Share this Post:
Font Size   16

खास उपलब्धियों के लिए युवा कवयित्री इशिका को स्कूल ने कुछ यूं किया सम्मानित

Published At: Monday, 11 March, 2019 Last Modified: Monday, 11 March, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

मात्र 7 वर्ष की उम्र में पहले हिंदी और फिर अंग्रेजी में राइमिंग यानी तुकबंदी से कविता का सफर शुरू करने वाली आंग्ल भाषी कवयित्री इशिका बंसल 14 वर्ष की उम्र पार करते-करते दो कविता संग्रहों के साथ कई महत्वपूर्ण साहित्यिक  उपलब्धियां अर्जित कर चुकी हैं। इस क्रम में उनकी शैक्षिक, साहित्यिक उपलब्धियों को दृष्टिगत रखते हुए देश के नामचीन शिक्षा समूह की शाखा जीडी गोयनका पब्लिक स्कूल, आगरा ने इस मेधावी व सृजनशील बिटिया को 3 लाख, 11 हजार रुपए की स्कॉलरशिप दी है। इस स्कॉलरशिप से इशिका अब जीडी गोयनका में नौवीं और दसवीं कक्षा की शिक्षा निशुल्क प्राप्त करेंगी। स्कूल के नवरत्नों में उन्हें शामिल किया गया है।

स्कूल के प्रिंसिपल पुनीत वशिष्ठ के अनुसार, ‘अगर इशिका नौवीं व दसवीं कक्षा में भी शैक्षिक व साहित्यिक रिकॉर्ड बनाने का सिलसिला जारी रख स्कूल व आगरा का नाम रोशन करेगी तो उसको आगे की पढ़ाई के लिए भी स्कॉलरशिप अवार्ड की जा सकती है।’ उन्होंने स्पष्ट किया कि बेटियों की शिक्षा व उनकी नैसर्गिक प्रतिभा को पंख लगाने के लिए जीडी गोयनका स्कूल संकल्पित है। हर वर्ष विभिन्न क्षेत्रों के ऐसे ही प्रतिभाशाली 9 बच्चों को नवरत्न के रूप में यहां निशुल्क शिक्षा दी जाती है।

इस अवार्ड से इशिका बहुत उत्साहित हैं। वर्तमान में वह सेंट कॉनरेड इंटर कॉलेज खंदारी में आठवीं कक्षा में अध्यनरत हैं। गौरतलब है कि इशिका सामाजिक-मानवीय सरोकारों पर ज्यादातर कलम चलाती है। वह अपनी कविताओं से दुनिया को बेहतर बनाने का ख्वाब साकार करने की कोशिश में जुटी हैं। उनका स्पष्ट मानना है कि नई पीढ़ी को शिक्षित करके व उसके भीतर छिपी रचनात्मकता को बाहर लाकर ही हम दुनिया को सुंदर व बेहतर बना सकते हैं। सेव वाटर, गुड सिटीजन, इंपॉर्टेंस ऑफ नेचर, सेव ट्रीज, सेव द इन्वायरमेंट, रिस्पेक्ट योर एल्डर्स, डोंट टेल अ लाई,  बी एन एक्टर नॉट एक्टर, फॉरगिवनैस, सेव फ्यूल, सेव द गर्ल चाइल्ड, डॉन्ट बी जेलस, बी स्प्रिचुअल, डोंट स्पीक मच सहित वह 90 से अधिक संदेश प्रद कविताएं लिख कर आगरा व देश के जाने-माने कवि-समीक्षकों व संपादकों की सराहना पा चुकी हैं। इशिका आगे चलकर इंग्लिश ऑथर के रूप में भारत का प्रतिनिधित्व करना चाहती हैं।



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com