Share this Post:
Font Size   16

Harvest TV के बारे में उठ रहे सवालों का जवाब है ये इंटरव्यू...

Published At: Monday, 04 February, 2019 Last Modified: Friday, 08 February, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

अंग्रेजी न्यूज चैनल ‘हार्वेस्ट टीवी’ (Harvest TV) ने मार्केट में दस्तक दे दी है। अपनी लॉन्चिंग के बाद से ही ‘वीकोन मीडिया एंड ब्रॉडकास्टिंग प्राइवेट लिमिटेड’  (Veecon Media and Braodcasting Private Limited) के स्वामित्व वाला यह चैनल कई वजह से चर्चाओं में बना हुआ है। इन सबके बीच एक सवाल यह भी उठ रहा है कि जब मार्केट में पहले से ही तमाम चैनल हैं, फिर इन सबके बीच एक और चैनल लॉन्च करने की क्या जरूरत आ पड़ी?

चूंकि इस चैनल में कुछ बड़े राजनेताओं का पैसा लगा है, इसलिए मीडिया का एक वर्ग इस चैनल की लॉन्चिंग को राजनीति से प्रेरित बता रहा है। हालांकि ‘वीकोन मीडिया एंड ब्रॉडकास्टिंग प्राइवेट लिमिटेड’ के प्रेजिडेंट दीपक चौधरी ने इन बातों से इनकार किया है।

हमारे साथ एक इंटरव्यू  के दौरान दीपक चौधरी ने बताया कि तमाम न्यूज चैनलों के बीच यह चैनल किस तरह अलग है और मार्केट में अपनी खास पहचान बनाएगा।

प्रस्तुत हैं इस बातचीत के प्रमुख अंश-

वर्तमान दौर में नया चैनल लॉन्च करने के पीछे क्या वजह है?

हम न्यूज चैनलों को री-ब्रैंड और री-लॉन्च करने का प्रयास कर रहे हैं। दरअसल, हमारा मानना है कि न्यूज को हमेशा निष्पक्ष, स्वतंत्र और सरल होने के साथ ही उसे प्रभावी तरीके से दर्शकों के समक्ष पेश करना चाहिए। लेकिन आज के दौर में हम देखें तो हमें न्यूज की दुनिया में चारों ओर शोरशराबा ही दिखाई देता है। अधिकांश न्यूज चैनलों से न्यूज तो जैसे गायब ही हो गई है। ऐसे में इस चैनल की लॉन्चिंग के पीछे हमारा उद्देश्य यही है कि दर्शकों को ‘असली न्यूज’ मिले।

कई लोगों का कहना है कि आम चुनाव को ध्यान में रखते हुए इस चैनल को लॉन्च किया गया है?

इन बातों में किसी भी तरह की सच्चाई नहीं है। जैसा कि मैं पहले भी कह चुका हूं कि हम चैनलों को री-ब्रैंड और री-लॉन्च करने की कवायद काफी समय से कर रहे हैं। इसी के तहत यह चैनल लॉन्च किया गया है। यह तो महज संयोग है कि चुनाव सिर्फ 70-75 दिन दूर हैं।

इस चैनल से कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल का नाम जुड़ा होने के कारण कई लोगों का मानना है कि यह चैनल खास एजेंडा लोगों के सामने रखता है। इस बारे में आपका क्या कहना है?

कपिल सिब्बल को इस न्यूज चैनल के मालिक के रूप में पेश करना गलत है। जैसा कि मैंने पहले भी कहा है कि हम अपने विस्तार और री-लॉन्चिंग में जुटे हुए हैं। इसके लिए हमने कई पार्टनर्स और ग्रुप्स के साथ हाथ मिलाया है। इसी के तहत ‘एनालॉग मीडिया प्राइवेट लिमिटेड’ (Analog Media Private Ltd) के साथ हमारी बड़ी पार्टनरशिप हुई है, जिसका स्वामित्व श्रीमती प्रोमिला सिब्बल के पास है। श्रीमती सिब्बल खुद बिजनेस संभालती हैं और यह उनका अपना वेंचर है और इसे इसी रूप में देखा जाना चाहिए। प्रोमिला सिब्बल ‘वीकोन मीडिया’ के साथ मिलकर एक प्रीमियम डिजिटल कंटेंट प्रॉडक्ट बनाना चाहती हैं। हम अपने प्लेटफॉर्म पर सभी राजनीतिक पार्टियों और विचारों का स्वागत करते हैं। हमारी संपादकीय नीति सभी राजनीतिक विचारों को बराबर का प्रतिनिधित्व देने में विश्वास रखती है और चैनल लॉन्च होने के पहले हफ्ते में ही पता चलता है कि यह पूरी तरह निष्पक्ष है और सभी के लिए उपलब्ध है।

मार्केट में पहले से ही कई न्यूज चैनल हैं, इन सबके बीच ‘हार्वेस्ट टीवी’ किस तरह अपने आप को दूसरों से अलग पेश करने का प्रयास कर रहा है?

