Share this Post:
Font Size   16

टीवी पर नजर आएंगे वरिष्ठ पत्रकार दिनेश पाठक की किताब के किरदार...

Published At: Thursday, 28 June, 2018 Last Modified: Thursday, 28 June, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

भावी पीढ़ी के विकास पर केन्द्रित वरिष्ठ पत्रकार दिनेश पाठक की किताब पर आधारित शो बस थोड़ा साआगामी 29 जून से यूपी दूरदर्शन पर दिखेगी। दूरदर्शन ने इस किताब पर धारावाहिक बनाया है, जो हर शुक्रवार, शनिवार यूपी दूरदर्शन पर देशभर में देखा जा सकेगा। इसका शुभारम्भ बीते 20 जून को लखनऊ में केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने किया।

धारावाहिक की क्लिपिंग देखने के बाद गृहमंत्री ने कहा कि दिनेश पाठक ने एक ऐसे विषय को लिया है, जो सबकी चिंता में है लेकिन उस पर ध्यान प्रायः कम ही जाता है। उनके इस काम से मैं नावाकिफ था, जबकि एक पत्रकार के रूप में मैं उन्हें वर्षों से जानता हूं। इस किताब का कंटेंट और धारावाहिक की क्लिपिंग देखने के बाद मैं यह नहीं समझ पा रहा हूं कि ये पत्रकारिता कब करते और यह एकदम अलग चीज लिखते कब थे।

गृहमंत्री के मुताबिक, यह धारावाहिक समाज को जोड़ने में मददगार होगा। संस्कारों को मजबूत करेगा। उन्होंने दूरदर्शन अधिकारियों से कहा कि वे यह पूरा सीरियल देखना चाहते हैं। वे इसे निजी चैनलों पर भी चलाने की सिफारिश करेंगे।

इस मौके पर किताब के तीसरे संस्करण का विमोचन भी हुआ। यूपी दूरदर्शन की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में कार्यक्रम प्रमुख रमा अरुण त्रिवेदी, आत्म प्रकाश मिश्र के अलावा कई अधिकारी-कर्मचारी मौजूद थे।

धारावाहिक और किताब के बारे में-

यह धारावाहिक, किताब बस थोड़ा सापर आधारित है। दो हिस्सों में लिखी गई यह किताब खास तौर से यंग पैरेंट्स, किशोर और यूथ को संबोधित करती है। किताब की भूमिका वरिष्ठ पत्रकार मृणाल पाण्डेय जी ने लिखी है। पूरी किताब में छोटी-छोटी ऐसी चीजों पर ध्यान दिलाया गया है, जिनकी ओर प्रायः हमारा ध्यान जाता ही नहीं है। और वही त्रुटियाँ बाद में हम पर भारी पड़ती हैं। इस किताब को पढ़ते ही या धारावाहिक को देखते हुए कोई भी यंग पैरेंट्स, किशोर या यूथ इसे अपने जीवन में उतारने का तनिक भी प्रयास करेगा तो उसके लिए जीवन आसान हो जाएगा। करियर तय करने में मुश्किलात कम आएँगी। दूरदर्शन की कार्यक्रम प्रमुख रमा अरुण त्रिवेदी और वरिष्ठ कार्यक्रम अधिशाषी आत्म प्रकाश मिश्र ने बताया कि भारत के संस्कार की पूरी दुनिया में चर्चा होती है। यह हमारी पूँजी है। किताब में लेखक ने पढ़ाई, लालन-पालन, करियर, समय की पहचान जैसे अनेक मुद्दों पर छोटे-छोटे किस्से संजोये हैं। किताब को पढ़ते हुए ही लगा कि लोक प्रसारक की भूमिका में हमें इस कंटेंट पर धारावाहिक बनाना चाहिए।

कार्यक्रम की परिकल्पना और इसे परदे पर उतारने में अहम भूमिका निभाने वाली नलिनी श्रीवास्तव ने बताया कि उन्होंने इसकी स्क्रिप्टिंग, शूटिंग के दौरान ही अपने जीवन से ढेरों ऐसी चीजों की पहचान कर ली, जो उन्हें नहीं करनी चाहिए थी लेकिन जीवन की आपाधापी में करती थीं. अब वे वह त्रुटियाँ नहीं कर रही हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि धारावाहिक लोगों को पसंद आएगा।

लेखक के बारे में

पुस्तक और धारावाहिक लेखक दिनेश पाठक मूलतः पत्रकार हैं। उनका 26 वर्ष का प्रिंट, टीवी और डिजिटल का शानदार करियर है। राष्ट्रीय सहारा से करियर की शुरुआत करने वाले दिनेश पाठक का 20 वर्ष तक हिन्दुस्तान अखबार के साथ रिश्ता रहा है। वे इलाहाबाद, आगरा, देहरादून, कानपुर और गोरखपुर में स्थानीय संपादक की भूमिका निभा चुके हैं। संत कबीरनगर जिले में पैदा हुए और अयोध्या में पढ़े-लिखे दिनेश पाठक का पत्रकारिता की ओर झुकाव अयोध्या में राम मंदिर आन्दोलन के दौरान हुआ। एमए, एलएलबी डिग्री धारी दिनेश पाठक की पैरेंटिंग पर दो और किताबें हैं। डिजिटल मीडिया पर केन्द्रित उनकी एक किताब जल्दी ही आने वाली है। व्यंग की भी एक किताब सामयिक प्रकाशन से आ रही है। लखनऊ में रहकर दिनेश पाठक स्वतंत्र लेखन, चाइल्ड / पैरेंट्स काउंसिलिंग कर रहे हैं। स्कूल, कालेज जाकर यूथ और पैरेंट्स की सीधी मदद कर रहे हैं।

देखें प्रोमो-



समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com