Share this Post:
Font Size   16

हल्द्वानी से नोएडा लौटे वरिष्ठ पत्रकार संजय देव...

Published At: Thursday, 05 April, 2018 Last Modified: Thursday, 05 April, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

अमर उजाला फाउंडेशन का पर्याय बन चुके वरिष्ठ पत्रकार संजय देव के बारे में खबर है कि अमर उजाला प्रबंधन ने उन्हें अब दोबारा नोएडा ही बुला लिया है। करीब पौने दो साल पहले उन्हें नोएडा से हल्द्वानी संस्करण के संपादक का अतिरिक्त भार देकर वहां भेजा गया था।

तीन दशकों से अधिक समय से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय संजय देव ने अपने करियर की शुरुआत 1984 में लखनऊ में नवभारत टाइम्स से की थी, वहां नौ साल की लंबी पारी खेलने के बाद वे नानाजी देशमुख के साथ चित्रकूट की ओर कूच कर गए। सात साल तक उनके साथ ग्रामीण विकास (रूरल डेवलेपमेंट)पर जमकर काम करने के बाद वे 2000 में देश की राजधानी दिल्ली आए। जहां उन्होंने अपने बड़े भाई और वरिष्ठ पत्रकार राहुल देव के साथ मिलकरे कई डॉक्यूमेंट्रीज, न्यूज ऐंड करंट अफेयर्स प्रोग्राम्स का निर्माण किया। साथ ही नेपाल, बांग्लादेश समेत देश के हिंदी भाषा राज्यों में जर्नलिस्ट ट्रेनिंग की कई वर्कशॉप का आयोजन किया। 2009 के लोकसभा चुनावों के दौरान उन्होंने कई स्पेशल प्रोग्राम्स की जरिए इसकी विस्तृत कवरेज की। 

2010 में वे अमर उजाला समूह से जुड़े और छठी से बारहवीं तक के किशोरों के लिए प्रकाशित होने वाले हिंदी के पहले साप्ताहित अखबार ‘युवान’ के संस्थापक संपादक बने। उसके बाद जब समूह ने अमर उजाला फाउंडेशन की शुरुआत की, तो इसका प्रभार संजय देव को दिया गया और वे निरंतर इस फाउंडेशन को हेड कर रहे हैं। बतौर अमर उजाला, हलद्वानी के संपादक की कमान संभालने स पहले वे नोएडा में अमर उजाला के नेशनल न्यूज रूम में इनपुर एडिटर का प्रभार संभाल रहे थे।

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

मीडिया-एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री से लगातार आ रही #MeToo खबरों पर क्या है आपका मानना

जिसने जैसा किया है, वो वैसा भुगत रहा है

कई मामले फेक लग रहे हैं, ऐसे में इंडस्ट्री को कुछ ठोस कदम उठाना चाहिए

दोषियों को बख्शा न जाए, पर गलत मामला पाए जाने पर 'कथित' पीड़ित भी नपे

Copyright © 2018 samachar4media.com