Share this Post:
Font Size   16

शेखर सुमन ने विदाई शो के बाद शेयर की परदे के पीछे के मीडियाकर्मियों की तस्वीर...

Wednesday, 20 December, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

गुजरात और हिमाचल चुनावों के दौरान 14 दिन के लिए शुरू हुआ पोल खोल का ये नया सीजन एबीपी न्यूज पर चुनावों के नतीजों के ऐलान के साथ ही खत्म हुआ। इस मौके पर शेखर सुमन ने परदे के पीछे की पूरी टीम के साथ एक पिक्चर ट्विटर पर भी शेयर की। 

दरअसल जब पिछली बार एबीपी न्यूज ने शेखर सुमन की जगह सुगंधा मिश्रा को लिया थातब से ही ये तय माना जा रहा था कि शेखर सुमन अब पोल खोल का चेहरा दोबारा नहीं बन पाएंगे। लेकिन इस बार गुजरात और हिमाचल चुनावों के लिए फिर से शेखर सुमन ही पोल खोल में नजर आएतो लोग चौंके। उनके साथ इस बार उनका वो बंदरू भी थाजो पिछली बार के चुनावों में सुगंधा के साथ तोते में बदल गया था, हालांकि उस दौरान भी शो के स्क्रिप्ट राइटर वरिष्ठ पत्रकार रवीन्द्र त्रिपाठी ही थे।


इस बार भी एबीपी न्यूज ने स्क्रिप्ट के लिए फिर से रवीन्द्र त्रिपाठी को ही साइन किया थाजो बीएजी फिल्म्स के दिनों से पोल खोल की स्क्रिप्ट लिखते आ रहे हैं।

 


चार दिसम्बर से शेखरू और बंदरू का ये शो शुरू हुआ था और 15 दिनों तक बिना किसी ब्रेक के रोज रात साढ़े नौ बजे दिन की तमाम पॉलटिकल गहमागहमी और बयानबाजी पर व्यंग्य के साथ चलता रहा और आखिरी एपिसोड 19 दिसम्बर को यानी नतीजे वाले दिन ही खत्म हुआ। इस मौके पर शेखर सुमन ने परदे के पीछे के टेक्निकल चेहरों और कैमरामेन आदि के साथ तो अपनी फोटो शेयर की ही, शो के स्क्रिप्ट राइटर रवीन्द्र त्रिपाठी ने भी फेसबुक पर शेखर के साथ अपनी फोटो शेयर की है। इन दोनों तस्वीरों को आप इस खबर के साथ देख सकते हैं। अब शायद शेखर सुमन से पोल खोल के मंच पर आपकी मुलाकात कर्नाटक चुनावों के वक्त ही होने की उम्मीद है।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com