Share this Post:
Font Size   16

कम नहीं हो रहीं इस गंभीर आरोप में फंसे अरनब गोस्‍वामी की मुश्किलें...

Published At: Thursday, 10 May, 2018 Last Modified: Thursday, 10 May, 2018

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

वरिष्‍ठ पत्रकार व 'रिपब्लिक टीवी' (Republic TV) के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्‍वामी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। रविवार को मुंबई के अलीबाग थाने की पुलिस ने 'रिपब्लिक टीवी' के ऑफिस में जाकर जांच पड़ताल की।

दरअसल, मुंबई की आर्किटक्‍चरल और इंटीरियर डिजायनिंग फर्म 'कॉनकोर्ड डिजाइंस प्राइवेट कंपनी लिमिटेड' (Concorde Designs Pvt Ltd) के प्रबंध निदेशक अन्‍वय और उसकी मां कुमुद की मौत के मामले में जांच के लिए यह टीम रिपब्लिक टीवी के मुंबई स्थित ऑफिस में पहुंची थी।

अन्‍वय की पत्‍नी अक्षता ने 'रिपब्लिक टीवी' पर बकाया राशि नहीं देने का आरोप लगाते हुए चैनल के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्‍वामी, 'IcastX/Skimedia' के फिरोज शेख और 'Smartworks' के नीतेश सारदा के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। तीनों पर अन्‍वय को खुदकुशी के लिए उकसाने का आरोप है। पुलिस अब आरोपियों को समन जारी करने की तैयारी कर रही है। पुलिस का कहना है कि मृतकों के परिजनों के बयान दर्ज होने के बाद आरोपियों को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा। वहीं, तीनों फर्मों का कहना है कि नायक की फर्म के सभी भुगतान कर दिए गए थे। उन्‍होंने पुलिस को संबंधित कागजात भी उपलब्‍ध कराए हैं।

गौरतलब है कि पांच मई को इंटीरियर डिजाइनर अन्‍वय नायक (53) ने अपने आवास पर आत्महत्या कर ली थी। अन्‍वय की मां कुमुद का शव भी उनके पास ही मिला था। पुलिस जांच कर रही है कि आखिर नायक की मां कुमुद की मौत कैसे हुई। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अन्‍वय ने एक सुसाइड नोट छोड़ा है। इसी सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस ने अर्नब गोस्वामी सहित तीन लोगों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज किया है।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

सबरीमाला: महिला पत्रकारों को रिपोर्टिंग की मनाही में क्या है आपका मानना...

पत्रकारों को लैंगिक भेदभाव के आधार पर नहीं देखा जाना चाहिए

मीडिया को ऐसी बातों के खिलाफ एकजुट होकर आवाज उठानी चाहिए

महिला पत्रकारों को मंदिर की परंपरा का ध्यान रखना चाहिए

Copyright © 2018 samachar4media.com