Share this Post:
Font Size   16

सोशल मीडिया पर सरकारी दखल से बचने का पूर्व मंत्री ने बताया ये फंडा

Published At: Tuesday, 27 November, 2018 Last Modified: Tuesday, 27 November, 2018

रुहैल अमीन।।

पूर्व सूचना-प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने दिल्ली में अपनी नई किताब ‘Fables of Fractured Times’ की लॉन्चिंग के मौके पर सोशल मीडिया से जुड़े कई अहम मुद्दों पर बात की।

यह पूछे जाने पर कि सोशल मीडिया के आने से भाषाशैली में किस तरह अशिष्टता आ गई है और कैसे लोगों के बीच होने वाले संवादों में कटुता बढ़ गई है, पूर्व मंत्री ने कहा, ‘मैं इस बारे में नहीं कह सकता हूं कि सोशल मीडिया पर इस तरह की कटुता ने मेनस्ट्रीम मीडिया में जगह बनाई है या मेनस्ट्रीम मीडिया से निकलकर यह सोशल मीडिया पर आई है।’

मनीष तिवारी ने कहा, ‘यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिस तरह से सोशल मीडिया काम कर रही है, उसमें लोगों के लिए दूसरों की निजता के बारे में कुछ भी कहना काफी आसान हो गया है, लेकिन अब यह स्थिति सिर्फ सोशल मीडिया पर ही सीमित नहीं रह गई है।‘   

उनका कहना था, ‘मेरा मानना है कि सोशल मीडिया के क्षेत्र में कुछ अंकुश लगाने की जरूरत है और हमें यह भी सुनिश्चित करना होगा कि इसके लिए कुछ नियम भी बनाए जाएं। यदि सोशल मीडिया के लिए नियम नहीं होंगे तो जैसे हम लोगों ने अपने जीवन में इंटरनेट का उदय होते हुए देखा है, उसी तरह इंटरनेट का पतन भी होते हुए देखेंगे।’

सोशल मीडिया में सरकार के हस्तक्षेप और इससे बचने के उपायों के बारे में तिवारी ने कहा, ‘यदि आप चाहते हैं कि सोशल मीडिया के क्षेत्र में सरकार अपना दखल न दे तो आपको ये नियम खुद बनाने होंगे और सेल्फ रेगुलेट होना पड़ेगा। नहीं तो वह दिन दूर नहीं, जब इसमें सरकारी दखल हो जाएगा।’



Copyright © 2018 samachar4media.com