Share this Post:
Font Size   16

140 साल का हुआ भारत का ये प्रतिष्ठित अखबार...

Published At: Saturday, 22 September, 2018 Last Modified: Monday, 24 September, 2018

समाचार4मीडिया ब्‍यूरो।।

अंग्रेजी अखबार ‘द हिन्दू’ (The Hindu) ने अपने सफर के 140 साल पूरे कर लिए हैं। इस अखबार की शुरुआत 1878 में मात्र 80 कॉपियों के साथ हुई थी। वर्तमान में इसकी 16 लाख कॉपियां छपती हैं और देश भर में इसके लगभग 60 लाख पाठक हैं। अखबार द्वारा इतना लंबा सफर तय करना बताता है कि इसने अपने पाठकों और ऐडवर्टाइजर्स के बीच कितना भरोसा बनाया है।   

इस बारे में ‘द हिन्दू’ के एडिटर मुकुंद पद्मनाभन का कहना है, ‘अखबार में हमने न्यूज और ओपिनियन के बीच में बिल्कुल स्पष्ट अंतर रखा है। हम आमतौर पर अटकलबाजियों से बचते हैं और पुष्टि के बाद ही खबर देते हैं। गलतियां हमसे भी होती हैं लेकिन खास बात यह है कि हम उन्हें स्वीकार करते हैं और जरूरत पड़ने पर माफी भी मांगते हैं। मेरा मानना है कि इससे भी भरोसा बढ़ता है और यही कारण है कि अखबार बड़े पैमाने पर लोगों के साथ जुड़ा हुआ है।’

‘द हिन्दू’ के सीईओ राजीव लोचन का कहना है, ‘किसी भी संस्थान के लिए 140 साल का सफर बहुत होता है। अखबार के लिए यह बहुत बड़ी बात है और इसका श्रेय पाठकों को जाता है, जिनके लगातार सहयोग के बिना यह संभव नहीं था।’ इस मौके पर अखबार से जुड़े एजेंटों और वेंडरों ने केक काटकर जश्न मनाया और भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं।

एक बार फिर से अपने पाठकों के लिए आने वाले समय में ‘द हिन्दू’ कुछ नई चीजें और लॉन्च करने वाला है। इसी के तहत अखबार ने हाल ही में अपना ऑनलाइन स्टोर ‘The Hindu Lounge’ लॉन्च किया है। किसी पब्लिशिंग हाउस द्वारा खोला गया यह पहला ऑनलाइन स्टोर है। यह ऑनलाइन स्टोर पूरे देश के पाठकों के लिए उपलब्ध होगा। इससे पहले ग्रुप द्वारा चेन्नई के ‘एक्सप्रेस एवेन्यू मॉल’ में स्टोर खोला जा चुका है। ‘द हिन्दू’ के ऑनलाइन स्टोर को चार श्रेणियों ‘The Madras Edition’, ‘Personalised Collection’, ‘Restored Collection’ और ‘Handmade Collection’ में बांटा गया है। अखबार की इस लंबी यात्रा का जश्न मनाने के लिए 20 सितंबर को पूरे दिन पाठकों के बीच #TheHinduat140 ट्रेंड करता रहा।



पोल

‘नेटफ्लिक्स’ और ‘हॉटस्टार’ जैसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करने की मांग को लेकर क्या है आपका मानना?

सरकार को इस दिशा में तुरंत कदम उठाने चाहिए

इन पर अश्लील कंटेट प्रसारित करने के आरोप सही हैं

आज के दौर में ऐसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करना बहुत मुश्किल है

Copyright © 2018 samachar4media.com