Share this Post:
Font Size   16

नोटबंदी के प्रभाव को इस रूप में देखते हैं न्यूज ब्रॉडकास्टर्स

Saturday, 26 November, 2016

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।। सरकार द्वारा नोटबंदी की घोषणा के बाद से न्यूज ब्रॉडकास्टिंग इंडस्ट्री काफी फूंक-फूंककर कदम रख रही है। इस फैसले का इस इंडस्ट्री पर क्‍या प्रभाव पड़ रहा है, यह अभी पूरी तरह से ज्ञात नहीं हुआ है। हालांकि इंडस्‍ट्री के सूत्रों का कहना है कि इस घोषणा के बाद से इसके बिजनेस में ज्यादा अंतर नहीं देखा गया है। घबराने की जरूरत नहीं : puneet‘जी मीडिया’ (Zee Media) देश में केबल न्यूज की शुरुआत करने वालों में शामिल थी। अगस्‍त में कंपनी ने World Is One News (WION) की लॉन्चिंग के साथ ही इंटरनेशनल न्यूज ब्रॉडकास्टिंग में प्रवेश किया। देश में नोटबंदी के बाद से यह भारतीय प्रसारण कंपनी इसके प्रभावों पर करीब से नजर रखे गए है। इस बारे में ‘जी एंटरटेनमेंट एंड एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्‍टर पुनीत गोयनका का कहना है, ‘इस बारे में फिलहाल हम कुछ नहीं कह सकते हैं।’ उन्‍होंने कहा कि इंडस्‍ट्री में एक आम धारणा है कि कंज्‍यूमर की खरीदारी क्षमता में कमी होने के कारण विज्ञापन खर्च (ad spends) भी कम होने की संभावना है लेकिन गोयनका का कहना है कि इससे घबराने की जरूरत नहीं है। गोयनका ने कहा, ‘पैनिक से किसी का कोई भला नहीं होगा फिर चाहे वह ब्रॉडकास्‍टर्स हों अथवा एजेंसियां। हमें आपस में मिल-बैठकर समस्‍या का समाधान तलाशना होगा।’ विज्ञापन में कमी (Dip in ad sales) mk-anandअंग्रेजी पाठकों के बीच मजबूत पकड़ रखने वाले टाइम्‍स ग्रुप (Times Group) का कहना है कि नोटबंदी का विज्ञापन पर प्रभाव नवंबर में दिखाई देगा और हो सकता है कि यह दिसंबर में भी दिखाई दे। टाइम्‍स नेटवर्क के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्‍टर एमके आनंद का कहना है, ‘विज्ञापनों पर अभी कुछ अस्‍थायी प्रभाव देखे जा रहे हैं और एफएमसीजी सेक्‍टर में अभी इसकी शुरुआत है लेकिन मेरा मानना है कि इसका ई-कॉमर्स सेक्‍टर पर ज्‍यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा।’ नोटबंदी के बाद इस तिमाही के वित्‍तीय परिणमों के बारे में एमके आनंद ने कहा, ‘नवंबर में इस पर करीब 20 प्रतिशत का प्रभाव पड़ा है। मुझे लगता है कि दिसंबर में इसमें सुधार होगा।’ kvlवहीं इस बारे में एनडीटीवी (NDTV) के ग्रुप सीईओ और एग्जिक्‍यूटिव वाइस प्रेजिडेंट केवीएल नारायण राव का कहना है, ‘यह मामला सिर्प न्‍यूज ब्रॉडकास्टिंग बिजनेस तक ही सीमित नहीं है बल्कि दूसरों पर भी इसका काफी प्रभाव पड़ेगा।’ राव ने स्‍वीकार किया कि उनके ग्रुप पर भी इसका थोड़ा प्रभाव पड़ा है और इससे निबटने की कोशिश की जा रही है। सकारात्मक प्रभाव होगा (Overall impact can be positive) आनंद के शब्‍दों में हम कहें तो ‍इसका ब्रॉड‍कास्टिंग पर काफी सकारात्‍मक प्रभाव पड़ेगा। उन्‍होंने बताया कि घरेलू स्‍तर पर सबस्क्रिप्‍शन रेवेन्‍यू में पारदर्शिता आएगी जबकि अभी ऐसा नहीं है। उन्‍होंने जोर देते हुए कहा, ‘इससे multiple-system operators (MSO) में सुधार होगा, ब्रॉडकास्‍टर रेवेन्‍यू बढ़ेगा और इस प्रकार हमारे प्रॉडक्‍ट की क्‍वलिटी भी अच्‍छी होगी। कुल मिलाकर इस कदम से आने वाले समय में काफी फायदा होगा।’ समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Tags media


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com