हमारे चैनल पर लोगों को सिर्फ सच मिलेगा। आजकल के दौर में लोगों को तथ्यों और रिसर्च पर आधारित न्यूज की जरूरत है, जो अंग्रेजी न्यूज मार्केट से एक तरह से गायब हो चुकी है। न्यूज प्रसारण के दौरान चैनल की ओर से सही सवाल उठाए जाएंगे और यह निष्पक्ष होगा। हम अपने दर्शकों को सटीक और निष्पक्ष न्यूज दिखाना चाहते हैं।

कई लोगों का सोचना है कि टीवी न्यूज पर आजकल शोरशराबा बहुत होता है और इसमें न्यूज की जगह नाटकीयता भी काफी होती है। इस तरह के माहौल में अपने दर्शकों के लिए ‘हार्वेस्ट टीवी’ की क्या प्लानिंग है?

यदि आप हमारा चैनल देखें तो पाएंगे कि आपको इस पर शोरशराबा नहीं मिलेगा और सिर्फ न्यूज मिलेगी। हमारा मानना है कि मार्केट में ऐसे न्यूज चैनल के लिए काफी जगह है, जहां पर दर्शकों को बिना लागलपेट के न्यूज और इनफॉर्मेशन मिले। इसका मतलब ये नहीं है कि हमारा रुख किसी के प्रति मुलायम रहेगा। हमारे न्यूज कंटेंट में आपको सच्चाई तो मिलेगी ही, साथ ही जरूरी होने पर आलोचनात्मक रवैया अपनाने के साथ ही हम अच्छे काम की प्रशंसा भी करेंगे।

आपकी नजर में वर्तमान दौर में टीवी न्यूज इंडस्ट्री किन बड़ी चुनौतियों का सामना कर रही है?

हम अपनी बात करें तो मेरा मानना है कि जल्दी से जल्दी अपनी व्युअरशिप को बढ़ाना, मार्केट में अपनी खास जगह बनाना और खर्चों को नियंत्रण में रखने के साथ ही कंटेंट पर फोकस करते हुए चैनल को किसी भी तरह के राजनीतिक प्रभाव से मुक्त रखना, हमारे सामने बड़ी चुनौतियां हैं।  

आपके लिए रेटिंग्स के क्या मायने हैं और आप इन्हें किस रूप में देखते हैं?

रेटिंग से एडवर्टाइजिंग और स्पॉन्सरशिप प्रभावित होती है, इसलिए हम रेटिंग्स को काफी गंभीरता से लेते हैं। हमारे लिए रेवेन्यू के काफी मायने हैं, लेकिन हम ये भी जानते हैं कि रातोंरात यह नहीं होने वाला है। हमें लगातार अच्छा काम करने की जरूरत है ताकि हमारे दर्शक हमसे जुड़े रहें। इसके लिए हमें अपने दावों और वादों पर खरा उतरना होगा और हम निश्चित रूप से ऐसा करेंगे।    

‘हार्वेस्ट टीवी’ को लेकर आपका विजन क्या है और आज से दो साल बाद आप इसे कहां देखते हैं?

हम ये सुनिश्चित करेंगे कि ‘हार्वेस्ट टीवी’ ऐसे दर्शकों की पहली पसंद बन जाए, जिनके लिए न्यूज महज मनोरंजन का माध्यम नहीं है और वे ‘सही न्यूज’ देखना चाहते हैं। इसके लिए हम अपने कंटेंट पर खास जोर देंगे। इसके अलावा अब हम हिंदी न्यूज चैनल मार्केट में जाने का प्लान भी बना रहे हैं। वहां व्युअरशिप और रेवेन्यू अधिक है। यही नहीं, भविष्य की बात करें तो हम टीवी एंटरटेनमेंट के क्षेत्र में भी जाना पसंद करेंगे।



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com