Share this Post:
Font Size   16

भोपाल के वरिष्ठ पत्रकार आरिफ मिर्जा को मिला ये प्रतिष्ठित पुरस्कार

Published At: Monday, 07 January, 2019 Last Modified: Monday, 07 January, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

भोपाल के जाने माने पत्रकार आरिफ मिर्जा को पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर शंकरदयाल शर्मा स्मृति पत्रकारिता पुरस्कार से नवाज़ा गया है। प्रदेश की राजधानी के रविन्द्र भवन में आयोजित कार्यक्रम में राज्य के जनसंपर्क मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी ने मिर्जा को पुरस्कार से सम्मानित किया। इस कार्यक्रम का आयोजन डॉक्टर शंकरदयाल शर्मा फाउंडेशन ने किया था। इस फाउंडेशन की स्थापना पूर्व राष्ट्रपति के भतीजे अरविंद दयाल शर्मा ने उनकी याद में की है। फाउंडेशन द्वारा हर साल पत्रकारिता सहित अन्य क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वालों को सम्मानित किया जाता है।

आरिफ मिर्जा को पत्रकारिता में 30 सालों का अनुभव है और भोपाल की पत्रकारिता में वो अपना एक अलग मुकाम रखते हैं। कई मीडिया हाउस में सेवाएं देने के बाद फ़िलहाल वह दैनिक ‘प्रदेश टुडे’ के साथ अपनी पारी को आगे बढ़ा रहे हैं। ‘प्रदेश टुडे’ में मिर्जा का कॉलम ‘मीडिया मिर्ची’ पत्रकारों के बीच खासा लोकप्रिय है। इसमें हर रोज़ न केवल राजधानी के पांच अख़बारों की संक्षिप्त समीक्षा होती है, बल्कि ‘सुरमा की फेंक’ शीर्षक तले बेहतरीन कार्य करने वाले पत्रकारों का जिक्र भी किया जाता है। इस कॉलम को जो सबसे जुदा बनाता है,वो है आरिफ मिर्जा की भोपाली भाषा। ठेठ भोपाली अंदाज़ में शब्दों को पिरोकर जिस तरह वह लिखते हैं,उससे खबर का मजा दोगुना हो जाता है।  

‘प्रदेश टुडे’ से जुड़ने से पूर्व मिर्जा भोपाल से प्रकाशित होने वाले पीपुल्स समाचार में थे। उन्होंने 1986 के दशक में पत्रकारिता में कदम रखा। दैनिक भास्कर से अपने करियर की शुरुआत करने के बाद मिर्जा ने दैनिक नई दुनिया, दैनिक जागरण, राष्ट्रीय हिंदी मेल में सेवाएं दीं। इसके बाद उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में राह तलाशी, लेकिन थोड़े वक़्त बाद वापस प्रिंट मीडिया में आ गए। मार्च 2011 से लेकर अभी तक वह ‘प्रदेश टुडे’ से जुड़े हुए हैं। आरिफ मिर्जा को डेस्क और फील्ड दोनों को अनुभव है,उनका ज़्यादातर फोकस मानवीय ख़बरों पर रहता है।

समाचार4मीडिया की तरफ से आरिफ मिर्जा को बधाई और शुभकामनाएं!



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com