Share this Post:
Font Size   16

किन वजहों से होता है ब्रेस्ट कैंसर, डॉक्टरों ने महिलाओं को किया जागरूक

Published At: Tuesday, 09 October, 2018 Last Modified: Tuesday, 09 October, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

कैंसर जागरुकता अभियान के तहत ‘रोटरी क्लब आगरा’ और ‘नो मतलब नो’ ने 7 अक्टूबर को चन्द्रा बालिका विद्यापीठ इंटर कॉलेज न्यू आगरा में एक परीक्षण शिविर का आयोजन किया। इस शिविर में इनरव्हील क्लब ऑफ आगरा और आगरा रॉयल, आशियाना महिला समिति,खत्री बन्धु सभा (पंजीकृत) और श्री हरि सत्संग समिति की सभी महिला सदस्यों ने कैंसर के सम्बन्धित भ्रातियां के बारे चर्चा की।

इस शिविर में डॉ. अभिलाषा प्रकाश व डॉ. शिखा गुप्ता ने स्त्री रोग से सम्बन्धित महिलाओं की शंकाओं का निवारण किया। शिविर की शुरुआत शारदा गुप्ता ने दीप प्रज्वलित कर की।


शिविर में बोलते हुए एस.एन. मेडिकल कॉलेज की कैंसर रोग विशेषज्ञा प्रो. डॉ. सुरभि गुप्ता ने बताया कि भारतीय महिलाओं में होने वाले कैंसर में ब्रेस्ट कैंसर प्रमुख है। प्रतिवर्ष 10 लाख महिलाएं ब्रेस्ट कैंसर से हर साल पीढ़ित होती हैं। विश्व में अशिक्षा और अजागरुकता के कारण भारत का तीसरा स्थान है। ब्रेस्ट कैंसर के लिए पश्चिमी सभ्यता से प्रेरित जीवन शैली, वायुमंडलीय दुष्प्रभाव और वंशानुगत प्रमुख वजहें हैं। भारतीय परिवेश में ज्यादा उम्र में संतान और स्तनपान न कराना भी प्रमुख कारण है। 45 साल की उम्र के बाद प्रतिवर्ष चिकित्सीय परीक्षण के द्वारा शुरुआती दौर में पाए जाने पर इलाज संभव है। उन्होंने कहा कि हर महिला को करीब 40 मिनट रोज एक्सरसाइज करनी ही चाहिए। उन्होंने ये पुरुषो में भी पाये जाने लगा है।

इस मौके पर रोटरी क्लब की अध्यक्षा राजीव लोचन भारद्वाज ने कहा एक अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक विश्व ब्रेस्ट कैंसर जागरुकता माह को रोटरी क्लब द्वारा जागरुकता अभियान चलाकर जन जागरण किया जाएगा और निर्धन महिलाओं की प्रारम्भिक जांच व इलाज रोटरी क्लब के माध्यम से नि:शुल्क किया जाएगा। खत्री बंधु सभा, आगरा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष रूपो टंडन, वाइस प्रेजिडेंट अभिषेक मेहरोत्रा, संगठन मंत्री दीपक मेहरा, मीडिया प्रभारी विक्की टंडन, कमलानगर ईकाई इंजार्च अनुज कपूर, समाजसेवी डॉ. आरती मेहरोत्रा ने भी अपना सहयोग दिया।

शिविर में आराधना गुप्ता, सरोज प्रशान्त, मधु बघेल आरती मल्होत्रा, संगीता अग्रवाल निधि जैन, अदिति सिंघल, निशा सिंह, बबीता गुप्ता आदि उपस्थित रहीं।



पोल

मीडिया-एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री से लगातार आ रही #MeToo खबरों पर क्या है आपका मानना

जिसने जैसा किया है, वो वैसा भुगत रहा है

कई मामले फेक लग रहे हैं, ऐसे में इंडस्ट्री को कुछ ठोस कदम उठाना चाहिए

दोषियों को बख्शा न जाए, पर गलत मामला पाए जाने पर 'कथित' पीड़ित भी नपे

Copyright © 2018 samachar4media.com