Share this Post:
Font Size   16

जानिए, क्यों रेडियो जॉकी बनना चाहती हैं जम्मू कश्मीर की CM...

Published At: Thursday, 12 October, 2017 Last Modified: Wednesday, 11 October, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

प्राइवेट रेडियो में काम कर रहे आरजे (रेडियो जॉकी) की लाइफ हमेशा खुश रहती है और वो लोगों को भी खुश रखते हैं। ये मानना है जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती का। जम्मू में मंगलवार को रेडियो मिर्ची 98.3 एफएम के लॉन्चिंग के मौके पर उन्होंने आरजे बनने की इच्छा जताई। उन्होंने कहा कि कभी-कभी उनका दिल भी करता है कि वह कुछ समय के लिए आरजे बन जाएं।

आरजे की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि जिंदगी में खुश रहना बेहद मुश्किल है, लेकिन आरजे आपको हमेशा खुश रख सकते हैं, क्योंकि वो हमेशा खुश रहते हैं और लोगों को भी हमेशा खुश रखते हैं।

महबूबा मुफ्ती ने कहा, 'कभी-कभी मेरा दिल भी करता है कि मैं खुश रहने के कुछ पलों के लिए आरजे बन जाऊं और लोगों के सामाजिक मुद्दों को सुनूं।

इस बीच जब महबूबा मुफ्ती से पूछा गया कि क्या आप आरजे बनकर लोगों की तकलीफें सुनना चाहती हैं, तो उनका जवाब था कि हर चीज में पॉलिटिक्स नहीं होनी चाहिए, लेकिन ऐसे कार्यक्रम के जरिये यूथ के साथ इंटरेक्शन किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि यहां युवा बिना नाम बताये भी आपनी समस्याएं बता सकते हैं। उन्होंने कहा कि घाटी में एफएम रेडियो स्टेशन युवकों के साथ सरकार को जोड़ सकता है। साथ ही उम्मीद जताई कि नए एफएम स्टेशन युवाओं के लिए मनोरंजन और ज्ञान के अवसर देंगे। उन्होंने कहा कि एफएम के दायरे को राज्य में बढ़ाने के लिए केंद्रीय प्रसारण मंत्री से बात की जाएगी।

इस दौरान सीओओ महेश शेट्टी ने कहा कि मिर्ची जम्मू की प्ले लिस्ट में बॉलिवुड और पंजाबी संगीत का बेहतरीन मिश्रण होगा।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com