Share this Post:
Font Size   16

जानिए, क्यों चीनी मीडिया में छाया इस भारतीय मैगजीन का कवर पेज...

Saturday, 29 July, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

डोकलाम की वजह चीन इन दिनों अपने अड़ियल रवैये को लेकर सुर्खियों में है, लेकिन इसके उलट अपने देश की ही एक मैगजीन चीन के लिए खबर बन गई है। जी हां, यह मैगजीन है इंडिया टुडे। वैसे तो इंडिया टुडे मैगजीन का कवर हमेशा ही चर्चा का विषय रहा है और कई बार इसे लेकर विवाद भी हुआ, लेकिन इस बार मैगजीन के 31 जुलाई के ताजा अंक का कवर पेज चीन में प्रचलित सोशल मीडिया साइट वेइबो पर वायरल हो गया है।

इंडिया टुडे मैगजीन के ताजा अंक के कवर पर चीन को लाल रंग के मुर्गे के आकार में दिखाया गया है, वहीं पाकिस्तान को हरे रंग के चूजे की तरह दिखाया गया है। इस तस्वीर के साथ लिखा गया है, 'चीन का नया चूजा' (China's new chick) औक इसके नीचे लिखा गया कि 'चीन कैसे बड़े पैमाने पर नए निवेश के साथ पाकिस्तान को खरीद रहा है और क्यों भारत के लिए है यह चिंता का सबब।'

मैगजीन के ताजा अंक का कवर चीन की सोशल मीडिया साइट वेइबो पर खूब वायरल हो रहा है। इस कवर पेज को लेकर चीनी लोग वेइबो पर भारी गुस्से का इजहार कर रहे हैं। यहां उनकी आपत्ति खास तौर से इस बात को लेकर है कि इसमें तिब्बत और ताइवान को चीनी हिस्से के रूप में नहीं दिखाया गया है।

वहीं इंडिया टुडे के इस कवर पेज के जवाब में कई चीनी अखबारों में कई लेख छपे, जिसमें मैगजीन के साथ-साथ भारत की भी आलोचना की गई है। चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स में प्रकाशित लेख में कहा गया है, 'इस तरह की उन्मादी भू-राजनीतिक कल्पना कोई नई नहीं है। हालांकि तिब्बत और ताइवान को गलत ढंग से चीनी हिस्से से अलग दिखाना नया है।'

साथ ही यह भी कहा गया है, 'चीन और भारत इस वक्त  सीमा विवाद को लेकर आमने-सामने हैं। कुछ भारतीय संभ्रांत चीन से नफरत करते हैं, हालांकि वे जानते हैं कि यह असंभव है, इसलिए बस इस तरह की तस्वीरें बना कर सब्र कर रहे हैं।'

 समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com