लीडरशिप) के रूप में अपनी पारी के दौरान अमीन ने क्लाइंट रिलेशनशिप को काफी मजबूती प्रदान की है। उन्होंने भारत में यूनिलीवर के डिजिटल बिजनेस के इंटीग्रेशन का सफलतापूर्वक नेतृत्व किया है। इससे पहले ‘Fulcrum’ के हेड के रूप में उन्होंने यूनिलीवर इंडिया को नई ऊंचाई दिलाने में अहम भूमिका निभाई। उन्हें मीडिया, मार्केटिंग-प्रॉडक्ट मैनेजमेंट में काम करने के अनुभव के साथ ही विभिन्न क्लाइंट्स जैसे- पेप्सी, जीएसके, आईसीआईसीआई, ऑनिडा, कैस्ट्रॉल और एचएसबीसी आदि के साथ काम करने का भी अनुभव है। अमीन लखानी नियमित रूप से मैराथन में भाग लेते हैं। वह भी अपनी जिम्मेदारी मुंबई से ही निभाना जारी रखेंगे।

इन नए बदलावों के बारे में कुमार का कहना है, ‘हमारी इंडस्ट्री लगातार परिवर्तनशील है और हमें भी इसी के अनुसार बदलाव और विकास करते रहना होगा। नई टीम क्लाइंट रिलेशनशिप को और मजबूती प्रदान करते हुए इसे नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी और बेहतर परिणाम देगी।’ नई कवायद के तहत ग्रुपएम का जोर डाटा, टेक्नोलॉजी और विभिन्न टैलेंट के द्वारा उसे भविष्य के लिए तैयार करना और क्लाइंट्स के लिए बिजनेस की चुनौतियों को अवसरों में परिवर्तित करना है।



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com